पेशियों का खिंचाव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
क्षतिग्रस्त पेशियाँ

जब अत्यधिक खिंचाव के कारण पेशियों के फाइबर फट जाते हैं तो इसे पेशियों का खिंचाव ( pulled muscle) कहते हैं। इसी तरह का घाव यदि स्नायुओं (लिगामेन्ट्स) में हो तो उसे मोच (स्प्रेन) कहते हैं।

लक्षण[संपादित करें]

मुख्य लक्षण हैं - कुछ सीमित स्थानों पर दर्द, अकड़न (स्टिफनेस), क्षतिग्रस्त पेशियों के आसपास त्वचा का रंग बदल जाना आदि

उपचार[संपादित करें]

  • बचाव - वस्तुओं से टक्कर न लगे इसके लिये कोमल पैड लगाइये।
  • आराम कीजिए।
  • बर्फ : सूजन कम करने के लिये बर्फ लगाना चाहिये। किन्तु एक बार में २० मिनट से अधिक समय तक बर्फ नहीं लगाना चाहिये।
  • संपीडन (कम्प्रेसन) : प्रभावित क्षेत्र पर एसीई कोमल पट्टी लगाइये । इससे सूजन कम होगी।
  • ऐसी स्थिति में लेटिये/बैठिये/सोइए ताकि प्रभावित क्षेत्र हृदय के स्तर पर बना रहे। इससे प्रभावित क्षेत्र में रक्त का अत्यधिक संचार होने से बचता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]