हरिदास ठाकुर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरिदास ठाकुर खुलना जिले (सम्प्रति बंगलादेश में) के बूढ़न ग्राम में सं0 1507 में एक ब्राह्मण कुल में इनका जन्म हुआ। इनके पिता का नाम सुमति तथा माता का गौरी था। ये छह महीने के थे तभी पिता की मृत्यु हुई और माता सती हो गई। मरने के पहले बालक को पिता ने एक कुटुंबी को सौंप दिया था जो कारणवश मुसलमान हो गया था पर उसने सच्चाई से इनकी धर्मरक्षा करते हुए पालन किया और कुछ बड़े होते ही पिता का अंतिम संदेश सुनाकर इन्हें विदा कर दिया। तदनुसार इन्होंने नामजप का व्रत लिया और एकांत सेवन करने लगे। इनकी ख्याति बढ़ी जिससे एक दुष्ट धनी ने एक वेश्या को परीक्षार्थ इनके पास भेजा पर फल उलटा हुआ। वह स्वयं भक्त हो गई। ये यहाँ से अन्यत्र चले गए पर वहाँ के नवाब ने एक यवन को हिंदू धर्मानुसार आचरण करते सुनकर पकड़ मँगवाया और बेंत मारते-मारते प्राण लेने का दंड दिया, पर ये समाधि में रत थे अत: बच गए। इस पर नवाब ने क्षमायाचना की। यहाँ से ये फुलिया जाकर कुछ दिन रहे और फिर बलराम आचार्य के पास चाँदपुर गए। यहीं श्री रघुनाथदास ने इनके सत्संग से लाभ उठाया था। यहाँ से यह श्री अद्वैताचार्य के पास शांतिपुर गए और वहाँ से श्री गौरांग के बुलाने पर नदिया पहुँचे। श्री नित्यानंद के साथ ये हरि-नाम-प्रचार में लग गए। यहाँ से ये जगदीशपुरी गए। ये तीन लाख नामजप के व्रती थे और उसे अंत तक निबाहा। सं0 1582 में यहीं इनका शरीर छूटा। समुद्र के किनारे इनका पक्का गोल समाधिमंदिर है, जिसके कुएँ का पानी मीठा है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]