पॉइज़न आइवी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Poison ivy
Ground-level poison ivy, Ottawa, Ontario
Ground-level poison ivy, Ottawa, Ontario
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: Plantae
(अश्रेणिकृत) Angiosperms
(अश्रेणिकृत) Eudicots
(अश्रेणिकृत) Rosids
गण: Sapindales
कुल: Anacardiaceae
प्रजाति: Toxicodendron
जाति: T. radicans
(L.) Kuntze
द्विपद नाम
Toxicodendron radicans
पर्याय
  • Rhus toxicodendron
  • Rhus radicans

टॉक्सिकोडेंड्रोन रेडिकंस (पॉइज़न आइवी ; पुराने समानार्थक शब्द रुस टॉक्सिकोडेंड्रोन , रुस रेडिकंस [1]), ऐनाकार्डियासी परिवार का एक पौधा है. यह एक जंगली लता है जो युरुशियोल नामक एक त्वचा प्रदाहक उत्पन्न करने की अपनी क्षमता के लिए काफी मशहूर है जो अधिकांश लोगों में होने वाली एक खुजली वाली फुंसी का कारण है जिसे तकनीकी तौर पर युरुशियोल-प्रेरित संपर्क त्वचादाह के रूप में जाना जाता है लेकिन यह एक वास्तविक आइवी (हेडेरा ) नहीं है.

प्राप्ति-स्थल और सीमा[संपादित करें]

पॉइज़न आइवी उत्तर अमेरिका के अधिकांश भाग में चारों तरफ पनपता है जिसमें कनाडा के समुद्री प्रान्त, क्यूबेक और ओंटारियो, और संयुक्त राज्य अमेरिका में उत्तर डकोटा को छोड़कर रॉकीज़ के सभी पूर्वी भाग के साथ-साथ मैक्सिको के पहाड़ी क्षेत्रों 1,500 मी (4,900 फ़ुट) (कैक्विसल या कैक्स्विसल—नाहूआट्ल शब्द देखें) तक का क्षेत्र भी शामिल हैं, और यह आम तौर पर जंगली क्षेत्रों, खास तौर पर किनारे के क्षेत्रों में पाया जाता है. यह अनावृत चट्टानी क्षेत्रों और खुले क्षेत्रों और अशांत क्षेत्रों में भी उगता है. यह जंगल के एक अंडरस्टोरी पौधे के रूप में भी पनपता है, हालांकि यह कुछ हद तक ही छाया सहिष्णु है.[1] यह पौधा न्यू इंग्लैंड, मध्य अटलांटिक, और दक्षिण-पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका के उपनगरीय और बाह्यनगरीय क्षेत्रों में बहुत आम है. इसी प्रकार की प्रजातियां, पॉइज़न-ओक, और टॉक्सिकोडेंड्रोन राइडबर्गी पश्चिमी उत्तर अमेरिका में पाई जाती हैं. पॉइज़न आइवी शायद ही कभी 1,500 मी (4,900 फ़ुट) से अधिक ऊंचाई पर बढ़ता है, हालांकि विभिन्न स्थानों में ऊंचाई सीमा में अंतर होता है.[1] ये पौधे एक झाड़ी के रूप में लगभग 1.2 मीटर (3.9 फ़ुट) लम्बे सकते हैं, एक ग्राउंडकवर के रूप में 10–25 सेमी (3.9–9.8 इंच) ऊंचे हो सकते हैं, या आरोही लता के रूप में अलग-अलग तरह की वस्तुओं का सहारा लेकर बढ़ सकते हैं. पर्याप्त सहारा मिलने पर पुरानी लताओं से कई पार्श्व शाखाएं निकलने लगती हैं जिन्हें शुरू में वृक्ष के अंग समझने की भूल हो सकती है.

