अनुवाद स्मृति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनुवाद स्मृति (translation memory, or TM) एक डेटाबेस है जिसमें स्रोत भाषा के किसी खण्ड (वाक्यांश, वाक्य, मुहावरा, अनुच्छेद आदि) के संगत लक्ष्य भाषा का खण्ड भण्डारित रहता है। स्रोत भाषा एवं लक्ष्य भाषा के ये युग्म पहले से मानव अनुवादकों द्वारा तैयार किये गये होते हैं। अनुवाद स्मृति में शब्द और उसका अनुवाद नहीं भण्डारित किया जाता बल्कि ये अनुवाद शब्दावली में दिये गये होते हैं। अनुवाद-स्मृति का उपयोग मानव अनुवादकों की सहायता करने के लिये किया जाता है। अनुवाद-स्मृति का प्रयोग आमतौर पर कम्प्यूटर सहायित अनुवाद (CAT), शब्द संसाधक प्रोग्रामों, शब्दावली-प्रबन्धन प्रणालियों, बहुभाषी शब्दकोशों तथा 'कच्चे' मशीनी अनुवाद के साथ मिलकर किया जाता है (न कि अकेले)।

उदाहरण

अनुवाद-स्मृति में "Don't loose temper" के लिये "क्रोधित मत हो" तथा "Do come tomorrow" के लिये "कल जरूर आना" संचित किया जा सकता है।

किसी बड़े टेक्स्ट (पाठ) का अनुवाद करते समय मशीन देखती है कि इसका कोई अंश (या उससे मिलता-जुलता खण्ड) अनुवाद-स्मृति में मौजूद है या नहीं। यदि है तो यह स्मृति से ले लिया जाता है और माना जाता है कि अनुवाद शत-प्रतिशत शुद्ध हो गया। जो खण्ड स्मृति में नहीं पाये जाते उन्हें अन्य विधि का सहारा लेते हुए अनुवाद किया जाता है। वे प्रोग्राम जो 'अनुवाद स्मृति' के सहारे अनुवाद करते हैं उन्हें अनुवाद स्मृति प्रबन्धक (translation memory managers या TMM) कहते हैं।

कुछ प्रमुख 'अनुवाद स्मृति' आधारित अनुवादक[संपादित करें]

  • गूगल ट्रान्सलेटर टूलकिट
  • ABBYY Aligner
  • Deja Vu
  • OmegaT
  • SDLX [3]
  • Trados
  • Star Transit
  • Wordfast

गूगल ट्रान्सलेटर टूलकिट[संपादित करें]

यह हिन्दी अनुवाद के लिये बहुत उपयोगी है। इसकी कुछ प्रमुख विशेषताएँ-

  • यह 'ट्रांसलेशन मेमोरी' (Translation memory) पर आधारित मशीनी अनुवाद का औजार है।
  • उपयोग के लिये यह नि:शुल्क एवं आनलाइन उपलब्ध है।
  • गूगल अनुवाद द्वारा स्वत: अनुवाद के साथ इसका उपयोग करने से मशीनी और मानवी अनुवाद दोनो के गुणों का सम्मिलन करके लाभ उठाया जा सकता है।
  • इसमें 'कोलैबोरोशन' की जबरदस्त सम्भावनाएं हैं। प्राय: प्रयुक्त शब्दों/वाक्यांशों या वाक्यों के अनुवाद की फाइल बनाकर इसका उपयोग किया जाता है। इसलिये कई लोगों की फाइलें आप्स में मिलायी जा सकती हैं और सतत परिवर्धित/परिवर्तित एवं अद्यतन की जा सकतीं है।
  • एक बार इस तरह का 'कोलैबोरेशन आरम्भ हो गया, तो कुछ ही दिनों में बहुत अच्छे परिणाम आने लगेंगे और अनुवाद कार्य बहुत सरल एवं मानकीकृत हो जायेगा। गलतियां कम हो जायेगीं।

इसका पता- http://translate.google.com/toolkit/

अन्य उपयोग[संपादित करें]

  • वर्तनी संशोधन
  • फॉण्ट परिवर्तक बनाने में
  • लिपि परिवर्तक बनाने के लिये
  • मिलती-जुलती भाषाओं का परस्पर अनुवाद
  • सामान्यीकृत 'ढूढो-बदलो' का काम भी करता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]