मुद्रा विनिमय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुद्रा विनिमय (कर्रेंसी स्वैप) दो पक्षों के बीच एक मुद्रा में ऋण के विनिमय संबंधी पहलुओं (अर्थात मूलधन और/या ब्याज के भुगतान) का अन्य मुद्रा में ऋण के शुद्ध वर्त्तमान मान वाले समतुल्य पहलुओं के लिए एक विदेशी मुद्रा विनिमय अनुबंध है। देखें विदेशी मुद्रा डेरिवेटिव. मुद्रा विनिमय तुलनात्मक लाभ के द्वारा प्रेरित होते हैं।[1] मुद्रा विनिमय को केंद्रीय बैंक के नकदी विनिमय से अलग समझा जाना चाहिए.

सरंचना[संपादित करें]

मुद्रा विनिमय बिना तैयारी के व्युत्पन्न हैं, एवं वे ब्याज दर विनिमय से घनिष्ठ रूप से संबंधित हैं। हालांकि, ब्याज दर विनिमय के विपरीत, मुद्रा विनिमय में मूलधन का विनिमय शामिल हो सकता है।[1]

मुद्रा विनिमय द्वारा ऋण विनिमय कर सकने के तीन अलग-अलग तरीके हैं:

सबसे सरल मुद्रा विनिमय संरचना केवल मूलधन का प्रतिपक्ष के साथ, इस समय स्वीकृत दर पर, भविष्य में किसी निश्चित समय में विनिमय करना है। इस तरह के समझौते में वायदा संविदा या भावी सौदे के समतुल्य एक कार्य संपादित होता है। एक प्रतिपक्ष प्राप्त करने की लागत का पता लगाना (या तो सीधे या एक मध्यस्थ के माध्यम से), एवं उनके साथ समझौता करना, लघु अवधि के अगाऊ विनिमय दरों को निश्चित करने की एक विधि के रूप में वैकल्पिक व्युत्पन्नों की तुलना में विनिमय को अधिक महंगा बना देता है। हालांकि, अधिक लंबी अवधि के भावी सौदे के लिए, आम तौर पर 10 वर्षों तक, जहां डेरिवेटिव विकल्प हालांकि लंबी अवधि के भविष्य के लिए व्यापक, आमतौर पर ऊपर से 10 साल के हैं जहां क्रय-विक्रय दरों का अंतर वैकल्पिक व्युत्पन्नों के लिए अधिक व्यापक होता है, मात्र मूलधन वाली मुद्रा विनिमयों का प्रयोग अक्सर अगाऊ दरों को निर्धारित करने के एक किफायती तरीके के रूप में किया जाता है। मुद्रा विनिमय के इस रूप को एफ-एक्स (FX)-विनिमय के रूप में भी जाना जाता है।[2]

एक अन्य मुद्रा विनिमय संरचना उपरोक्त मूलधन के ऋण को ब्याज दर विनिमय के साथ मिश्रित करना है। ऐसे विनिमय में, ब्याज के नकद प्रवाह का प्रतिपक्ष को भुगतान करने के पूर्व उनमें से खर्च की कटौती नहीं की जाती है (क्योंकि वे वनिला ब्याज दर विनिमय में रहेंगे) क्योंकि विभिन्न मुद्राओं में उन पर अधिकार रखा जाता है। चूंकि प्रत्येक पक्ष अन्य पक्ष की तरफ से सफलतापूर्वक उधार लेता है, इस तरह के विनिमय को आगे-पीछे (बैक-टू-बैक) ऋण भी कहा जाता है।[2]

यहां सबसे अंत में, लेकिन निश्चित रूप से कम महत्वपूर्ण नहीं, समान आकार एवं अवधि वाले ऋण के लिए केवल ब्याज भुगतान नकद प्रवाह का विनिमय करना है। पुन:, चूंकि यह एक मुद्रा विनिमय है, विनिमय किये गए नकद प्रवाह अलग-अलग मूल्यवर्ग में होते हैं और इसलिये उनमें से खर्च की कटौती नहीं की जाती है। ऐसे ही एक विनिमय का उदाहरण नियत-दर वाले अमेरिकी डॉलर के ब्याज के भुगतान का यूरो में अस्थायी-दर वाले ब्याज भुगतान के साथ विनिमय करना है। इस प्रकार के विनिमय को पार-मुद्रा ब्याज दर विनिमय, या पार-मुद्रा विनिमय के रूप में भी जाना जाता है।[3]

उपयोग[संपादित करें]

मुद्रा विनिमय के दो मुख्य उपयोग हैं:

  • सस्ता कर्ज प्राप्त करना (मुद्रा की परवाह किए बिना सबसे अच्छे उपलब्ध दर पर कर्ज लेना और फिर आगे-पीछे (बैक-टू-बैक) ऋण का उपयोग कर वांछित मुद्रा में कर्ज का विनिमय करना).[2]
  • विनिमय दरों में उतार-चढ़ाव के विरुद्ध बचाव करना (जोखिम कम करना).[2]

प्रतिरक्षा (बचाव-व्यवस्था) के उदाहरण[संपादित करें]

