माचिस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
जलती हुई माचिस की तिली
तिली का सिर

माचिस और उसकी तिली मिलकर आवश्यकतानुसार, नियंत्रित ढ़ंग से आग पैदा करने के काम आते हैं। आजकल यह एक बहुत ही सस्ती एवं सुलभ चीजहै।

बनावट[संपादित करें]

आमतौर पर माचिस की तिली आसानी से आग पकड़ने वाली लकड़ी की बनी होती है। इसके एक सिरे पर किसी फास्फोरस-युक्त पदार्थ का लेप किया गया होता है। इस सिरे को किसी घर्षणयुक्त तल परगढ़ने से आग उत्पन्न हो जाती है। माचिस की तीलियों के सिरे पर फास्फोरसयुक्त पदार्थ का लेप करने के लिये जिलेटिन (Gelatin) का उपयोग किया जाता है। ये तीलियाँ किसी लकड़ी के छोटे से बक्से या कागज में रखकर उपयोग में आती हैं। लकड़ी के बक्से के उपर ही एक तल पर घर्षणयुक्त तल बनाया गया होता है।

आमतौर पर माचिस की तिली आसानी से आग पकड़ने वाली लकड़ी की बनी होती है। इसके एक सिरे पर किसी फास्फोरस-युक्त पदार्थ का लेप किया गया होता है। इस सिरे को किसी घर्षणयुक्त तल परगढ़ने से आग उत्पन्न हो जाती है। माचिस की तीलियों के सिरे पर फास्फोरसयुक्त पदार्थ का लेप करने के लिये जिलेटिन (Gelatin) का उपयोग किया जाता है। ये तीलियाँ किसी लकड़ी के छोटे से बक्से या कागज में रखकर उपयोग में आती हैं। लकड़ी के बक्से के उपर ही एक तल पर घर्षणयुक्त तल बनाया गया होता है। [संपादित करें][संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]