सैलामैंडर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Salamanders
जीवाश्म काल: Jurassic–present
[[image:SpottedSalamander.jpg Eastern Tiger Salamander, Ambystoma tigrinum]]
Eastern Tiger Salamander, Ambystoma tigrinum
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: Animalia
संघ: Chordata
वर्ग: Amphibia
उप-वर्ग: Lissamphibia
गण: Caudata
Scopoli, 1777
Native distribution of salamanders (in green)
Native distribution of salamanders (in green)
Suborders

Cryptobranchoidea
Salamandroidea
Sirenoidea

सैलामैंडर उभयचरों की लगभग 500 प्रजातियों का एक सामान्य नाम है। इन्हें आम तौर पर इनके पतले शरीर, छोटी नाक और लंबी पूँछ, इन विशेषताओं से पहचाना जाता है। सभी ज्ञात जीवाश्म और विलुप्त प्रजातियाँ कॉडाटा ऑर्डर (वंश) के अंतर्गत आती हैं, जबकि कभी-कभी विद्यमान प्रजातियों को एक साथ यूरोडेला के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।[1] ज्यादातर सैलामैंडरों के अगले पैरों में चार और पिछले पैरों में पाँच उंगलियाँ होती हैं। उनकी नम त्वचा आम तौर पर उन्हें पानी में या इसके करीब या कुछ सुरक्षा के तहत (जैसे कि नम सतह), अक्सर एक गीले स्थान में मौजूद आवासों में रहने लायक बनाती है। सैलामैंडरों की कुछ प्रजातियाँ अपने पूरे जीवन काल में पूरी तरह से जलीय होती हैं, कुछ बीच-बीच में पानी में रहती हैं और कुछ बिलकुल स्थलीय होती हैं जैसे कि वयस्क. हालांकि मेरुदंडधारियों में यह एक अनूठी बात है लेकिन ये अपने खोये हुए अंगों और शरीर के अन्य हिस्सों को पुनः उत्पन्न करने में सक्षम होते हैं।

विशेषताएं[संपादित करें]

आम तौर पर पूर्ण विकसित सैलामैंडरों की शारीरिक बनावट पतले शरीर, लम्बी पूँछ और चार अवयवों के साथ छिपकलियों की तरह साधारण चार पैरों वाली होती है। हालांकि कुछ छिपकलियों की तरह सैलामैंडर की कई प्रजातियों के अवयव छोटे या बिलकुल नहीं होते हैं जिसके उनका स्वरूप ईल मछली की तरह दिखाई पड़ता है। अधिकांश प्रजातियों के अगले अवयवों में चार और पिछले अवयवों में पाँच उंगलियाँ होती हैं और पंजे नहीं होते हैं। सैलामैंडर अक्सर चमकीले रंग के होते हैं जो या तो दोनों लिंगों में सालों भर मौजूद रहता है या सिर्फ नरों में, ख़ास तौर पर प्रजनन काल के दौरान होता है। हालांकि, पूरी तरह से भूमिगत आवासों में रहने वाली प्रजातियों का रंग अक्सर सफेद या गुलाबी होता है और त्वचा पर कोई भी धब्बा नहीं पाया जाता.[2]

कई सैलामैंडर अपेक्षाकृत छोटे होते हैं, लेकिन कुछ निश्चित अपवाद भी होते हैं। इनके आकार का विस्तार पूँछ सहित की कुल लम्बाई 2.7 सेंटीमीटर (1.1 इंच) वाले अत्यंत छोटे सैलामैंडरों से लेकर विशाल चीनी सैलामैंडरों तक होता है, जिनकी लंबाई 1.8 मीटर (5.9 फ़ुट) और वजन 65 किग्रा (143 पाउन्ड) तक हो सकता है। हालांकि ज्यादातर 10 सेंटीमीटर (3.9 इंच) और 20 सेंटीमीटर (7.9 इंच) के बीच की लंबाई के होते हैं। सैलामैंडर बड़े होने के साथ नियमित रूप से अपनी त्वचा की बाहरी परत (एपिडर्मिस) को उतार देते हैं और इससे निकलने वाले केंचुल को खा जाते हैं।[2][3][4]

