कंप्यूटर स्मृति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
१ जीबी डीडीआर, रैंडम एक्सेस मेमोरी

कंप्यूटर स्मृति या मैमोरी का कार्य किसी भी निर्देश, सूचना अथवा परिणाम को संचित करके रखना होता है। कम्प्यूटर के सी.पी.यू. में होने वाली समस्त क्रियायें सर्वप्रथम स्मृति में जाती है। यह एक प्रकार से कम्प्यूटर का संग्रहशाला होता है।[1] मेमोरी कम्प्यूटर का अत्यधिक महत्वपूर्ण भाग है जहां डाटा, सूचना और प्रोग्राम प्रक्रिया के दौरान स्थित रहते हैं और आवश्यकता पड़ने पर तत्काल उपलब्ध होते हैं।

प्रकार[संपादित करें]

प्रयोग के आधार पर भी ये दो प्रकार की होती हैं:

मुख्य स्मृति[संपादित करें]

१ जी.बी एसडी रैम एक पर्सनल कंप्यूटर में लगी हुई प्राथमिक भंडारण स्मृति।

मुख्य स्मृति या मेन मेमोरी कंप्यूटर के हृदय यानि माइक्रोप्रोसेसर या मदरबोर्ड के अंदर लगी रहती है। इसे प्राथमिक भंडारण इकाई या प्राइमरी स्टोरेज युनिट भी कहते हैं। एक्सेस के आधार पर ये भी दो प्रकार की होती हैं:

रैम[संपादित करें]

रैम यानि रैंडम एक्सैस मैमोरी एक कार्यकारी मैमोरी होती है। यह तभी काम करती है जब कम्प्यूटर कार्यशील रहता है। कम्प्यूटर को बन्द करने पर रैम में संग्रहित सभी सूचनाऐं नष्ट हो जाती हैं। कम्प्यूटर के चालू रहने पर प्रोसेसर रैम में संग्रहित आंकड़ों और सूचनाओं के आधार पर काम करता है। इस स्मृति पर संग्रहित सूचनाओं को प्रोसेसर पढ़ भी सकता है और उनको परिवर्तित भी कर सकता है।

रोम[संपादित करें]

रोम यानि मोटा पाठ में संग्रहित सूचना को केवल पढ़ा जा सकता है उसे परिवर्तित नहीं किया जा सकता। कम्प्यूटर के बंद होने पर भी रौम में सूचनाऐं संग्रहित रहती हैं नष्ट नहीं होती।

गौण स्मृति[संपादित करें]

४० जी.बी. हार्ड डिस्क ड्राइव, कंप्यूटर में द्वितीयक भंडारण स्मृति।

गौण स्मृति या ऑक्ज़िलरी स्टोरेज युनिट। इसे द्वितीयक भंडारण इकाई या सेकेण्डरी स्टोरेज युनिट भी कहते हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. कम्प्यूटर के विभिन्न हार्डवेयर। तकनीक.कॉम। ५ जून २००८। कमल

बाहरी सूत्र[संपादित करें]