षड्यन्त्र का सिद्धान्त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
षड्यंत्र के सिद्धांतों की सूची के लिए देखें: षड्यंत्र के सिद्धांतों की सूची

षड्यंत्र का सिद्धांत एक ऐसा शब्द है, जो मूलत: किसी नागरिक, आपराधिक या राजनीतिक षड्यंत्र के दावे के एक तटस्थ विवरणक के लिए उपयोग किया जाता है. हालांकि, यह बाद में काफी अपमानजनक हो गया और पूरी तरह सिर्फ हाशिये पर स्थित उस सिद्धांत के लिए प्रयुक्त होने लगा, जो किसी ऐतिहासिक या वर्तमान घटना को लगभग अतिमानवीय शक्ति प्राप्त और चालाक षड़यंत्रकारियों की गुप्त साजिश के परिणाम के रूप में व्याख्यायित करता है.[1]

षड्यंत्र के सिद्धांत को विद्वानों द्वारा संदेह के साथ देखा जाता है, क्योंकि वह शायद ही किसी निर्णायक सबूत द्वारा समर्थित होता है और संस्थागत विश्लेषण के विपरीत होता है, जो सार्वजनिक रूप से ज्ञात संस्थाओं में लोगों के सामूहिक व्यवहार पर केंद्रित होती है और जो ऐतिहासिक और वर्तमान घटनाओं की व्या‍ख्या के लिए विद्वतापूर्ण सामग्रियों और मुख्यधारा की मीडिया रपटों में दर्ज तथ्यों पर आधा‍रित होती है, न कि घटना के मकसद और व्यक्तियों की गुप्त सांठगांठ की कार्रवाइयों की अटकलों पर.[1][2]

इसलिए यह शब्द अक्सर हल्के रूप से एक विश्वास को चित्रित करने के प्रयास के रूप में प्रयुक्त होता है, जो विचित्र तरह का झूठ हो और सनकी के रूप में चिह्नित किये हुए या उन्मादी प्रकृति के लोगों वाले समूह द्वारा व्यक्त किया गया हो. इस तरह का चित्रण अपने संभावित अनौचित्य और अनुपयुक्तता के कारण अक्सर विवाद का विषय होता है.[3]

राजनी‍ति वैज्ञानिक माइकल बारकुन के मुताबिक षड्यंत्र के सिद्धांत कभी हाशिये पर या कुछ थोड़े लोगों तक सीमित होते थे, पर अब जनप्रचार माध्यमों के लिए आम हो गये हैं. वे तर्क देते हैं कि इसने षड्यंत्रवाद की अवधारणा पैदा होने में योगदान दिया, जो 20 वीं सदी के आखिर और 21 वीं सदी के प्रारंभ में संयुक्त राज्य अमेरिका में सांस्कृतिक घटना के रूप में उभरा और जनता के मन में राजनीतिक कार्रवाई के प्रभावी प्रतिमान के रूप में लोकतंत्र के संभावित प्रतिस्थापन के रूप में साजिश को माना गया.[1] मानवविज्ञानी टॉड सैंडर्स और हैरी जी वेस्ट के मुताबिक "सबूत से पता चलता है कि आज अमेरिकियों का एक व्यापक वर्ग ..... षड्यंत्र के कम से कम कुछ सिद्धांतों को सही मानता है."[4] इसलिए षड्यंत्र के सिद्धांतों में विश्वास समाजशास्त्रियों, मनोवैज्ञानिकों और लोककथाओं के विशेषज्ञों की रुचि का एक विषय हो गया है.

शब्दावली[संपादित करें]

"षड्यंत्र का सिद्धांत" शब्द सिविल, आपराधिक या राजनीतिक साजिश के किसी वैध या अवैध दावे के लिए एक तटस्थ सूत्रधार हो सकता है. षड्यंत्र करने का मतलब है, "किसी अवैध या गलत कार्य को पूरा करने के लिए एक गुप्त समझौता करना या किसी वैध मकसद को हासिल करने के लिए ऐसे तरीकों का उपयोग करना." [5] हालांकि, षड्यंत्र के सिद्धांत का प्रयोग एक वर्णनात्मक विधा की ओर इंगित करने के लिए भी होता है, जिसमें बड़े षड्यंत्रों के अस्तित्व के लिए व्यापक तर्कों (जरूरी नहीं कि संबंधित हों) का एक गड़ा चयन शामिल हो.[6]

इस अर्थ में "सिद्धांत" शब्द कभी-कभी मुख्यधारा के वैज्ञानिक सिद्धांत के बजाय "अटकल" या "प्राक्कल्पना" के रूप में ज्यादा अनौपचारिक माना जाता है. इसके अलावा साजिश शब्द आम तौर पर शक्तिशाली चेहरों, अक्सर उन प्रतिष्ठानों के लिए प्रयुक्त होता है, जिनपर एक बड़ी जनसंख्या को धोखा देने का विश्वास किया जाता है, जैसे राजनीतिक भ्रष्टाचार. हालांकि कुछ षड्यंत्र वास्तव में सिद्धांत नहीं होते, लेकिन वे अक्सर आम जनता द्वारा इस रूप में चिह्नित कर दिये जाते हैं.

"षड्यंत्र के सिद्धांत" वाक्यांश का पहला दर्ज उपयोग 1909 से दिखता है. मूलतः यह एक तटस्थ शब्द था, लेकिन 1960 के दशक में हुई राजनीतिक उठापटक के बाद इसने अपने वर्तमान अपमानजनक अर्थ को धारण किया.[7] ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी में यह 1997 के आखिर में पूरक के रूप में शामिल हुआ.[8]

"षड्यंत्र सिद्धांत" शब्द विद्वानों और लोकप्रिय संस्कृतियों द्वारा "लोगों" से ताकत, पैसा या आजादी का "हरण करने" के मकसद से की गईं गुप्त सैन्य, बैंकिंग, या राजनीतिक कार्रवाइयों की पहचान के लिए बार बार प्रयोग किया जाता रहा है. कम प्रचलित अर्थ में यह लोककथा और शहरी इतिहास कथा व विविध तरह के व्याख्यात्मक किस्म के कथोपकथन के रूप में प्रयुक्त होता है, जो पौराणिक कथाओं से जुड़े होते हैं.[9] यह शब्द इन दावों को स्वत: खारिज करने के अपमानजनक अर्थ में भी इस्तेमाल होता है, जो हास्यास्पद, नासमझीपूर्ण, पागलपन भरा, निराधार, विचित्र या अतार्किक हो. उदाहरण के लिए "वाटरगेट षड्यंत्र सिद्धांत" शब्द आम तौर पर स्वीकृत अर्थ के लिए नहीं होता है, जिसमें वास्तव में कई प्रतिभागियों को षड्यंत्र के चलते दोषी ठहराया गया और दूसरों को आरोप दर्ज करने से पहले ही माफ़ कर दिया गया, बल्कि इसका वैकल्पिक और अतिरिक्त सिद्धांतों वाले अर्थ के लिए किया जाता है जैसे ये दावे कि "डीप थ्रोट" कहा जाने वाला सूचना स्रोत (स्रोतों) गढ़ा हुआ था.[10]

"एडेप्टेड फ्रॉम ए स्टडी प्रिपेयर्ड फॉर सीआईए" नामक अपने प्रारंभिक लेख में डैनियल पाइप्स ने इसे परिभाषित करने का प्रयास किया, जो 'मानसिकता षडयंत्र' को विचारों के अधिक पारंपरिक पैटर्न से अलग करने में विश्वास जताता है. उन्होंने इसे इस रूप में परिभाषित किया: जो दिखता है, वह धोखा है; षड्यंत्र इतिहास को संचालित करता है; कुछ भी अव्यवस्थित नहीं है, दुश्मन हमेशा ताकत, शोहरत, पैसा और सेक्स हासिल करता है. [11]

वेस्ट और सैंडर्स के अनुसार जब वियतनाम युग में षड्यंत्र के बारे में बात की जा रही थी तो पाइप्स ने इसमें हाशिये पर पड़े तत्वों को इस सोच को शामिल किया कि षड्यंत्रों ने प्रमुख राजनीतिक घोटालों और हत्याओं में एक प्रमुख भूमिका निभाई, जिसने वियतनाम युग में अमेरिकी राजनीति को हिला दिया. "वह उत्पीड़न के किसी भी महत्वपूर्ण ऐतिहासिक या सामाजिक-वैज्ञानिक विश्लेषण में उन्मादी शैली को देखते हैं." [12]

प्रकार[संपादित करें]

राजनी‍ति वैज्ञानिक माइकल बारकुन ने चौड़ाई के आरोही क्रम में षड्यंत्र के सिद्धांतों को श्रेणीबद्ध किया है, जो इस प्रकार हैं:[1]

