गोली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सीसे की सोफ्ट पॉइंट, बोट-टेल्ड, कॉपर जेकेटेड बुलेट्स.

एक गोली एक प्रक्षेप्य है जिसे एक रिवॉल्वर (firearm), गुलेल (sling), या हवाई बंदूक (air gun) से चलाया (या दागा) जाता है. गोलियों में सामान्यतया विस्फोटक नहीं होते[1], लेकिन ये अपने लक्ष्य को पूरे प्रभाव के साथ भेदित कर उसे नुकसान पहुंचाती है. शब्द "गोली" का उपयोग कभी कभी बारूद, या एक कारतूस के लिए भी आमतौर पर किया जाता है, जो गोली, खोल, पाउडर और प्राइमर का मिश्रण होता है. इसलिए गोला बारूद या कारतूस के वर्णन के लिए "गोली" शब्द का प्रयोग तकनीकी रूप से सही नहीं है.

इतिहास[संपादित करें]

एक विंगड थंडरबोल्ट से युक्त सीसे की स्लिंग बुलेट जिसके एक ओर शिलालेख और दूसरी ओर "Take that" उत्कीर्ण है. चौथी शताब्दी बी.सी. एथेंस से.
मैचलोक मस्केट बॉल्स, कथित तौर पर इनकी खोज नेस्बे के युद्ध क्षेत्र में हुई.नॉर्थम्प्टन संग्रहालय और आर्ट गैलरी के संग्रह से.

गोलियों का इतिहास उतना ही पुराना है जितना कि बंदूकों का. मूलतः, गोलियां धातु या पत्थर की गेंदें होती थीं जिनका उपयोग एक हथियार के रूप में और शिकार के लिए एक गुलेल में किया जाता था.

अंत में जब बंदूकों का विकास हो गया, इन्हीं छोटी गेंदों को एक बंद ट्यूब के अंत में गन पाउडर के एक विस्फोटक चार्ज के सामने रखा जाने लगा. जैसे जैसे बंदूक तकनीकी रूप से अधिक उन्नत होने लगी, 1500 से 1800 तक गोलियों में बहुत कम परिवर्तन आया. वे सीसे (lead) की साधारण राउंड (गोल) गेंदे होती थीं, जिन्हें राउंड्स कहा जाता था, इनके केवल व्यास में भिन्नता मिलती थी.

हाथ की कल्वेरिन (hand culverin) और मेचलोक आर्कवेबस (matchlock arquebus) के विकास के साथ प्रक्षेप्य के रूप में ढलवां सीसे की गेंदों का प्रयोग होने लगा. "बुलेट" शब्द की व्युत्पत्ति फ्रांसीसी शब्द बुलेटे (boulette) से हुई है, जिसका अर्थ छोटी गेंद (ittle ball) होता है. बंदूक में प्रयुक्त मूल गोली एक गोल सीसे की गेंद थी जो एक बोर से छोटी होती थी, इसे ढीले फिट पेपर के पैच में लपेटा जाता था, जो बेरल में पाउडर के ऊपर गोली को दृढ़ता से पकड़ लेता था. (वे गोलियां जो पाउडर पर दृढ़ता से नहीं लगी होती थीं, उनके कारण फायरिंग के दौरान बैरल में विस्फोट होने का ख़तरा होता था, इस स्थिति को जल्दी शुरुआत (short start) कहा जाता था. इसीलिए, पुराने स्मूद बोर ब्राउन बेस और इसी तरह की सैन्य बंदूकों के साथ, गोलियों को बंदूक में लोड करना आसान होता था. दूसरी ओर, मूल मज़ल-लोडिंग राइफल, जिसमें ग्रूव्स को राइफल करने के लिए गोलियां ज्यादा नजदीकी से फिट की जाती थी, उसे लोड करना ज्यादा मुश्किल था, विशेष रूप से तब बैरल का बोर पिछली फायरिंग से खराब हो गया हो. इसी कारण से, प्रारंभिक राइफलों का उपयोग सैन्य उद्देश्यों के लिए नहीं किया जाता था.

उन्नीसवीं सदी की पहले पचास सालों में गोली की आकृति और कार्यों में विशिष्ट परिवर्तन देखे गए. 1826 में, एक फ़्रांसिसी इन्फेंट्री (पैदल सेना) अधिकारी, डेल्विगने ने असम्बद्ध कन्धों से युक्त एक ब्रीच का आविष्कार किया, जिस पर एक गोलाकार गोली (बुलेट) को तब तक घुसाया गया जब तक यह राइफल की ग्रूव्स (वे खाली जगह जिसमें गोलियां लोड की जाती हैं) में लोड ना हो जाये. हालांकि, डेल्विगने का तरीका ठीक नहीं था और इसने गोली को विकृत कर दिया.

नुकीली गोलियां (Pointed bullets)[संपादित करें]

नुकीली या "शंकु के आकार की" गोलियों की श्रृंखला में पहली गोली को 1823 में ब्रिटिश सेना के केप्टिन जॉन नोर्टन के द्वारा डिजाइन किया गया था. नोर्टन की गोली में एक खोखला आधार था जो बैरल की राइफलिंग के लिए, फायरिंग करने पर दबाव के साथ फ़ैल जाता था. ब्रिटिश आयुध बोर्ड ने इसे अस्वीकृत कर दिया क्योंकि गोलाकार गोली का उपयोग पिछले 300 सालों से किया जा रहा था.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

प्रसिद्ध अंग्रेजी बन्दूक बनाने वाले विलियम ग्रीनर ने 1836 में ग्रीनर गोली का आविष्कार किया. यह नोर्टन की गोली से बहुत अधिक मिलती जुलती थी, इसमें एक अंतर यह था कि इसके खोखले आधार में एक लकड़ी का प्लग फिट कर दिय गया था जो राइफलिंग को विस्तृत करने और पकड़ने के लिए आधार पर अधिक निश्चित दबाव डालता था. परीक्षण से यह साबित हो गया कि ग्रीनर की गोली बहुत प्रभावी थी लेकिन इसे सैन्य उपयोग के लिए अस्वीकृत कर दिया गया क्योंकि, यह माना गया कि दो भाग होने के कारण इसका निर्माण बहुत मुश्किल है.

