अतितापन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अतितापन (superheating) एक अस्थायी क्रिया है जिसमें किसी द्रव को उसके क्वथनांक से भी अधिक ताप तक गरम किया जाता है (द्रव को द्रव अवस्था में ही रखते हुए) । विलीन वायु से स्वतंत्र पानी को एक स्वच्छ बर्तन में सावधानी से गरम करने से ताप 100 डिग्री सें. से कई डिग्री ऊपर तक पहुँच सकता है और पानी खौलता नहीं। लेकिन इस स्थिति में यदि उसे हिला दिया जाए तो वह एक दम से खौलने लगता है और गुप्त ऊष्मा व्यय होने से ताप भी 100 डिग्री सें. आ जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]