  • घटनात्मक षड्यंत्र के सिद्धांत. षड्यंत्र एक सीमित, अलग घटना या या घटनाओं के समूह के लिए जिम्मेदार होता है. षड़यंत्रकारी शक्तियों को कथित तौर पर अपनी ऊर्जा एक सीमित व अच्छी तरह से परिभाषित उद्देश्य पर ध्यान केंद्रित करना होता है. हाल के भूतकाल में ज्ञात सबसे अच्छा उदाहरण है कैनेडी की हत्या के षड्यंत्र का साहित्य.
  • प्रणालीगत षड्यंत्र के सिद्धांत. माना जाता है कि इस तरह की साजिश में लक्ष्य व्यापक होता है, आमतौर पर इसमें एक देश का नियंत्रण, एक क्षेत्र या यहां तक कि सारी दुनिया हासिल करने की कल्पना की जाती है. हालांकि लक्ष्य बहुत बड़ा होता है, पर आम तौर पर षड्यंत्रकारी मशीनरी सरल होती है: एक एकल, अनिष्टकारी संगठन को मौजूदा संस्थानों में घुसपैठ और उसके विनाश की योजना बनानी पड़ती है. यह उन षड्यंत्र के सिद्धांतों में आम बात है, जिनमें अंतरराष्ट्रीय साम्यवाद या अंतरराष्ट्रीय पूंजीवादियों के आधार पर बने सिद्धांतों के साथ यहूदियों, गुप्त सभा के सदस्यों, दिव्य शक्तियों वाले समुदायों के कथित शासन तंत्रों पर ध्यान केंद्रित रखा जाता है.
  • अतिषड्यंत्र के सिद्धांत उस षड़यंत्रपूर्ण तानेबाने, जिसमें ऐसा विश्वास किया जाता है कि कई षड्यंत्रों को एक साथ पदानुक्रम रूप से जोड़ा गया है. घटना और प्रणाली एक जटिल तरीके से शामिल हो गए हैं, इसलिए षड्यंत्रों को एक साथ गूंथा जा सके. षड्यंत्रपूर्ण पदानुक्रम की शिखर बैठक दूर होती है, लेकिन सभी शक्तिशाली अनिष्टकारी ताकतें कम षड़यंत्रपूर्ण कर्ताओं को नियंत्रित करती है. अतिषड्यंत्र के सिद्धांतों को 1980 के दशक के बाद से जिम मार्स, डेविड आइक और मिल्टन विलियम कूपर जैसे लेखकों के कार्य के बाद विशेष रूप से वृद्धि हासिल हुई.

षड्यंत्रवाद[संपादित करें]

एक वैश्विक विचार षड्यंत्र के सिद्धांतों को केंद्रित रूप में इतिहास में कभी-कभी "षड्यंत्रवाद" के रूप में दर्ज करता है. इतिहासकार रिचर्ड होफ्सटैडटर 1964 में प्रकाशित द पैरानॉयड स्टाइल ऑफ अमेरिकन पॉलिटिक्स नाम के निबंध में पूरे अमेरिकी इतिहास में व्यामोह और षड्यंत्रवाद की भूमिका की चर्चा की है. बर्नार्ड बेलिन की शास्त्रीय पुस्तक द आइडियोलॉजिकल ओरिजिन्स ऑफ अमेरिकन रिवोल्युशन (1967) में कहा गया है कि इस तरह की अवधारणा अमेरिकी क्रांति के दौरान पायी जा सकती है. तब षड्यंत्रवाद लोगों के नजरिये और साथ ही षड्यंत्र के सिद्धांतों के उन प्रकारों को चिह्नित करता है, जो अनुपात में ज्यादा वैश्विक और ऐतिहासिक हैं.[13] षड्यंत्रवाद शब्द 1980 के दशक में शिक्षाविद फ्रैंक पी. मिंट्ज द्वारा लोकप्रिय किया गया. षड्यंत्र के सिद्धांतों और षड्यंत्रवाद के संबंध में शैक्षणिक कार्य से विधा के अध्ययन के आधार के रूप में अंशोद्धरण (हाइपोथिसिस) की एक व्यापक श्रेणियां पेश की जा सकी हैं. षड्यंत्रवाद के अग्रणी विद्वानों में शामिल हैं: होफ्सटैडटर, कार्ल पॉपर, माइकल बारकुन, रॉबर्ट एलन गोल्डवर्ग, डैनियल पाइप्स, मार्क फेंस्टर, मिंट्ज, कार्ल सैगन, जॉर्ज जॉनसन और गेराल्ड पोसनर.

मिंट्ज के अनुसार षड्यंत्रवाद एक संकेतक है: "खुले इतिहास में षड्यंत्रों की प्रधानता में विश्वास.":[14]

"षड्यंत्रवाद अमेरिका और अन्य जगहों में विभिन्न राजनीतिक और सामाजिक समूहों की जरूरत को पूरा करता है. यह संभ्रांत वर्ग की पहचान करता है, उन्हें आर्थिक और सामाजिक महाविपत्ति के लिए दोषी ठहराता है और मानता है कि एक बार लोकप्रिय कार्रवाई के जरिये उन्हें सत्ता के पदों से हटाया जाता तो हालात कुछ अच्छे हो सकते थे. जैसे, षड्यंत्र के सिद्धांत एक खास युगकाल या विचारधारा के प्रकार नहीं बताते."[15]

पूरे मानव इतिहास के दौरान राजनीतिक और आर्थिक नेता सचमुच भारी संख्या में मौतों और आपदा के कारण बने हैं और वे कभी-कभी एक ही समय में अपने लक्ष्यों के बारे में षड्यंत्र के सिद्धांतों को बढ़ावा देने में शामिल हुए हैं. हिटलर और स्टालिन सबसे प्रमुख् उदाहरणों में से हैं ; अन्य सारे उदाहरण भी हैं.[16] कुछ मामलों में दावों को षड्यंत्र के सिद्धांत कहकर खारिज कर दिया गया, पर बाद में वे सही साबित साबित हुए.[17][18] इस विचार कि इतिहास खुद बड़े दीर्घावधि तक चले षड्यंत्रों द्वारा नियंत्रित है, को इतिहासकार ब्रूस क्यूमिंग्स द्वारा अस्वीकार कर दिया गया:

"लेकिन अगर षड्यंत्र मौजूद हैं, वे शायद ही कभी इतिहास को बदलते हैं; वे समय-समय पर सीमांत पर फर्क ला सकते हैं, लेकिन उनके रचनाकारों के नियंत्रण के बाहर एक तर्क के अप्रत्याशित परिणामों के साथ: और यही 'षड्यंत्र सिद्धांत' के साथ गलत बात है. इतिहास मानव समूहों की बड़ी ताकतों और व्यापक संरचनाओं द्वारा बदला जाता है." [19]

षड्यंत्रवाद शब्द का उपयोग माइकेल केली, चिप बर्लेट और मैथ्यू एन. लियोंस के लेखन में हुआ है.

बर्लेट और लियोंस के अनुसार, "षड्यंत्रवाद बलि का बकरा बनाने का एक खास वृतांतात्मक रूप है, जो पैशाचिक दुश्मनों को एक आम तौर पर भले कार्य के खिलाफ बड़ी आंतरिक साजिश में फंसाता है, जबकि यह बलि के उस बकरे को खतरे की घंटी बजाने वाले वाले नायक के रूप में आंकता है." [20]

आलोचना[संपादित करें]

षड्यंत्र के सिद्धांत शिक्षाविदों, राजनेताओं और प्रचार माध्यमों द्वारा व्यापक आलोचना का विषय है.

शायद षड्यंत्र के सिद्धांत का सबसे विवादास्पद पहलू किसी विशेष सिद्धांत के सच को उजागर करने की समस्या है, जिससे इसे रचने वाले और इसका विरोध करने वाले दोनों संतुष्ट हो सकें. षड्यंत्र के कुछ खास आरोप काफी अलग-अलग हो सकते है, लेकिन उनकी संभावित सत्यवादिता के आकलन के लिए प्रत्येक मामले में लागू कुछ आम मानकों को लागू कर सकती है.

  • ओकैम रेजर- क्या वैकल्पिक कहानी मुख्यधारा की कहानी की तुलना में अधिक सबूतों की व्याख्या करता है या यह अधिक जटिल है और इसलिए उसी सबूत का कम उपयोगी स्पष्टीकरण पेश करता है?
  • तर्क- जो सबूत पेश किये गये हैं, क्या वे तर्क के नियमों का पालन करते है या वे सिर्फ तर्क का भ्रम पैदा करते हैं?
  • क्रियाविधि - क्या तर्क के लिए पेश किये गये सबूत सुगठित, जैसे ध्वनि क्रियाविधि का उपयोग, हैं? क्या कोई स्पष्ट मानक है, ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि कौन सा सबूत सिद्धांत को साबित करेगा या उसका खंडन करेगा?
  • बिगुल बजाने वाले - कितने और किस तरह के लोग वफादार षड्यंत्रकर्ता हैं? कथित षड्यंत्र अगर बड़े दायरे वाला और व्यापक है तो इसे अंजाम देने के लिए अधिक से अधिक संख्या में लोगों की जरूरत होगी.- क्या यह विश्वसनीय है कि इसमें शामिल किसी ने भी मामले को प्रकाश में नहीं लाया?
  • असत्यता - क्या यह निर्धारित करना संभव है कि सिद्धांत के कुछ खास दावे गलत हैं, या उन्हें "असत्य साबित नहीं किया जा सकता?"

संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रतिष्ठान के शैक्षिक आलोचक नोम चोमस्की षड्यंत्र के सिद्धांत को कम या अधिक संस्थागत विश्लेषण के विपरीत रखा है, जो व्यक्तियों के गुप्त साठगांठ के बदले मुख्यत: जनता, सार्वजनिक रूप से ज्ञात संस्थाओं के दीर्घावधि व्यवहार व मुख्यधारा की मीडिया रपटों पर ज्यादा केंद्रित होती है.[21]

विवाद[संपादित करें]

विवाद किन्हीं खास षड़यंत्रपूर्ण दावों की खूबियों से पैदा विवादों से अलग षड्यंत्र के सिद्धांत की आम चर्चा स्वयं कुछ सार्वजनिक सहमति का एक मामला है.