यह विशेष रूप से मिट्टी की नमी के प्रति संवेदनशील नहीं है, लेकिन यह रेगिस्तान या शुष्क परिस्थितियों में नहीं बढ़ता है. यह विभिन्न प्रकार की मिट्टियों में पनपता है और इसके लिए मिट्टी में pH की मात्रा 6.0 (अम्लीय) से 7.9 (सामान्य क्षारीय) तक होती है. यह उन क्षेत्रों में पनप सकता है जो मौसमी बाढ़ या खारे पानी के अधीन है.[1]

यह उस समय की तुलना में अब अधिक आम है जब यूरोपीय लोगों ने पहली बार उत्तर अमेरिका में प्रवेश किया था. जंगली और अविकसित भूमि के निकट अचल संपत्ति के विकास ने "बढ़त प्रभाव" को जन्म दिया है और ऐसे स्थानों में विशाल और सघन उपनिवेशों के निर्माण में पॉइज़न आइवी को सक्षम बना दिया है. इसे संयुक्त राज्य अमेरिका के मिनेसोटा और मिशिगन राज्यों तथा कनाडा के ओंटारियो प्रांत में हानिकारक खरपतवार के रूप में सूचीबद्ध किया गया है.

पॉइज़न आइवी और इससे संबंधित लताएं यूरोप में लगभग अनजान हैं. कई यूरोपीय अमेरिका और कनाडा की यात्रा के दौरान यह देखकर काफी हैरान हो जाते हैं कि इस तरह का एक खतरनाक पौधा इस महाद्वीप पर इतने आमतौर पर मौजूद है.

वर्णन[संपादित करें]

पॉइज़न आइवी की विशिष्ट लालनुमा "रोमों" वाली लता (पत्तों और लताओं की तरह ये भी मनुष्यों के लिए बहुत ज़हरीली हैं)

पॉइज़न आइवी के पर्णपाती पत्ते, बादाम के आकार के तीन पत्रक युक्त त्रिपत्रधारी होते हैं.[1] पत्ते का रंग हल्का हरा (आम तौर पर युवा या नई पत्तियां) से लेकर गाढ़ा हरा (परिपक्व पत्तियां) होता है, जो पतझड़ में चमकीले लाल रंग में बदल जाते हैं; हालांकि अन्य सूत्रों का कहना है कि पत्तियां लालनुमा होती हैं जब ये बढ़ रही होती हैं, परिपक्व या परिपूर्ण रूप से बढ़ जाने पर हरे रंग की हो जाती हैं, और उसके बाद पतझड़ में या इनके झड़ने के दौरान ये फिर से लाल, नारंगी, या पीले रंग में बदल जाती हैं. परिपक्व पत्तियों के पत्रक कुछ-कुछ चमकीले होते हैं. इनके पत्रक 3 से 12 सेमी. तक लम्बे होते हैं और शायद ही कभी ये 30 सेमी. तक लम्बे होते हैं. प्रत्येक पत्रक के किनारों पर दांतों की संख्या बहुत कम संख्या में या बिलकुल ही नहीं होती है. लताओं पर स्थित पत्रक समूह एकांतर क्रम में होते हैं और इस पौधे में कांटे बिलकुल ही नहीं होते हैं. पेड़ के तने पर बढ़नेवाली लताएं कई हवाई लाघुमूलों के माध्यम से काफी मजबूती से जुड़ जाती हैं.[2] लताएं अपस्थानिक जड़ों को विकसित करती हैं, या पौधे प्रकंदों या मूल शिखरों से फ़ैल सकते हैं. पॉइज़न आइवी का दूधिया रस हवा के संपर्क में आने के बाद काला हो जाता है.