मिनी बॉल गोलाबारूद

मुलायम सीसे की मिनी बॉल (Minié ball) को फ्रांसीसी सेना के एक कप्तान, क्लाडे एटिनी मिनी (Claude Étienne Minié) (1814? – 1879) ने 1847 में जारी किया. यह लगभग ग्रीनर गोली के समान थी. मिनी के द्वारा डिजाइन की गयी गोली शंकु के अकार की थी इसके रिअर में एक खोखली गुहा थी, जिसमें लकड़ी के प्लग के बजाय छोटी लोहे की टोपी फिट की गयी थी. जब इससे फायर किया जाता था यानि गोली चलयी जाती थी, तो लोहे की टोपी बुलेट के रिअर पर खोखली गुफा में चली जाती थी, जिसके द्वारा राफिलिंग को मजबूत करने के लिए बुलेट के साइड फ़ैल जाते थे. 1855 में, ब्रिटिश ने अपनी एनफील्ड राइफल के लिए मिनी बॉल को अपनाया.

मिनी बॉल का पहली बार सबसे ज्यादा इस्तेमाल अमेरिकी नागरिक युद्ध के दौरान किया गया. मोटे तौर पर इस युद्ध में, 90% हताहतों की संख्या राइफल से फायर की गयी मिनी बॉल्स के कारण हुई.

1854 और 1857 के बीच, सर जोसेफ विटवर्थ ने राइफल पर एक लम्बी श्रृंखला में प्रयोग किये, और अन्य बिन्दुओं में, छोटे बोर के फायदे को साबित किया और, विशेष रूप से, लम्बी गोली के फायदे को भी प्रमाणित किया. विटवर्थ की गोली इस प्रकार से बनायी गयी थी कि राइफल की ग्रूव्स में यांत्रिक रूप से फिट की जा सके. विटवर्थ की गोली को सरकार के द्वारा कभी भी नहीं अपनाया गया, हालांकि 1857 और 1866 के बीच मैच उद्देश्यों और लक्ष्य अभ्यास के लिए इनका उपयोग बड़े पैमाने पर किया गया, जब धीरे धीरे मेट्फोर्ड के द्वारा इसे प्रतिस्थापित किया गया.

1862 के आस पास और इसके बाद, डब्ल्यू. ई. मेट्फोर्ड ने बुलेट और राइफल पर कई प्रयोग किये, और बढ़ती हुई सर्पिल के साथ लाईट राइफलिंग की महत्वपूर्ण प्रणाली और एक सख्त गोली का आविष्कार किया. इसका संयुक्त परिणाम यह हुआ कि दिसंबर 1888 में ली-मेट्फोर्ड की छोटे बोर की (0.303 [disambiguation needed]", 7.70 mm) राइफल, मार्क I (दायीं और कारतूस की फोटो दी गयी है), को अंततः ब्रिटिश सेना के द्वारा अपना लिया गया. ली-मेट्फोर्ड, ली-एनफील्ड की पूर्ववर्ती थी.

आधुनिक गोली[संपादित करें]

.270 गोला बारूद.बाएं से दायें: [5] – होलो पॉइंट [6] – FMJBT [7] –सोफ्ट पॉइंट, [8] – राउंड नोज़.
.303 इंच (7.7 मिमी) सेंटर फायर, FMJ रिम्म्ड गोला बारूद.

राइफल की गोली के इतिहास में अगला महत्वपूर्ण परिवर्तन 1882 में आया जब, एडवर्ड रुबिन, जो थून में स्विस सेना प्रयोगशाला के निदेशक थे, ने एक ताम्बे के जैकेट वाली गोली का आविष्कार किया-यह एक लम्बी गोली थी जिसका सीसे का कोर एक ताम्बे की जैकेट में रखा गया था. यह भी छोटे बोर वाली थी (7.5mm और 8mm) और यह 8mm की "लेबल बुलेट" की पूर्वर्ती है जिसे Mle 1886 की लेबल राइफल के धुंए रहित पाउडर बारूद के लिए अपनाया गया था.

तेज गति से फायर की गयी सीसे की गोलियों की सतह पिघल सकती है ऐसा पीछे उपस्थित गर्म गैसों और बोर के साथ घर्षण के कारण होता है. क्योंकि तांबे का गलनांक उच्च होता है, और विशिष्ट उष्मा और कठोरता का मान भी भी अधिक होता है, कॉपर की जैकेट में उपस्थित गोलियों के कारण थूथन की गति बढ़ जाती है.

वायुगतिकी में आधुनिकीकरण के कारण नुकीली स्पिट्ज़र गोली (spitzer bullet) का विकास हुआ. बीसवीं सदी की शुरुआत तक, दुनिया की अधिकांश सेनाएं स्पिट्ज़र बुलेट की ओर संक्रमित हो गयीं थीं. इन गोलियों को ज्यादा सटीक रूप से अधिक दूरी तक दागा जा सकता था और इनमें अधिक ऊर्जा होती थी. स्पिट्जर बुलेट और मशीन गन के संयोजन ने युद्ध की घातकता को बहुत अधिक बढ़ा दिया.