विभिनन पर्यवेक्षकों द्वारा "षड्यंत्र सिद्धांत" शब्द को एक षड्यंत्रपूर्ण दावे का निष्पक्ष वर्णन करार किया गया है, जो एक अपमानजनक शब्द है, जिसका प्रयोग इस तरह के दावे को बिना परीक्षा के खारिज करने के लिए किया जाता है और इस तरह के दावे को बढ़ावा देने वालों द्वारा सकारात्मक समर्थन देने का संकेत करने के लिए भी इस शब्द का प्रयोग किया जाता है. कुछ लोगों द्वारा इस शब्द का प्रयोग वैसे तर्क के लिए किया जा सकता है, जिन पर वे पूरी तरह विश्वास नहीं करते, लेकिन इसे परिवर्तनमूलक और रोमांचक मानते हैं. इस शब्द का सबसे व्यापक रूप से स्वीकृत अर्थ वह है, जो लोकप्रिय संस्कृति और शैक्षणिक उपयोग के चलन में है और निश्चित रूप से इसका वक्ता की संभावित सत्यवादिता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है.

इंटरनेट पर षड्यंत्र के सिद्धांत अक्सर "हाशिये पर स्थित" समूह बताकर खारिज कर दिये जाते है, लेकिन सबूत से पता चलता है कि आज अमेरिकियों का एक बड़ा हिस्सा, भले ही वे किसी भी जातीय, लिंग, शिक्षा, पेशा और अन्य समूहों के हों- कम से कम कुछ षड्यंत्र सिद्धांतों को विश्वसनीय मानते हैं.[22]

इस शब्द के लोकप्रिय अर्थ को देखते हुए भी इनका वास्तव में ठोस और पूरे सबूतों वाले आरोपों को खारिज करने के साधन के रूप में अवैध रूप से और अनुपयुक्त प्रयोग किया जा सकता है. इसलिए ऐसे हर उपयोग की वैधता कुछ विवादों का विषय होगी. 1996 में माइकल पारेंटी लिखे गये अपने निबंध "द जेकेएफ एसेसिनेशन 2: कांसपिरेसीफोबिया ऑन द लेफ्ट", जिसमें इस शब्द के उपयोग में प्रगतिशील मीडिया भूमिका की परख की गई है, में लिखा गया है,

"यह या तो वाम दलों की दुनिया के लिए है, जो किसी भी तरह की साजिश की जांच से बचने को प्रश्रय देते हैं : आपका राजनीति के प्रति वास्तुवादी दृष्टिकोण हो सकता है या एक 'षड्यंत्रवादी' के रूप में, जो ऐतिहासिक घटनाओं को एक गुप्त दल की दुरभिसंधि तक सीमित कर देते हैं और परिणामस्वरूप हम एक बड़े प्रणालीगत बलों को आंखों से ओझल कर देते हैं." [23]

वास्तुवादी और संस्थागत विश्लेषण से पता चलता है कि इस शब्द का तब दुरुपयोग किया जाता है, जब वह उन संस्थाओं पर लागू होता है, जो अपने स्वीकृत लक्ष्यों के अनुसार कार्य कर रहे हैं, जैसे मुनाफे में वृद्धि के लिए जब निगमों का एक समूह के मूल्य को स्थिर करने में संलग्न होता है.

यूएफओ जैसी अवधारणाओं के लिए जटिलताएं आ सकती हैं, जिसका शाब्दिक अर्थ है " अनआइडेंटीफायड फ्लाइंग ऑब्जेक्ट", लेकिन इसका अर्थ एक विदेशी अंतरिक्ष यान के साथ भी जुड़ा हुआ है, जो अवधारणा षड्यंत्र के कुछ सिद्धांतों से जुड़ी हुई है और इस तरह यह कुछ खास सामाजिक कलंक से भी जुड़ा होता है. माइकल पारेंटी इस शब्द के प्रयोग का एक उदाहरण देते हैं, जो इसके खुद के प्रयोग में परस्पर विरोधी दिखता है. वे लिखते हैं,

"अपने अधिकतर ऑपरेशनों में, सीआईए एक साजिश की परिभाषा को गुप्त कार्यों और गुप्त योजनाओं के प्रयोग के रूप में ग्रहण करती है, जिनमें से कई सबसे विवादास्पद होते हैं. अगर षड्यंत्र नहीं है तो गुप्त आपरेशन का क्या मतलब हैं? इसी समय, सीआईए एक संस्था, राष्ट्रीय सुरक्षा का एक संरचनात्मक हिस्सा है. संक्षेप में, एजेंसी एक संस्थागत षड्यंत्र है."[23]

"षड्यंत्र सिद्धांत" शब्द खुद षड्यंत्र सिद्धांत का एक प्रकार का विषय है, जो यह तर्क देता है कि शब्द का प्रयोग चर्चा के विषय के प्रति दर्शकों के उपेक्षा भाव में जोड़-तोड़ करने के लिए किया जाता है, या तो सच को छुपाने के जानबूझकर किये गये प्रयास के रूप में या जानबूझकर की गई साजिश के छलावे के रूप में.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

जब षड्यंत्र के सिद्धांतों को आधिकारिक दावों (एक सरकारी प्राधिकारण से पैदा, जैसे एक खुफिया एजेंसी) के रूप में पेश किया जाता है, तो उन्हें आम तौर पर षड्यंत्र के सिद्धांत के रूप में विचार नहीं किया जाता. उदाहरण के रूप में हाउस अन-अमेरिकन एक्टीविटिज कमेटी की कुछ तय गतिविधियों को षड्यंत्र सिद्धांत को बढ़ावा देने की आधिकारिक कोशिश कहा जा सकता है, हालांकि शायद ही कभी इसके दावों को इस रूप में संदर्भित किया जाता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

आगे इस शब्द के सिद्धांत की अस्पष्टता से कठिनाइयां पैदा होती हैं. लोकप्रिय उपयोग में, इस शब्द का अक्सर निराधार या कमजोर तथ्यों पर आधारित अटकलों के रूप में उल्लेख किया जाता है, जिससे य‍ह विचार उभरता है कि "अगर यह वास्तव में सच है तो यह एक षड्यंत्र का सिद्धांत नहीं है."

षड्यंत्रवाद का अध्ययन[संपादित करें]

1936 में अमेरिकी टीकाकार एच. एल. मेनकेन ने लिखा:

हर मूर्ख का केंद्रीय विश्वास है कि वह अपने आम अधिकारों और वास्तविक योग्यता के खिलाफ एक रहस्यमय साजिश का शिकार है. वह दुनिया में कुछ पाने में विफलता, अपनी जन्मजात अक्षमता और घोर मुर्खता को वाल स्ट्रीट में लगाये गये वेयरवोल्व्स की योजना, या अप्रसिद्धि के कुछ दूसरे अड्डों को उत्तरदायी ठहराता है. [24]

कम से कम 1960 के दशक के बाद से षड्यंत्र के सिद्धांतों में विश्वास समाजशास्त्रियों, मनोवैज्ञानिकों और लोककथाओं के विशेषज्ञों के लिए रुचि का एक विषय बन गया, जब अमेरिकी राष्ट्रपति जॉन एफ कैनेडी की हत्या के बाद अंततः वॉरेन आयोग की रिपोर्ट में दर्ज तथ्यों के आधार पर मामले के सरकारी संस्करण के खिलाफ जनता की एक अभूतपूर्व प्रतिक्रिया आई.

मनोवैज्ञानिक मूल[संपादित करें]

कुछ मनोवैज्ञानिकों के अनुसार, अगर एक व्यक्ति षड्यंत्र के एक सिद्धांत में विश्वास करता है तो दूसरों में भी विश्वास करेगा; एक व्यक्ति जो षड्यंत्र के एक सिद्धांत में विश्वास नहीं करता है, तो वह दूसरे पर भी विश्वास नहीं करेगा.[25] ऐसा सूचनाओं के बीच मतभेदों के कारण भी हो सकता है, जिस पर दल अपने निष्कर्ष तैयार करने में विश्वास करते है.

मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि षड्यंत्रवाद और षड्यंत्र के सिद्धांत के विकास में अर्थ की तलाश आम बात है और यह अकेले इतना शक्तिशाली हो सकता है, जो सबसे पहले एक विचार का निर्माण कर सके. एक बार संज्ञान होने पर पुष्टि का पूर्वाग्रह और संज्ञानात्मक विस्वरता का परिहार विश्वास को सुदृढ़ कर सकता है. एक संदर्भ में, जहां एक साजिश का सिद्धांत एक सामाजिक समूह में लोकप्रिय हो गया है, तो साम्प्रदायिक सुदृढीकरण भी समान रूप से एक भूमिका का हिस्सा हो सकता है. ब्रिटेन के केंट विश्वविद्यालय में किये गये कुछ शोध से पता चलता है कि लोग यह जाने बिना षड्यंत्र के सिद्धांतों से प्रभावित हो सकते हैं कि उनका नज‍िरया बदल गया है. वाल्स की राजकुमारी डायना की मौत के बारे में उजागर साजिश के कुछ लोकप्रिय सिद्धांतों के अध्ययन के बाद इसके प्रतिभागियों ने सही-सही यह अनुमान लगाया कि उनके साथियों का रवैया कितना बदल गया है, लेकिन महत्वपूर्ण रूप से उन्होंने इस बात को काफी कम करके आंका कि षड्यंत्र के सिद्धांतों के पक्ष में उनका दृष्टिकोण कितना बदल गया है. लेखकों ने निष्कर्ष निकाला कि षड्यंत्र के सिद्धांतों में 'एक छिपी हुई शक्ति' होती है, जो लोगों को प्रभावित करती हैं.[26]

