अतिशीतन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी द्रव या गैस को बिना ठोस बनाये ही उसका ताप हिमांक से कम करना अतिशीतलन (supercooling) कहलाता है।

परिचय[संपादित करें]

अधिकांश द्रव यदि पूर्णतः स्वच्छ बर्तन में बहुत धीरे-धीरे ठंडे किए जाएँ तो अपने सामान्य हिमांक से नीचे तक बिना क्रिस्टलीकृत हुए पहुँच जाते हैं। यह क्रिया अतिशीतन (supercooling) कहलाती है। पानी -10 डिग्री सें. से भी नीचे तक अतिशीतित किया जा सकता है। दीउफ़् ने क्लोरोफ़ार्म और मीठे बादाम के तेल के एक मिश्रण में, जिसका घनत्व पानी के घनत्व के बराबर था, एक छोटी सी पानी की बूँद लटका दी, और बिना संपीडन के -20 डिग्री सें. तक उसे शीतल कर दिया।

वास्तव में अतिशीतन एक अस्थायी क्रिया है। अतिशीतित द्रव मे तत्संगत पिंड का एक अति अल्प कण भी डाल देने से या बर्तन को हिला देने से संपीडन चालू हो जाता है और जब तक निकली हुई गुप्त उष्मा उसके ताप को सामान्य हिमांक तक न ले आए तब तक चलता रहता है। हवा की अनुपस्थिति अतिशीतन में सहायक होती है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]