भुंई आमला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
भूआमलकी

भुंई आंवला (वानस्पतिक नाम: Phyllanthus niruri) अथवा भुंई आमला अथवा भूआमलकी एरन्ड कुल का लगभग 1.5 फीट से 2 फीट ऊंचा एक वर्षीय पौधा होता है जो बरसात के समय खेतों में खरपतवार के रूप में स्वयंमेव उगता दिखाई देता है। यद्यपि आंवला की तुलना में यह पौधा बहुत छोटा होता है परन्तु आवंला के पौधे जैसे पत्तों तथा पत्तों के पीछे छोटे-छोटे आंवला जैसे फल लगने के कारण संभवतया इसको जमीन का आंवला अथवा 'भुंई आमला' कहा जाता है। अधिकांशतः बंजर जमीनों के साथ-साथ खेतों में वर्षा ऋतु में खरपतवार के रूप में उगने वाले पौधे भुंई आमला का उत्पत्ति स्थल अमेरिका माना जाता है।

भुंई आमला का सम्पूर्ण पंचांग (जड़, तना, पत्ती, पुष्प, फल) औषधीय उपयोग का होता है। भारतवर्ष में यह लगभग सभी क्षेत्रों में बहुतायत में खरपतवार के रूप में मिलता जिसे लोक परंपराओं के अनुसार लीवर से संबंधित विकारों विशेषतया पीलिया तथा हैप्टीटाइटस-बी के उपचार हेतु प्रयुक्त किया जाता है। इसके पत्तों में पौटाशियम की काफी अधिक मात्रा (लगभग 0.83 प्रतिशत) होने के कारण यह काफी अधिक मूत्रल (Diuretic) है। लीवर संबंधी विकारों के साथ-साथ भुंई आमला बुखार, मधुमेह, घनोरिया, आंखों की बीमारियों, खुजली तथा चर्मरोगों, फोड़ों, पेशाब से संबंधित विकारों जैसे पेशाब में खून आना, पेशाब में जलन होना आदि के उपचार हेतु भी प्रयुक्त किया जाता है। इसकी जड़ों से उपयोगी टांनिक बनाया जाता है। इसकी जड़े कब्ज में प्रयुक्त की जाती हैं। इसके मुख्य घटक फाइलेन्थिन तथा हाईपोफाइलेन्थिन हैं तथा इसकी सूखी शाक में फाइलेन्थिल तत्व की मात्रा 0.4% से 0.5% तक होती है। निःसंदेह भुंई आवला काफी अधिक औषधीय उपयोग का पौधा है विशेष रूप से हैप्टीटाइस-बी जैसी जानलेवा बीमारियों के उपचार में प्रभावी सिद्ध होने के कारण इस पौधे की उपयोगगिता और भी बढ़ गई है।

यद्यपि अभी तक भुंई आवला प्राकृतिक रूप से ही काफी मात्रा में प्राप्त हो जाता रहा है तथा बड़े स्तर पर इसके कृषिकरण हेतु प्रयास नहीं किए गए हैं। परन्तु इसकी उपयोगिता तथा मांग को देखते हुए इसके कृषिकरण की आवश्यकता महसूस हो रही है क्योंकि अभी तक इसका बड़े स्तर तक कृषिकरण नहीं हो पाया है, इसका कृषिकरण काफी आसान है, यह काफी कम अवधि की फसल है, अतः इसकी खेती किसानों के लिए व्यवसायिक रूप से काफी लाभकारी सिद्ध हो सकती है। इसकी औषधीय उपयोगिता को देखते हुए इसके बाजार के निरंतर बढ़ते जाने की पर्याप्त संभावनाएं प्रतीत हो रही हैं।

विभिन्न भाषाओं में भुंई आमला के नाम

  • हिन्दी : भुंई आमला, भूआमलकी, हजारदाना, जरमाला, जंगली आंवला
  • संस्कृत  : भूम्यामलकी, भूधात्री, तामलकी, बहुफला
  • बंगाली  : भुंई आमला
  • गुजराती  : भोंय आंवली
  • मराठी  : भुंई आंवली
  • कन्नड़  : किरनेलीगिन्डा, किरूनेल्ली, नीलानेल्ली
  • मलयालम  : कीझारनेल्ली, किलानेल्ली, किलु कानेल्ली, किरगानेल्ली, किरूतानेल्ली
  • उड़िया  : भुंई औला
  • तमिल  : कीझानेल्ली, कीझाक्कानेल्ली
  • तेलगू  : नेलाउसिरीकी
  • वानस्पतिक नाम  : फाईलेन्थस एमेरस अथवा फाईलेन्थस निरूरी (Phylianthus amarus Schumothon)
  • अन्य संबंधित प्रजातियां : फाईलेन्थस फ्र्रेटनर्स बेनेल, फाईलेन्थस यूरीनेरिया लिन
  • वानस्पतिक कुल  : यूकार्बिएसी (एरण्ड कुल) (Enphorbiaceae)