उदाहरण के लिए, स्विस फ़्रैंक का कर्ज लेने (उधार लेने) की आवश्यकता वाली अमेरिका में स्थित एक कंपनी और अमरीकी डॉलर में समान वर्तमान मूल्य का कर्ज लेने (उधार लेने) की आवश्यकता वाली स्विटज़रलैंड में स्थित एक कंपनी, दोनों ही कंपनियां निम्नांकित में से किसी एक को अपनाकर विनिमय दरों में उतार-चढ़ाव के प्रति अपने जोखिम को कम कर सकती हैं:

  • यदि कंपनियों ने पहले ही अपनी आवश्यकताओं के अनुसार मूलधन वाली मुद्राओं में कर्ज (उधार) ले लिया है, तो जोखिम को केवल नकद प्रवाह के विनिमय के द्वारा कम किया जा सकता है, जिससे कि प्रत्येक कंपनी की वित्तीय लागत उस कंपनी की घरेलू मुद्रा में हो.
  • वैकल्पिक रूप से, कंपनियां अपने स्वयं के घरेलू मुद्राओं में कर्ज (उधार) ले सकती हैं (और ऐसा करने में प्रत्येक का तुलनात्मक लाभ हो सकता है) और तब केवल मूलधन के विनिमय के द्वारा अपनी वांछित मुद्रा में मूलधन प्राप्त कर सकती है।

इतिहास[संपादित करें]

मूल रूप से मुद्रा विनिमय (स्वैप) की कल्पना 1970 में यूनाइटेड किंगडम में विदेशी मुद्रा नियंत्रणों से बचने के लिये की गई थी। उस समय है, ब्रिटेन की कंपनियों को अमेरिकी डॉलर का कर्ज लेने के लिए प्रीमियम (किस्त) का भुगतान करना पड़ता था। इससे बचने के लिए, ब्रिटेन की कंपनियों ने स्टर्लिंग चाहने वाली संयुक्त राज्य अमेरिका की कंपनियों के साथ आगे-पीछे (बैक-टू-बैक) ऋण समझौते किए.[4] जबकि मुद्रा विनिमय पर इस तरह के प्रतिबंध दुर्लभ हो चुके हैं, तुलनात्मक लाभ के कारण आगे-पीछे (बैक-टू-बैक) ऋण से अभी भी बचत उपलब्ध हैं।

पार-मुद्रा ब्याज दर विनिमय (स्वैप) 1981 में बैंक विश्व द्वारा आईबीएम (IBM) के साथ नकद प्रवाह का विनिमय कर स्विस फ़्रैंक और जर्मन मार्क प्राप्त करने के लिये किया गया। इस सौदे पर सालोमन ब्रदर्स ने 210 मिलियन डॉलर्स की अनुमानित राशि एवं दस वर्षों से अधिक की अवधि के लिए समझौता किया।[5]

2008 के वैश्विक वित्तीय संकट के दौरान, संयुक्त राज्य संघीय संचय प्रणाली (यूनाइटेड स्टेट्स फेडरल रिजर्व सिस्टम) द्वारा केंद्रीय बैंक तरलता विनिमय की स्थापना करने के लिये मुद्रा विनिमय लेनदेन संरचना का प्रयोग किया गया। इनमें, एक विकसित[6] या स्थिर रूप से उभरती[7] अर्थव्यवस्था के फेडरल रिजर्व और केन्द्रीय बैंक वर्तमान प्रचलित बाजार मौजूदा विनिमय दर पर घरेलू मुद्राओं का विनिमय करने के लिए तैयार होते हैं एवं समान मुद्रा विनिमय दर पर भविष्य की एक नियत तिथि पर विनिमय को वापस करने के लिए सहमत हो जाते हैं। केंद्रीय बैंक तरलता विनिमय (स्वैप) का उद्देश्य "विदेशी बाजारों को अमेरिकी डॉलरों में तरलता प्रदान करना" है।[8] जबकि केंद्रीय बैंक तरलता विनिमय (स्वैप) और मुद्रा विनिमय (स्वैप) संरचनात्मक रूप से समान हैं, मुद्रा विनिमय (स्वैप) तुलनात्मक लाभ से प्रेरित वाणिज्यिक लेनदेन है, जबकि केंद्रीय बैंक तरलता विनिमय (स्वैप) विदेशी बाजारों में अमरीकी डॉलरों के आपाती ऋण हैं और वर्तमान में यह ज्ञात नहीं है कि दीर्घकालीन रूप में वे डॉलर या संयुक्त राक्य अमेरिका के लिए लाभप्रद होंगे या नहीं.[9]

चीनी जनतांत्रिक गणराज्य का अर्जेंटीना, बेलारूस, हांगकांग, आइसलैंड, इंडोनेशिया, मलेशिया, सिंगापुर और दक्षिण कोरिया के साथ रेंमिंबी के लिए बहु वर्षीय मुद्रा विनिमय समझौते हैं जो केंद्रीय बैंक तरलता विनिमय के समान ही कार्य करते है।[10]

संदर्भ[संपादित करें]