पॉइज़न आइवी वानस्पतिक या लैंगिक दोनों रूप से फैलता है. पॉइज़न आइवी डाइऑइसियस होते हैं; इस पौधे में मई से जुलाई तक फूल लगते हैं. पीलानुमा- या हरानुमा-सफ़ेद फूल आम तौर पर अस्पष्ट होते हैं जो पतियों के ऊपर 8 सेमी. तक स्थित समूहों में अवस्थित होते हैं. इसका फल बेर जैसा और गुठलीदार होता है जो अगस्त से नवम्बर तक पक जाता हैं और पकने के बाद भूरापन लिए हुए सफ़ेद रंग का होता है.[1] इसका फल कुछ पक्षियों और अन्य पशुओं के लिए सर्दियों के मौसम का एक पसंदीदा भोजन है. इनके बीज मुख्य रूप से पशुओं द्वारा फैलते हैं और पाचक नली से होकर गुजरने के बाद भी इनमें जीवन की क्षमता होती है.

पहचान में सहायक[संपादित करें]

अधिकांश स्थितियों में पॉइज़न आइवी की पहचान के लिए निम्नलिखित तीन विशेषताएं पर्याप्त हैं: (a) तीन पत्रकों का समूह, (b) एकांतर पत्र व्यवस्था, और (c) कांटों का अभाव. हालांकि असंख्य अन्य पौधे इस सरलीकृत वर्णन के अनुरूप होते हैं, लेकिन फिर भी इन मानदंडों वाले किसी भी पौधे से उन लोगों को अपने सहज ज्ञान का इस्तेमाल करके बचना चाहिए जो पॉइज़न आइवी की पहचान से अपरिचित हैं. पत्तियों के क्षतिग्रस्त होने, सर्दियों के मौसम में पत्तीरहित होने, और पर्यावरण/या आनुवंशिक कारकों के कारण आसामान्य वृद्धि के दौरान अनुभवी लोगों द्वारा इसकी पहचान कर पाना अक्सर मुश्किल हो जाता है.

विभिन्न स्मरक काव्यात्मक पंक्तियां, पॉइज़न आइवी के अभिलाक्षणिक रूप का वर्णन करती हैं:[3]

  1. "लीव्स ऑफ़ थ्री, लेट इट बी." (तीन पत्रकों वाली पत्तियां, इसे छोड़ दो)
  2. "हेयरी वाइन, नो फ्रेंड ऑफ़ माइन." (मैं रोमदार लता हूं, मेरा कोई दोस्त नहीं है)[4] पॉइज़न आइवी की लताएं बहुत ज़हरीली होती हैं.
  3. "रैगी रोप, डोंट बी ए डोप!" (मेरी चिथड़ेदार रस्सी हैं, लेकिन मूर्ख मत बनो)

!" पेड़ों पर पनपने वाली पॉइज़न आइवी की लताएं देखने में रोएंदार "चिथड़ेदार" होती हैं. यह काव्यपंक्ति पेड़ पर चढ़ने वालों को सावधान रहने की चेतावनी देता हैं.

