निवेश प्रबंधन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निवेश प्रबंधन, निवेशकों के फायदे के लिए निवेश के विशिष्ट लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए विभिन्न प्रतिभूतियों (शेयर, बांड और अन्य प्रतिभूतियां) और परिसंपत्तियों (जैसे अचल संपत्ति) का पेशेवर प्रबंधन है. निवेशक या तो संस्थान (बीमा कंपनियां, पेंशन फंड, कॉर्पोरेशन इत्यादि) या निजी निवेशक (सीधे निवेश अनुबंधों के माध्यम से और ज्यादातर आम तौर पर सामूहिक निवेश योजनाओं जैसे म्युचुअल फंड या एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड दोनों माध्यम से) हो सकते हैं.

परिसंपत्ति प्रबंधन शब्द का इस्तेमाल अक्सर सामूहिक निवेशों के निवेश प्रबंधन को संदर्भित करने के लिए किया जाता है, (जरूरी नहीं) जबकि अधिक सामान्य कोष प्रबंधन (फंड मैनेजमेंट) का मतलब संस्थागत निवेश के सभी रूपों के साथ-साथ निजी निवेशकों का निवेश प्रबंधन भी हो सकता है. निजी निवेशकों (आम तौर पर धनी) की तरफ से सलाहकार या विवेकाधीन प्रबंधन में विशेषज्ञता प्राप्त निवेश प्रबंधक अक्सर तथाकथित "निजी बैंकिंग" के सन्दर्भ में धन प्रबंधन या पोर्टफोलियो प्रबंधन के रूप में अक्सर अपनी सेवाओं को संदर्भित कर सकते हैं.

'निवेश प्रबंधन सेवाओं' के प्रावधान में वित्तीय विवरण विश्लेषण, परिसंपत्ति चयन, स्टॉक चयन, योजना कार्यान्वयन और चालू निवेश निगरानी जैसे तत्व शामिल हैं. निवेश प्रबंधन अपने आप में एक बहुत बड़ा और महत्वपूर्ण वैश्विक उद्योग है जिस पर अरबों-खरबों (ट्रिलियन) युआन, डॉलर, यूरो, पाउंड और येन रखवाली की जिम्मेदारी होती है. वित्तीय सेवाओं के परिहार के तहत आने वाली दुनिया की कई सबसे बड़ी कंपनियां कम से कम आंशिक रूप से निवेश प्रबंधक हैं जहां लाखों-करोड़ों लोग काम करते हैं और जो करोड़ों-अरबों राजस्व उत्पादन करती हैं.

फंड मैनेजर (कोष प्रबंधक या संयुक्त राज्य अमेरिका में निवेश सलाहकार) का मतलब निवेश प्रबंधन सेवा प्रदान करने वाली एक कंपनी (फर्म) के साथ-साथ कोष प्रबंधन संबंधी फैसले देने वाला एक व्यक्ति भी हो सकता है.

उद्योग क्षेत्र[संपादित करें]

निवेश प्रबंधन व्यवसाय के कई पहलू हैं जिनमें पेशेवर कोष प्रबंधकों की नियुक्ति, अनुसन्धान (व्यक्तिगत परिसंपत्तियों और परिसंपत्ति वर्गों का), सौदेबाजी, निपटान, विपणन, आतंरिक लेखा परीक्षण, और क्लाइंट्स (ग्राहक) के लिए रिपोर्ट की तैयारी शामिल है. सबसे बड़े वित्तीय कोष प्रबंधक ऐसी कंपनियां हैं जो अपने आकार की मांग के अनुसार सभी जटिलताओं का प्रदर्शन करती हैं. बाजार में पैसा लगाने वाले लोगों (मार्केटर) और निवेश को दिशा देने वाले लोगों (फंड मैनेजर) के अलावा अनुपालन कर्मचारी (जो विधायी और नियामक बाधाओं के समायोजन को सुनिश्चित करते हैं), विभिन्न प्रकार के आतंरिक लेखा परीक्षक (जो आतंरिक प्रणालियों और नियंत्रणों की जांच करते हैं), वित्तीय नियंत्रक (जिन पर संस्थानों के पैसों और लागत की जिम्मेदारी होती है), कंप्यूटर विशेषज्ञ और "बैक ऑफिस" कर्मचारी (जो हर संस्थान के हजारों क्लाइंट्स के लिए लेनदेनों और कोष मूल्यांकनों की निगरानी और रिकॉर्ड करते हैं) हैं.

