अंग (शरीर रचना)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवविज्ञान (biology) की दृष्टि से एक विशिष्ट कार्य करने वाले उत्तकों के समूह को अंग (organ) कहते हैं।

जन्तुओं के अंग[संपादित करें]

हृदय , फेफडे (फुफ्फुस), मस्तिष्क, आँख, आमाशय (stomach), प्लीहा (spleen), अस्थियाँ (bone), अग्न्याश (pancreas), वृक्क या गुर्दे (kidneys), यकृत (liver), आंतें (intestines), त्वचा (skin) (त्वचा, मनुष्य का सबसे विशाल अंग है) , मूत्राअशय (urinary bladder), योनि (मादाओं में), शिश्न (penis) , गुदाद्वार (anus) आदि.

वनस्पतियों (plants) के अंग[संपादित करें]

जड़ (root), तना (stem), पत्ती (leaf), फूल, बीज एवं फल

अंग तंत्र[संपादित करें]

कार्य की दृष्टि से आपस में सम्बन्धित अंगों के समूह को अंग तन्त्र (organ system) कहते हैं। उदाहरण के लिये मूत्र तंत्र में वे अंग सम्मिलित हैं जो मूत्र के उत्पादन, भण्डारण एवं उसके वहन में काम आते हैं।

मानव के मुख्य अंग तन्त्र[संपादित करें]

मानव शरीर में मुख्यतः ग्यारह (११) अंग तन्त्र हैं:

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

मानव का शरीर रचना विज्ञान