बुलेट या गोली की आकृति में सबसे आधुनिक नवीनीकरण जो हुआ, वह है नाव जैसी पूंछ, स्पिट्ज़र बुलेट के लिए एक आधाररेखित (streamlined यानि नाव की आकृति का जो आगे और पीछे दोनों तरफ से नुकीला हो) आधार. उच्च जब हवा गोली क अंतिम सिरे पर तेजी से होकर जाती है, तब निर्वात उत्पन्न हो जाता है, जिससे प्रोजेक्टाइल का वेग कम हो जाता है. आधाररेखित नाव जैसी पूंछ का डिजाइन, इसके अंतिम सिरे की सतह पर हवा के प्रवाह की अनुमति देता है, जिससे यह फॉर्म ड्रेग कम हो जाता है. इसके परिणामस्वरूप वायुगतिकी (aerodynamic) लाभ को वर्तमान में राइफल तकनीक के लिए अनुकूल आकृति के रूप में देखा जाता है. स्पिट्ज़र और नाव जैसी पूंछ वाली गोली के पहले संयोजन को इसके खोजकर्ता (एक लेफ्टिनेंट-कोलोनिअल डेसलेक्स) के नाम पर बेल "डी" (Balle "D") नाम दिया गया है, इसे फ़्रांसिसी लेबल मॉडल 1886 राइफल के लिए, 1901 में मानक सैन्य बारूद के रूप में जारी किया गया.

डिजाइन[संपादित करें]

एक आधुनिक कारतूस में निम्नलिखित शामिल हैं: 1. खुद गोली, जो एक प्रोजेक्टाइल का काम करती है; 2. केस, जो सभी हिस्सों को एक साथ बांधता है; 3. प्रणोदक, उदाहरण के लिए गनपाउडर या बारूद; 4. रिम, लोडिंग के लिए काम में आने वाला हिस्सा; 5. प्राइमर, जो प्रणोदक को जलाता है.

बुलेट के डिजाइन में दो प्राथमिक समस्याओं का समाधान करना है. उनमें पहले बंदूक के बोर के साथ एक सील बनायी जानी चाहिए. अगर एक मजबूत सील नहीं बनायी जाती है, बुलेट के निकल जाने के बाद प्रणोदक चार्ज से गैस लीक होगी, जो इसी दक्षता को कम कर देगी. बुलेट को राइफलिंग की प्रक्रिया में इस तरह से काम करना चाहिए कि बंदूक के बोर को कोई क्षति ना पहुंचे. गोलियों पर एक ऐसी सतह होनी चाहिए जो बहुत ज्यादा घर्षण पैदा किये बिना इस सील का निर्माण करे. बुलेट और बोर के बीच इस अंतर्क्रिया को आंतरिक प्राक्षेपिकी (internal ballistics) कहा जाता है. गोलियों का उत्पादन उंचे मानक पर किया जाना चाहिए, क्योंकि सतही विरूपता फायरिंग की सटीकता को प्रभावित कर सकती है.

बैरल से निकलने के बाद गोली को प्रभावित करने वाली भौतिकी, बाहरी प्राक्षेपिकी (external ballistics) कहलाती है. उड़ान भर रही एक गोली की वायुगतिकी (aerodynamics) को प्रभावित करने वाले कारक हैं गोली की आकृति और बंदूक की बैरल की राइफलिंग के द्वारा उत्पन्न घूर्णन. घूर्णी बल गोली को वायुगतिक रूप से और गायरोस्कोपिक रूप से स्थिरीकृत करते हैं. गोली या बुलेट में किसी भी प्रकार कि असममिति बड़े पैमाने पर रद्द हो जाती है जब यह स्पिन (तेजी से घूमती) होती है. चिकने बोर की बंदूकों के साथ, एक गोलाकार आकृति अनुकूल थी क्योंकि इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह कैसे उन्मुख हुई, इसने एक समतल सामने वाले हिस्से को प्रस्तुत किया. ये अस्थिर गोलियां अनिश्चित रूप से गिर जाती थीं, या अव्यवस्थित रूप से आगे पीछे लुढ़कने लगती थीं, और केवल मध्यम सटीकता उपलब्ध कराती थीं, हालांकि वायुगतिक आकृति में सदियों में बहुत कम परिवर्तन आया. आम तौर पर, गोली की आकृतियां वायुगतिकी, आंतरिक प्राक्षेपिकी जरूरतों और अंतिम प्राक्षेपिकी आवश्यकताओं के बीच एक समझौता थीं. गोली के द्रव्यमान केंद्र के लिए स्थिरीकरण की एक और विधि है आगे उतनी दूरी पर रहना जितना कि व्यवहार में मिनी बॉल या शटलकॉक में होता है. इससे गोली वायुगतिकी के माध्यम से सामने की ओर आगे उड़ान भारती है.

देखें टर्मिनल प्राक्षेपिकी और/ या गोली का डिजाइन कैसे प्रभावित करता है इसके रोकने की क्षमता का अवलोकन करें, क्या होता है जब एक गोली एक वास्तु को प्रभावित करती है. प्रभाव के परिणाम का निर्धारण लक्ष्य सामग्री के संघटन और घनत्व, आपतन कोण, और खुद गोली के वेग और भौतिक गुणों के द्वारा होता है. गोली को आमतौर पर इस प्रकार से डिजाइन किया जाता है कि यह लक्ष्य को भेद सके, उसे विरूपित कर सके, और/या उसे तोड़ सके. एक दी गयी सामग्री और गोली के लिए, टकराने का वेग वह प्राथमिक कारक है जो परिणाम का निर्धारण करता है.