  1. "वन, टू, थ्री? डोंट टच मी." (एक, दो, तीन? मुझे मत स्पर्श करो)
  2. "बेरीज़ ह्वाइट, रन इन फ्राईट" (बेर सफ़ेद रंग के हैं, लेकिन डरकर भाग जाओ) और "बेरीज़ ह्वाइट, डेंजर इन साईट." (बेर सफ़ेद रंग के हैं, लेकिन सामने खतरा है)[5]
  3. "लोंगर मिडिल स्टेम, स्टे अवे फ्रॉम देम." (बीच वाला तना काफी लम्बा है, लेकिन उनसे दूर रहो) यह मध्य पत्रक को संदर्भित करता है जिसका तना जो दोनों तरफ के पत्रकों के डंठलों की तुलना में विशेष रूप से अधिक लम्बा है और जो इसे इसी तरह की दिखने वाली रुस एरोमेटिका - फ्रैग्रंट स्यूमक से अलग सिद्ध करने का एक मुख्य साधन है.
  4. "रेड लीफलेट्स इन द स्प्रिंग, इट्स ए डेंजरस थिंग." (वसंत के मौसम में इसके पत्रकों का रंग लाल हो जाता है, लेकिन यह एक खतरनाक चीज़ है) यह इसके लाल रूप को संदर्भित करता है जिसे नए पत्रक कभी-कभी वसंत के मौसम में धारण करते हैं. (ध्यान दें कि बाद में, गर्मियों के मौसम में, पत्रक हरे रंग के हो जाते हैं जो इसे अन्य पौधों से अलग दिखने में काफी मुश्किल बना देता है, जबकि पतझड़ के मौसम में ये लालनुमा-नारंगी रंग के हो सकते हैं.)
  5. "साइड लीफलेट्स लाइक मिटेंस, विल इच लाइक द डिकेंस." (किनारे के पत्रक दस्तानों की तरह लगते हैं, जो डिकेंस की तरह खुजली पैदा करेगा) यह पॉइज़न आइवी की कुछ, न कि सभी, पत्तियों की आकृति को संदर्भित करता है, जहां दोनों तरफ के प्रत्येक पत्रक में एक छोटा सा निशान होता है जिससे पत्रक दिखने में एक "अंगूठे" वाले एक दस्ताने की तरह लगता है. (ध्यान दें कि इस काव्यपंक्ति का गलती से इस यह मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए कि केवल किनारे वाले पत्रक ही खुजली पैदा करते हैं, क्योंकि वास्तव में पौधे का सम्पूर्ण भाग खुजली पैदा कर सकता है.)
  6. "इफ बटरफ्लाईज़ लैंड देयर, डोंट पुट योर हैण्ड देयर." (अगर तितलियां वहां बैठती हैं, तो आप अपना हाथ वहां न रखें) यह इस बात को संदर्भित करता है कि कुछ तितलियां पॉइज़न आइवी पर बैठती हैं, क्योंकि उन पर इसका प्रभाव नहीं पड़ता है, जो उन्हें सुरक्षा प्रदान करती हैं क्योंकि उनके शिकारी पौधे के भक्षण से दूर ही रहते हैं.[6]

शरीर पर प्रभाव[संपादित करें]

पॉइज़न आइवी नामक इस युरुशियोल-प्रेरित संपर्क त्वचादाह के कारण होने वाली प्रतिक्रिया एक एलर्जी सम्बन्धी प्रतिक्रिया है. लगभग 15%[7] से 30%[8] लोगों में एलर्जी सम्बन्धी कोई प्रतिक्रिया नहीं होती है, लेकिन ज्यादातर लोग युरुशियोल के बार-बार या अत्यधिक संकेंद्रित अनावरण से सुग्राही बन जाएंगे. इन प्रतिक्रियाओं की प्रगति तीव्रग्राहिता तक हो सकती है.

सड़क के किनारे की पॉइज़न आइवी

युरुशियोल संपर्क स्थापित होने पर त्वचा को गर्म कर देता है जिससे भयंकर खुजली होने लगती है जो बढ़कर लाल रंग की तरह दिखने वाले सूजन या गैर-रंगीन फुंसियों का रूप धारण कर लेता है और उसके बाद छाला बन जाता है. कैलामाइन लोशन से इन घावों का इलाज़ किया जा सकता है, बेचैनी से राहत दिलाने के लिए बुरो के घोल से सेंकना या नहाना लाभप्रद हो सकता है,[9] हालांकि हाल के अध्ययनों से कुछ परंपरागत दवाइयां अप्रभावी साबित हुई हैं.[10][11] पॉइज़न आइवी के इलाज के लिए त्वचाविशेषज्ञों द्वारा अब खुजली से राहत दिलाने वाले ओवर-द-काउंटर (डॉ के परामर्श के बिना ख़रीदे या बेचे जाने वाले) उत्पादों—या सिर्फ दलिया स्नान और बेकिंग सोडा—के इस्तेमाल की सलाह दी जाती है.[12] गंभीर मामलों में, खुले छालेदार घावों और कॉर्टिकॉस्टेरॉयड से मवाद के रिसाव की समाप्ति आवश्यक इलाज़ है.

