पुनर्वसु-कैस्टर तारा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पुनर्वसु-कैस्टर तारा

पुनर्वसु-कैस्टर या सिर्फ़ कैस्टर, जिसका बायर नाम "अल्फ़ा जॅमिनोरम" (α Geminorum या α Gem) है, मिथुन तारामंडल का दूसरा सब से रोशन तारा है। यह पृथ्वी से दिखने वाले सब से रोशन तारों में गिना जाता है। प्राचीन भारत में इसे और पुनर्वसु-पॅलक्स तारे को मिलकर पुनर्वसु नक्षत्र बनता था। पुनर्वसु-कैस्टर पृथ्वी से लगभग 49.8 प्रकाश वर्ष की दूरी पर हैं। वैज्ञानिकों को पता चला है के यह वास्तव में एक तारा नहीं बल्कि दो द्वितारों का मंडल है, यानि इसमें चार तारे हैं। फिर उन्हें ज्ञात हुआ के इसमें एक और धुंधला-सा दिखने वाला द्वितारा भी गुरुत्वाकर्षण से बंधा हुआ है, यानि कुल मिलकर पुनर्वसु-कैस्टर मंडल में छह तारे हैं।[1] इस तीसरे द्वितारे के दोनों सदस्य मुख्य अनुक्रम के बौने तारे हैं - यह असाधारण बात है क्योंकि द्वितारों में ज़्यादातर एक तारा दानव या महादानव तारा होता है।

अन्य भाषाओँ में[संपादित करें]

पुनर्वसु-पॅलक्स को अंग्रेज़ी में "पॅलक्स" (Pollux) कहते हैं, जबकि पुनर्वसु-कैस्टर को "कैस्टर" (Castor) कहते हैं। अरबी में इसे "अल-रास अल-तूअम अल-मुक़ादिम" (رأس التوأم المقدم) कहते हैं, जिसका अर्थ है "आगे वाले जुड़वाँ (व्यक्ति या बच्चे) का सर"। याद रहे के "मिथुन तारामंडल" का अर्थ भी "जुड़वाँ (व्यक्ति या बच्चों) का तारामंडल" होता है, जिसके जुड़वाँ पुनर्वसु-पॅलक्स और पुनर्वसु-कैस्टर तारे हैं।

विवरण[संपादित करें]

पुनर्वसु-कैस्टर के छह तारों का ब्यौरा नीचे है (इसमें Aa/Ab, Ba/Bb और Ca/Cb तीन द्वितारों के जोड़े हैं) -

माप तारा
Aa Ab Ba Bb Ca Cb
तारे की श्रेणी A1 V अज्ञात (शायद M5 V) A2 Vm M2 V M0.5 Ve M0.5 Ve
द्रव्यमान (M, सूरज का कितना गुना) 2.15 0.4–0.6 1.7 0.4–0.6 0.62 0.57
अर्धव्यास (R, सूरज का कितना गुना) 2.3 ? 1.6 ? 0.76 0.68

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Harry L. Shipman, The restless universe: an introduction to astronomy, Houghton Mifflin, 1978, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780395253922, http://books.google.com/books?id=fokoAAAAYAAJ, "... Castor, the second brightest star in Gemini, looks like only one star to the naked eye, but it is actually a sextuple system ..."