मानवतावादी मनोवैज्ञानिकों का तर्क है कि भले ही साजिश के पीछे एक गुप्त दल हमेशा से शत्रुतापूर्ण रुख वाला रहा है, फिर भी षड्यंत्र के सिद्धांतकारों के लिए उसमें आश्वासन का एक तत्व होता है, क्योंकि यह सोचना सांत्वना प्रदान करता है कि मानव से जुड़े मामलों की जटिलताएं और उठापटक कम से कम मानवों द्वारा ही पैदा की जाती हैं, मानव नियंत्रण से बाहर के कारकों द्वारा नहीं. इस तरह के एक गुप्त दल खुद को आश्वस्त करने का एक उपकरण हैं कि कुछ घटनाएं यादृच्छिक नहीं हैं, लेकिन मानव बुद्धि के द्वारा आदेशित हैं. यह प्रदर्शित करता है कि इस तरह की घटनांएं सुबोध और संभावित रूप से नियंत्रण करने योग्य होती हैं. अगर एक गुप्त दल के कारनामों को घटनाओं के एक अनुक्रम में आलिप्त किया जा सकता है, वहां हमेशा क्षीण ही सही, लेकिन उम्मीद बंधती है, लेकिन एक छोटे गुप्त समूह की ताकत को कमजोर करने के लिए- या इसमें शामिल होने और खुद उस शक्ति का प्रयोग करने के लिए. अंत में एक छोटे गुप्त समूह की ताकत में विश्वास मानव गरिमा का निर्विवाद अभिकथन है- भले ही अवचेतन में, लेकिन आवश्यक रूप से निश्चयपूर्वक घोषणा है कि आदमी बिल्कुल असहाय नहीं है, लेकिन कम से कम कुछ मामलों में खुद के भाग्य के लिए वह जिम्मेदार है.[27]

प्रक्षेपण[संपादित करें]

कुछ इतिहासकारों का तर्क है कि षड्यंत्रवाद में मनोवैज्ञानिक प्रक्षेपण का एक तत्व होता है. तर्क के मुताबिक, यह प्रक्षेपण साजिश करने वालों के लिए स्वयं की विशेषताओं के अवांछनीय रोपण के रूप में प्रकट होता है. रिचर्ड होफ्सटैडटर ने अपने निबंध- द पारानायड स्टाइल इन अमेरिकन पॉलिटिक्स - में लिखा है कि

... इस निष्कर्ष का प्रतिकार मुश्किल है कि यह दुश्मन कई मामलों में स्वयं के प्रक्षेपण का विरोधी है, आदर्श और स्वयं को अस्वीकार्य करने के पहलुओं दोनों के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है. दुश्मन महानगरीय बुद्धिजीवी हो सकता है, लेकिन व्यामोहपीड़ित अपनी शैक्षणिक उपलब्धियों के उपकरण के रूप में उससे आगे बढ़ेगा ... कू क्लूस क्लान ने पुरोहित के पहनावे को धारण करने, एक विस्तृत रस्म विकसित करने और एक समान रूप से विस्तृत पदानुक्रम के बिदु पर कैथोलिकवाद का अनुकरण किया. जॉन बिर्च सोसायटी कम्युनिस्ट समूहों और अर्धगुप्त आपरेशन को "अग्रणी" समूहों के माध्यम से मिलाती है और कम्युनिस्ट दुश्मन में मिलने वाली समान प्रवृत्तियों के साथ वैचारिक युद्ध का एक क्रूर अभियोजन का एक धार्मिक संदेश देती है. विभिन्न कट्टरपंथी कम्युनिस्ट विरोधी "योद्धाओं" के प्रवक्ता खुलेआम कम्युनिस्ट हितों के लिए समर्पण और अनुशासन के प्रति अपना प्रशंसा भाव व्यक्त करते हैं.

होफ्सटैडटर ने यह भी लिखा है कि "यौन स्वतंत्रता" एक व्यसन है, जो बार-बार षड्यंत्रवादी के निशाने वाले समूह पर आरोपित किया जाता है, यह दर्ज करते हुए कि सच्चे विश्वासियों की कल्पनाओं से अक्सर सॉडोमैसोस्टिक (यौन सुख की एक मानसिक बीमारी) रास्तों के प्रति आग्रह मजबूती से व्यक्त किया जाता है. उदाहरण के लिए तांत्रिक तरीके से दिये गये दंड की क्रूरता से तंत्र विरोधियों में खुशी देखी जाती है.[28]

ज्ञान सिंद्धांत के प्रति पूर्वाग्रह[संपादित करें]

Conspiracy theories are popular because no matter what they posit, they are all actually comforting, because they all are models of radical simplicity.

—Novelist William Gibson, October 2007.[29]

यह संभव है कि कुछ बुनियादी मानव ज्ञान सिंद्धांत पूर्वाग्रह परीक्षण वाली सामग्रियों पर केंद्रित की जायें. एक अध्ययन के अनुसार मनुष्य "रूल आफ थंब" लागू करता है, जिसके जरिये हम उम्मीद करते हैं कि महत्वपूर्ण घटना का महत्वपूर्ण कारण होता है.[30] यह अध्ययन विषयों के लिए घटनाओं के चार संस्करण पेश करता है, जिसमें एक विदेशी संगठन प्रमुख (क) की सफलतापूर्वक हत्या कर दी गई, (ख) घायल हुआ, लेकिन बच गया, (ग) घाव के बावजूद बच गये,लेकिन बाद की तारीख में दिल के दौरे की मृत्यु हो गई और (घ) पूरी तरह बच गये. बड़ी घटनाओं के मामलों में विषय महत्वपूर्ण रूप से संदिग्ध षड्यंत्र की ओर इशारा कर सकते हैं- जिसमें संगठन प्रमुख की मौत हो गई- तब अन्य मामलों की तुलना में उनके पास उपलब्ध अन्य सबूत समान हों. पैरीडोलिया से जुड़े होने के कारण मानवों की आनुवांशिक प्रवृत्ति है कि वह संयोग में पैटर्न खोजने की कोशिश करता है और यह किसी महत्वपूर्ण घटना में षड्यंत्र की "खोज" की अनुमति देता है.

एक अन्य इपिस्टेमिक 'रूल ऑफ थंब'अन्य मानवों की भागीदारी वाले रहस्यों पर गलत रूप से लागू किया जा सकता है, जो कुई बोनो (किसको फायदा होने वाला है?) होगा. अन्य लोगों के छिपे हुए उद्देश्यों के लिए यह संवेदनशीलता और एक मानव चेतना के सार्वभौमिक लक्षण के रूप में शामिल हो सकती है. हालांकि, यह जासूसों के उपयोग के लिए एक वैध रूल ऑफ थंब हो सकता है, जब जांच के लिए संदिग्धों की एक सूची बनाई जा रही हो. किसके पास मकसद, साधन और अवसर है'- के रूप में प्रयोग इस रूल ऑफ थंब का एक पूरी तरह से वैध उपयोग है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

रोगविषयक मनोविज्ञान[संपादित करें]

कुछ व्यक्तियों के लिए साजिश के एक सिद्धांत पर विश्वास करने, साबित करने या या फिर से बताने की एक जुनूनी मजबूरी हो सकती है और यह इस बात का संकेत है कि एक या एक से अधिक पूरी तरह समझी हुई मनोवैज्ञानिक स्थिति और अन्य काल्पनिक स्थितियां : व्यामोह, इनकार,एक प्रकार का पागलपन मीन वर्ल्ड सिंड्रोम हो सकती हैं.[31]

सामाजिक और राजनीतिक मूल[संपादित करें]

क्रिस्टोफर हिट्चेंस षड्यंत्र के सिद्धांतों को 'लोकतंत्र के गैस का निकास' मानते हैं,[कृपया उद्धरण जोड़ें] जो भारी संख्या में लोगों के बीच परिसंचारी जानकारी की बड़ी राशि का एक अपरिहार्य परिणाम होती है. अन्य[कौन?] सामाजिक टीकाकारों और समाजशास्त्रियों का कहना है कि षड्यंत्र के सिद्धांत उन विविधताओं से पैदा होते हैं, जो एक लोकतांत्रिक (या इस प्रकार के) समाज के भीतर बदल सकते है.

षड़यंत्रपूर्ण घटनाएं तब भावनात्मक रूप से संतोषजनक हो सकती हैं, जब उन्हें एक सहज बोधगम्य व नैतिक संदर्भ में रखा जाये. सिद्धांत को ग्राहक के लिए एक भावनात्मक रूप से परेशान कर घटना या व्यक्तियों का एक स्पष्ट रूप से कल्पना समूह की स्थिति के लिए नैतिक जिम्मेदारी प्रदान करने में सक्षम है. महत्वपूर्ण बात है यह कि समूह आस्तिकों को शामिल नहीं करता . आस्तिक निदान के लिए कोई नैतिक या राजनीतिक दायित्व से मुक्त महसूस कर सकता है, भले ही कोई संस्थागत या सामाजिक खामी मतभेद का वास्तविक स्रोत हो सकता है.[32]

जहां जिम्मेदार सामाजिक व्यवहार सामाजिक स्थितियों द्वारा रोका जाता है या साधारणत: एक व्यक्ति की क्षमता से परे होता है, तो षड्यंत्र का सिद्धांत भावनात्मक मुक्ति या बंद की प्रक्रिया को आसान बनाता है, जहां ऐसी भावनात्मक चुनौतियों (इरविन गोफमैन के बाद)[कृपया उद्धरण जोड़ें] की जरूरत होती है. नैतिक आतंक की तरह षड्यंत्र के सिद्धांत उन समुदायों में बार-बार उभरते हैं, जो सामाजिक अलगाव और राजनीतिक नि:सशक्तिकरण का अनुभव करते हैं.

