बमर लोग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सन् १९२० के काल में रस्मी वेशभूषा में एक बमर स्त्री
'गाउन्ग बाउन्ग' नामक पगड़ी पहने हुए एक पुरुष
रंगून के एक घर के बाहर नाट देवताओं के लिए बना एक छोटा सा मंदिर

बमर या बर्मन बर्मा देश के वासियों की सब से प्रमुख जाति है। बर्मा की आबादी के दो-तिहाई लोग इसी समुदाय के सदस्य हैं। बमर लोग ज़्यादातर इरावती नदी के जलसम्भर क्षेत्र में रहते हैं और बर्मी भाषा बोलते हैं। अक्सर बर्मा के सभी लोगों को बर्मन या बमर कह दिया जाता हैं, हालांकि यह ग़लत है क्योंकि बर्मा में और भी जातियाँ रहती हैं। विश्व भर में देखा जाए तो बमरों की कुल जनसँख्या सन् २०१० में लगभग ३ करोड़ की थी।

जाति की उत्पत्ति[संपादित करें]

माना जाता है कि बमर लोग पूर्वी एशिया में जड़े रखते हैं। सम्भव है कि इनकी शुरुआत आधुनिक दक्षिण चीन के यून्नान प्रांत में हुई हो, जहाँ से आज से १,२००-१,५०० वर्ष पहले इनके पूर्वज उत्तर बर्मा में इरावती नदी की घाटी में आ बसे। धीरे-धीरे यह पूरी इरावती नदी के इलाक़े में फैल गए। यहाँ पहले से कुछ जातियाँ रहती थीं, जैसे की मोन लोग और प्यू लोग, जो या तो खदेड़ दिए गए या फिर जिनका बमरों में ही विलय हो गया। बमर लोगों की भाषा बर्मी है, जो तिब्बती भाषा से सम्बन्ध रखती है और चीनी-तिब्बती भाषा-परिवार की सदस्या है। बर्मी में ऐसे बहुत से धर्म सम्बन्धी शब्द हैं जो संस्कृत या पालि भाषा से आये हैं।

समाज और संस्कृति[संपादित करें]

बमर स्त्रियाँ और पुरुष दोनों शरीर के निचले हिस्से पर लोंग्यी नाम की लुंगिया पहनते हैं। महत्वपूर्ण अवसरों पर स्त्रियाँ सोने के ज़ेवर, रेशम के रुमाल-दुपट्टे और जैकेट पहनती हैं। मर्द अक्सर 'गाउन्ग बाउन्ग' नाम की पगड़ियाँ और ताइकपोन नाम की बंदगला जैकेट पहनते हैं। स्त्रियाँ और पुरुष दोनों 'ह्न्यात फनत' नाम की मखमली सैंडिल पहनते हैं। आधुनिक युग में इन मखमली ह्न्यात फनत की बजाए रबड़, चमड़े और प्लास्टिक की सैंडिलें-चप्पल भी आम हो गई हैं, जिन्हें बर्मा में 'जापानी जूते' बुलाया जाता है। किसी ज़माने में बमर पुरुष लम्बे बाल रखा करते थे और उनमें कान की बालियाँ आम थी, लेकिन अब यह कम ही देखा जाता है। त्वचा को सौन्दर्यपूर्ण बनाने के लिए एक पेड़ की छाल को पीसकर उसका 'थनखा' नाम का उबटन चेहरे और हाथों-पैरों पर लगाया जाता है। यह स्त्रियों, लड़कियों और कम उम्र के लड़कों-किशोरों पर देखा जाता है।

धार्मिक प्रथाएँ[संपादित करें]

बमर लोग अधिकतर बौद्ध धर्म की थेरवाद शाखा के अनुयायी होते हैं। इसमें बौद्ध आचार के पंचशील का पालन और दान, शीलता और विपश्यना पर जोर दिया जाता है। समाज में बौद्ध भिक्षुकों का बहुत मान-सम्मान होता है। ज़्यादातर गाँवों में एक बौद्ध मठ और पगोडा (स्तूप) होता है, जिसकी देख-रेख और ख़र्चा पूरा गाँव अपने योगदान से चलाता है। पूर्णिमा के दिनों में अक्सर इन स्तूपों पर त्यौहार लगता है। मॉनसून की बारिशों के दौरान कुछ अवसरों का आयोजन होता है जिनमें भिक्षुकों को नए वस्त्र भेंट किये जाते हैं। बमरों में अपने लड़कों को कुछ कम समय के लिए भिक्षुक बनाने की भी प्रथा है जिसके बाद वे अपने परिवारों को लौटकर साधारण जीवन व्यतीत करते हैं। आधुनिक युग में पाठशालाओं के बनाने से पहले अधिकतर बमर अपनी शिक्षा इन्ही बौद्ध मठों में प्राप्त करते थे।

बौद्ध पूजा के साथ-साथ, बमर लोगों की प्राचीन परम्परा के अनुसार 'नाट' नाम के दिव्य गणों को भी पूजा जाता है। नाटों में ३७ प्रमुख और बहुत से अन्य नाट बताए गए हैं और उन्हें पूजने के लिए बहुत से बमर घरों के बाहर 'नाट एइन' नाम के छोटे मंदिर बने हुए मिलते हैं। सबसे प्रमुख नाट देवता का नाम 'एइन्दविन मिन महागिरि' (यानी 'महापर्वत के घरवाले स्वामी') है, जिनके लिए इन मंदिरों में अक्सर एक नारियल भेंटस्वरूप रखा जाता है।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. China Williams. "Southeast Asia on a Shoestring". Lonely Planet, 2010. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781741792331. http://books.google.com/books?id=eTuUboxIQTsC. "... The 37 nat figures are often found side by side with Buddhist images. The Burmese nats are spirits that can inhabit ..."