ग्रीस के माउंट ओलिंपस नेशनल पार्क में एक सैलामैंडर

सैलामैंडर की विभिन्न प्रजातियों में श्वसन क्रिया विभिन्न प्रकार से होती हैं। जिन प्रजातियों में फेफड़े नहीं होते हैं वे गलफड़ों के माध्यम से साँस लेते हैं। अधिकांश मामलों में ये बाहरी गलफड़े होते हैं जो इनके सिर के दोनों तरफ कलगियों की तरह दिखाई पड़ते हैं, हालांकि एम्फियूमास में आतंरिक गलफड़े और गलफड़ों के छेद होते हैं। कुछ स्थलीय सैलामैंडरों में ऐसे फेफड़े होते हैं जिनका उपयोग साँस लेने में होता है, हालांकि ये स्तनधारियों में पाए जाने वाले अधिक जटिल अंगों के विपरीत सरल और थैलीनुमा होते हैं। कई प्रजातियों जैसे कि ओल्म में वयस्कों की तरह फेफड़े और गलफड़े दोनों होते हैं।[2]

कुछ स्थलीय प्रजातियों में फेफड़े और गलफड़े दोनों ही नहीं पाए जाते हैं और ये वायु का आदान-प्रदान अपनी त्वचा के जरिये करते हैं, इस प्रक्रिया को वेलेरियन श्वसन कहा जाता है जिसमें नलिकाओं का जाल पूरी त्वचा में और मुँह के अंदर तक फैला होता है। यहाँ तक कि फेफड़ों वाली कुछ प्रजातियाँ इस तरीके से त्वचा के जरिये साँस ले सकती हैं।

सैलामैंडर की त्वचा से म्यूकस का स्राव होता है जो सूखे स्थानों पर इस जीव को नम रखने में मदद करता है और पानी में रहने पर इसके नमक का संतुलन बनाए रखता है साथ ही तैरने के दौरान इसे चिकनाई प्रदान करता है। सैलामैंडर अपनी त्वचा में मौजूद ग्रंथियों से विष का स्राव भी करते हैं और कुछ में इनके अतिरिक्त अनुनय संबंधी फेरोमोंस के स्राव के लिए त्वचा ग्रंथियां भी होती हैं।[2]

शिकार अभी भी सैलामैंडर का एक और अनूठा पहलू है। फेफड़ा रहित सैलामैंडरों में हायोड हड्डी के आसपास की मांसपेशियां दबाव बनाने के लिए संकुचित हो जाती हैं और वास्तव में हायोड हड्डी को "झटके से" जीभ के साथ मुँह से बाहर निकालती हैं। जीभ की नोक एक म्यूकस की बनी होती है जो इसके सिरे को चिपचिपा बनाती है जिससे शिकार को पकड़ा जाता है। पेडू क्षेत्र की मांसपेशियों का इस्तेमाल जीभ को घुमाने के क्रम में और हायोड के पिछले हिस्से को इसकी मूल स्थिति में वापस लाने में किया जाता है।

हालांकि अत्यंत जलीय प्रजातियों में से कई में जीभ में मांसपेशियाँ नहीं होती हैं और इसका इस्तेमाल शिकार को पकड़ने के लिए नहीं किया जाता है जबकि ज्यादातर अन्य प्रजातियों में एक मोबाइल जीभ होता है लेकिन हायोड बोन के अनुकूलन के बगैर. सैलामैंडर की ज्यादातर प्रजातियों के पास ऊपरी और निचले दोनों जबड़ों में छोटे दांत होते हैं। मेंढ़कों के विपरीत यहाँ तक कि सैलामैंडर के लार्वा में भी इस तरह के दांत पाए जाते हैं।[2]

अपने शिकार को खोजने के लिए सैलामैंडर लगभग 400 एनएम, 500 एनएम और 570 एनएम के अधिक से अधिक संवेदनशील दो प्रकार के फोटोरिसेप्टर पर आधारित पराबैंगनी रेंज में ट्राइकोमैटिक कलर विजन का इस्तेमाल करते हैं।[5] स्थायी रूप से भूमिगत सैलामैंडरों के पास छोटी आँखें होती हैं जो यहाँ तक कि त्वचा की एक परत से ढकी हो सकती हैं। लार्वा और कुछ अत्यंत जलीय प्रजातियों के वयस्कों में मछलियों की तरह का एक पार्श्व रैखिक अंग मौजूद होता है जो पानी के दबाव में होने वाले बदलावों का पता लगा सकता है। सैलामैंडरों के पास बाहरी कान नहीं होते हैं और केवल एक अल्पविकसित मध्य कान होता है।[2]