मार्क फेंस्टर का तर्क है कि "सिर्फ इसलिए कि मेहराबनुमा षड्यंत्र के सिद्धांत गलत हैं, इसका मतलब यह नहीं कि वे कुछ नहीं बिगाड़ सकते. विशेष रूप से, वे सैद्धांतिक रूप से वास्तविक संरचनात्मक अन्याय को संबोधित होते हैं, एक जर्जर नागरिक समाज के लिए एक प्रतिक्रिया देते हैं और उत्पादन के साधनों के स्वामित्व के प्रति एकाग्र होते हैं, जो एक साथ राजनीतिक विषय को मान्यता और सार्वजनिक दायरे में सूचित करने की योग्यता से परे कर देते हैं." (1999: 67).

सामाजिक इतिहासकार होल्गन हरविग नेप्रथम विश्व युद्ध के मूल कारणों के लिए जमर्नी के स्पष्टीकरण का अध्ययन किया :

सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण घटनाओं को समझना सबसे मुश्किल है, क्योंकि वे सबसे ज्यादा मिथक निर्माताओं और धूर्तों का ध्यान आकर्षित करते हैं. [कृपया उद्धरण जोड़ें]

यह सामान्य प्रक्रिया कई तरह के प्रभावों द्वारा बदली जा सकती है. व्यक्तिगत स्तर पर मनोवैज्ञानिक आवश्यकताओं पर जोर देने से प्रक्रिया प्रभावित हो सकती है और हमारे कुछ सार्वभौमिक मानसिक औजार इप्सटेमिक 'ब्लाइंड स्पॉट' है. एक समूह या सामाजिक स्तर पर ऐतिहासिक कारक संतोषजनक अर्थ निर्दिष्ट करने की प्रक्रिया को कम या अधिक समस्याग्रस्त कर सकते हैं.

वैकल्पिक रूप से षड्यंत्र के सिद्धांत तब उत्पन्न हो सकते हैं, जब सार्वजनिक रिकॉर्ड में उपलब्ध सबूत घटनाओं के सामान्य या सरकारी संस्करण के साथ मेल नहीं खायें. इस संबंध में षड्यंत्र के सिद्धांत कभी-कभी घटनाओं के आम या आधिकारिक व्याख्याओं में ब्लाइंड स्पॉट को उजागर कर सकते हैं. (फेंस्टर, 1999)

मीडिया की ललित भाषा[संपादित करें]

मीडिया टीकाकार नियमित रूप से ज्यादा जटिल संरचनात्मक पक्ष के विपरीत व्यक्तिगत एजेंटों के चश्मे के जरिये घटनाओं को समझने की समाचार मीडिया और लोकप्रिय संस्कृति की प्रवृत्ति को नोट करते हैं.[33] यदि यह प्रेक्षण सच है तो यह उम्मीद की जा सकती है कि दर्शक इस पक्ष पर जोर देने की मांग और इसका उपभोग दोनों करता है और यह अपने आप के लिए व्यक्तिगत और सामाजिक घटनाओं के नाटकीय विवरण के प्रति ज्यादा ग्रहणशील है.

मीडिया की एक दूसरी, शायद संबंधित, आलंकारिक भाषा (ट्रोप) में नकारात्मक घटनाओं के लिए व्यक्तिगत जिम्मेदारी तय करने का प्रयास होता है. मीडिया में एक प्रवृत्ति है कि अगर एक घटना होती है तो वह अपराधियों की तलाश शुरू करता है और इतना महत्वपूर्ण होता है कि यह कुछ दिनों के भीतर अपनी खबर के एजेंडे से इसे नहीं हटाता. इस प्रवृत्ति को लेकर यह कहा गया है कि एक विशुद्ध दुर्घटना की अवधारणा के लिए एक खबर में जगह नहीं होती.[34] फिर, अगर यह एक सही अवलोकन है, तो वह उस वास्तविक परिवर्तन में प्रतिबिंबित हो सकता है कि कैसे मीडिया उपभोक्ता नकारात्मक घटनाओं को देखता है.

हॉलीवुड के सिनेमा और टीवी शो निगमों और सरकारों के मानक कामकाज के रूप में षड्यंत्र में विश्वास को स्थाई बनाये रखने और विस्तारित करने में लगे रहते हैं. इनिमी ऑफ द स्टेट एंड शूटर्स जैसी फीचर फिल्में उन बहुत सारी फिल्मों में से हैं, जो षड्यंत्र को एक सामान्य कामकाज के रूप में आगे बढ़ाती है और ये षड्यंत्रों पर सवाल उठाने की प्रवृत्ति को भी त्याग देती हैं, जो करीब 1970 से पहले के फिल्म युग में एक खासियत थी. जेएफके की हत्या के संदर्भ में शूटर इसी प्रणाली से काम करता है, "जैसे षड्यंत्र काम करते हैं". यह दिलचस्प है कि फिल्में और टीवी शो मुद्दों के मानवीकरण और नाटकीकरण के संबंध में समाचार मीडिया की तरह काम करता है, जिन्हें एक षड्यंत्र के सिद्धांत में शामिल करना आसान होता है. घर आना वियतनाम युद्ध के घायल सैनिक के लौटने को एक बड़ी समस्या में बदल देता है, क्योंकि एक मौका दिखता है कि घायल सैनिक प्रेम जाल में फंस जायेगा और जब वह ऐसा करता है तो इसका एक मजबूत निष्कर्ष यह निकलता है कि एक बड़ी समस्या का हल हो गया. यह पहलू हॉलीवुड की पटकथा के विकास का एक प्राकृतिक परिणाम है, जो एक या दो प्रमुख पात्रों को ज्यादा महत्व देते हैं, जिनका अभिनय बड़े सितारे करते हैं और इस प्रकार फिल्म के विपणन का एक अच्छा तरीका स्था‍पित हो जाता है, लेकिन परीक्षण के बाद अवैध लोगों के चक्रव्यूह का पर्दाफाश हो जाता है. उसके बाद संदिग्ध रूप से उचित ठहराये गये एक सुखद अंत की जरूरत पड़ती है, हालांकि, दर्शकों को इसकी उम्मीद होती है, पर वास्तव इसका एक दूसरा प्रभाव झूठे और काल्पनिक कहानियों की भावना को बढ़ाचढ़ा कर पेश करने के रूप में आता है और वस्तुतः इससे जन प्रचार माध्यम के कथन में जनता के विश्वास खोने को उचित ठहराता है. विश्वास के नुकसान से जो शून्य पैदा होता है, वह षड्यंत्र के सिद्धांत के स्पष्टीकरण को ध्वस्त कर देता है.

वास्तविक या काल्पनिक घटनाओं के नाटकीकरण का कार्य भी एक स्तर पर असत्यता और जानबूझकर किये गये प्रयासों को पोषित करता है, जिसे आज मीडिया के जानकार आसानी से पहचान सकते हैं. काल्पनिक पत्रकारिता की अवधारणा में आजकल "समाचार" का लगभग हमेशा नाटकीकरण हो रहा है, कम से कम "एक पक्ष" को दूसरे के मुकाबले पेश किया जाता है, जिस अवधारणा के मुताबिक सभी कहानियों में "दोनों पक्षों" को शामिल किया जाना चाहिए(जैसे कि वास्तविकता केवल दो पक्षों में सिमट गई है) या फीचर फिल्मों की तरह अधिक गहन नाटकीय घटनाक्रम होना चाहिए. इस स्पष्ट नाटकीकरण के द्वारा मीडिया इस विचार को मजबूत करता है कि सभी चीजें जानबूझकर किसी के लाभ के लिए होती हैं, जो इसकी एक और परिभाषा हो सकती है, कम से कम, राजनीतिक षड्यंत्र के सिद्धांतों के लिए. -"हिस्ट्री ऑफ अमेरिकन सिनेमा" डॉ. चार्ल्स हारपोल, स्क्राइबनर/यू काल्फि प्रेस.

एकरूपता का व्यामोह[संपादित करें]

वॉशिंगटन पोस्ट के एक पत्रकार और वाम व दक्षिणपंथी दोनों तरह की युद्ध विरोधी गतिविधियों के आलोचक माइकल केली ने युद्ध विरोधी गतिविधियों और नागरिक स्वतंत्रता से जुड़े वाम व दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं के राजनीतिक अभिसरण को संदर्भित करने के लिए "एकरूपता का व्यामोह" नामक शब्द गढ़ा, जो उनके मुताबिक षड्यंत्रवाद या सरकार विरोधी विचारों में एक साझा विश्वास से प्रेरित हैं.