इस तरह का कारोबार चलाने में उत्पन्न होने वाली महत्वपूर्ण समस्याएं[संपादित करें]

महत्वपूर्ण समस्याओं में शामिल हैं:

  • राजस्व सीधे बाजार मूल्यांकन से जुड़ा हुआ है इसलिए परिसंपत्तियों की कीमत में भारी गिरावट की वजह से लागत के सापेक्ष राजस्व में तेजी से गिरावट आती है;
  • ऊपरी-औसत कोष प्रदर्शन को बनाए रखना मुश्किल है और खराब प्रदर्शन के समय क्लाइंट्स धैर्य नहीं रख पाते हैं.
  • सफल कोष प्रबंधक महंगे होते हैं और प्रतिद्वंद्वी कंपनियां उन्हें अपनी कंपनियों में नियुक्त करने की कोशिश कर सकती हैं.
  • ऊपरी-औसत कोष प्रदर्शन संभवतः कोष प्रबंधक (फंड मैनेजर) के अद्वितीय कौशल पर निर्भर होता है; हालांकि क्लाइंट्स कुछेक लोगों की क्षमता पर अपने निवेशों की हिस्सेदारी के लिए अनिच्छुक होते हैं- बल्कि वे कंपनी-विशेष सफलता पर ध्यान दे सकते हैं जो केवल एक दर्शन और आतंरिक अनुशासन पर आधारित हो सकते हैं.
  • ऊपरी-औसत प्रतिफल उत्पन्न करने वाले विश्लेषक अक्सर पर्याप्त रूप से अमीर हो जाते हैं जिससे वे अपने व्यक्तिगत पोर्टफोलियो के प्रबंधन के पक्ष में कॉर्पोरेट रोजगार से दूर रहते हैं.

शेयरों के मालिकों का प्रतिनिधित्व[संपादित करें]

संस्थाएं अक्सर बड़ी हिस्सेदारी को नियंत्रित करती है. ज्यादातर मामलों में वे प्रमुख (प्रत्यक्ष) मालिकों के बजाय विश्वासाश्रित एजेंटों के रूप में कार्य कर रही हैं. सैद्धांतिक रूप से शेयरों के मालिकों के पास अपने शेयरों की वजह से मिलने वाले मतदान अधिकार के माध्यम से अपने स्वामित्व वाली कंपनियों में बदलाव लाने की काफी शक्ति होती है और उसके बाद प्रबंधनों पर दबाव डालने की क्षमता भी होती है और जरूरत पड़ने पर वार्षिक और अन्य बैठकों में उन्हें मतदान के माध्यम से बाहर करने की भी क्षमता होती है.

व्यावहारिक तौर पर शेयरों के अंतिम मालिक अक्सर सामूहिक रूप से प्राप्त अपनी शक्ति का इस्तेमाल नहीं करते हैं (क्योंकि मालिकों की संख्या अनेक होती है और प्रत्येक के पास थोड़े-बहुत शेयर होते हैं) लेकिन वित्तीय संस्थाएं (एजेंटों के रूप में) कभी-कभी ऐसा करती हैं. एक आम धारणा है कि शेयरधारक - इस मामले में, एजेंटों के रूप में काम करने वाली संस्थाएं - उन कंपनियों पर अधिक सक्रिय प्रभाव डाल सकते हैं और डालना चाहिए जिन कंपनियों में उनके शेयर हैं (जैसे प्रबंधकों को जिम्मेदार ठहराना, बोर्ड्स की प्रभावी क्रियाशीलता को सुनिश्चित करना). इस तरह की कार्रवाई से प्रबंधन की निगरानी करने वालों (नियामक और बोर्ड) में एक दबाव समूह शामिल हो जाएगा.

हालांकि समस्या यह है कि संस्था को इस शक्ति का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए. इसके लिए संस्था के पास एक रास्ता फैसला लेने का और दूसरा रास्ता अपने लाभार्थियों का सर्वेक्षण करना है. यह मानते हुए कि संस्था सर्वेक्षण या चुनाव का सहारा लेती है तो क्या (i) डाले गए ज्यादातर मतदानों द्वारा निर्देशित सम्पूर्ण शेयर पर मतदान किया जाना चाहिए? (ii) या मतदान के अनुपात के अनुसार मतदान (जहां इसकी अनुमति हो) को भाजित किया जाना चाहिए? (iii) या परहेजियों का सम्मान करते हुए केवल प्रत्यर्थियों के शेयरों पर मतदान दिया जाना चाहिए?

शेयर धारण करने या न करने वाले बड़े सक्रिय प्रबंधकों द्वारा दिए जाने वाले कीमत संबंधी संकेतों से प्रबंधन परिवर्तन में योगदान मिल सकता है. उदाहरण के लिए इस तरह का मामला तब देखने को मिलता है जब कोई बड़ा सक्रिय प्रबंधक किसी कंपनी को अपना पद बेचता है जिसके फलस्वरूप (संभवतः) शेयर की कीमत में गिरावट आ जाती है लेकिन इससे अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि कंपनी के प्रबंधन में बाजारों के विश्वास की हानि होती है और इस प्रकार प्रबंधन टीम में तेजी से बदलाव होने लगता है.

