शीलगुण सिद्धान्त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मनोविज्ञान के सन्दर्भ में शीलगुण सिद्धांत या विशेषक सिद्धान्त (trait theory) मानव व्यक्तित्व के अध्ययन का एक तरीका है। शीलगुण सिद्धान्तकार मुख्यतः शीलगुणों के मापन को महत्व देते हैं। व्यवहार, विचार, तथा भावना के सुस्पष्ट ऐटर्नों को शीलगुण कहते हैं। शीलगुण सिद्धान्त का मानना है कि व्यक्तियों के शीलगुण काफी लम्बी अवधि में भी बहुत सीमा तक अपरिवर्तित रहते हैं, ये अलग-अलग व्यक्तियों में अलग-अलग होते हैं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]