अंतर्राष्ट्रीय विपणन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इंटरनेशनल मार्केटिंग (आईएम (IM)) या ग्लोबल मार्केटिंग (वैश्विक विपणन) राष्ट्रीय सीमारेखा के पार या विदेशी कंपनियों द्वारा कार्यान्वित किये गए विपणन को संदर्भित करता है. यह रणनीति एक कंपनी की अपने देश में प्रयोग की गईं तकनीकों का विस्तार इस्तेमाल करती है.[1] यह अंतर्राष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्धा के लिए रणनीतिक फैसलों, बाज़ार पहचान एंव लक्ष्यीकरण, प्रविष्टि मोड चयन और विपणन मिश्रण सहित सीमा के पार कंपनी-स्तर विपणन प्रथाओं को संदर्भित करता है.[2] अमेरिकन मार्केटिंग असोसिएशन (AMA) के अनुसार, "अंतर्राष्ट्रीय विपणन व्यक्तिगत और व्यवस्थापन संबंधी लक्ष्यों की आपूर्ति करने वाले समाशोधन केन्द्रों के सृजन के लिए तर्कों, वस्तुओं एंव सेवाओं के अनुसान, मूल्य निर्धारण, प्रचार तथा वितरण की योजना बनाने एंव संकल्पन करने की बहुराष्ट्रीय प्रक्रिया है ."[3] विपणन की परिभाषा की परस्पर तुलना में केवल शब्द बहुराष्ट्रीय जोड़ा गया है.[3] सरल शब्दों में, अंतर्राष्ट्रीय विपणन राष्ट्रीय सीमाओं के पार विपणन सिद्धांतों का अनुप्रयोग है. हालांकि, जो साधारणतः अंतर्राष्ट्रीय विपणन और वैश्विक विपणन के रूप में अभिव्यक्त किया जाता है उसमें एक बदलाव की प्रक्रिया है, जो एक समान शब्द है.

प्रतिच्छेदन अंतर्राष्ट्रीयकरण की प्रक्रिया का परिणाम है. कई अमेरिकी और यूरोपीय लेखक, अंतर्राष्ट्रीय विपणन को निर्यात के एक सरल विस्तार के रूप में देखते हैं, जिसके द्वारा विपणन मिश्रण 4पी'स (4P's) उपभोक्ताओं और खंडों में मतभेदों का स्पष्टीकरण करने के लिए किसी तरीके से अनुकूलित किया जाता है. यह इस प्रकार है कि वैश्विक विपणन विश्व बाज़ार के प्रति एक अधिक मानकीकृत सन्निकर्ष लेता है और समानता पर ध्यान केंद्रित करता है, दूसरे शब्दों में, उपभोक्ताओं और क्षेत्रों में समानता.

इसके अलावा परिभाषाएँ[संपादित करें]

कटोरा (Cateora) और गौरी (Ghauri) (1999) अंतर्राष्ट्रीय विपणन उन व्यापार गतिविधियों का कार्य-संपादन है जो मुनाफे के लिए एक से अधिक देश में उपभोक्ताओं या प्रयोक्ताओं के लिए एक कंपनी की व्यापारिक वस्तुओं और सेवाओं के प्रवाह का निर्देशन करता है.

' अंतर्राष्ट्रीय विपणन अक्सर एक से अधिक देश के लिए अपने उत्पाद का विपणन करने जितना सरल नहीं होता.[4] जिस बाज़ार में कंपनियां जा रही हैं, उन्हें वहा के भाषा-अवरोध, आदर्शस्वरूपों और रीति-रिवाजों पर विचार करना चाहिए.[4] लोगों के एक विशेष समूह, जिसे आप बेचने की कोशिश कर रहे हैं, उसे आकर्षित करने के लिए अपनी विपणन रणनीतियों को अनुकूल बनाना अत्यधिक महत्वपूर्ण है और यह विफलता या सफलता का नंबर एक कारण बन सकता है.[4]