कुछ संस्थाएं ऐसे बातों का अनुकरण करने में अधिक मुखर और सक्रिय होती हैं, कुछ कंपनियों का मानना है कि पर्याप्त अल्पसंख्यक हिस्सेदारियों (अर्थात् 10% या उससे अधिक) जमा करने और कारोबार में महत्वपूर्ण बदलाव लाने के लिए प्रबंधन पर दबाव डालने से निवेश लाभ प्राप्त होता है. कुछ मामलों में अल्पसंख्यक हिस्सेदारी वाले संस्थान प्रबंधन को बदलने पर मजबूर करने के लिए एक साथ मिलकर काम करते हैं. प्रेरक बातचीत और पीआर (PR) के माध्यम से प्रबंधन टीमों पर बड़े संस्थानों द्वारा निरंतर डाले जाने वाले दबाव शायद अक्सर अधिक होते हैं. दूसरी तरफ सबसे बड़े निवेश प्रबंधकों में से कुछ प्रबंधक जैसे ब्लैकरॉक (BlackRock) और वैनगार्ड (Vanguard) प्रबंधन टीमों को प्रभावित करने के लिए इंसेंटिव (प्रोत्साहन) को कम करके बस हरेक कंपनी पर स्वामित्व स्थापित करने की वकालत करते हैं. इस अंतिम रणनीति का एक कारण यह है कि निवेश प्रबंधक कंपनी की प्रबंधन टीम के साथ एक करीबी, अधिक खुला और निष्कपट सम्बन्ध स्थापित करना पसंद करते हैं जो उनके नियंत्रण प्रयास पर ही टिका रह सकता है जिससे उन्हें बेहतर निवेश निर्णय करने में मदद मिलती है.

जिस राष्ट्रीय सन्दर्भ के तहत शेयरधारक प्रतिनिधित्व संबंधी विचारों को स्थापित किया जाता है वे परिवर्तनीय और महत्वपूर्ण हैं. अमेरिका एक मुकदमेबाज समाज है और शेयरधारक क़ानून का इस्तेमाल प्रबंधन टीमों पर दबाव डालने के लिए एक तराजू के रूप में करते हैं. जापान में शेयरधारकों के लिए 'पेकिंग ऑर्डर' में निम्न बने रहने की परंपरा है जो अक्सर प्रबंधन और मजदूरों को अंतिम मालिकों के अधिकारों की अनदेखी करने की अनुमति देता है. जबकि अमेरिकी कंपनियां आम तौर पर शेयरधारकों की जरूरतों को पूरा करती हैं, जापानी कारोबारों में आम तौर पर एक शेयरधारक मानसिकता दिखाई देती है जिसके तहत वे सभी इच्छुक पार्टियों की आम सहमति (शक्तिशाली यूनियनों और श्रम विधान की पृष्ठभूमि के खिलाफ) चाहते हैं.

वैश्विक कोष प्रबंधन उद्योग का आकार[संपादित करें]

वैश्विक कोष प्रबंधन उद्योग के प्रबंधन के तहत परंपरागत परिसंपत्ति 2009 में 14% की वृद्धि के साथ $71.3 ट्रिलियन हो गई. जिसमें से पेंशन परिसंपत्ति $28.0 ट्रिलियन थी और इसके साथ ही साथ म्युचुअल फंड में $22.9 ट्रिलियन और बीमा फंड में $20.4 ट्रिलियन का निवेश किया गया था. वैकल्पिक परिसंपत्तियों (सार्वभौमिक वेल्थ फंड, हेज फंड, निजी इक्विटी फंड और एक्सचेंज ट्रेडेड फंड) और अमीर लोगों के कोषों को एक साथ मिलाकर वैश्विक कोष प्रबंधन उद्योग की कुल परिसंपत्ति $105 ट्रिलियन से अधिक थी जो पिछले वर्ष की तुलना में 15% अधिक थी. 2009 में हुई वृद्धि से पहले पिछले वर्ष में 18% की गिरावट आई थी और जो काफी हद तक उस वर्ष इक्विटी बाजारों में वसूली का परिणाम था. डॉलर के सन्दर्भ में हुई वृद्धि का आंशिक कारण 2009 में कई मुद्राओं के खिलाफ अमेरिकी डॉलर के मूल्य में होने वाली कमी थी.

अमेरिका ने सबसे बड़े कोष स्रोतों से दूरी बनाए रखा जिसकी वजह प्रबंधन के तहत लगभग आधी परंपरागत परिसंपत्ति या लगभग $36 ट्रिलियन थी. ब्रिटेन दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा केन्द्र था और अब तक यूरोप का सबसे बड़ा केन्द्र था जिसके पास कुल वैश्विक परिसंपत्ति का लगभग 9% था.[1]

दर्शन, प्रक्रिया और लोग[संपादित करें]

औसत से अधिक परिणाम देने में प्रबंधक की क्षमता के कारणों का वर्णन करने के लिए अक्सर 3-पी (फिलॉसफी (दर्शन), प्रोसेस (प्रक्रिया) और पीपल (लोग)) का इस्तेमाल किया जाता है.