सैलामैंडर शिकारियों से बचने के लिए अपनी स्वतंत्र पूँछ का इस्तेमाल करते हैं। वे अपनी पूँछ को गिरा लेते हैं और यह थोड़ी देर के लिए छटपटाती रहती है और सैलामैंडर या तो भाग जाते हैं या फिर उस समय तक स्थिर रहते हैं जब तक कि शिकारी का ध्यान नहीं बँट जाता. सैलामैंडर नियमित रूप से जटिल ऊतकों को पुनः उत्पन्न कर लेते हैं। पादों के किसी भी हिस्से को खोने के कुछ ही हफ़्तों के बाद सैलामैंडर गायब संरचना को पूरी तरह से दुबारा पैदा कर लेते हैं।[6]

वितरण[संपादित करें]

सैलामैंडर पर्मियन काल के मध्य से लेकर अंत तक के दौरान अन्य उभयचरों से अलग हो गए थे और शुरुआत में क्रिप्टोब्रैंक्वाडिया के आधुनिक सदस्यों के सामान थे। छिपकलियों से उनकी समानता सिम्प्लेसियोमोर्फी, प्रारंभिक चौपायों की शारीरिक संरचना की उनकी सामान्य स्मृति का नतीजा है और वे अब छिपकलियों से उतनी नजदीकी से नहीं जुड़े हैं जितने कि स्तनधारियों से - या फिर उस मामले में पक्षियों से. बैट्राकिया के अंदर उनके नजदीकी संबंधी मेंढक और टोड हैं।

कॉडेट्स (पूँछवाले) ऑस्ट्रेलिया, अंटार्टिका और अफ्रीका के अधिकांश हिस्सों को छोड़कर सभी महाद्वीपों में पाए जाते हैं। सैलामैंडर की ज्ञात प्रजातियों में से एक तिहाई उत्तरी अमेरिका में पायी जाती हैं। इनका सबसे अधिक जमावड़ा एपालाचेन के पर्वतीय क्षेत्रों में मिलता है। सैलामैंडर की अनेकों प्रजातियाँ हैं और ये उत्तरी गोलार्द्ध में ज्यादातर नम या शुष्क आवासों में पायी जाती हैं। ये आम तौर पर नदी-नालों में या उनके निकट, खाड़ियों, तालाबों और अन्य नम स्थानों में रहते हैं।

विकास[संपादित करें]

सैलामैंडरों का जीवन इतिहास अन्य उभयचरों जैसे कि मेंढ़कों या टोडों के सामान होता है। अधिकांश प्रजातियां अपने अण्डों का निषेचन आतंरिक रूप से करती हैं जिसमें नर शुक्राणुओं की एक थैली को मादा की मोरी में जमा करते हैं। सबसे प्रारंभिक सैलामैंडर - जिन्हें एक साथ क्रिप्टोब्रैंक्वाइडिया के रूप में वर्गीकृत किया जाता है - उनमें इसकी बजाय बाह्य निषेचन होता है। अंडे एक नमी वाले वातावरण में, अक्सर तालाब में लेकिन कभी-कभी नम मिट्टी या ब्रोमेलियाड्स के अंदर भी दिए जाते हैं। कुछ प्रजातियाँ ओवोविविपेरस होती हैं जिनमें महिलाएं अण्डों को उनके निषेचन तक अपने शरीर में रख लेती हैं।[2]

इसके बाद लार्वा का एक ऐसा चरण होता है जिसमें ये जीव पूरी तरह से जलीय या स्थलीय आवास में रहते हैं और इसके पास गलफड़े मौजूद होते हैं। प्रजातियों के आधार पर लार्वा चरण में पैर मौजूद हो सकते हैं या नहीं भी हो सकते हैं। लार्वा चरण प्रजातियों के आधार पर कुछ दिनों से लेकर कई वर्षों तक का हो सकता है। कुछ प्रजातियों (जैसे कि डंस सैलामैंडर) में लार्वा चरण बिलकुल ही नहीं होता है जिनमें वयस्कों के लघु संस्करणों के रूप में बच्चे अण्डों को सेने का काम करते हैं।

सैलामैंडर के सभी परिवारों में नियोटिनी देखी गयी है जिनमें व्यक्तिगत सैलामैंडर के पास यौन परिपक्वता के दौरान गलफड़े मौजूद हो सकते हैं। यह सैलामैंडर की सभी प्रजातियों में सार्वभौमिक रूप से संभव हो सकता है।[7] हालांकि और अधिक सामान्य रूप से गलफड़ों की कमी, पैरों के विकास (या आकार में वृद्धि) और लौकिक रूप से जीव के सक्रिय रहने की क्षमता के साथ-साथ इनमें रूपांतरण (मेटामोर्फोसिस) जारी रहता है।