जैसा कि विपणन के अन्य तत्वों के साथ है, अंतर्राष्ट्रीय विपणन की कोई एक परिभाषा नहीं है. इसके अलावा कुछ लेखक अंतर्राष्ट्रीय विपणन और वैश्विक विपणन को अलग प्रकार से परिभाषित करते हैं. यह अंतर्राष्ट्रीय विपणन के विभिन्न स्तरों के बीच प्रतिष्ठित किया जा सकता है: "इसके सरलतम स्तर पर, अंतर्राष्ट्रीय विपणन में कंपनी का राष्ट्रीय सीमाओं के पार एक या अधिक विपणन मिश्रण निर्णय लेना शामिल होता है .इसके सबसे जटिल स्तर पर, कंपनी का राष्ट्रीय सीमाओं के पार विपणन रणनीतियों को समन्वित करना और समुद्र पार सुविधाओं का निर्माण स्थापित करना शामिल है .[5] एक अन्य परिभाषा अंतर्राष्ट्रीय विपणन को व्यापार गतिविधियों के अंतर्राष्ट्रीय संबन्ध के रूप में देखती है: "अंतर्राष्ट्रीय विपणन उन व्यापार गतिविधियों का कार्य-संपादन है जो मुनाफे के लिए एक से अधिक देश में उपभोक्ताओं या प्रयोक्ताओं के लिए एक कंपनी की व्यापारिक वस्तुओं और सेवाओं के प्रवाह का निर्देशन करता है ."[6] यह "अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए विपणन अभिविन्यास एंव विपणन क्षमताओं के अनुप्रयोग " के रूप में भी परिभाषित किया जा सकता है."[7] "अंतर्राष्ट्रीय बाजार निर्यात विक्रेता के परे जाता है और उन देशों के विपणन पर्यावरण के प्रति अधिक संबद्ध हो जाता है जिनमें वह व्यापार कर रहे हैं ."[8]

कुछ परिभाषाएं शब्द वैश्विक विपणन को संदर्भित करती हैं: "वैश्विक/पार देशी विपणन एक कंपनी की संपत्ति, अनुभव और उत्पादों का विश्व स्तर पर उद्यामन करने और प्रत्येक देश में जो भी वस्तुतः अद्वितीय तथा अलग है उसे अनुकूल करने पर ध्यान केंद्रित करता है. "[8] "वैश्विक विपणन एकाधिक देश के बाज़ारों के पार समन्वित और समाहित होने वाली विपणन गतिविधियों को संदर्भित करता है. "[9]

अंतर्राष्ट्रीय विपणन के सूक्ष्म-संदर्भ समाविष्ट करने वाले विषय[संपादित करें]

कोटाबे (Kotabe) के अनुसार, निम्नलिखित विषय अंतर्राष्ट्रीय विपणन के सूक्ष्म-संदर्भ समाविष्ट करते हैं.[10]

संगठनात्मक और उपभोक्ता व्यवहार:

विपणन प्रविष्टि निर्णय:

  • प्रविष्टि का प्रारंभिक मोड
  • प्रविष्टि के विशेष मोड

स्थानीय बाजार विस्तार: विपणन मिश्रण निर्णय:

  • उत्पाद नीति;
  • विज्ञापन;
  • मूल्य निर्धारण;
  • वितरण.

वैश्विक रणनीति:

  • वैचारिक विकास;
  • प्रतिस्पर्धात्मक लाभ बनाम प्रतिस्पर्धात्मक स्थापन;
  • प्रतिस्पर्धात्मक लाभ और कार्य-संपादन निहितार्थ के स्रोत.
  • सीखना और विश्वास;
  • गठबंधन सफलता के लिए विधि;
  • विभिन्न प्रकार के गठबंधन का कार्य-संपादन.
  • एक सेवा संदर्भ में वैश्विक स्रोत;
  • वैश्विक स्रोत के लाभ;
  • वैश्विक स्रोत में मूल मुद्दों का देश.
  • कार्य-संपादन के निर्धारक;
  • कार्य-संपादन की एक अलग व्याख्या.