  • दर्शन निवेश संगठन की अतिमहत्वपूर्ण मान्यताओं को संदर्भित करता है. उदाहरण के लिए: (i) क्या प्रबंधक वृद्धि या मूल्य शेयरों को खरीदता है (और क्यों)? (ii) क्या वे बाजार समय में विश्वास करते हैं (और किस सबूत पर)? (iii) क्या वे बाहरी अनुसन्धान पर भरोसा करते हैं या क्या वे शोधकर्ताओं की टीम को नियुक्त करते हैं? यह उपयोगी होता है अगर इस तरह की किसी या सभी मौलिक मान्यताओं को सबूत-बयानों का समर्थन मिलता है?
  • प्रक्रिया उस तरीके को संदर्भित करती है जिस तरीके से दर्शन को कार्यान्वित किया जाता है. उदाहरण के लिए: (i) उपयुक्त निवेशों के रूप में विशेष परिसंपत्तियों का चयन करने से पहले परिसंपत्तियों के किस ब्रह्माण्ड का पता लगाया गया है? (ii) प्रबंधक कैसे तय करता है कि क्या खरीदना है और कब खरीदना है? (iii) प्रबंधक कैसे तय करता है क्या बेचना है और कब बेचना है? (iv) निर्णय कौन लेता है और क्या उन्हें समिति द्वारा ग्रहण किया जाता है? (v) रोग फंड (दुष्ट कोष) (वह कोष जो अन्य कोष से बहुत अलग होता है और वैसा नहीं होता है जिसकी उम्मीद की गई होती है) का निर्माण नहीं हो सकता, इस बात को सुनिश्चित करने के लिए कैसे नियंत्रणों का इस्तेमाल किया जा रहा है?
  • लोग कहने का मतलब कर्मचारी खास तौर पर कोष प्रबंधक है. सवाल यह उठता है कि वे कौन हैं? उनका चयन कैसे किया जाता है? उनकी उम्र कितनी है? कौन किसे रिपोर्ट करता है? टीम की गहराई कितनी है (क्या सभी सदस्य इस्तेमाल किए जाने वाले दर्शन और प्रक्रिया को समझते हैं)? और सबसे महत्वपूर्ण सवाल यह है कि टीम कितने समय से एक साथ काम कर रही है? यह अंतिम सवाल इसलिए इतना महत्वपूर्ण है क्योंकि क्लाइंट के साथ सम्बन्ध की शुरुआत में प्रस्तुत किए गए प्रदर्शन रिकॉर्ड का सम्बन्ध उस टीम (के द्वारा प्रस्तुत किया गया है) के साथ हो भी सकता है और नहीं भी हो सकता है जो अभी भी अपना काम कर रही है. अगर टीम में बहुत ज्यादा परिवर्तन हुआ हो (बहुत ज्यादा कर्मचारी बदले गए हो या टीम बदल दिया गया हो) तो जाहिर है कि प्रस्तुत प्रदर्शन रिकॉर्ड मौजूदा टीम (कोष प्रबंधकों की) से पूरी तरह से असंबंधित है.

निवेश प्रबंधक और पोर्टफोलियो संरचनाएं[संपादित करें]

निवेश प्रबंधन उद्योग का मुख्य आधार प्रबंधक हैं जो क्लाइंट के निवेशों को निवेश और विनिहित करते हैं.

एक प्रमाणित कंपनी निवेश सलाहकार को प्रत्येक क्लाइंट की व्यक्तिगत जरूरतों और जोखिम प्रोफाइल का मूल्यांकन करना चाहिए. उसके बाद सलाहकार उचित निवेश का सुझाव देते हैं.

परिसंपत्ति आवंटन[संपादित करें]

परिसंपत्ति के वर्ग की अलग-अलग परिभाषाओं को लेकर काफी विवाद है लेकिन आम तौर पर इसके चार प्रभाग स्टॉक, बांड, अचल संपत्ति और कमोडिटी (व्यापारिक वस्तुएं) हैं. इन परिसंपत्तियों के बीच (और प्रत्यक परिसंपत्ति वर्ग के भीतर व्यक्तिगति प्रतिभूतियों के बीच) कोष के आवंटन के काम को अंजाम देने के लिए ही निवेश प्रबंधन कंपनियों को भुगतान किया जाता है. परिसंपत्ति वर्ग अलग-अलग बाजार गतिशीलता और अलग-अलग परस्पर प्रभावों का प्रदर्शन करते हैं जिससे कोष के प्रबंधन पर परिसंपत्ति वर्गों के बीच पैसे के आवंटन का महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा. कुछ शोधों से पता चलता है कि परिसंपत्ति वर्गों के बीच किए जाने वाले आवंटन में पोर्टफोलियो प्रतिफल के निर्धारण में व्यक्तिगत हिस्सेदारी के चुनाव की तुलना में अधिक भाविसूचक शक्ति होती है. जाहिर है कि एक सफल निवेशक प्रबंधक का कौशल परिसंपत्ति आवंटन के निर्माण में और अलग से व्यक्तिगत हिस्सेदारी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जिससे कुछ मानदंडों से बेहतर परिणाम दिया जा सके (जैसे प्रतिस्पर्धी कोषों, बांड और शेयर सूचकांकों का साथी समूह)...