घटती संख्या[संपादित करें]

कवक संबंधी बीमारी काइट्रिडायोमाइकोसिस के कारण जीवित उभयचर प्रजातियों की संख्या में एक सामान्य कमी ने सैलामैंडरों पर भी गहरा प्रभाव डाला था। हालांकि शोधकर्ताओं को अभी तक कवकों और आबादी में गिरावट के बीच कोई सीधा सम्बन्ध नहीं मिला है, फिर भी उनका मानना है कि इसने एक भूमिका निभाई है। शोधकर्ता वनों की कटाई और जलवायु परिवर्तन को भी इसमें योगदान करने वाले संभावित कारकों के रूप में देखते हैं। यह 1970 के दशक के दौरान और हाल ही में ग्वाटेमाला में किये गए सर्वेक्षणों पर आधारित है। विशेष रूप से प्रभावित प्रजातियाँ थीं सूडोयूरिसिया ब्रुनाटा और सूडोयूरिसिया गेबेली, दोनों ही 1970 के दशक के दौरान प्रचुर मात्रा में मौजूद थे।[8]

वर्गीकरण[संपादित करें]

कॉडाटा ऑर्डर (वंश) से संबंधित दस प्रजातियाँ मौजूद हैं जिन्हें तीन सब-ऑर्डर में विभाजित किया गया है।[1] नियोकॉडाटा वर्ग का इस्तेमाल अक्सर क्रिप्टोब्रैंक्वाइडिया और सैलामैंड्रॉइडिया को सिरेनोइडिया से अलग करने के लिए किया जाता है।

colspan = "100%" align = "center" साँचा:Bgcolor-blue क्रिप्टोब्रैंक्वाइडिया (विशालकाय सैलामैंडर)
परिवार (फैमिली) सामान्य नाम प्रजाति के उदाहरण

उदाहरण फोटो | - | क्रिप्टोब्रैंकाइडी || विशालकाय सैलामैंडर || हेलबेंडर (क्रिप्टोब्रैंकस एलिगेनियेसिस) ||Cryptobranchus alleganiensis.jpg | - | हाइनोबीडी || एशियाटिक सैलामैंडर || हाइडा सैलामैंडर (हाइनोबियस किमुरी) || Hynobius kimurae (cropped) edit.jpg |- | Colspan = "100%" align = "center" साँचा:Bgcolor-blue | सैलामैंड्रोइडिया (उन्नत सैलामैंडर) |- | एम्बिस्टोमैटिडी || मोल सैलामैंडर्स || मार्बल्ड सैलामैंडर (एम्बिस्टोमा ओपैकम) || Ambystoma opacumPCSLXYB.jpg |- | एम्फियुमिडी || एम्फिउमास या कांगो ईल || दो पंजों वाले एम्फिउमा (एम्फिउमा मीन्स) || Amphiuma means.jpg |- | डाइकैम्प्टोडोंटिडी || प्रशांत क्षेत्रीय विशालकाय सैलामैंडर || प्रशांत क्षेत्रीय विशालकाय सैलामैंडर (डाइकैम्प्टोडोन टेनेब्रोसस) || Dicamptodon tenebrosus.jpg |- | प्लेथोडोंटिडी || फेफड़ारहित सैलामैंडर || रेड ब्लैक सैलामैंडर (प्लेथोडोन सैनेरियस || |- | प्रोटीडी || मडपपीज और ओल्म्स ||) ओल्म (प्रोटियस एन्ग्विनस) ||- Proteus anguinus Postojnska Jama Slovenija.jpg |- | राइकोट्राइटोनिडी || टोरेंट सैलामैंडर || सदर्न टोरेंट सैलामैंडर (राइकोट्राइटोन वेराइगेटस) || Rhyacotriton variegatus.jpg |- | सैलामैंड्रिडी || न्यूट्स और असली सैलामैंडर || अल्पाइन न्यूट (ट्राइटुरस एलपेस्ट्रिस || Mesotriton aplestris dorsal view chrischan.jpeg |- | Colspan = "100%" align = "center" साँचा:Bgcolor-blue | साइरेनोइडिया (साइरेंस) |- | साइरेनिडी || साइरेंस || ग्रेटर साइरेन (साइरेन लैसरटिना || Sirenlacertina.jpg |- |}