वास्तव में गोली की कई आकृतियां हैं और ये कई प्रकार की हैं, और उनकी एक सरणी को किसी भी रिलोडिंग मेनुअल में प्राप्त किया जा सकता है जो बुलेट माउल्ड को बेचती है. RCBS, कई निर्माताओं में से एक है, जो कई भिन्न डिजाइन पेश करता है, जो बेसिक राउंड बॉल से शुरू होते हैं. एक माउल्ड के साथ, कोई अपने गोले बारूद को रीलोड करने के लिए गोलियों को घर पर भी बना सकता है, जहां स्थानीय कानून इस बात की अनुमति देते हैं. हाथ से कास्टिंग, हालांकि, ठोस सीसे की गोलियों के लिए केवल समय- और लागत- प्रभावी है. कास्ट और जैकेट से युक्त गोलियां भी व्यावसायिक रूप से हाथ लदान के लिए असंख्य निर्माताओं के के द्वारा उपलब्ध करायी गयी हैं और ये सीसे की कास्टिंग गोलियों से कहीं अधिक सुविधाजनक हैं.

सामग्रियां[संपादित करें]

थूथन से लोड की जाने वाली बंदूकों या ब्लैक पाउडर के लिए बुलेट्स को शुद्ध सीसे से ढलाई करके बनाया जाता था. यह कम गति की बुलेट्स के लिए अच्छी तरह से काम करती थी, जिन्हें 450 m/s (1475 ft/s) से कम वेग पर दागा जाता था. आधुनिक बंदूकों से फायर की जाने वाली थोड़ी सी ज्यादा गति की गोलियों के लिए, सीसे और टिन का एक अधिक सख्त मिश्रधातु या टाइपसेटर का सीसा (जिसका उपयोग लीनोटाइप को मोल्ड करने के लिए किया जाता है) बेहतर है. और अधिक ज्यादा गति की गोलियों के लिए, जैकेट युक्त बुलेट्स का उपयोग किया जाता है. इन सभी में सामान्य तत्व सीसा है, जिसका उपयोग बड़े पैमाने पर किया जाता है क्योंकि इसका घनत्व अधिक होता है, और इसलिए यह यह अधिक द्रव्यमान उपलब्ध कराता है- और इस प्रकार से, एक दिए गए आयतन के लिए अधिक गतिज ऊर्जा उत्पन्न करता है. सीसा सस्ता भी होता है, इसे प्राप्त करना आसान है, इस पर काम करना आसान है, यह कम तापमान पर पिघल जाता है, इन्हीं सब कारणों से गोलियां या बुलेट्स बनाने में इनका उपयोग करना आसान है. यह भी कहा जा सकता है कि सीसा विषैला होता है, जिससे यह एक ज्यादा खतरनाक हथियार बन जाता है.