दीर्घकालीन प्रतिफल[संपादित करें]

विभिन्न परिसंपत्तियों के दीर्घकालीन प्रतिफलों के सबूत और आवधिक प्रतिफलों (विभिन्न परिमाण वाले निवेशों पर औसत रूप से प्राप्त होने वाले प्रतिफल) की हिस्सेदारी पर ध्यान देना बहुत मायने रखता है. उदाहरण के लिए ज्यादातर देशों में काफी लंबी धारण अवधि (जैसे 10+ वर्ष) में बांडों की तुलना में इक्विटियों से अधिक प्रतिफल प्राप्त हुआ है और नकद राशि की तुलना बांडों से अधिक प्रतिफल प्राप्त हुआ है. वित्तीय सिद्धांत के अनुसार इसका कारण यह है कि बांडों की तुलना में इक्विटी अधिक जोखिम भरा (अधिक अस्थिर) होता है जबकि नकदी की तुलना में बांड अधिक जोखिम भरा होता है.

विविधीकरण[संपादित करें]

परिसंपत्ति आवंटन की पृष्ठभूमि के खिलाफ कोष प्रबंधक विविधीकरण की डिग्री पर विचार करते हैं जो किसी प्रदत्त क्लाइंट (इसकी जोखिम वरीयताओं को प्रदान करके) के लिए अर्थपूर्ण होता है और जिससे तदनुसार योजनाबद्ध हिस्सेदारियों की सूची का निर्माण होता है. इस सूची से यह संकेत मिलेगा कि प्रत्येक विशेष स्टॉक या बांड में कितना प्रतिशत धन का निवेश किया जाना चाहिए. पोर्टफोलियो विविधीकरण के सिद्धांत का प्रतिपादन मार्कोविट्ज़ (और कई अन्य) ने किया था और प्रभावी विविधीकरण के लिए परिसंपत्ति प्रतिफलों और देयता प्रतिफलों, पोर्टफोलियो के आतंरिक मुद्दों (व्यक्तिगत हिस्सेदारी अस्थिरता), और प्रतिफलों के बीच पार-सहसंबंधों के बीच आपसी सम्बन्ध का प्रबंधन आवश्यक है.

निवेश शैली[संपादित करें]

संस्थानों द्वारा विभिन्न प्रकार की शैलियों के आधार पर कोष प्रबंधन किया जाता है. उदाहरण के लिए वृद्धि, मूल्य, बाजार तटस्थ, छोटा पूंजीकरण, सूचकांक, इत्यादि. इनमें से प्रत्येक दृष्टिकोण की अपनी विशिष्ट विशेषताएं, समर्थक और किसी विशेष वित्तीय परिवेश में अपनी विशिष्ट जोखिम विशेषताएं होती हैं. उदाहरण के लिए यह बात साफ़ है कि वृद्धि शैलियां (तेजी से बढ़ती कमाई की खरीदारी) खास तौर पर तब प्रभावी होती हैं जब इस तरह की वृद्धि उत्पन्न करने में सक्षम कंपनियां नाममात्र की होती हैं; इसके विपरीत जब इस तरह की वृद्धि बहुत ज्यादा मात्रा में होती है तब यह बात साफ़ हो जाता है कि मूल्य शैलियां सूचकांकों खास तौर पर सफलतापूर्वक मात देती हुई प्रतीत होती हैं.

प्रदर्शन मापन[संपादित करें]

कोष प्रदर्शन को अक्सर कोष प्रबंधन की कसौटी माना जाता है और संस्थागत सन्दर्भ में सही माप एक आवश्यकता है. इस उद्देश्य से संस्थान अपने प्रबंधन के तहत प्रत्येक कोष (और आम तौर पर आतंरिक उद्देश्य से प्रत्येक कोष के घटक) के प्रदर्शन की माप करते हैं और प्रदर्शन की माप प्रदर्शन मापन में विशेषज्ञता प्राप्त बाहरी कंपनियों द्वारा भी की जाती है. प्रमुख प्रदर्शन मापन कंपनियां (जैसे अमेरिका में फ्रैंक रसेल (Frank Russell) या यूरोप में बी-सैम (BI-SAM) [1]) सकल उद्योग विवरण जमा करती है जैसे यह दिखाते हुए कि कैसे कोषों को आम तौर पर विभिन्न समयावधियों में सहकर्मी समूहों और प्रदत्त सूचकांकों के खिलाफ प्रदर्शित किया जाता है.