सामाजिक आलोचकों ने इस शब्द का उल्लेख इस संदर्भ में किया कि कैसे व्यामोहयुक्त षड्यंत्र सिद्धांत का संष्लेषण, जो कभी हाशिये पर पड़े कुछ अमेरिकी दर्शकोंतक सीमित था, अब एक जन अपील बन गया हैं और जन संचार माध्यमों में एक सामान्य स्थान हासिल कर चुका हैं और इस तरह 20 वीं और के अंत और 21 वीं शताब्दी की शुरूआत में भविष्यसूचक सहस्त्राब्दी परिदृश्य के लिए सक्रिय रूप से तैयारी कर रहे लोगों के प्रतिद्वंद्वीविहीन काल खंड का उद्घाटन हो रहा है. उन्होंने चेतावनी दी है कि यह घटना न केवल एकल आतंकवाद को बढ़ावा देगी, बल्कि यह अमेरिकी लोगों के राजनीतिक जीवन पर घातक प्रभाव डालेगी, जैसे विद्रोही दक्षिणपंथी पॉपुलिस्ट मूवमेंट का उभार स्था‍पित राजनीतिक ताकतों को नष्ट करने में सक्षम होगी.[35]

डैनियल पाइप्स ने 2004 में जेरूसलम पोस्ट में फ्यूजन पैरानोरिया नामक लेख लिखा था :

Fears of a petty conspiracy – a political rival or business competitor plotting to do you harm – are as old as the human psyche. But fears of a grand conspiracy – that the Illuminati or Jews plan to take over the world – go back only 900 years and have been operational for just two centuries, since the French Revolution. Conspiracy theories grew in importance from then until World War II, when two arch-conspiracy theorists, Hitler and Stalin, faced off against each other, causing the greatest blood-letting in human history. This hideous spectacle sobered Americans, who in subsequent decades relegated conspiracy theories to the fringe, where mainly two groups promoted such ideas.

The politically disaffected: Blacks (Louis Farrakhan, Cynthia McKinney), the hard Right (John Birch Society, Pat Buchanan), and other alienated elements (Ross Perot, Lyndon LaRouche). Their theories imply a political agenda, but lack much of a following.

The culturally suspicious: These include "Kennedy assassinologists," "ufologists," and those who believe a reptilian race runs the earth and alien installations exist under the earth's surface. Such themes enjoy enormous popularity (a year 2000 poll found 43 percent of Americans believing in UFOs), but carry no political agenda.

The major new development, reports Barkun, professor of political science in the Maxwell School at Syracuse University, is not just an erosion in the divisions between these two groups, but their joining forces with occultists, persons bored by rationalism. Occultists are drawn to what Barkun calls the "cultural dumping ground of the heretical, the scandalous, the unfashionable, and the dangerous" – such as spiritualism, Theosophy, alternative medicine, alchemy, and astrology. Thus, the author who worries about the Secret Service taking orders from the Bavarian Illuminati is old school; the one who worries about a "joint Reptilian-Bavarian Illuminati" takeover is at the cutting edge of the new synthesis. These bizarre notions constitute what Michael Kelly termed "fusion paranoia," a promiscuous absorption of fears from any source whatsoever.[36]

राजनीतिक उपयोग[संपादित करें]

Conspiracy theories exist in the realm of myth, where imaginations run wild, fears trump facts, and evidence is ignored. As a superpower, the United States is often cast as a villain in these dramas.

America.gov[37]

अपने दो खंडों वाले लेखन- द ओपन सोसाइटी एंड इट्स इनिमीज में पॉपर ने "षड्यंत्र के सिद्धांत शब्द का प्रयोग फासीवाद, नाजीवाद और साम्यवाद से प्रभावित विचारधाराओं की आलोचना करने के संदर्भ में किया.[कृपया उद्धरण जोड़ें] पॉपर ने तर्क दिया कि सर्वसत्तावाद का निर्माण "षड्यंत्र के सिद्धांतों" पर हुआ, जिसने जनजातीयतावाद, वर्चस्ववाद या नस्लवाद पर व्यामोहयुक्त परिदृश्यों द्वारा संचालित काल्पनिक योजनाओं को पैदा किया. पॉपर ने दैनिक षड्यंत्र के अस्तित्व के खिलाफ बहस नहीं की (जैसा कि बाद के साहित्य में गलत रूप से कहा गया.) पॉपर ने "षड्यंत्र" शब्द का प्रयोग "प्लेटो के शास्त्रीय एथेंस में साधारण राजनीतिक गतिविधियों का वर्णन करने के लिए किया (जो द ओपन सोसाइटी एंड इट्स इनिमीज में उनके हमले का मुख्य निशाना थे.)

बीसवीं सदी के सर्वसत्तावा‍िदयों की आलोचना करते हुए पॉपर ने लिखा कि "मैं यह नहीं कहूंगा कि षड्यंत्र नहीं होते, इसके विपरीत, वे ठेठ सामाजिक घटनाएं हैं."[38]

उन्होंने अपनी बात दोहरायी कि "षड्यंत्र होते हैं, यह स्वीकार किया जाना चाहिए. लेकिन दर्ज करने योग्य तथ्य, जो अपने घटने के बावजूद षड्यंत्र के सिद्धांत को गलत साबित करते है, यह है कि इनमें से कुछ षड्यंत्र अंतत: सफल रहे हैं. साजिशकर्ता शायद ही साजिश को पूरा कर पाते हैं."[38]

कल्‍पना[संपादित करें]

उनकी नाटकीय संभावनाओं के बावजूद षड्यंत्र रोमांचक और वैज्ञानिक कथा में एक लोकप्रिय कथ्य रहा है. जटिल इतिहास अलग-अलग भूमिकाएं प्रदान करता है, जैसे नैतिकता के नाटक में बुरे लोग बुरी घटनाओं का कारण बनते हैं और अच्छे लोग उनकी पहचान करते हैं व उन्हें पराजित करते हैं. काल्पनिक षड्यंत्र के सिद्धांत स्वच्छ, सहज वृतांतात्‍म्क होते हैं, जिनमें साजिशकर्ता की योजना कहानी के ढांचे के नाटकीय जरूरतों में काफी उपयुक्त होता है. जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है षड्यंत्र के सिद्धांत का कुई बोनो ? पहलू रहस्यजनक कहानियों का एक तत्व है: संभवतः एक छिपे मकसद की खोज के लिए.

1964 में डॉ. स्ट्रैंजलोव ने आधुनिक परमाणु युद्ध के बारे में एक कॉमेडी लिखी. सैक की परमाणु हवाई शाखा का नियंत्रण करने वाले जनरल जैक डी रिप्पर का भ्रम है कि दुनिया का खत्मा हो जायेगा. जनरलन रिप्पर का विश्वास है कि एक ऐसी कम्युनिस्ट साजिश है कि फ्लोराइडयुक्त पानी के जरिये अमेरिकी लोगों के "शरीर के महत्वपूर्ण तरल पदार्थ" के "धीरे-धीरे कमजोर होने और अशुद्ध होने" का खतरा पैदा हो गया है.

1997 की एक थ्रीलर फिल्म में षड़यन्त्र सिद्धान्त था, जिसमें एक टैक्सी ड्राइवर (जिसका अभिनय मेल गिब्सन ने किया) एक न्यूजलेटर प्रकाशित करता है, जिसमें वह संदिग्ध सरकारी षड्यंत्रों की चर्चा करता है और यह साबित होता है कि उनमें से एक या अधिक सही हैं.

1990 के दशक के अंत और 2000 के दशक के प्रारंभ में द एक्स फाइल्स एक लोकप्रिय टीवी शो था, जो मुख्य रूप से एफबीआई के दो एजेंटों फॉक्स मुल्डर और डाना स्कुली की जांच पर आगे बढ़ती थी, जिन्हें षड्यंत्र सिंद्धांतकार लांग गुनमैन के समूह द्वारा भी कभी-कभी मदद मिलती थी. इसकी कई कड़ियां अमेरिकी सरकार के तत्वों द्वारा विदेशी हमले, जिसका नेतृत्व सिगरेट पीते एक आदमी तथा और भी रहस्यमय अंतरराष्ट्रीय "सिंडिकेट" की आशंका से निपटने पर आधारित हैं. उस श्रृंखला की प्रसिद्ध टैग लाइन," की व्याख्या ऊपर चर्चा की गई शैली की प्रकृति के अर्थ खोजने के संदर्भ में की जा सकती है.

अम्बर्टो इको का उपन्यास फोकाल्ट पेंडुलम षड्यंत्रवाद पर एक करारा व्यंग्य है, जिसमें चरित्र सभी द्वारा समर्थित षड्यंत्र सिद्धांत बनाने का प्रयास होता है और जिसमें सैनिक धर्मसंधि और बावेरियन धर्मगुरुओं, तर्क का अध्ययन करने वाले रोसिक्रुसियन समूह, हॉलो अर्थ इंथूजियास्ट, कैथारसीय और रोमन कैथोलिक पुजारियों- सभी शामिल थे.

रॉबर्ट शिया और रॉबर्ट एंटोन विल्सन के तीन खंडों वाला उपन्यास इल्युमिनट्स ! (1975 में प्रकाशित) काफी व्यंग्यात्मक और चेतना जागृत करने वाला है, जो जटिल बाइजेंटीन षड्यंत्रों का वर्णन करता है इसमें योजनाओं के स्तर और योजनाकारों के दुस्साहस के साथ और अधिक बड़े षड्यंत्र भी गुंथे हुए हैं. जैसे-जैसे कहानी आगे बढ़ती है, विचारों का और अधिक विस्तार होता है और इसमें कई मौजूदा षड्यंत्र सिद्धांतों जैसे एक बावेरियन धर्मगुरुओं, एक छोटे गुप्त समूह, वैटिकन, माफिया,छोटी-बड़ी सरकारों, वाम और दक्षिणपंथी समर्थकों के छोटे समूहों के आसपास घूमती है. उनकी योजना का कई काल्पनिक संगठनों की व्यापक योजनाओं में विलय हो जाता है और यह भी कि इसका जो वास्तविक धर्म" होता है, वह सिर्फ मजाक" (असहमतिवादी) बनकर रह जाता है.

