पन्जाब की स्थानिय मुर्तिकला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

१ पन्जाब की धरती पर कला का एक अध्याय सुरु होने से पहले ही समाप्त कर दिया गया। जितने भी आक्रमन कारी भारत की सरजमीन पर आये उन्होने सबसे पहले पन्जाब को अपना निशाना बनाया।

  ये ही मुख्य कारण  है कि पन्जाब मे कोई भी कला अपने चरम तक नही पहुच सकी।
     पन्जाब मे चित्रकला के साथ साथ मूर्तिकला को भी बहुत हानी हुई। क्योंकि आक्रमनकारीयो ने जो विध्वन्स यन्हा की सरजमीन पर किया वह बडा ही भयानक था।