एक विशिष्ट मामले में (एक इक्विटी फंड को ही ले लीजिए) हर तिमाही पर गणना की जाएगा (जहां तक क्लाइंट का सम्बन्ध है) और पिछली तिमाही की तुलना में प्रतिशत परिवर्तन दिखाई देगा (जैसे अमेरिकी डॉलर में कुल +4.6% प्रतिफल). संस्थान के भीतर प्रबंधन इसी तरह के अन्य कोषों के साथ (आतंरिक नियंत्रणों की निगरानी करने के उद्देश्य से), सहकर्मी समूह कोषों के प्रदर्शन विवरण के साथ, और प्रासंगिक सूचकांकों (जहां लागू हो) या टेलर-निर्मित प्रदर्शन मानदंडों (जहां उपयुक्त हो) के साथ इस आंकड़े की तुलना की जाएगी. विशेषज्ञता प्राप्त प्रदर्शन मापन कंपनियां चतुर्थक और दशमक डेटा की गणना करती हैं और किसी भी कोष की (शतमक) रैंकिंग पर विशेष ध्यान दिया जाएगा.

आम तौर पर कहा जाता है कि व्यवसाय चक्र के प्रदर्शन और प्रभाव में अतिअल्पकालीन उतार चढ़ाव को सहज बनाने के लिए अपने क्लाइंटों को लंबी अवधियों (जैसे 3 से 5 वर्ष) में प्रदर्शन का आकलन करने के लिए राजी करना एक निवेश कंपनी के लिए शायद उपयुक्त होता है. हालांकि यह काम मुश्किल साबित हो सकता है और उद्योग की दृष्टि से अल्पकालिक संख्याओं के साथ एक गंभीर तल्लीनता आ जाती है और क्लाइंटों के साथ स्थापित संबंधों (और संस्थान के लिए परिणामी व्यावसायिक जोखिमों) पर असर पड़ने लगता है.

एक स्थायी समस्या यह है कि प्रदर्शन की माप कर से पहले की जानी चाहिए या कर के बाद. कर-पश्चात प्रदर्शन निवेशक के लाभ का प्रतिनिधित्व करता है लेकिन निवेशक की कर स्थिति भिन्न हो सकती है. कर-पूर्व प्रदर्शन खास तौर पर नियम की दृष्टि से भ्रामक हो सकता है जिससे प्राप्त (न कि अप्राप्त) पूंजीगत लाभ पर कर लगता है. इस प्रकार यह संभव है कि सफल सक्रिय प्रबंधक (कर से पहले मापित) दुखद कर-पश्चात परिणाम उत्पन्न कर सकते हैं. इसका एक संभव समाधान यह है कि किसी मानक करदाता को कर-पश्चात स्थिति की रिपोर्ट दी जाए.

जोखिम-समायोजित प्रदर्शन मापन[संपादित करें]

प्रदर्शन मापन को केवल कोष प्रतिफल के मूल्यांकन तक ही सीमित नहीं किया जाना चाहिए बल्कि इसमें अन्य कोष तत्वों को भी एकीकृत करना जरूरी है जो निवेशकों के लिए रूचिकर होगा जैसे उठाए गए जोखिम की माप. कई अन्य पहलू भी प्रदर्शन मापन का हिस्सा हैं: यह मूल्यांकन करना कि क्या प्रबंधकों को अपने उद्देश्य को पूरा करने में सफलता मिली है अर्थात् क्या उनका प्रतिफल उठाए गए जोखिमों के लिए पर्याप्त रूप से अधिक था; अपने सहकर्मियों की तुलना में उनकी स्थिति कैसी है; और अंततः पोर्टफोलियो प्रबंधन के परिणाम भाग्य से प्राप्त हुए थे या प्रबंधक के कौशल की वजह से. इन सभी सवालों के जवाब देने की जरूरत के फलस्वरूप अधिक परिष्कृत प्रदर्शन मापों का विकास हुआ है जिनमें से कई मापों की उत्पत्ति आधुनिक पोर्टफोलियो सिद्धांत में हुई है. आधुनिक पोर्टफोलियो सिद्धांत ने मात्रात्मक कड़ी की स्थापना की जो पोर्टफोलियो जोखिम और प्रतिफल के बीच मौजूद है. शार्प (1964) द्वारा विकसित कैपिटल एसेट प्राइसिंग मॉडल (सीएपीएम) ने जोखिम प्रदान करने की धारणा पर प्रकाश डाला और प्रथम प्रदर्शन संकेतकों को प्रस्तुत किया, चाहे वे जोखिम-समायोजित अनुपात (शार्प अनुपात, सूचना अनुपात) हो या मानदंडों की तुलना में अंतरीय प्रतिफल (अल्फा). शार्प अनुपात सबसे सरल और सबसे मशहूर प्रदर्शन माप है. यह पोर्टफोलियो के कुल जोखिम की तुलना में जोखिम मुक्त दर की अधिकता में पोर्टफोलियो के प्रतिफल की माप करता है. इस माप को पूर्ण माना जाता है क्योंकि यह किसी मानदंड को संदर्भित नहीं करता है और मानदंड के खराब विकल्प से संबंधित कमियों से दूर रहता है. इस बीच यह बाजार के प्रदर्शन के अलगाव की अनुमति नहीं देता है जिसमें प्रबंधक की तरफ से पोर्टफोलियो का निवेश किया गया है. सूचना अनुपात शार्प अनुपात का अधिक सामान्य रूप है जिसमें जोखिम मुक्त परिसंपत्ति को मानदंड पोर्टफोलियो द्वारा प्रतिस्थापित कर दिया जाता है. यह माप सापेक्ष है क्योंकि एक मानदंड के सन्दर्भ में पोर्टफोलियो प्रदर्शन का मूल्यांकन करता है जिससे परिणाम काफी हद तक इस मानदंड विकल्प पर आधारित होता है.

