बुल्गारिया का इतिहास

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बुल्गारिया जो यूनान और इस्तांबुल के उत्तर में बसा है मानव बसाव की दृष्टि से बहुत पुराना है । मोंटाना के पास 6800 साल पुराना एक पट्टिकालेख पाया गया है जिसमें चार पंक्तियों में कुछ 24 चिह्न बने पाए गए हैं - इसको पढ़ पाना अभी संभव नहीं हुआ है पर इससे ये अनुमान लगता है कि यहाँ उस समय से मानव रहते होंगे । सन् 1972 में काला सागर के तट पर स्थित वार्ना में सोने का ख़ज़ाना पाया गया था जिसपर राजसी चिह्न बने थे जिससे ये अनुमान लगता है कि बहुत पुराने समय में भी यहाँ कोई राज्य या सत्ता रही होगी - हाँलांकि इस राज्य के जातीय मूल का पता नहीं चल पाया है ।

सामान्यतया थ्रेसियों को बुल्गारों का पूर्ववर्ती माना गया है । थ्रेस के लोगों ने ट्रॉय की लड़ाई (1200 ईसापूर्व के आसपास) में हिस्सा लिया था । इसके बाद 500 ईसापूर्व तक उनका एक साम्राज्य स्थापित हुआ था । सिकन्दर ने 332 ईसापूर्व में इसपर अधिकार कर लिया और 46 इस्वी में रोमनों ने । इसके बाद एशिया से कई समूहों का आगमन आरंभ हुआ । स्लाव जाति के लोगों ने 581 में बिज़ेन्टाइन के रोमन साम्राज्य के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर कर लिया । सन् 864 में बोरिस प्रथम ने परंपरावादी ईसाइयत को राजधर्म बनाया और सीरीलिक लिपि को अपना लिया । अरबों की सेनाओं को हरा दिया गया ।

सन् 1018 तक बुल्गार साम्राज्य का अंत बिज़ेन्टाइन आक्रमणों से हो गया । सन् 1185 से 1360 तक दूसरे बुल्गार साम्राज्य का राज्य रहा । उसके बाद उस्मानी (औटोमन) तुर्क लोगों ने इस पर अधिकार कर लिया । सन् 1877 में रूस ने ऑटोमन साम्राज्य पर हमला कर दिया और उन्हें हरा दिया । सन् 1878 में तीसरे बुल्गार साम्राज्य का उदय हुआ । 1980 में तुर्कों के ख़िलाफ़ चलाए गए अभियान में 30000 तुर्क बुल्गारिया छोड़कर तुर्की चले गए । इससे दो दशक पहले ग्रीस में भी ऐसा ही अभियान चला था । 1989 में वहाँ कम्युनिस्ट पार्टी की नरम शाखा का शासन स्थापित हुआ ।