थ़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
थ़ की ध्वनि सुनिए - यह थ से भिन्न है

थ़ देवनागरी लिपि का एक वर्ण है जिसके उच्चारण को अन्तर्राष्ट्रीय ध्वन्यात्मक वर्णमाला में θ के चिन्ह से लिखा जाता है। मानक हिंदी और मानक उर्दू में इसका प्रयोग नहीं होता है, लेकिन हिंदी की कुछ पश्चिमी उपभाषाओं में इसका 'थ' के साथ सहस्वानिकी सम्बन्ध है। मुख्य रूप से इसका प्रयोग पहाड़ी भाषों को देवनागरी में लिखने के लिए होता है। अंग्रेज़ी के कईं शब्दों में इसका प्रयोग होता है, जैसे की 'थ़िन' (thin, यानि पतला)।

अघोष दन्त्य संघर्षी[संपादित करें]

'थ़' को भाषाविज्ञान के नज़रिए से 'अघोष दन्त्य संघर्षी वर्ण' कहा जाता है (अंग्रेजी में इसे वाएस्लेस डेंटल फ़्रिकेटिव कहते हैं)।

थ़ और थ में ग़लतियाँ[संपादित करें]

हिन्दीभाषी लोग अक्सर 'थ़' को 'थ' बोलते है और अंग्रेज़ीभाषी लोग अक्सर 'थ' को 'थ़' बोल देते हैं। हालांकि आम तौर पर इस से समझने में कोई कठिनाई नहीं होती लेकिन कभी-कभी यह बोलने का तरीका मातृभाषियों को अटपटा या ग़लत लगता है। अगर 'थूक' को अंग्रेज़ीभाषी 'थ़ूक' बोलें (जो अक्सर होता है), तो हिंदीभाषियों को यह 'फ़ूक' जैसा प्रतीत हो सकता है। उसी तरह हिंदीभाषी अगर 'थ़ॅाट' ('thought', सोच) को 'थॉट' बोलें तो अंग्रेज़ीभाषीयों को यह 'ठॅाट' जैसा प्रतीत हो सकता है।

थ और थ़ की सहस्वानिकी[संपादित करें]

कुछ पहाड़ी और पश्चिमी हिंदी उपभाषाओं में 'थ' और 'थ़' की सहस्वानिकी देखी जाती है। कभी-कभी यह दोनों एक ही शब्द-श्रंखला में मिलते हैं, जैसे की 'थका-थकाया' (यानि 'पहले से थका हुआ') को कुछ पश्चिमी हिन्दी उपभाषी 'थ़का-थकाया' कहते हैं। पहाड़ी भाषा डोगरी की कईं उपभाषाओं में 'थ़' अक्सर देखा जाता है। उदाहरणतः 'कुथ़े' (यानि 'कहाँ') और 'अथ़्रू' (यानि 'आंसू')।

अरबी भाषा में[संपादित करें]

अरबी-फ़ारसी लिपि का एक अक्षर 'ث' है जिसे उर्दू में 'से' का नाम दिया जाता है। भारतीय उपमहाद्वीप, अफ़ग़ानिस्तान और ईरान के लोग इसे 'स' की ध्वनी के साथ पढ़ते हैं, लेकिन ज़्यादातर अरबीभाषी इसे 'थ़' की ध्वनी के साथ पढ़ते हैं। यही वजह है के 'اثر' ('असर') जैसे शब्द को अरबीभाषी 'अथ़र' बोलते हैं। इसी तरह एक और शब्द है 'ثابت' ('साबत' या 'साबुत', यानि 'पक्का' या 'सही-सलामत')। इसे हिंदी-उर्दू और फ़ारसी बोलने वाले 'साबुत' या 'साबत' कहते हैं, लेकिन अरबी बोलने वाले 'थ़ाबत' कहते हैं, जो हिंदी-उर्दू भाषियों को 'फ़ाबत' या 'थाबत' जैसा प्रतीत होता है।

इन्हें भी देखिये[संपादित करें]