प्रतिबिम्ब

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब हम किसी वस्तु को दर्पण से सामने रखतें हैं तो वस्तु से चलने वाली प्रकाश किरणे दर्पण के तल से परावर्तित होकर हमारी आंखों पर पड़ती है जिससे हमे वस्तु की आक्र्ति दिखाई देती हैं। इस आक्रति को ही वस्तु का प्रतिबिम्ब कहते हैं।