क्रास-राष्ट्रीय (cross-national) अनुसंधान के क्षेत्र में विश्लेषणात्मक तकनीकें:

  • मापन मुद्दे;
  • विश्वसनीयता और वैधता के मुद्दे.

घरेलू विपणन और अंतर्राष्ट्रीय विपणन के बीच अंतर[संपादित करें]

घरेलू विपणन और अंतर्राष्ट्रीय विपणन के बीच विभिन्न अंतर हैं. एक भाषा-अवरोध के कारण अंतर्राष्ट्रीय विपणन में अनुसंधान डाटा प्राप्त करना और उसकी व्याख्या करना अधिक कठिन है.[11] प्रचार संदेशों को विभिन्न देशों के बीच अनगिनत सांस्कृतिक अंतर पर विचार करने की जरूरत है.[11] इसमें भाषा, भावों, आदतों, इशारों, विचारधाराओं और अन्य में अंतर शामिल हैं. उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका में अंगूठे और पहली तीन उँगलियों से बने गोल O चिन्ह का अर्थ होता है "ठीक है" ("okay") जब कि भूमध्यसागरीय देशों में इसी इशारे का मतलब है "शून्य" या "सब से बुरा" .[12] ट्यूनीशिया में यह इसे "मैं तुम्हे मार दूंगा" ("I'll kill you") के रूप में समझा जाता है, इसी दौरान एक जापान के उपभोक्ता के लिए इसका अर्थ है, "धन" .[12] यहाँ तक कि 74 अंग्रेज़ी-बोलने वाले देशों के बीच भी सामान अर्थ वाले शब्द, संयुक्त राज्य में बोली जाने वाली अंग्रेजी से अत्यन्त भिन्न हो सकते हैं, जैसे निम्नलिखित उदाहरण दिखाते हैं:[12]

  • पुलिस: बॉबी (bobby) (ब्रिटेन), गार्डा (garda) (आयरलैंड),) माउन्टी (Mountie) (कनाडा), पुलिस वाल्लाह (police wallah) (दक्षिण अफ्रीका)
  • पोर्च (Porch): स्टेप (stoep) (दक्षिण अफ्रीका), गैलरी (gallery) (कैरिबियन)
  • बार (Bar): पब (ब्रिटेन), होटल (ऑस्ट्रेलिया), बूज़र (Boozer) (ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, न्यूजीलैंड)
  • बाथरूम (Bathroom): लू (loo) (ब्रिटेन), दुन्नी (dunny) (ऑस्ट्रेलिया)
  • 'घोस्ट या मोंस्टर (Ghost or monster): वेन्दिगो (wendigo) (कनाडा), डप्पी (duppy) (कैरिबियन), तानिव्हा (taniwah) (न्यूजीलैंड)
  • बार्बिक्यु (Barbecue): बराई (braai) (दक्षिण अफ्रीका), बार्बी (Barbie) (ऑस्ट्रेलिया)
  • ट्रक: लॉरी (loory) (ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया)
  • फेस्टिवल (Festival): फ़ीस (feis) (आयरलैंड)
  • स्वेटर (Sweater): जम्पर (jumper) (इंग्लैंड)
  • फ्रेंच फ्राइज़ (French fries) : चिप्स (chips) (ब्रिटेन)
  • सोकर (Soccer): फुटबॉल (बाकी दुनिया में)
  • सोकर फ़ील्ड (Soccer field): पिच (Pitch) (इंग्लैंड)

गलतअर्थ निरूपण के हाल के तीन अंतर्राष्ट्रीय उदाहरण हैं:[12]

  • एक बुचारेस्ट होटल लॉबी में एक साइन बोर्ड पर: लिफ्ट अगले दिन के लिए ठीक की जा रही है. (The lift is being fixed for the next day.) उस समय के दौरान, हमें खेद है कि आप असहनीय हो जाएंगे. (During that time, we regret that you will be unbearable.)
  • एक होटल एयर कंडीशनर का उपयोग करने के बारे में एक जापानी जानकारी पुस्तिका से : ठण्डक और गर्मी (Cooles and Heates): यदि आप केवल अपने कमरे को गर्म करने की स्थिति चाहते हैं, कृपया स्वयं पर नियंत्रण रखें. (If you want just condition of warmin your room, please control yourself.)
  • एक अकापुल्को (Acapulco) होटल में: यहाँ परोसा जाने वाला सारा पानी प्रबंधक ने व्यक्तिगत रूप से पारित किया है. (The manager has personally passed all the water served here.)