पोर्टफोलियो अल्फा को पोर्टफोलियो के प्रतिफल और मानदंड पोर्टफोलियो के प्रतिफल के बीच के अंतर की माप करके प्राप्त किया जाता है. यह माप सक्रिय प्रबंधन का मूल्यांकन करने के लिए एकमात्र विश्वसनीय प्रदर्शन माप प्रतीत होता है. वास्तव में हमें चाहे बाजार समय, स्टॉक पीकिंग या सौभाग्य से विभिन्न जोखिमों के प्रति पोर्टफोलियो अनावरण के लिए उचित इनाम द्वारा प्रदान किए जाने वाले और प्रबंधक के कौशल (या भाग्य) की वजह से असामान्य प्रदर्शन (या बहिर्प्रदर्शन) से निष्क्रिय प्रबंधन के माध्यम से प्राप्त होने वाले सामान्य प्रतिफलों के बीच अंतर स्थापित करना पड़ता है. पहला घटक आवंटन और शैली निवेश विकल्पों से संबंधित है जो प्रबंधक के एकाकी नियंत्रण के अधीन नहीं हो सकता है और जो आर्थिक सन्दर्भ पर निर्भर करता है जबकि दूसरा घटक प्रबंधक के फैसलों की सफलता का मूल्यांकन है. केवल परवर्ती घटक जिसे अल्फा द्वारा मापा जाता है, प्रबंधक के सच्चे प्रदर्शन के मूल्यांकन की अनुमति देता है (लेकिन तभी जब आप यह मान लें कि कोई भी बहिर्प्रदर्शन कौशल की वजह से न कि भाग्य से हुआ है).

कारक मॉडलों का इस्तेमाल करके पोर्टफोलियो प्रतिफल का मूल्यांकन किया जा सकता है. जेनसेन (1968) द्वारा प्रस्तावित पहला मॉडल सीएपीएम (CAPM) पर निर्भर करता है और एकमात्र कारक के रूप में बाजार सूचकांक के साथ पोर्टफोलियो प्रतिफलों की व्याख्या करता है. हालांकि यह तुरंत स्पष्ट हो जाता है कि बहुत अच्छी तरह से प्रतिफलों की व्याख्या करने के लिए केवल एक कारक काफी नहीं है और इसलिए अन्य कारकों पर भी विचार करना चाहिए. सीएपीएम के एक विकल्प के रूप में बहु-कारक मॉडलों का विकास किया गया जो पोर्टफोलियो जोखिमों के बेहतर वर्णन और पोर्टफोलियो के प्रदर्शन के अधिक सटीक मूल्यांकन की अनुमति देता है. उदाहरण के लिए, फामा एण्ड फ्रेंच (1993) ने दो महत्वपूर्ण कारकों पर प्रकाश डाला है जो बाजार जोखिम के अलावा एक कंपनी के जोखिम को भी चित्रित करते हैं. ये कारक किताब से बाजार तक का अनुपात और कंपनी के बाजार पूंजीकरण द्वारा मापित कंपनी का आकार हैं. इसलिए फामा एण्ड फ्रेंच ने पोर्टफोलियो के सामान्य प्रतिफलों का वर्णन करने के लिए तीन कारकों वाले मॉडल (फामा-फ्रेंच थ्री-फैक्टर मॉडल) का प्रस्ताव दिया. कार्हार्ट (1997) ने प्रतिफलों की अल्पकालिक दृढ़ता पर ध्यान देने के लिए एक चौथे कारक के रूप में संवेग को शामिल करने का प्रस्ताव दिया. इसके अलावा शार्प (1992) का शैली विश्लेषण मॉडल भी प्रदर्शन मापन के लिए हितकर है जिसमें कारक शैली सूचकांक हैं. यह मॉडल प्रत्येक पोर्टफोलियो को विकसित करने के लिए एक प्रथागत मानदंड की अनुमति देता है जिसके तहत शैली सूचकांकों के रैखिक संयोजन का इस्तेमाल किया जाता है जो पोर्टफोलियो शैली आवंटन को सबसे बेहतर ढंग से दोहराते हैं और जिसके फलस्वरूप पोर्टफोलियो अल्फा का सटीक मूल्यांकन प्राप्त होता है.