  • सीसा: साधारण ढलवां, एक्सट्रुडेड, स्वेज्ड, या अन्यथा फेब्रिकेटेड सीसा सलग गोलियों के सबसे साधारण रूप हैं. 300 m/s (1000 ft/s) से ज्यादा गति पर (जो हाथ वाली बंदूकों में आम है), सीसे को राफल बोर में हमेशा ज्यादा गति पर लोड किया जाता है. सीसे में कम प्रतिशतता में टिन और/या एन्टिमनी मिलाकर मिश्रधातु बनाने से यह प्रभाव कम हो जाता है, लेकिन यह कम प्रभावी हो जाता है क्योंकि वेग बढ़ जाते हैं. एक सख्त धातु जैसे ताम्बे से बने एक कप को गोली के आधार पर रखा जाता है और यह गैस चेक कहलाता है, जो अक्सर अधिक दाब पर फायर किये जाने पर गोली के रिअर को पिघलने से बचा कर सीसे के डिपोजिट को कम करने के लिए काम में लिया जाता है, परन्तु यह भी उंचे वेग पर समस्या का समाधान नहीं करता है.
  • जैकेट से युक्त सीसा: और ज्यादा गति के लिए बनायी गयी गोलियों में सीसे का कोर होता है जिस पर एक ग्लाइडिंग धातु जैसे क्युपरोनिकल, कॉपर मिश्रधातु, या स्टील की जैकेट या आवरण होता है; सख्त धातु की एक पतली परत सीसे के कोमल कोर की उस समय रक्षा करती है, जब गोली बैरल में से होकर निकलती है या उड़ान भर रही होती है, जिससे गोली अक्षुण्ण रूप में लक्ष्य को निशाना बना पाती है. यहां, भारी सीसे का कोर अपने लक्ष्य को अपनी गतिज ऊर्जा दे देता है. पूर्ण धातु जैकेट बुलेट की बॉल बुलेट में बुलेट के सामने वाले और साइडों वाले हिस्से पूरी तरह से एक सख्त धातु की जैकेट में बंद होते हैं. कुछ बुलेट की जैकेट बुलेट के सामने वाले हिस्से में नहीं होती इससे विस्तार और घातकता को बढ़ाने में मदद मिलती है. ये सोफ्ट पॉइंट या होलो पॉइंट बुलेट्स कहलाती हैं. स्टील या इस्पात की गोलियों पर अक्सर ताम्बे या किसी और धातु की परत चढ़ायी जाती है ताकि लम्बे समय तक रखने पर इन्हें संक्षारण (जंग) से बचाया जा सके. सिंथेटिक जैकेट सामग्री जैसे नायलोन और टेफलोन का उपयोग सीमित सफलता के साथ किया गया है.
  • ठोस एक धातु की गोलियां बड़े खेल वाले जानवरों में गहरे भेदन के लिए बनायी जाती हैं और बड़ी रेंज तक शूट करने के लिए ये स्लेनडर के आकार की बहुत कम ड्रैग प्रोजेक्टाइल होती हैं, ये धातुओं जैसे ऑक्सीजन से रहित ताम्बे और मिश्रधातु जैसे ताम्बा निकल, टेल्युरियम ताम्बा और कांसा जैसे बहुत ज्यादा मशिनेबल UNS C36000 फ्री-कटिंग ब्रास से बनायी जाती है. अक्सर ये प्रोजेक्टाइल CNC लेथेस की परिशुद्धता को बदल देते हैं.
  • आर्मर पर्सिंग: जैकेट से युक्त डिजाइन जहां कोर पदार्थ बहुत सख्त, उच्च घनत्व का धातु जैसे टंग्स्टन, टंग्स्टन कार्बाइड, डिपलेटेड युरेनियम, या स्टील (इस्पात) होता है. अक्सर एक नुकीले शीर्ष का उपयोग किया जाता है, परन्तु आमतौर पर एक भेदक हिस्से पर एक चपटा शीर्ष अधिक प्रभावी होता है.[2]
  • ट्रेसर: इनमें एक खोखला पिछला हिस्सा होता है जो एक चमकीली सामग्री से भरा होता है. आमतौर पर यह मैग्नीशियम धातु, एक परक्लोरेट, और स्ट्रोंटियम लवण का मिश्रण होता है, जो चमकीला लाल रंग देता है, हालांकि अन्य रंग देने वाली अन्य सामग्रियों का उपयोग भी कभी कभी किया जाता है. ट्रेसर सामग्री एक निश्चित समय अवधि के बाद जल जाती है. ऐसे बारूद एक शूटर के लिए इस दृष्टि से महत्वपूर्ण होते हैं कि लक्ष्य वास्तविक प्रभावी बिंदु से कितना नजदीक है, और यह सीखने के लिए महत्वपूर्ण होते हैं कि गतीशील राइफल से कैसे पॉइंट शूट को लक्ष्य बनाया जाये. इस प्रकार के राउंड का उपयोग जटिल वातावरण में संयुत राज्य अमेरिका की सेना की सभी शाखाओं के द्वारा अनुकूल बलों के लिए सिग्नल उपकरण के रूप में किया जाता है. सामान्य रूप से इसे बॉल गोला बारूद के साथ चार:एक के अनुपात में लोड किया जाता है और इसका उपयोग वहां किया जाता है जहां आप फायरिंग कर रहे हैं और अनुकूल बल लक्ष्य पर निशाना साध रहे हैं. ट्रेसर राउंड की उड़ान विशेषताएं सामान्य गोलियों से अलग होती हैं, जो अन्य गोलियों से जल्दी उंचाई में कम हो जाती है, क्योंकि वायुगतिक ड्रैग अधिक होता है.
  • आग लगाने वाली गोली (Incendiary): ये गोलियां (बुलेट्स) एक विस्फोटक या ज्वलनशील मिश्रण से बनी होती हैं, यह मिश्रण इनके शीर्ष में भरा जाता है जो इस प्रकार से डिजाइन की जाती हैं कि लक्ष्य से टकराने के बाद उसे जला दें. इनका उपयोग इस इरादे से किया जाता है कि लक्ष्य क्षेत्र में इंधन या बारूद को जला कर नष्ट कर दिया जाये, जिसके द्वारा खुद गोली की विनाशकारी क्षमता इसमें जुड़ जाती है.
  • भंगुर (Frangible) इन्हें इस प्रकार से डिजाइन किया जाता है कि ये लक्ष्य से टकराने पर धोते छोटे टुकड़ों में टूट जाएं, ताकि सुरक्षा रेंज के कारण के लिए इनके भेदन को कम किया जा सके, या लक्ष्य के पीछे फायर करने से होने वाले खतरे को सीमित किया जा सके. इसका एक उदाहरण है ग्लेसर सेफ्टी स्लग (Glaser Safety Slug).
  • अविषैला (Non Toxic): बिस्मथ, टंग्स्टन, स्टील, और अन्य बुलेट मिश्रधातु वातावरण में विषैले सीसे को जाने से रोकते हैं. कई देशों के नियम अविषैले प्रोजेक्टाइल के उपयोग को अनिवार्य करते हैं, विशेष रूप से जब पानी में फायर करना पड़े. यह पाया गया है कि पक्षी इन सीसे की छोटी गोलियों को निगल जाते हैं (जैसे वे छोटे आकार के पत्थरों को निगल जाते हैं), और और उनके पाचन तंत्र में लगातार यह सीसा छोटे टुकड़ों में बदलता रहता है, यह उनके भोजन के साथ मिल कर अधिक विषैले प्रभाव उत्पन्न करता है. इस तरह के बिंदु प्राथमिक रूप से शोटगन, फायरिंग पेलेट्स (शोट) पर लागू होते हैं, बुलेट्स पर नहीं, लेकिन जहरीले पदार्थों की कमी का अधिनियम ( reduction of hazardous substances (RoHS) legislation) गोलियों पर भी लागू किया गया है ताकि शूटिंग रेंज में पर्यावरण पर सीसे के प्रभाव को कम किया जा सके.
  • प्रेक्टिस: ये हलके भार के पदार्थों जैसे रबड़, मोम, लकड़ी, प्लास्टिक, या हलके धातु, से बनायीं जाती हैं, प्लास्टिक बुलेट्स का इस्तेमाल कम रेंज के लक्ष्य को साधने के लिए किया जाता है. इनके भार और कम वेग के कारण इनकी रेंज सीमित होती है.
  • कम घातक या घातक से कम: रबर बुलेट्स, प्लास्टिक बुलेट्स, और बीनबैग्स को इस प्रकार से डिजाइन किया गया है कि ये घातक न हों, उदाहरण के लिए, दंगों के नियंत्रण में काम में जाने वाली गोलियां. इनका वेग आमतौर पर कम होता है और इन्हें शोटगन, ग्रेनेड लॉन्चर, पेंट बॉल गन, या विशेष रूप से डिजाइन की गयी बंदूक या एयर गन से फायर किया जाता है.
  • ब्लैंक्स: लाइव गनफायर को उत्तेजित करने के लिए मोम, पेपर, और अन्य सामग्री का उपयोग किया जाता है और इनका मकसद होता है केवल शोर पैदा करना और खाली कारतूस में पाउडर को बनाये रखना. "बुलेट" को एक उद्देश्य से डिजाइन किये गए उपकरण में बंद किया जा सकता है या इससे हवा में बहुत थोड़ी सी ऊर्जा को छोड़ा जा सकता है. कुछ खाली कारतूस सिरे पर बंद होते हैं और इनमें कोई गोली या बुलेट नहीं होती है.
  • ब्लेंडेड मेटल: बुलेट का निर्माण बाइंडर के साथ सीसे के बजाय कोर में पाउडर धातु से किया जाता है. कभी कभी सिंटर्ड होता है.
  • एक्स्प्लोडिंग (विस्फोटक): यह आग लगाने वाली गोली के समान है, इस प्रकार का प्रोजेक्टाइल किसी सख्त सतह विशेष रूप से लक्ष्य से टकरा कर उसमें विस्फोट पैदा करता है. केनन राउंड या ग्रेनेड को लेकर फ्यूज़ उपकरण से भ्रमित नहीं होना चाहिए, इन गोलियों में केवल एक गुहा होती है जिसमें बहुत कम मात्र में विस्फोटक भरे होते हैं, जो निशाना साढ़े जाने के बाद आवश्यक गति और विरूपण पर निर्भर करते हैं. इनका उपयोग आमतौर पर हंटिंग एयरगन में गोली के प्रभाव को बढ़ने के लिए किया जाता है.