विदेशी बाजारों में अनुबंध के मोड[संपादित करें]

निवेश करने का निर्णय लेने के बाद, परिचालन की सटीक विधि निर्धारित करनी होती है. विदेशी बाजारों में परिचालन से सम्बंधित जोखिम अक्सर एक कंपनी के नियंत्रण के स्तर के साथ पूंजी व्यय के स्तर पर निर्भर करते हैं. अनुबंध के प्रमुख मोड नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • निर्यात (जो अधिक विस्तार से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष निर्यात में विभाजित है)
  • संयुक्त उद्यम
  • प्रत्यक्ष निवेश (संयोजन और विनिर्माण में विभाजित)

निर्यात[संपादित करें]

प्रत्यक्ष निर्यात में एक कंपनी का प्रत्यक्षतः माल को विदेशी बाजार में भेजना शामिल होता है. अप्रत्यक्ष निर्यात नियोजित करने वाली कंपनी एक चैनल/प्रतिनिधि का उपयोग करती है, जो फिर उत्पादन का विदेशी बाजार में प्रचार करता है. एक कंपनी की दृष्टि से, निर्यात में लघुतम जोखिम होता है. ऐसा इसलिए है क्यूंकि, नई गैर-मौजूदा परिसंपत्तियों पर आवश्यक रूप से कोई पूंजी व्यय, या कंपनी वित्त का परिव्यय नहीं हुआ. इस प्रकार, डूबने की लागत (sunk cost), या बाहर निकलने की सामान्य बाधाओं की संभावना कम है. इसके विपरीत, एक विदेशी बाजार में निर्यात करते समय, एक कंपनी के पास कम नियंत्रण हो सकता है, यह विदेशी बाजार के भीतर माल की आपूर्ति पर नियंत्रित ना होने के कारण होता है.

संयुक्त उद्यम[संपादित करें]

एक संयुक्त उद्यम दो या दो से अधिक व्यावसायिक संस्थाओं के बीच एक संयुक्त प्रयास है, जिसका लक्ष्य एक निर्धारित आर्थिक गतिविधि से पारस्परिक लाभ उठाना है. कुछ देश अक्सर जनादेश देते हैं कि उनके भीतर सभी विदेशी निवेश संयुक्त उद्यम के माध्यम से होने चाहिए (जैसे भारत और चीन गणराज्य (People's Republic of China)). निर्यात के साथ तुलना से, अधिक नियंत्रण होता है, लेकिन जोखिम का स्तर भी बढ़ जाता है.

प्रत्यक्ष निवेश[संपादित करें]

इस अनुबंध के मोड में, एक कंपनी विदेशी बाजार के भीतर एक उत्पाद के उत्पादन के उद्देश्य से, एक बाहरी देश के भीतर प्रत्यक्षतः एक स्थिर/अप्रचलित परिसंपत्ति का निर्माण करती है.