पॉइज़न आइवी के संपर्क में आने से बनने वाले छाले

खुजलीदार छालों से निकाले गए रिसने वाले मवाद ज़हर नहीं फैलाते हैं.[13][14][15] बढ़ रहे दाने की आकृति यह दर्शाती है कि कुछ क्षेत्रों में ज़हर की अधिक मात्रा मौजूद थी जहां अन्य क्षेत्रों की तुलना में जल्दी प्रतिक्रिया हुई या यह भी दर्शाती है कि उन वस्तुओं के संपर्क से होने वाला संक्रमण अभी भी जारी है जिससे शुरू में ज़हर फैला था.[13] छाले और रिसाव, रक्त वाहिकाओं का ही नतीजा है जो रिक्त स्थान में वृद्धि कर देते हैं और त्वचा के माध्यम से तरल पदार्थ या मवाद को बहाने लगते हैं; यदि त्वचा को ठंडा कर दिया जाता है तो वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं और बहाव कम हो जाता है.[तथ्य वांछित] अगर पॉइज़न आइवी को जला दिया जाए और इसके धुंए को सांस के माध्यम से अन्दर खींच लिया जाए तो ये दाने फेफड़ों की भीतरी सतह पर दिखाई देंगे, बेहद दर्द होने लगेगा और शायद घातक सांस की तकलीफ का कारण बनेगा.[16] अगर पॉइज़न आइवी को खा लिया जाए तो पाचक नली, वायुमार्ग, गुर्दा या अन्य अंग क्षतिग्रस्त हो सकते हैं.[तथ्य वांछित] शारीर के किसी भी हिस्से में होने वाले पॉइज़न आइवी के दाने गंभीरता और इलाज़ के आधार पर एक से चार सप्ताह तक रह सकते हैं. शायद ही कभी किसी मामले में पॉइज़न आइवी की प्रतिक्रिया के लिए अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है.[13][17]

युरुशियोल तेल कई वर्षों तक सक्रिय रह सकता है इसलिए मृत पत्तियों या लताओं को हाथ लगाने से भी प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ सकता है. इसके अलावा, पौधे से अन्य वस्तुओं (जैसे - पालतू फ़र) में हस्तांतरित तेल यदि त्वचा के संपर्क में आ जाए तो इससे भी दाने हो सकते हैं.[18][19] आगे के संचरण की रोकथाम करने के लिए तेल के संपर्क में आए कपड़ों, औज़ारों, और अन्य वस्तुओं को धो लेना चाहिए. पॉइज़न आइवी के प्रति संवेदनशील लोगों को आमों से भी एक इसी तरह के दाने का सामना करना पड़ सकता है. पॉइज़न आइवी की तरह आम भी उसी परिवार (ऐनाकार्डियासी) का सदस्य है; आम के पेड़ का रस और आम की छाल का रासायनिक मिश्रण युरुशियोल की तरह ही होता है.[20]

कभी-कभार संबंधित फ्रैग्रंट स्यूमक (रुस एरोमेटिका ) या जापानी लाख के पेड़ के संपर्क से होने वाली इसी तरह की प्रतिक्रियाओं की खबर मिलती रही है.

एक जैसे दिखने वाले पौधे[संपादित करें]