संधियां और निषेध[संपादित करें]

सेंट पीटर्सबर्ग की 1868 की घोषणा में 400 ग्राम से कम वजन के विस्फोटक प्रोजेक्टाइल के उपयोग को निषिद्ध कर दिया गया.[3]

हेग कन्वेंशन विरोधी पक्ष के वर्दीधारी सैन्य कर्मियों के खिलाफ वर्दीधारी सैन्य कर्मियों के द्वारा विशेष प्रकार के बारूद के उपयोग को निषिद्ध करता है. इनमें वे प्रोजेक्टाइल शामिल हैं जो एक व्यक्तिगत, विशेईले और एक्स्पेंडिंग बुलेट के भीतर विस्फोटित होते हैं.

जेनेवा सम्मेलनों से सम्बंधित, विशेष पारंपरिक हथियारों पर 1983 के सम्मलेन के प्रोटोकोल III में, नागरिकों के खिलाफ आग लगाने वाले बारूद के उपयोग को निषिद्ध किया गया.

इन संधियों में कोई भी ट्रेसर को निषिद्ध नहीं करती है या सैन्य उपकरणों में निषिद्ध गोलियों की बात करती है.

ये संधियां यहां तक कि पिस्टल, राइफल और मशीन गन में प्रयुक्त .22 LR बुलेट्स पर भी लागू होती हैं. इसलिए, उच्च मानक HDM पिस्टल, एक .22 LR सप्रेस्ड पिस्टल, के लिए द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान विशेष बुलेट्स को विकसित किया गया, इनमें होलो पॉइंट बुलेट के बजाय ऐसी गोलियों का उपयोग किया गया जिन पर पूरी धातु की जैकेट थी, जो .22 LR राउंड्स के लिए उपयुक्त थे.

गोली के संक्षिप्त रूप[संपादित करें]