पौराणिक कथाएं और लोकप्रिय संस्कृति[संपादित करें]

आग में सुरक्षित एक सैलामैंडर

सैलामैंडर के बारे में कई किंवदंतियाँ सदियों में विकसित हुई हैं जिनमें से कई आग से संबंधित हैं। इस संबंध के विकसित होने की संभावना कई सैलामैंडरों की सड़ती हुई लकड़ियों के अंदर रहने की प्रवृत्ति में दिखाई पड़ती है। लकड़ी को आग में रखने पर सैलामैंडर इसमें से निकलकर भागने की कोशिश करते हैं, जिससे यह धारणा विकसित हुई कि सैलामैंडर आग से पैदा हुए थे - यह एक ऐसी धारणा है जिसने इस प्राणी को इसका नाम दिया.[9]

आग के साथ सैलामैंडर का संबंध अरस्तू, प्लिनी, टाल्मड, कॉनरेड लाइकोस्थींस, बेन्वेनुटो सेलिनी, रे ब्रैडबरी, डेविड वेबर, पैरासेल्सस और लियोनार्डो डा विन्सी की पुस्तकों में दिखाई देता है।

अवयव पुनर्जनन के प्रभाव जो मनुष्यों पर लागू होते हैं[संपादित करें]

सैलामैंडरों का पाद पुनर्जनन वैज्ञानिकों के बीच बहुत दिलचस्पी का केंद्र रहा है। वैज्ञानिक समुदाय में एक सिद्धांत बना हुआ है कि इस तरह के पुनर्जनन को स्टेम कोशिकाओं के इस्तेमाल से मनुष्यों में कृत्रिम रूप से पुनरुत्पादित किया जा सकता है। एक्सोलोटल्स इस शोध के लिए चर्चित रहे हैं।[10]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Phylogenetic relationships of the salamander families: an analysis of the congruence among morphological and molecular characters". Herpetological Monographs 7 (7): 77–93. 1993. c1993. doi:10.2307/1466953. http://jstor.org/stable/1466953. 
  2. Lanza, B., Vanni, S., & Nistri, A. (1998). Cogger, H.G. & Zweifel, R.G.. ed. Encyclopedia of Reptiles and Amphibians. San Diego: Academic Press. pp. 60–68. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-12-178560-2. 
  3. "Digitally tagging and releasing". http://news.xinhuanet.com/newscenter/2002-12/19/content_663873.htm. 
  4. "International Giant Salamander Protection Site". http://www.giant-salamander.com/. 
  5. "Trichromatic color vision in the salamander (Salamandra salamandra)". http://www.springerlink.com/content/xp0262l5x187r3q3/. 
  6. जेम्स आर मोनान 1 एट ऑल माइक्रोएरे और सीडीएनए तंत्रिका-आधारित पाद पुनर्जनन के दौरान प्रतिलेखन का अनुक्रम विश्लेषण बीएमसी बायोलॉजी 2009, 7:1 डीओआई:10.1186/1741-7007-7-1
  7. "Salamander Neoteny". http://www.uoregon.edu/~titus/herp_old/neoteny.htm. 
  8. हेनरी फाउंटेन, अनदर एम्फिबायन एट रिस्क: सैलामैंडर्स, द न्यूयॉर्क टाइम्स, 16 फ़रवरी 2009.
  9. Ashcroft, Frances (2002). Life at the Extremes: The Science of Survival. Berkeley, CA: University of California Press. प॰ 112. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0520234207. 
  10. Keim, Brandon (July 1, 2009). "Salamander Discovery Could Lead to Human Limb Regeneration". Wired. http://www.wired.com/wiredscience/2009/07/regeneration/. अभिगमन तिथि: May 7, 2010. 
  • San Mauro, Diego; Miguel Vences, Marina Alcobendas, Rafael Zardoya and Axel Meyer (May 2005). "Initial diversification of living amphibians predated the breakup of Pangaea". American Naturalist 165 (5): 590–599. doi:10.1086/429523. PMID 15795855. 
  • San Mauro, Diego (2010). "A multilocus timescale for the origin of extant amphibians". Molecular Phylogenetics and Evolution 56 (2): 554–561. doi:10.1016/j.ympev.2010.04.019. PMID 20399871. 

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

क्षेत्रीय सूची[संपादित करें]

मीडिया[संपादित करें]

साँचा:Amphibians