नाशी भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
गेबा लिपि में लिखी नाशी

नाशी भाषा (अंग्रेज़ी: Naxi या Nakhi), जिसे लोमी, मोसो और मोसू भी कहा जाता है, दक्षिणी चीन में बसने वाले नाशी लोगों द्वारा बोली जाने वाली तिब्बती-बर्मी भाषा या भाषाओँ का समूह है। सन् २०१० में नाशी बोलने वालों की आबादी लगभग ३ लाख अनुमानित की गई थी।[1] तिब्बती-बर्मी परिवार में यह लोलो-बर्मी उपशाखा की सदस्य हैं और इन्हें यी लोगों की नोसू भाषा और बर्मी भाषा के क़रीब माना जाता है।

शाखाएँ[संपादित करें]

दो प्रकार की नाशी भाषाएँ परिभाषित की गई हैं। पश्चिमी नाशी भाषा में काफ़ी मानकीकरण हुआ है जबकि पूर्वी नाशी में बहुत सी उपभाषाएँ हैं जिनके बोलने वाले एक-दूसरे को समझ नहीं सकते।

लिपि[संपादित करें]

नाशी को उसकी अपनी नाशी लिपि और एक अन्य गेबा (Geba) नामक लिपि में लिखा जाता है। गेबा एक सच्ची वर्णमाला न हो कर के एक शब्दांश-माला है जिसका प्रयोग अक्सर धार्मिक मन्त्रों को लिखने के लिए किया जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Dictionary of Languages: The Definitive Reference to More Than 400 Languages, Andrew Dalby, Columbia University Press, 2004, ISBN 978-0-231-11569-8, ... The majority of China's Naxi population, numbering just under 290000, lives in Yunnan, and of this group, more than half reside in the Lijiang Naxi Autonomous County; the rest reside in Zhongdian, Ninglang, Yongsheng, and Deqin ...