ACC - रेमिंगटन एक्सेलरेटर[4] (Remington Accelerator) (देखें सेबट)
AP - आर्मर पर्सिंग (Armor Piercing) (इसमें एक स्टील की या किसी और सख्त धातु की कोर होती है)
APFSDS आर्मर-पर्सिंग फिन स्टेबिलाईज्ड डिसकार्डिंग सेबट राउंड (Armor-piercing Fin Stabilized Discarding Sabot round)
BBWC - बेवेल बेस वेडकटर (Bevel Base Wadcutter)
BEB - ब्रास एन्क्लोज्ड बेस (Brass Enclosed Base)
BJHP - ब्रास जैकेटेड होलो पॉइंट (Brass Jacketed Hollow Point)
ब्लिट्ज (ब्लिट्ज) सिएरा ब्लिट्जकिंग (Sierra BlitzKing)
Bt बोट टेल (Boat-tail)
BtHP - बोट-टेल होलो पॉइंट (Boat-tail Hollow Point)
CB - कास्ट बुलेट
CL, C-L - रेमिंगटन कोर-लोक्ट (Remington Core-Lokt)
DEWC डबल एंडेड वेडकटर (Double Ended Wadcutter)
DU डिप्लीटेड यूरेनियम (Depleted Uranium)
EVO, FTX - होर्नेडी LEVE रेवोल्यूशन फ्लेक्स टिप एक्स्पेंडिंग (Hornady LEVERevolution Flex Tip eXpanding)
FMJ - फुल मेटल जैकेट (Full Metal Jacket)
FMC - फुल मेटल केस (Full Metal Case)
FN - http://www.gsgroup.co.za/articlepvdw.html/ Dangerous Game Solid Bullets फ्लेट नोज़ (Flat Nose)
FP फ्लेट प्वाइंट (Flat Point)
FST - विनचेस्टर फेल सेफ टेलन (Winchester Fail Safe Talon)
GC - गैस चेक (Gas Check)
GD - Speer गोल्ड डॉट (Gold Dot)
GDHP Speer गोल्ड डोट होलो पॉइंट (Gold Dot Hollow Point)
GS - रेमिंगटन गोल्डन सेबर (Remington Golden Saber)
GSC - GS Custom टर्न्ड कॉपर बुलेट्स (Turned Copper Bullets)
HBWC - होलो बेस वेडकटर
HC - हार्ड कास्ट (Hard Cast)
HP होलो पॉइंट (Hollow Point)
HPJ - हाई परफोर्मेंस जेकेटेड
HS - फेडरल हाईड्रा शोक (Federal Hydra-Shok)
HST - फेडरल हाई-शोक टू ( Federal Hi-Shok Two)
HV - Low friction Drive Band Bullets हाई वेलोसिटी (High Velocity)
J जेकेटेड (Jacketed)
JFP - जेकेटेड फ्लेट पॉइंट (Jacketed Flat Point)
JHC - जेकेटेड होलो केविटी
JHP - जेकेटेड होलो पॉइंट
JHP/sabot - जेकेटेड होलो पॉइंट/ सेबट
JSP - जेकेटेड सोफ्ट पॉइंट
L -लेड ((Lead)
L-C लेड कोम्बेट
L-T लेड टार्गेट Lead Target
LFN - लॉन्ग फ्लेट नोज़ (Long Flat Nose)
LFP - लेड फ्लेट पॉइंट (Lead Flat Point)
LHP - लेड होलो पॉइंट (Lead Hollow Point)
LRN - लेड राउंड नोज़ (Lead Round Nose)
LSWC लेड सेमीवेडकटर
LSWC-GC लेड सेमीवेडकटर गैस चेक्ड
LWC लेड वेडकटर (Lead Wadcutter)
LTC - लेड ट्रंकेटेड कोन
MC - मेटल केस्ड
MHP मैच होलो पॉइंट (Match Hollow Point)
MK सिएरा मैचकिंग (Sierra MatchKing)
MRWC - मिड-रेंज वेडकटर
NP - नोस्लर पार्टीशन (Nosler Partition)
OTM - ओपन टिप मैच
OWC - ओगिवल वेडकटर[5]
PB -लेड बुलेट
PB - पेराबेलम ( Parabellum)
PL रेमिंगटन पावर-लोक्ट (Remington Power-Lokt)
PSP - प्लेटेड सोफ्ट पॉइंट (Plated Soft Point)
PSP, PTDSP - पोइनटेड सोफ्ट पॉइंट (Pointed Soft Point)
RN - राउंड नोज़
RNFP - राउंड नोज़ फ्लेट पॉइंट (Round Nose Flat Point)
RNL - राउंड नोज्ड लेड
SJ - सेमी जेकेटेड ( Semi-Jacketed)
SJHP - सेमी-जैकेटेड होलो पॉइंट (Semi-Jacketed Hollow Point)
SJSP - सेमी जेकेटेड सोफ्ट पॉइंट
SP सोफ्ट पॉइंट (Soft Point)
SP - स्पीयर पॉइंट (Spire Point)
Sp,SPTZ - स्पिट्जर (Spitzer)
SpHP - स्पिट्जर होलो पॉइंट (Spitzer Hollow Point)
SST - होर्नेडी सुपर शॉक टिप ( Hornady Super Shock Tip)
SSp - सेमी स्पिट्जर (Semi-Spitzer)
ST -सिल्वर टिप (Silver Tip)
STHP - सिल्वर टिप होलो पॉइंट (Silver Tip Hollow Point)
SWC सेमीवेडकटर
SX -सुपर एक्सप्लोसिव (Super Explosive)
SXT - विनचेस्टर रेंजर सुप्रीम एक्सपेंशन टेक्नोलोजी (Winchester Ranger Supreme Expansion Technology)
TC ट्रंकेटेड कोन (Truncated Cone)
TMJ - टोटल मेटल जैकेट (Total Metal Jacket)
TNT - स्पीयर TNT (Speer TNT)
VMAX - होर्नेडी वी-मैक्स बैलिस्टिक टिप (Hornady V-Max Ballistic tip)
VLD वेरी लो ड्रेग ( Very Low Drag)
WC वेडकटर (Wadcutter)
WFN - वाइड फ्लेट नोज़ (Wide Flat Nose)
WFNGC - वाइड फ्लेट नोज़ गेस चेक (Wide Flat Nose Gas Check)
WLN - वाइड लॉन्ग नोज़ (Wide Long Nose)
X - बार्न्स एक्स-बुलेट (Barnes X-Bullet)
XTP - होर्नेडी एक्सट्रीम टर्मिनल परफोर्मेंस