  • वर्जिंस बोवर (क्लेमाटिस वर्जीनियाना ) (डेविल्स डार्निंग नीडल्स, डेविल्स हेयर, लव वाइन, ट्रैवलर्स जॉय, वर्जिंस बोवर, वर्जीनिया वर्जिंस बोवर, वाइल्ड हॉप्स, और वूडबाइन के नाम से भी जाना जाता है; समानार्थक शब्द - क्लेमाटिस वर्जीनियाना एल. वर. मिसौरिएन्सिस (Rydb.) पामर और स्टेयरमार्क [1]) संयुक्त राज्य अमेरिका के मूल के रैनुन्कुलेसी परिवार की एक लता है. यह पौधा एक ऐसी लता है जो 10 से 20 फुट तक की लम्बाई तक ऊपर चढ़ सकती है. यह जंगल के किनारों पर, नम ढलानों पर, बाड़े की पंक्तियों पर, झाड़ियों में और धारा-तटों पर पनपते हैं. यह जुलाई और सितंबर के बीच लगभग एक इंच व्यास वाले सफेद, सुगंधित फूल उत्पन्न करता है.
  • बॉक्स-एल्डर (एसर नेगुन्डो) के नवजात पौधों के पत्ते ऐसे होते हैं जो देखने में बिलकुल पॉइज़न आइवी की पत्तियों की तरह लग सकते हैं, हालांकि पौधे की समरूपता खुद ही बहुत अलग है. हालांकि बॉक्स एल्डरों में अक्सर पांच या सात पत्रक होते हैं, जिनमें से तीन पत्रक, ख़ास तौर पर छोटे-छोटे नवजात पौधों में, आम होते हैं. पत्तियों के स्थान को देखने के तरीके से दोनों में फर्क किया जा सकता है जहां पत्ते का डंठल मुख्य शाखा से मिलता है (जहां तीनों पत्रक जुड़े होते हैं). पॉइज़न आइवी की पत्तियां एकांतर क्रम में होती हैं, जिसका मतलब है कि तीन-पत्रक वाली पत्तियां मुख्य शाखा के साथ एकांतर क्रम में होती हैं. मेपल (बॉक्स-एल्डर इसी का एक प्रकार है) की पत्तियां विपरीत क्रम में होती हैं; एकदम से विपरीत दिशा में पत्तियों के दूसरे डंठल का होना बॉक्स-एल्डर की विशेषता है.
  • वर्जीनिया क्रीपर (पार्थेनोसिसस क्विनक्यूफोलिया ) की लताएं देखने में पॉइज़न आइवी की तरह लग सकती हैं. तरुण पत्तों में तीन पत्रक हो सकते हैं लेकिन पत्ते के किनारों पर कुछ क्रकच या दांत होते हैं, और पत्ते का सतह कुछ-कुछ झुर्रीदार होता है.0 हालांकि, वर्जीनिया क्रीपर के अधिकांश पत्तों में पांच पत्रक होते हैं. वर्जीनिया क्रीपर और पॉइज़न आइवी संभवतः एक साथ, यहां तक कि एक ही पेड़ पर, पनपते हैं. ध्यान रखें कि यहां तक कि जिन लोगों में पॉइज़न आइवी के प्रति कोई एलर्जी सम्बन्धी प्रतिक्रिया नहीं होती हैं, उन्हें वर्जीनिया क्रीपर के रस में पाए जाने वाले ऑक्सालेट क्रिस्टल से एलर्जी हो सकती है.
  • वेस्टर्न पॉइज़न-ओक (टॉक्सिकोडेंड्रोन डाइवरसिलोबम ) के पत्रक भी तना के सिरे पर तीन की संख्या में होते हैं, लेकिन प्रत्येक पत्रक का आकार कुछ हद तक ओक के पत्ते की तरह होता है. वेस्टर्न पॉइज़न-ओक केवल पश्चिमी संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में पनपता है, बहुत से लोग पॉइज़न आइवी को पॉइज़न ओक के रूप में संदर्भित करेंगे. इसका कारण यह है कि पॉइज़न आइवी अपने पर्यावरण की नमी और चमक के आधार पर या तो आइवी-जैसे रूप में या झाड़ीनुमा ओक-जैसे रूप में पनपेंगे. आइवी का यह रूप छायादार क्षेत्र पसंद करता है और जहां बहुत कम धूप निकलती हो, पेड़ों के तनों की ओर चढ़ने के लिए बढ़ता है, और जमीन पर चारों तरफ बड़ी तेज़ी से फ़ैल सकता है.
