नवसाम्राज्यवाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नव-उपनिवेशवाद (New Imperialism) से तात्पर्य उस साम्राज्यवादी विस्तार से है जो लगभग पन्द्रहवीं शती के अन्त में यूरोपीय शक्तियों से शुरू हुआ जिसमें बाद में (उन्नीसवीं एवं बीसवीं शताब्दी में) जापान एवं यूएसए शामिल हो गये। नव उपनिवेशकाल की विशेषता यह थी कि इस काल में साम्राज्य के लिये साम्राज्य की धारणा अपूर्व रूप से बलवती हो गयी थी। इस काल में समुद्र पार दूसरे देशों के क्षेत्रों पर अधिकार करने की होड़ लग गयी थी। इसके साथ ही कुछ उपनिवेशकारी देशों द्वारा 'जातीय उच्चता' (racial superiority) का सिद्धान्त का प्रचार-प्रसार किया गया जिसका सारांश यह है कि 'पिछड़े लोग' स्वशासन के लिये उपयुक्त नहीं होते।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]