शिक्षा या प्रमाणीकरण[संपादित करें]

अंतर्राष्ट्रीय व्यावसायिक स्कूल बड़ी तेजी से इस विषय को अपने पाठ्यक्रम की रूपरेखा में शामिल कर रहे हैं और कुछ स्कूलों ने विशेषज्ञ स्नातक की उपाधियों के रूप में 'निवेश प्रबंधन' या 'परिसंपत्ति प्रबंधन' के शीर्षक का निर्माण भी कर दिया है (जैसे कास बिजनेस स्कूल, लन्दन). बेहतरीन व्यावसायिक स्कूली कार्यक्रमों में से 560 से अधिक कार्यक्रमों को मान्यता देने वाले दो प्रमुख मान्यीकरण एजेंसियों एएसीएसबी (AACSB) और एसीबीएसपी (ACBSP) के साथ वैश्विक पार-मान्यता समझौतों की वजह से अमेरिकन अकादमी ऑफ फाइनेंसियल मैनेजमेंट का सर्टिफिकेशन ऑफ एमएफपी मास्टर फाइनेंसियल प्लानर प्रोफेशनल वित्त या वित्तीय सेवा संबंधी संकेद्रण वाले एएसीएसबी और एसीबीएसपी व्यवसायिक स्कूली स्नातकों के लिए उपलब्ध है. एक निवेश प्रबंधक बनने की आकांक्षा रखने वाले लोगों के लिए व्यवसाय, वित्त या अर्थशास्त्र में स्नातक की उपाधि प्राप्त करने के बाद अतिरिक्त शिक्षा की जरूरत पड़ सकती है. निवेश प्रबंधन उद्योग के अभ्यासकर्ताओं के लिए कनाडा में सीआईएम जैसे पदनाम आवश्यक हैं. स्नातक की उपाधि या निवेश योग्यता जैसे चार्टर्ड फाइनेंसियल एनालिस्ट (सीएफए (CFA)) पदनाम या मैनेजमेंट लैबोरेटरी द्वारा सर्टिफाइड फाइनेंसियल मार्केट्स प्रैक्टिशनर (सीएफएमपी (CFMP)) परीक्षा से निवेश प्रबंधन के क्षेत्र में करियर बनाने में मदद मिल सकती है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

इस बात का कोई सबूत नहीं है कि किसी भी विशेष योग्यता से एक निवेश प्रबंधक के सबसे अधिक वांछनीय विशेषता में वृद्धि नहीं होती है जो निवेशों का चयन करने की योग्यता है जिसकी वजह से औसत से अधिक (जोखिम भारित) दीर्घकालिक प्रदर्शन का परिणाम प्राप्त होता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] किसी भी औपचारिक योग्यता के संदर्भ के बिना ऐसे लोगों को ढूंढ निकालना, उन्हें नियुक्त करना और उदारतापूर्वक उन्हें पुरस्कृत करना इस उद्योग की एक परंपरा है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • सक्रिय प्रबंधन
  • अल्फा कैप्चर सिस्टम
  • कॉरपोरेट शासन पद्धति
  • मुद्रा कोष
  • निवेश
  • परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनियों की सूची
  • निष्क्रिय प्रबंधन
  • विनिमय-व्यापारित कोष (एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड)
  • व्यक्तिगत सूचना प्रबंधक
  • पेंशन फंड
  • पोर्टफोलियो
  • अलग से प्रबंधित किया जाने वाला खाता
  • संक्रमण प्रबंधन

संदर्भ[संपादित करें]

  1. (2010-10-11). "Fund Management:". [TheCityUK]. अभिगमन तिथि:

आगे पढ़ें[संपादित करें]

  • डेविड स्वेन्सेन, "पायनियरिंग पोर्टफोलियो मैनेजमेंट: एन अनकन्वेंशनल एप्रोच टू इंस्टिट्यूशनल इन्वेस्टमेंट," न्यूयॉर्क, एनवाई (NY): द फ्री प्रेस, मई 2000.
  • रेक्स ए सिंकफेल्ड और रोजर जी इबोटसन, एनुअल इयरबुक्स डीलिंग विथ स्टॉक्स, बांड्स, बिल्स एण्ड इन्फ्लेशन (अमेरिकी वित्तीय परिसंपत्तियों के दीर्घकालिक प्रतिफलों के लिए प्रासंगिक).
  • हैरी मार्कोविट्ज़, पोर्टफोलियो सेलेक्शन: एफिशिएंट डाइवर्सिफिकेशन ऑफ इन्वेस्टमेंट्स, न्यू हैवेन: येल यूनिवर्सिटी प्रेस
  • एस एन लेविन, द इन्वेस्टमेंट मैनेजर्स हैंडबुक, इरविन प्रोफेशनल पब्लिशिंग (मई 1980), ISBN 0-87094-207-7.
  • वी ले सॉर्ड, 2007, "परफॉर्मेंस मेज़रमेंट फॉर ट्रडिशनल इन्वेस्टमेंट - लिटरेचर सर्वे", ईडीएचईसी पब्लिकेशन (EDHEC Publication).

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]







साँचा:Investment-management साँचा:Finance साँचा:Financial risk