सैयद वंश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(सय्यद वंश से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सैयद वंश
[[तुग़लक़ वंश|]] Blank.png
२८ मई १४१४ – १९ अप्रैल १९५१ Blank.png [[लोधी वंश|]]
Location of सैयद वंश
सैयद वंश के तृतीय बादशाह मुहम्मद शाह का मकबरा।
राजधानी दिल्ली
भाषा(एँ) फ़ारसी (आधिकारिक)[1]
धर्म इस्लाम
सरकार सल्तनत
सुल्तान
 - १४१४–१४२१ ख़िज़्र खाँ
 - १४४५–१४५१ आलम-शाह
इतिहास
 - संस्थापित २८ मई १४१४
 - विसंस्थापित १९ अप्रैल १९५१

सैयद वंश अथवा सय्यद वंश दिल्ली सल्तनत का चतुर्थ वंश था जिसका कार्यकाल १४१४ से १४५१ तक रहा। उन्होंने तुग़लक़ वंश के बाद राज्य की स्थापना की और लोधी वंश से हारने तक शासन किया।

यह परिवार सैयद अथवा मुहम्मद के वंशज माने जाता है। तैमूर के लगातार आक्रमणों के कारण दिल्ली सल्तनत का कन्द्रीय नेतृत्व पूरी तरह से हतास हो चुका था और उसे १३९८ तक लूट लिया गया था। इसके बाद उथल-पुथल भरे समय में, जब कोई केन्द्रीय सत्ता नहीं थी, सैयदों ने दिल्ली में अपनी शक्ति का विस्तार किया। इस वंश के विभिन्न चार शासकों ने ३७-वर्षों तक दिल्ली सल्तनत का नेतृत्व किया।

इस वंश की स्थापना ख़िज्र खाँ ने की जिन्हें तैमूर ने मुल्तान (पंजाब क्षेत्र) का राज्यपाल नियुक्त किया था। खिज़्र खान ने २८ मई १४१४ को दिल्ली की सत्ता दौलत खान लोदी से छीनकर सैयद वंश की स्थापना की। लेकिन वो सुल्तान की पदवी प्राप्त करने में सक्षम नहीं हो पाये और पहले तैम्मूर के तथा उनकी मृत्यु के पश्चात उनके उत्तराधिकारी शाहरुख मीर्ज़ा (तैमूर के नाती) के अधीन तैमूरी राजवंश के रयत-ई-अला (जागीरदार) ही रहे।[2] ख़िज्र खान की मृत्यु के बाद २० मई १४२१ को उनके पुत्र मुबारक खान ने सत्ता अपने हाथ में ली और अपने आप को अपने सिक्कों में मुइज़्ज़ुद्दीन मुबारक शाह के रूप में लिखवाया। उनके क्षेत्र का अधिक विवरण याहिया बिन अहमद सरहिन्दी द्वारा रचित तारीख-ए-मुबारकशाही में मिलता है।[3] मुबारक खान की मृत्यु के बाद उनका दतक पुत्र मुहम्मद खान सत्तारूढ़ हुआ और अपने आपको सुल्तान मुहम्मद शाह के रूप में रखा। अपनी मृत्यु से पूर्व ही उन्होंने बदायूं से अपने पुत्र अलाउद्दीन शाह को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया।[4]

इस वंश के अन्तिम शासक अलाउद्दीन आलम शाह ने स्वेच्छा से दिल्ली सल्तनत को १९ अप्रैल १४५१ को बहलूल खान लोदी के लिए छोड़ दिया और बदायूं चले गये। वो १४७८ में अपनी मृत्यु के समय तक वहाँ ही रहे।[5]

शासक[संपादित करें]

  • ख़िज़्र खाँ (१४१४-१४२१)
  • मुबारक़ शाह (१४२१-१४३४)
  • मुहम्मद शाह (१४३४-१४४५)
  • अलाउद्दीन शाह (१४४५-१४५७)

कालक्रम[संपादित करें]

ख़िज्र खाँ

खिज्र खाँ, सैयद वंश के संस्थापक थे।[6] वो फिरोजशाह तुगलक के अमीर मलिक मर्दान दौलत के दतक पुत्र सुलेमान का पुत्र थे। तैमूर ने वापस लौटते समय उन्हें रैयत-ए-आला की उपाधि के साथ मुल्तान, लाहौर और दीपालपुर का शासक नियुक्त किया था।[7] उन्होंने तैमूर वंश की सहायता से दिल्ली की सत्ता सन् १९१४ में प्राप्त की और जीवन भर रैयत-ए-आला की उपाधि के साथ सन्तुष्ट रहे।[8] उन्हें तैमूर ने भारत में अपने प्रतिनिधि के रूप में मुल्तान में नियुक्त कर रखा था। सन् १४०१० में मुल्तान से सेना लेकर उन्होंने तुगलक वंश पर हमला किया और छः माह में रोहतक पर अपना अधिपत्य स्थापित कर लिया। इस समय दिल्ली सल्तनत पर मोहम्मद शाह तुगलक का शासन था। सन् १९१३ में मोहम्मद शाह का निधन हो गया। मोहम्मद शाह के कोई पुत्र नहीं था और न ही पहले से कोई तुगलक उत्तराधिकारी घोषित था अतः दिल्ली में अनिश्चितता की स्थिति पैदा हो गई। इस समय के लिए दौलत खान लोदी को दिल्ली की सता सौंपी गयी। मार्च १४१४ में खिज्र खाँ ने दिल्ली पर हमला कर दिया और चार माह में जीत दर्ज करते हुये दिल्ली पर अपना शासन आरम्भ कर दिया।[9]

मुबारक शाह

खिज्र खाँ की मृत्यु के बाद उनके उत्तराधिकारी के रूप में उनका पुत्र मुबारक शाह ने दिल्ली की सत्ता अपने हाथ में ली। अपने पिता के विपरीत उन्होंने अपने आप को सुल्तान के रूप में घोषित किया।[10]

मुहम्मद शाह

मुबारक शाह की मृत्यु के बाद मुहम्मद शाह ने दिल्ली सल्तनत पर शासन किया। उनका शासनकाल १४३४ से १४४५ तक रहा।[11]

टिप्पणी[संपादित करें]

  1. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण
  2. वी॰डी॰ महाजन, पृष्ठ २३७
  3. शैलेन्द्र सेनगर, पृ॰ ९
  4. रेहाना ज़ैदी, ७६-७७
  5. वी॰डी॰ महाजन, पृष्ठ २४४
  6. कृपाल चन्द्र यादव, पृ॰ ३७
  7. मनोज कुमार शर्मा, पृ॰ १४२
  8. एम॰ हसन, पृ॰ २३८
  9. एम॰ हसन, पृ॰ २३७
  10. एम॰ हसन, पृ॰२४०
  11. शैलेन्द्र शेगर (भाग २) पृ॰ ८४

सन्दर्भ[संपादित करें]


दिल्ली सल्तनत के शासक वंश
ग़ुलाम वंश | ख़िलजी वंश | तुग़लक़ वंश | सैयद वंश | लोधी वंश | सूरी वंश