वार्प इंजन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
वार्प इंजन से चलने वाला काल्पनिक यान अपने इर्द-गिर्द दिक्-काल मरोड़ता है लेकिन स्वयं साधारण दिक्-काल में स्थित होता है

वार्प इंजन (warp drive) एक काल्पनिक इंजन है जिसके ज़रिये किसी तारायान को प्रकाश-से-तेज़ गतियों पर चलाया जा सके। सामान्य सापेक्षता सिद्धांत किसी भी वस्तु को साधारण दिक्-काल (स्पेसटाइम) में प्रकाश की गति से तेज़ जाने की अनुमति नहीं देता। 'वार्प' शब्द का मतलब 'मरोड़' होता है और काल्पनिक वार्प इंजन में दिक्-काल को मरोड़ने का विचार रखा जाता है। इस मरोड़े हुए दिक्-काल में यान प्रकाश की गति से कम भी चले तो भी जहाँ तक साधारण दिक्-काल का प्रशन है उसके अनुसार वह प्रकाश की गति से कहीं तेज़ वेग पर चल सकता है। वार्प इंजन की अवधारणा को बहुत सी विज्ञान कथा की कहानी, उपन्यासों और फ़िल्मों में प्रयोग किया जाता है। इनमें स्टार वार्स, स्टार ट्रेक, इत्यादि शामिल हैं।[1]

वास्तविक भौतिकी में भी कुछ आल्कुबियेर​ इंजन जैसे प्रस्ताव हैं जिनमें दिक्-काल को मरोड़कर प्रकाश की गति से तेज़ जाने के बारे में सोचा गया है हालांकि विज्ञान के वर्तमान स्तर पर ऐसा कुछ संभव नहीं है।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Field Propulsion System for Space Travel: Physics of Non-Conventional Propulsion Methods for Interstellar Travel, Yoshinari Minami, pp. 58, Bentham Science Publishers, 2011, ISBN 978-1-60805-270-7, ... Warp drive is a faster-than-light (FTL) propulsion system in the universe of many science fiction settings, most notably including Star Trek ... The idea of warping space as a means of propulsion has enjoyed theoretical study by physicists such as Alcubierre ...