आलंकारिक उपयोग[संपादित करें]

बुलेट शब्द का उपयोग, आमतौर पर इसकी गति के कारण कभी कभी अलंकारिक रूप से किया जाता है, उदाहरण:

  • जापानी बुलेट ट्रेन.
  • भारत के बाजार में 350cc की रॉयल इनफील्ड मोटरसाइकिल को बुलेट कहा जाता है.
  • शब्द "bullet-headed (बुलेट जैसे सिर वाला)" का उपयोग एक जानवर के लिए किया जाता है जिसका सिर डोलिकोसिफेलिक आकृति का है.
  • शब्द सिल्वर बुलेट, एक समस्या का एक अत्यंत प्रभावी समाधान है जो एक वेयरवोल्फ लोकगीत के आधुनिक संस्करण से आता है जिसमें बताया गया है कि मोंस्टर सिल्वर बारूद से युक्त बंदूकों का उपयोग करता है.
  • वाक्यांश "biting the bullet", का अर्थ है (आमतौर पर मानसिक) एक अप्रिय काम या अनुभव के लिए तैयारी, एक रोगी जो सीसे की गोली को चबा रहा है जिसे उसके पिछले दांतों के बीच एक दर्द भरी उपचार प्रक्रिया के लिए रखा गया है (जैसे एक गोली को निकालना या अंग विच्छेदन), जिसमें निश्चेतक का उपयोग नहीं किया गया है. यह अक्सर एक युद्ध क्षेत्र में या इसके पीछे किया जाता था, जहां गोलियां आसानी से उपलब्ध हो जाती थीं.
  • घोड़े की रेस में, हर रास्ते पर सबसे तेज प्रशिक्षण सत्र को रोज एक बुलेट से चिन्हित किया जाता है, जो घोड़े के पिछले प्रदर्शन को दर्शाता है.
  • एक चलचित्र में (जिसमें टेलीविजन, कथा फिल्म और चलचित्र, वीडियोगेम आदि शामिल हैं), बुलेट के समय को डिजिटल रूप से बढ़ा दिया जाता है, पहला, फिल्म की गति को बहुत कम कर दिया जाता है, या कभी कभी एक स्थिर फ्रेम का प्रयोग किया जाता है, दूसरा, कैमरा सामान्य गति से दृश्य के चारों और घूमता है, जिससे दर्शक अलग अलग एंगल से एक्शन को देख पाता है. गोली के इस समय के कारण दर्शक एक्शन को आसानी से देख पाता है जिसे वह सामान्य गति पर विस्तृत रूप से नहीं देख पाता. इससे दर्शक इस एक्शन को कई एंगल्स से देखता है, जो सामान्य गति पर छुपे रहते. सामान्य फ़िल्मी स्थितियों में, दृश्य को शूट करने वाला व्यक्ति उस एंगल को चुनता है जहां से एक्शन को शूट किया जाना है. गोली के समय में कैमरे का घूर्णन एक छोटे एंगल से बहुत भिन्न हो सकता है, जैसे 90°, पूर्ण 360° तक. गोली के समय की तकनीक का उपयोग अक्सर वीडियोगेम में किया जाता है जिससे खिलाडी विशेष कुशलताओं का उपयोग कर पाता है, जैसे समय को कम करना, या इस रूप का लाभ उठाना. शब्द, "bullet time," का उपयोग सबसे पहले एक फिल्म द मेट्रिक्स के सन्दर्भ में किया गया, जिसमें बुलेट्स को फायर करने के दौरान कम गति के शोट का उपयोग किया गया, जिसमें कैमरा बुलेट और लक्ष्य के चारों और घूम रहा था.
  • प्रसिद्ध वाक्यांश "catching a bullet in his teeth" प्रसिद्द जादूगर बेंजामिन पेरी कोविंगटन की रिपोर्ट से आया है, कहा जाता है उसने 1920 के दशक की शुरुआत में न्यूयोर्क में एक जादू के दौरान तीन अलग अलग बंदूकों से फायर की गयी गोलियों को अपने दांतों में पकड़ लिया था.
  • अभिव्यक्ति "shooting blanks" का उपयोग पुरुष की नपुंसकता के लिए किया जाता है. एक ब्लैंक राउंड में कोई प्रोजेक्टाइल नहीं होता है (और इस प्राकर से यह बहुत कम घातक होता है), ठीक उसी तरह जैसे एक नपुंसक पुरुष के वीर्य में सक्रिय शुक्राणु नहीं होते.

यह भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. The Exploding Bullet क्लीनिकल पैथोलॉजी की जर्नल
  2. Hughes, David (1990). The History and Development of the M16 Rifle and Its Cartridge. Oceanside: Armory Pub. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780962609602. 
  3. Glover, William H.. "Purposes and Basic Principles of the Law of War". http://williamhgloverjd.wordpress.com/2009/12/04/purposes-and-basic-principles-of-the-law-of-war/. अभिगमन तिथि: 2010-07-28. 
  4. Bullet Basics 1- Materials; Remington Accelerator (at bottom of page)
  5. Lead Bullets Technology - Premium Molds

इस लेख की सामग्री सम्मिलित हुई है ब्रिटैनिका विश्वकोष एकादशवें संस्करण से, एक प्रकाशन, जो कि जन सामान्य हेतु प्रदर्शित है।.

बाहरी लिंक[संपादित करें]