  • पॉइज़न स्यूमक (टॉक्सिकोडेंड्रोन वर्निक्स ) के पत्ते 7 से 15 पत्रकों वाले यौगिक पत्ते होते हैं. पॉइज़न स्यूमक में कभी भी केवल तीन पत्रक नहीं होते हैं.
  • कुड्ज़ू (प्यूरेरिया लोबाटा ) एक गैर-विषैली खाद्य लता है जो बड़े पैमाने पर छोटे वनस्पतियों पर चढ़ता है या पेड़ों में ऊंचाई पर पनपता है. कुड्ज़ू दक्षिणी संयुक्त राज्य अमेरिका में पाई जाने वाली आक्रामक प्रजाति है. पॉइज़न आइवी की तरह इसके तीन पत्रक होते हैं, लेकिन पत्रक पॉइज़न आइवी के पत्रकों की तुलना में बड़े होते हैं और रोमदार किनारों के साथ नीचे की तरफ भी रोमिल होते हैं.
  • जामुन और रसभरी (रूबस spp.) पॉइज़न आइवी के समान हो सकते हैं, जिसके साथ वे क्षेत्र का साझा कर सकते हैं. एक तरफ, जामुन और रसभरी, और दूसरी तरफ, पॉइज़न आइवी, के बीच का मुख्य अंतर यही है कि जामुन और रसभरी के तनों पर प्रायः हमेशा ही कांटे दिखाई देते हैं, जबकि पॉइज़न आइवी का तना चिकना होता है. इसके अलावा, जामुन और रसभरी के कुछ पत्तों के तीन-पत्रक वाली पद्धति में पौधे के बढ़ने के दौरान बदलाव आता है: मौसम में बाद में उत्पन्न होने वाले पत्तों में तीन के बजाय पांच पत्रक होते हैं. जामुन और रसभरी के पत्तों के किनारे-किनारे कई सुन्दर-सुन्दर दांत होते हैं, और उनके पत्तों के सबसे ऊपरी सतह बहुत झुर्रीदार होते हैं जहां धारियां होती हैं, और पत्तों का निचला हिस्सा पुदीने की तरह हल्का हरापन लिए हुए सफ़ेद रंग का होता है. पॉइज़न आइवी पूरी तरह से हरे रंग की होती है. पॉइज़न आइवी का तना भूरे रंग का और बेलनाकार होता है, जबकि जामुन और रसभरी हरे रंग के हो सकते हैं, अनुप्रस्थ-काट की तरफ वर्गाकार हो सकते हैं, और इन पर कांटे हो सकते हैं. रसभरी और जामुन वास्तव में लताएं नहीं हैं; अर्थात्, वे अपने तनों को सहारा देने के लिए पेड़ों से जुड़ते नहीं हैं.
  • रिवरबैंक ग्रेप (वाइटिस राइपेरिया ) की मोटी-मोटी लताएं, जिसकी छोटी-छोटी जड़े दिखाई नहीं देती हैं, पॉइज़न आइवी की लताओं से अलग है, जिसकी इतनी सारी छोटी-छोटी जड़े होती हैं कि पेड़ तक पहुंचने वाला उसका तना रोमदर लगता है. रिवरबैंक ग्रेप की लताओं का रंग कुछ-कुछ बैंगनी रंग की तरह होता है, इनकी लताएं अपने सहायक पेड़ों से दूर लटकी रहती हैं, और इनके छाल चिथड़ेदार होते हैं; पॉइज़न आइवी की लताएं भूरे रंग की होती हैं जो अपने सहायक पेड़ों से जुड़ी रहती हैं, और इनके छाल चिथड़ेदार नहीं होते हैं.
  • फ्रैग्रंट स्यूमक (रुस एरोमेटिका ) की आकृति बहुत कुछ पॉइज़न आइवी की तरह ही होती है. हालांकि दोनों प्रजातियों में तीन-तीन पत्रक होते हैं, लेकिन पॉइज़न आइवी का केन्द्रीय पत्रक एक लम्बे डंठल पर स्थित होता है, जबकि फ्रैग्रंट स्यूमक के केन्द्रीय पत्रक का डंठल स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं देता है. फ्रैग्रंट स्यूमक में वसंत के मौसम में पत्तियों से पहले फूल लगते हैं, जबकि पॉइज़न आइवी में पत्तियों के आगमन के बाद ही फूल लगते हैं. फ्रैग्रंट स्यूमक के फूल और फल तने के सिरे पर होते हैं, लेकिन पॉइज़न आइवी में तने के मध्य भाग के किनारों पर होते हैं.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. USDA अग्नि प्रभाव सूचना व्यवस्था: टॉक्सिकोडेंड्रोन रेडिकंस
