सदस्य वार्ता:43.241.65.56

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा 'उरतृप्त' आचार्य रामचंद्र शुक्ल के हिंदी साहित्य का इतिहास पुस्तक के ऑनलाइन संपादन के लिए जाने जाते हैं। तेलंगाना राज्य सरकार की पाठशाला, इंटरमीडिएट, स्नातक तथा स्नातकोत्तर पाठ्यपुस्तकों के लेखक हैं। उन्होंनें सतरंगी-1, सतरंगी-2, सतरंगी-3, सतरंगी-4, सतरंगी-5, मीत, मुसकान-1, मुसकान-2, मुसकान-3, मुसकान-4, मुसकान-5, बाल वसंत-1, बाल वसंत-2, उमंग-2, बाल बगीचा-1, बाल बगीचा-2, बाल बगीचा-3, सुगंध-1, सुगंध-2, साहित्य भारती, साहित्य सेतु, काव्य निधि, गद्य दर्पण, तेलंगाना गांधीः के.सी.आर, सरल सुगम संक्षिप्त व्याकरण, अशोक वाजपेयी के काव्य में आधुनिकता बोध, हिंदी भाषा के विविध आयामः वैश्विक परिदृश्य, हिंदी भाषा साहित्य के विविध आयामः वैश्विक परिदृश्य, हिंदी साहित्य और संस्कृति के विविध आयाम जैसी पुस्तकों का लेखन, संपादन तथा समन्वयन किया है।

डॉ.सुरेश कुमार मिश्रा 'उरतृप्त' पृष्ठ को शीघ्र हटाने का नामांकन[संपादित करें]

नमस्कार, आपके द्वारा बनाए पृष्ठ डॉ.सुरेश कुमार मिश्रा 'उरतृप्त' को विकिपीडिया पर पृष्ठ हटाने की नीति के मापदंड व7 के अंतर्गत शीघ्र हटाने के लिये नामांकित किया गया है।

व7 • साफ़ प्रचार

इसमें वे सभी पृष्ठ आते हैं जिनमें केवल प्रचार है, चाहे वह किसी व्यक्ति-विशेष का हो, किसी समूह का, किसी प्रोडक्ट का, अथवा किसी कंपनी का। इसमें प्रचार वाले केवल वही लेख आते हैं जिन्हें ज्ञानकोष के अनुरूप बनाने के लिये शुरू से दोबारा लिखना पड़ेगा।

यदि आप इस विषय पर लेख बनाना चाहते हैं तो पहले कृपया जाँच लें कि विषय उल्लेखनीय है या नहीं। यदि आपको लगता है कि इस नीति के अनुसार विषय उल्लेखनीय है तो कृपया लेख में उपयुक्त रूप से स्रोत देकर उल्लेखनीयता स्पष्ट करें। इसके अतिरिक्त याद रखें कि विकिपीडिया पर लेख ज्ञानकोष की शैली में लिखे जाने चाहियें।

यदि यह पृष्ठ अभी हटाया नहीं गया है तो आप पृष्ठ में सुधार कर सकते हैं ताकि वह विकिपीडिया की नीतियों पर खरा उतरे। यदि आपको लगता है कि यह पृष्ठ इस मापदंड के अंतर्गत नहीं आता है तो आप पृष्ठ पर जाकर नामांकन टैग पर दिये हुए बटन पर क्लिक कर के इस नामांकन के विरोध का कारण बता सकते हैं। कृपया ध्यान रखें कि शीघ्र हटाने के नामांकन के पश्चात यदि पृष्ठ नीति अनुसार शीघ्र हटाने योग्य पाया जाता है तो उसे कभी भी हटाया जा सकता है।

अजीत कुमार तिवारी बातचीत 02:36, 25 जनवरी 2020 (UTC)