बदलते रिश्ते (1978 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बदलते रिश्ते
निर्देशक रघुनाथ झालानी
निर्माता सुदेश कुमार
विजया पिक्चर्स
विजयश्री पिक्चर्स
लेखक मदन जोशी (संवाद)
पटकथा फणी मजूमदार
कहानी महेंद्र सरल
कथावाचक गोविंदराम आहूजा
अभिनेता जितेन्द्र,
ऋषि कपूर,
रीना रॉय,
असरानी,
ए के हंगल,
दीना पाठक
संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
छायाकार प्रवीण भट
संपादक बी प्रसाद
वितरक अल्ट्रा डिसट्रीब्यूटर्स
(2006, भारत, विडियो)
प्रदर्शन तिथि(याँ) 11 मार्च 1978 (1978-03-11)
देश भारत
भाषा हिन्दी

बदलते रिश्ते (अंग्रेजी: Changing Relations) 1978 में रघुनाथ झालानी द्वारा निर्देशित, पारिवारिक कथा आधारित हिंदी फिल्म जिसके मुख्या कलाकार जितेन्द्र, ऋषि कपूररीना रॉय है| असरानीए के हंगल सहायक पात्र में अभिनित इस फिल्म के संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल है|

संक्षेप[संपादित करें]

सावित्री (रीना रॉय) संगीत शिक्षिका है जो बच्चों को संगीत सिखाती है| वह अपनी माँ (दीना पाठक) व रंगाई ठेकेदार भाई चंदर (असरानी) के साथ रहती है| एक दिन वह मनोहर धनी (ऋषि कपूर) से मिल उससे प्रेम करती है| इधर सागर सिंह (जितेन्द्र) नामक व्यापारी अमरीका से लौटता है| उसकी बहन सावित्री से संगीत सीखती, जिसका गाना सुन उसपर मोहित होता है|

एक दिन चंदर का मित्र अपने ज्योतिषी पिता प्रोफ़ेसर (ए के हंगल) के साथ आता है| प्रोफ़ेसर चंदर के आनेवाले अच्छे समय, उसकी माँ के कठिन समय के बारे में सूचित करता है| परन्तु सावित्री के विषय में कुछ बताने से टालते है| चंदर से पुरानी मित्रता के कारण सागर उसे मदद करने के साथ उसकी बहन से विवाह करना चाहता है| इस बीच सागर सावित्री को एक चिट्ठी भेजता है जिसे पढ़ वह भभक उठती है| सागर की भाभी उससे विवाह करने की सागर का विचार बताती है| सागर का परिवार सावित्री के घर विवाह का प्रस्ताव लिते जाती है जिसे सावित्री की माँ स्वीकार करती है| सावित्री इस विवाह प्रस्ताव को नकारती है| इस बीच चंदर एक दुर्घटना में घायल हुए अस्पताल में भर्ती होता है| अपने बीमार माँ की बात मान सावित्री सागर से विवाह करती है जिसमे उसकी सहेली प्रोफ़ेसर की बात उसे बताती है|

सावित्री सागर को प्रोफ़ेसर की बात बताने पर भी वह उससे विवाह करता है| इधर सावित्री सारी बात मनोहर को पत्र में बताती है| कुछ दिन बात मनोहर चंदर के विवाह में सावित्री से मिल प्रोफ़ेसर के बात की आड़ में सागर को मारने की बात बताता है जिसपर वह मनोहर से द्वेष करने लगती है| कुछ दिनों में मनोहर सागर से मित्रता किए घर आने पर सावित्री उसे निकाल देती है| सावित्री सागर को मनोहर के विचार बताने पर वह मनोहर से लड़ पड़ता है| मनोहर तमंचे से सागर पर गोली चलाने पर सावित्री उसे बचाए मनोहर को वहां से जाने कहती है| बाद में चंदर अपनी पत्नी को समझाता है के सागर के प्रति सावित्री के प्रेम के लिए मनोहर ने अपने रिश्ते बदले|

चरित्र[संपादित करें]

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

दल[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

  • गीत "ये दुनिया के बदलते रिश्ते" बिनाका गीत माला की 1979 वार्षिक सूची में 4थीं पायदान पर रही|

गीतकार अंजान, all संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल.

गने
क्र. शीर्षक गायक अवधि
1. "गुमसुम सी खोई खोई"   किशोर कुमार, अनुराधा पौडवाल 7:40
2. "तुम चाहे हमको पसंद न करो"   किशोर कुमार, सुमन कल्याणपुर 3:35
3. "मेरी सांसोंको जो महका रही है" (लोकप्रिय गीत) महेंद्र कपूर, लता मंगेशकर 6:15
4. "ये दुनिया के बदलते रिश्ते" (लोकप्रिय गीत) किशोर कुमार, मोहम्मद रफ़ी, सुमन कल्याणपुर 5:30
5. "वो वो न रहे"   मोहम्मद रफ़ी 6:00

रोचक तथ्य[संपादित करें]

परिणाम[संपादित करें]

बौक्स ऑफिस[संपादित करें]

समीक्षाएँ[संपादित करें]

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
१९७९
(1979)
बी प्रसाद फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ट संपादक पुरस्कार जीता

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]