भाग्य के एक व्यंग्यात्मक मोड़ के रूप में देखा जाये तो इल्युमिनिटस! दुनिया के एक वास्तविक असहमति वाले समाज (जो सदस्यता का एक ढीलाढाला समूह प्रदर्शित करता है, न कि किसी औपचारिक समूह को) के विकास में मददगार हो सकता है. एक जीवन शैली के आधार के रूप में उपन्यास की पंथ संबंधी कामयाबी ने 20 सदी के अंतिम तीन दशकों में असहमतिवादियों के "पवित्र लेखन" द प्रिंसिपिया डिस्कोरिया को प्रकाशित किया जो अज्ञात था.  शिया व विल्सन ने इल्युमिनेटस  पुस्तकों के अध्यायों के शुरूआती पंक्तियों के लिए अशांति और असहमति की यूनानी देवी इरिस को महिमामंडित करने वाली पुस्तिकाओं से मजाकिया उद्धरणों का उपयोग किया.

षड्यंत्र के सिद्धांतों ने यहां तक कि वीडियो खेलों को भी प्रभावित किया है. समीक्षकों द्वारा बहुप्रशंसित आरपीजी/ शूटर डीयुस एक्स और इसकी उत्तरकथा( यद्यपि कम प्रभावित करने वाला था), डीयुस एक्स : इनविजिबल वार वर्तमान समय के षड्यंत्र सिद्धांतों पर बने हुए हैं, जैसे मैजेस्टिक 12, एरिया 51 और द इल्युमिनिटी.

अन्य उपन्यास, जैसे डैन ब्राउन की 2000 की विवादास्पद पुस्तक " एंजिल्स एंड डेमोन्स" ने भी षड्यंत्र के सिद्धांतों को लोकप्रिय बनाया. यह पुस्तक हार्वर्ड विश्वविद्यालय के एक काल्पनिक प्रतीकवादी रॉबर्ट लैंगडॉन की तलाश के इर्द-गिर्द घूमती है, जो इल्युमिनिटी नाम के एक गुप्त समाज के रहस्यों से पर्दा उठाने पर आमादा है. ब्राउन के उपन्यास और दूसरे समान उपन्‍यास एक अज्ञात के विचारों को षड्यंत्र सिद्धांतकारों की जीवनी शक्ति मानते हैं.

अमेरिकी संस्कृति में षड्यंत्रवाद के अध्ययन में विशेषज्ञता हासिल कर रहे राजनीति वैज्ञानिक माइकल बारकुन लिखते हैं कि 1997 की फिल्म कांसपिरेसी थ्योरी ने एक विशाल दर्शक समूह को सामने लाकर यह विशवास दिलाया अमेरिकी सरकार काले रंग के हेलीकाप्टरों में बैठी एक गुप्त टीम द्वारा नियंत्रित है- हालांकि यह विचार कभी दक्षिणपंथी अतिवादियों तक ही सीमित था.[1]

अमेरिकी लेखक डॉन ब्राउन ने 2003 में जासूसी-रहस्यात्मक उपन्यास द विंची कोड लिखी. यह प्रतीकवादी रॉबर्ट लांगडोन और सोफी नेवीयू का अनुसरण करता है, क्योंकि वे पेरिस के लौवर संग्रहालय में एक हत्या की छानबीन करते हैं और एक षड़यन्त्र का पता लगाते हैं, जो नासरत के यीशु मसीह के मरियम मगदलीनी से शादी की संभावना कर संभावना के आसपास घूमती है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

अवधारणाएं[संपादित करें]

  • अपोफेनिया
  • गुच्छ भ्रम
  • कॉक-अप सिद्धांत
  • अनुकूलता
  • आपराधिक कानून में षड्यंत्र
  • षड्यंत्र सिद्धांतकार
  • मन पर नियंत्रण
  • पैरानौए (पत्रिका)

नोट्स[संपादित करें]

  1. Barkun, Michael (2003). A Culture of Conspiracy: Apocalyptic Visions in Contemporary America. University of California Press; 1 edition. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0520238052. 
  2. Domhoff, G. William (2005). Who Rules America? Power, Politics, and Social Change. McGraw-Hill Humanities/Social Sciences/Languages; 5 edition. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0072876255. 
  3. फेंस्टर, एम. 1999. षड्यंत्र के सिद्धांत: अमेरिकी संस्कृति में गोपनीयता और शक्ति मिनेपोलिस: युनिवरसिटी ऑफ़ मिनेसोटा प्रेस.
  4. हैरी जी. वेस्ट, टोड सैंडर्स. पीपी 4. (2003) ट्रैन्स्पेरन्सी एंड कॉन्सपिरेसी: एथनोग्राफिज़ ऑफ़ ससपीशियन इन द न्यू वर्ल्ड ऑर्डर . ड्यूक यूनिवर्सिटी प्रेस. पीपी 4.
  5. वेब्सटर की नई कॉलेजिएट शब्दकोश, पृष्ठ. 243 (8थ एड. 1976).
  6. रैमसे, रॉबिन (2006). कॉन्सपिरेसी थ्योरीज , पॉकेट एसेंशियल्स. ISBN 1-904048-65-X.
  7. "20थ सेन्चरी वर्ड्स" (1999) जॉन एटू, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, पृष्ठ. 15.
  8. पिटर नाईट द्वारा प्लॉट्स, पैरानौए और ब्लेम, बीबीसी (BBC) न्यूज़ 7 दिसंबर 2006.
  9. जॉनसन, 1983
  10. स्लेट मैगज़ीन
  11. ओर्बिस में डैनियल पाइप्स, विंटर 1992: "डीलिंग विथ मिडिल इस्टर्न कॉन्सपिरेसी थ्योरीज".
  12. पारदर्शिता और कॉन्सपिरेसी: एथनोग्राफिज़ ऑफ़ ससपीशियन इन द न्यू वर्ल्ड ऑर्डर. हैरी जी. वेस्ट, टोड सैंडर्स. पीपी 207.
  13. Bailyn, Bernard (1992) [1967=]. The Ideological Origins of the American Revolution:. Cambridge: Harvard University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-674-44302-0. ASIN: B000NUF6FQ. 
  14. Mintz, Frank P. (1985) [1985 =]. The Liberty Lobby and the American Right: Race, Conspiracy, and Culture. Westport, CT: Greenwood. प॰ 4. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-313-24393-X. 
  15. Mintz, Frank P. (1985) [1985]. The Liberty Lobby and the American Right: Race, Conspiracy, and Culture. Westport, CT: Greenwood. प॰ 199. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-313-24393-X. 
  16. Arendt, Hannah (1973) [1953]. The Origins of Totalitarianism. New York: Harcourt Brace Jovanovich. 
  17. Fenster, Mark (1999). Conspiracy Theories: Secrecy and Power in American Culture. Minneapolis: University of Minnesota Press. 
  18. Dean, Jodi (1998). Aliens in America: Conspiracy Cultures from Outerspace to Cyberspace. Ithaca, NY: Cornell University Press. 
  19. Cumings, Bruce (1999). The Origins of the Korean War, Vol. II, The Roaring of the Cataract, 1947–1950. Princeton, NJ: Princeton University Press. 
  20. Berlet, Chip; Lyons, Matthew N. (2000). Right-Wing Populism in America: Too Close for Comfort. New York: Guilford Press. 
  21. Michael Albert, quoting from Zmagazine. "Conspiracy Theory". http://zena.secureforum.com/znet/ZMag/articles/oldalbert19.htm. अभिगमन तिथि: 2007-08-23. 
  22. पारदर्शिता और कॉन्सपिरेसी: एथनोग्राफिज़ ऑफ़ ससपीशियन इन द न्यू वर्ल्ड ऑर्डर. हैरी जी. वेस्ट, टोड सैंडर्स. पीपी 4.
  23. questionsquestions.net, "द जेऍफ़के (JFK) असैसिनेशन II: कॉन्सपिरेसी फोबिया ऑन द लेफ्ट", माइकल पेरेनटी, 1996
  24. एच. एल. मेंकेन, बैलटीमोर इवनिंग सन , 15 जून 1936
  25. Goertzel (1994). "Belief in Conspiracy Theories". Political Psychology (Political Psychology, Vol. 15, No. 4) 15 (4): 733–744. doi:10.2307/3791630. JSTOR 3791630. http://www.crab.rutgers.edu/~goertzel/conspire.doc. अभिगमन तिथि: 2006-08-07. 
  26. Karen Douglas and Robbie Sutton (in press). "The hidden impact of conspiracy theories: Perceived and actual influence of theories surrounding the death of Princess Diana". Journal of Social Psychology. 
  27. Baigent, Michael; Leigh, Richard; Lincoln, Henry (1987). The Messianic Legacy. Henry Holt & Co. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0805005684. 
  28. हौफ्सटेडर, रिचर्ड. अमेरिकी राजनीति में पैरानौएड स्टाइल. हार्पर की पत्रिका, 1964 नवंबर, पीपी. 77-86.
  29. Beers, David (October 18, 2007). "William Gibson Hates Futurists". The Tyee. http://thetyee.ca/Books/2007/10/18/WillGibson/. अभिगमन तिथि: January 2, 2010. 
  30. "हू शॉट द प्रेसीडेंट?," द ब्रिटिश साइकोलॉजिकल सोसाइटी, 18 मार्च 2003 (7 जून 2005 को अभिगम)
  31. "टॉप 5 न्यू डिज़िज़ेस: मिडिया इंडयुस्ड पोस्ट-ट्रौमाटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (एमआईपीटीएसडी (MIPTSD))," द न्यू डिजीज: अ जर्नल ऑफ़ नरेटिव पैथोलॉजी 2 (2004), (7 जून 2005 को अभिगम).
  32. Vedantam, Shankar (2006-06-05). "Born With the Desire to Know the Unknown". The Washington Post (The Washington Post): p. A02. http://www.washingtonpost.com/wp-dyn/content/article/2006/06/04/AR2006060400618.html. अभिगमन तिथि: 2006-06-07. वरमोंट में मिडलवरी कॉलेज के समाजविज्ञानी थिओडोर सैसन ने कहा,"षड्यंत्र के सिद्धांत कुछ खास शक्तिशाली व्यक्तियों के कार्यों के संदर्भ में एक विचलित कर देने वाली घटनाओं और सामाजिक घटनाओं की व्याख्या करते हैं. दुखी कर देने वाली घटनाओं का सरल स्पष्टीकरण देकर उदाहरण के रूप में अरब दुनिया बताती है कि 11 सितंबर 2001 के हमलों की योजना इजरायल के मोसाद ने बनाई थी- वे जिम्मेदारी से ध्यान हटाने या लोगों को यह बताने के लिए कि कभी कभी ऐसी दुखद घटनाएं हो जाती हैं, जिनकी व्याख्या नहीं की जा सकती.
  33. इवान एमके, "एजेंट्स एंड स्ट्रकचर्स: जर्नलिस्ट्स एंड द कंसट्रेंट ऑन एड्स (AIDS) क्वेरेज," कनेडियन जर्नल ऑफ़ कम्यूनीकेशन 25, नं. 3 (2000), (7 जून 2005 को अभिगम).
  34. "The Blame Game". BBC News. 6 September 2005. http://news.bbc.co.uk/1/hi/magazine/4217024.stm. अभिगमन तिथि: 2007-08-23. 
  35. बर्कन, माइकल. 2003. अ कल्चर ऑफ़ कॉन्सपिरेसी: अपोकैलिपटिक विज़न इन कंटेमपोरेरी अमेरिका. बर्कले: कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी.
  36. Pipes, Daniel. "Fusion Paranoia". अभिगमन तिथि:
  37. "Conspiracy Theories and Misinformation - America.gov". U.S. Department of State's Bureau of International Information Programs. Archived from the original on 25 October 2009. http://web.archive.org/web/20091025062205/http://www.america.gov/conspiracy_theories.html. अभिगमन तिथि: 5 June 2010. 
  38. "Extracts from "The Open Society and Its Enemies Volume 2: The High Tide of Prophecy: Hegel, Marx and the Aftermath" by Karl Raimund Popper (Originally published 1945)". Lachlan Cranswick, quoting Karl Raimund Popper. http://lachlan.bluehaze.com.au/books/popper_open_society.html. अभिगमन तिथि: 2007-08-23. 

