योजन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

योजन वैदिक काल की हिन्दू लम्बाई मापन की इकाई है। एक योजन बराबर होता है चार कोस के। यानि 13-16 कि.मी. 100 योजन से एक महायोजन बनता है। चार गाव्यूति = एक योजन



परिमाण[संपादित करें]

विष्णु पुराण के अनुसार मानव हस्त परिमाण इस प्रकार हैं:-

चित्र:हिन्दू हस्त परिमाण.JPG
हिन्दू मानव हस्त परिमाण
अंगुष्ठ से दूरी (दांये चित्र में देखें)

(वायु पुराण के अनुसार एक अंगुल, अंगुली की एक गांठ के बराबर है, और अन्य प्राधिकारियों के अनुसार सिरे पर अंगुष्ठ की मोटाई के बराबर है.)[1] वायु ने मनु के अधिकार के अन्तर्गत उपरोक्त समान गणना दी है, जो कि मनु संहिता में नहीं उल्लेखित है:-

[2]

विष्णु पुराण:भाग १, अध्याय षष्ठम के अनुसार [संपादित करें]

ब्रह्माण्ड का परिमाण

यह अधिक वर्णित नहीं है.

संदर्भ[संपादित करें]

  1. (A. R. 5. 104.)
  2. Source:[1]
    आयत दशा च द्वे च योजनानि महापुरी ॥

    श्रीमती त्रीणि विस्तीर्ण सु विभाकता महापथा॥ 1-5-7

    7. shriimatii= glorious one - city; su vibhaktaa mahaa pathaa= with well, devised, high, ways; mahaa purii= great, city; dasha cha dve= ten, and, two - twelve; yojanaani= yojana-s; aayataa= lengthy; triiNi [yojanaani] vistiirNaa= three [yojana-s,] in breadth.

    That glorious city with well-devised highways is twelve yojana-s lengthwise and three yojana-s breadth wise. [1-5-7]

    Yojana is an ancient measure of distance, where one yojana roughly equals to 8 to 10 miles. Its account is like this : 1 angula is 3/4 inch; 4 angula-s are = one dhanu graha - bow grip; 8 angula-s are = one dhanu muSTi - fist with thumb raised; 12 angula-s are = 1 vitasti - distance between tip of thumb and tip of last finger when palm is stretched; 2 vitasti-s = 1 aratni -s - cubit; 4 aratni-s = one danDa, dhanuS - bow height - 6 ft ; 10 danDa-s = 1 rajju 60 ft ; 2 rajju-s = 1 paridesha - 120 ft ; 2, 000 dhanuS-s = one krosha , and also called goraTa - 4, 000 yards ; 4 krosha-s = 1 yojana - thus one yojana is 9 to 10 miles. But the British Revenue measurement scaled it down to 5 miles, and all the dictionaries say that one yojana is 5 miles. But traditionally it is held as 10 miles. More info on these measures can be had from The Artha Shaastra of Kautilya - a republication of Penguin.