संयोजन, एक सम्पूरित उत्पाद का निर्माण करने के लिए, सम्पूरित भागों के शाब्दिक संयोजन को संदर्भित करता है. इसका एक उदाहरण है, डेल संस्था (Dell Corporation). डेल के पास संयुक्त राज्य अमेरिका के बाहरी देशों में संयंत्र हैं, परन्तु वह वैयक्तिक कंप्यूटर (personal computer) एकत्र (assemble) करता है, उनका शुरू से निर्माण नहीं करता है. दूसरे शब्दों में, यह अन्य कंपनियों से भाग प्राप्त करता है, और अपनी फैक्ट्री में एक व्यक्तिगत कंप्यूटर के अवयव भाग एकत्र करता है (जैसे मदरबोर्ड, मॉनिटर, जीपीयू (GPU), रैम (RAM), वायरलेस कार्ड, मोडेम, साउंड कार्ड, आदि.) निर्माण में शुरू से एक उत्पाद की वास्तविक गढ़ना करनी होती है. कार निर्माता अक्सर सभी भागों का निर्माण अपने संयंत्रों के भीतर करते हैं. प्रत्यक्ष निवेश में सबसे अधिक नियंत्रण होता है और सबसे अधिक जोखिम भी संलग्न होता है. जैसा किसी भी पूंजी व्यय में होता है, पूंजी व्यय के साथ किसी भी डूबने की लागत (sunk cost) का ठीक मूल्य निर्धारण करने के अतिरिक्त, निवेश पर प्रतिफल (मुनाफे की अवधि, असल वर्तमान मूल्य, आंतरिक प्रतिफल दर, आदि द्वारा परिभाषित) सुनिश्चित कर लेना आवश्यक है.

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. मार्केटिंग , टिम मकग्रा-हिल
  2. जोशी, राकेश मोहन, (2005) अंतर्राष्ट्रीय विपणन, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, नई दिल्ली और न्यूयार्क आईएसबीएन (ISBN) 0195671236
  3. Onkvisit, Sak; John J. Shaw (2004). "Process of international marketing". International marketing: analysis and strategy (4th ed.). प॰ 3. http://books.google.com/books?id=jvdpDo5Xr7EC&lpg=PP1&pg=PA3#v=onepage&q=&f=false. अभिगमन तिथि: 2009-10-11. 
  4. ईगल बिज़्नस (2007)
  5. दूल और लोव ( Doole & Lowe) (2001). नोट: दूल और लोव अंतर्राष्ट्रीय विपणन (सरल मिश्रण परिवर्तन) और वैश्विक विपणन (अधिक जटिल और व्यापक) के बीच अन्तर निकालते हैं.
  6. कटोरा (Cateora) और गौरी (Ghauri) (1999) नोट: कटोरा और गौरी वैश्विक विपणन के अभाव में अंतर्राष्ट्रीय विपणन पर विचार करते हैं.
  7. मुहल्बचेर, हेल्मुथ और दह्रिन्गेर (Muhlbacher, Helmuth & Dahringer) (2006). नोट: मुहल्बचेर एट अल. देलिनिएट अंतर्राष्ट्रीय विपणन (अनुकूलित) और वैश्विक विपणन (मानकीकृत).
  8. कीगन (2002). नोट: कीगन, वैश्विक विपणन के पार देशी स्वरूप को परिभाषित करने के लिए एक सामरिक, सामाजिक सिंहावलोकन लेता है.
  9. जोहनसन (2000). नोट: जोनी के. जोहनसन वैश्विक विपणन को अंतर्राष्ट्रीय विपणन के बड़े भाई के रूप में परिभाषित करता है, जो की एक विस्तार है.
  10. Paliwoda, Stanley J.; John K. Ryans (2008). "International business vs. international marketing". International Marketing: Modern and Classic Papers. Peter Buckley, Kotabe (2001, p. 461-2). प॰ 4. http://books.google.com/books?id=dwZz2eHBCjUC&lpg=PP1&pg=PA4#v=onepage&q=&f=true. अभिगमन तिथि: 2009-10-22. 
  11. Bennett, Roger; Jim Blythe (2002). "The nature of international marketing". International marketing: strategy planning, market entry & implementation (3rd ed.). प॰ 4. http://books.google.com/books?id=q58kPJgifT8C&lpg=PP1&pg=PA4#v=onepage&q=&f=false. अभिगमन तिथि: 2009-10-12. 
  12. Kurtz, David L. (2008). "Part 6 - Promotional decisions". Contemporary Marketing (13th ed.). प॰ 494. http://books.google.com/books?id=GqCVnz0mpdUC&lpg=PT548&pg=PT548#v=onepage&q=&f=false. अभिगमन तिथि: 2009-10-12. 

[[श्रेणी:अंतर्राष्ट्रीय अर्थशास्त्र]]