  2. पेटराइड्स, जॉर्ज ए. ए फील्ड गाइड टू ट्रीज़ एण्ड श्रब्स (पीटरसन फील्ड गाइड्स), बोस्टन: ह्यूटन मिफलिन कंपनी, वर्ष 1986, पृष्ठ 130.
  3. [http://pediatrics.about.com/cs/conditions/a/poison_ivy_3.htm "Poison Ivy Treatment Guide , Getting Rid of the Plants: Identifying Poison Ivy"]. http://pediatrics.about.com/cs/conditions/a/poison_ivy_3.htm. 
  4. http://www.parks.ca.gov/pages/735/files/transcriptmtlivermoreangelisland.pdf पृष्ठ 3.
  5. काम्प क्रस्टी
  6. मिशेल, रॉबर्ट. टी., "बटरफ्लाईज़ एण्ड मॉथ्स," न्यूयॉर्क: सेंट मार्टिंस प्रेस, वर्ष 2001, पृष्ठ 133.
  7. हाउस्टफवर्क्स "हाउ पॉइज़न आइवी वर्क्स"
  8. विश्व के ज़हरीले पौधों से संपर्क
  9. विल्सन, डब्ल्यू. एच. और लॉडरमिल्क, पी. (2006). मैटरनल चाइल्ड नर्सिंग केयर (तीसरा संस्करण). सेंट लुइस: मॉसबी एल्सेवियर.
  10. "American Topics. An Outdated Notion, That Calamine Lotion". http://www.iht.com/articles/1992/09/09/topi.php. अभिगमन तिथि: 2007-07-19. 
  11. ऐपल, एल.एम. ओमार्ट और आर.एफ. स्टर्नर, ज़िंक ऑक्साइड: ए न्यू पिंक, रिफ्रैक्टिव माइक्रोफॉर्म क्रिस्टल . AMA आर्क डर्माटॉल 73 (1956), पीपी. 316-324. PMID 13301048
  12. "American Academy of Dermatology - Poison Ivy, Oak & Sumac". http://www.aad.org/public/publications/pamphlets/skin_poison.html. 
  13. "Treating Poison Ivy Rash With Home Remedies: Jewelweed;Is Poison Ivy Rash Contagious?". http://landscaping.about.com/cs/weedsdiseases/a/poison_ivy_2.htm. 
  14. "Facts about Poison Ivy: Is it contagious?". http://www.poison-ivy.org/html/faq.htm. 
  15. "Poison Ivy Treatment Guide, Outsmarting Poison Ivy: Treating Poison Ivy Exposures". http://pediatrics.about.com/cs/conditions/a/poison_ivy.htm. अभिगमन तिथि: June 01, 2008. 
  16. "Facts about Poison Ivy: How do you get poison ivy?". http://www.poison-ivy.org/html/faq.htm. 
  17. "Facts about Poison Ivy: How long does the rash last?, What can you do once the itching starts?, How do you get poison ivy?". http://www.poison-ivy.org/html/faq.htm. 
  18. पॉइज़न आइवी, ओक और स्यूमक
  19. "Facts about Poison Ivy: How do you get poison ivy?, Pets and Poison Ivy, How long does the oil last?". http://www.poison-ivy.org/html/faq.htm. 
  20. आम और पॉइज़न आइवी (न्यू इंग्लैंड का चिकित्सा वेब अनुच्छेद जर्नल)

बाहरी लिंक[संपादित करें]