संदर्भ[संपादित करें]

  • अमेरिकन हेरिटेज डिक्शनेरी, "कॉन्सपिरेसी थ्योरी"
  • बरकन, माइकल. 2003. अ कल्चर ऑफ़ कॉन्सपिरेसी: अपोकैलिपटिक विज़न इन कंटेमपोरेरी अमेरिका. बर्कले: यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफोर्निया प्रेस. ISBN 0-520-23805-2
  • चेस, एल्स्टन. 2003. हार्वर्ड एंड द अंअबौम्बर: द एडूकेशन ऑफ़ एन अमेरिकन टेरोरिस्ट . न्यूयॉर्क: डब्लू. डब्लू. नोर्टन एंड कंपनी. ISBN 0-393-02002-9
  • फेंस्टर, मार्क. 1999. कॉन्सपिरेसी थ्योरीज: सेक्रेसी एंड पावर इन अमेरिकन कल्चर. मिनेअपोलिस, एम्एन (MN): मिनेसोटा विश्वविद्यालय की प्रेस. ISBN 0-8166-3243-X
  • गोल्डबर्ग, रॉबर्ट एलन. 2001. एनिमीज़ विदेन: द कल्चर ऑफ़ कॉन्सपिरेसी इन मॉडर्न अमेरिका. न्यू हेवन एंड लंडन: येल यूनिवर्सिटी प्रेस. ISBN 0-300-09000-5
  • हौफ्सटेडर, रिचर्ड. 1965. द पैरानौएड स्टाइल इन अमेरिकन पौलिटिक्स एंड अदर एसेस . न्यूयॉर्क: अल्फ्रेड ए. नॉफ. ISBN 0-674-65461-7
  • जॉनसन, जॉर्ज 1983. आर्किटेक्ट्स ऑफ़ फियर: कॉन्सपिरेसी थ्योरीज एंड पैरानौए इन अमेरिकन पौलिटिक्स . लॉस एंजेलिस: जेरेमी पी. टार्चर, इंक. ISBN 0-87477-275-3
  • मैककोनाकी, जेम्स. और रॉबिन टज, द रफ गाइड टू कॉन्सपिरेसी थ्योरीज (2005)
  • मेली, टिमोथी. 1999. इम्पायर ऑफ़ कॉन्सपिरेसी: द कल्चर ऑफ़ पैरानौए इन पोस्टवर अमेरिका. इथाका, एनवाई (NY): कर्नेल विश्वविद्यालय प्रेस. ISBN 0-8014-8606-8
  • मिन्ट्ज़, फ्रैंक पृष्ठ. 1985. द लिबर्टी लौबी एंड द अमेरिकन राईट: रेस, कॉन्सपिरेसी, एंड कल्चर. वेस्टपोर्ट, सीटी (CT): ग्रीनवूड. ISBN 0-313-24393-X
  • पाइप्स, डैनियल. 1997. कॉन्सपिरेसी: हाओ द पैरानौएड स्टाइल फ्लारिश एंड वेयर इट कंस फ्रॉम . न्यूयॉर्क: द फ्री प्रेस. ISBN 0-684-87111-4
  • ---. 1998. द हिडेन हैंड: मिडेल ईस्ट फीयर्स ऑफ़ कॉन्सपिरेसी . न्यूयॉर्क: सेंट मार्टिन की प्रेस. ISBN 0-312-17688-0
  • पॉपर, कार्ल आर. 1945. द ओपन सोसाइटी एंड इट्स एनिमीज़ . प्रिंसटन: प्रिंसटन यूनिवर्सिटी प्रेस. ISBN 0-691-01968-1
  • पोस्नर, गेराल्ड. 1993. केस क्लोस्ड: ली हार्वे ओसवल्ड एंड द असैसनैशन ऑफ़ जेऍफ़के (JFK) . न्यूयॉर्क: द रैंडम हाउस. ISBN 0-385-47446-6
  • सगन, कार्ल. 1996. द डेमन-हॉन्टेड वर्ल्ड: साइंस एज़ अ कैन्डल इन द डार्क . न्यूयॉर्क: द रैंडम हाउस. ISBN 0-394-53512-X
  • वैनकिन, जौनाथन और जॉन व्हालेन. 2004. द 80 ग्रेटेस्ट कॉन्सपिरेसीज़ ऑफ़ ऑल टाइम . न्यूयॉर्क: सिटेडल प्रेस. ISBN 0-8065-2531-2

आगे पढ़ें[संपादित करें]

कॉन्सपिरेसिस्ट्स साहित्य[संपादित करें]

  • द प्रोटोकॉल्स ऑफ़ द एल्डर्स ऑफ़ ज़ायॉन .
  • बलसीजर, डेविड डब्ल्यू. एंड चार्ल्स ई. सेलियर, जूनियर. (1977). द लिंकन कॉन्सपिरेसी . लॉस एंजेलिस: शिक सन क्लासिक बूक्स. ISBN 1-56849-531-5.
  • Bryan, Gerald B.; Talita Paolini, Kenneth Paolini (2000) [1940]. Psychic Dictatorship in America. Paolini International LLC. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-9666213-1-X. 
  • Cooper, Milton William (1991). Behold a Pale Horse. Light Technology Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-929385-22-5. 
  • Icke, David (2004). And the Truth Shall Set You Free: The 21st Century Edition. Bridge of Love. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-9538810-5-9. 
  • Levenda, Peter (2005). Sinister Forces: Trilogy. Trine Day. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-9752906-2-2. 
  • Marrs, Texe (1996). Project L.U.C.I.D.: The Beast 666 Universal Human Control System. Living Truth Publishers. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-884302-02-5. 
  • Pelley, William Dudley (1950). Star Guests: Design for Mortality. Noblesville, Indiana: Soulcraft Press. 
  • Robertson, Pat (1992). The New World Order. W Publishing Group. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8499-3394-3. 
  • विल्सन, रॉबर्ट एंटोन (2002). टीएसओजी (TSOG): द थिंग देत एट द कान्स्टिटूशन , टेम्पे, एज़ेड (AZ): न्यू फैल्कन प्रकाशन. ISBN 1-56184-169-2.
  • यल्लोप, डेविड ए. (1984). इं गौड्स नेम: एन इंवेसटिगेशन इंटू द मर्डर ऑफ़ पोप जॉन पॉल I . न्यूयोर्क: बनटम डेल पब्लीशिंग ग्रूप. ISBN 0-553-05073-7.
  • मैथियस ब्रोकर्स द्वारा कॉन्सपिरेसीज़, कॉन्सपिरेसी थ्योरीज एंड द सीक्रेट्स ऑफ़ 9/11. सहयोग और प्रतियोगिता के बीच कॉन्सपिरेसी एक बुनियादी सिद्धांत के रूप में दिखता है. एक नए "कॉन्सपिरोलॉजी" विज्ञान का प्रस्ताव है.

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
conspiracy theory को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।

साँचा:Conspiracy theories