"दिक्पाल" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
4 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
पुराणानुसार दसों दिशाओं का पालन करनेवाला देवता। यथा-पूर्व के इन्द्र, अग्निकोण के वह्रि, दक्षिण के यम, नैऋत्यकोण के नैऋत, पश्चिम के वरूण, वायु कोण के मरूत्, उत्तर के कुबेर, ईशान कोण के ईश, ऊर्ध्व दिशा के ब्रह्मा और अधो दिशा के अनंत।
 
दिक्पाल की संख्या 10१० मानी गई है। [[वाराह पुराण]] के अनुसार इनकी उत्पत्ति की कथा इस प्रकार है। जिस समय ब्रह्मा सृष्टि करने के विचार में चिंतनरत थे उस समय उनके कान से दस कन्याएँ -
:(१) पूर्वा, (२) आग्नेयी, (३) दक्षिणा, (४) नैऋती, (५) पश्चिमा (६) वायवी, (७) उत्तरा, (८) ऐशानी, (९) ऊद्ध्व और (१०) अधस्‌
 
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची