एडोबे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
न्यू मैक्सिको में एडोबे से बनी दीवार के लेपन का नवीनीकरण

अमरीका के दक्षिण-पश्चिमी संयुक्त राज्य और उत्तरी मेक्सिको में ऐडोबे (Adobe) कच्ची ईट और उससे बने मकान को कहते हैं। उस मिट्टी को भी बहुधा ऐडोबे कहते हैं जिससे अच्छी ईटें बनती हैं। यह शब्द स्पेन के "ऐडोबार" शब्द से निकला है, जिसका अर्थ है मिट्टी का लेप या पलस्तर।

ऐडोबे ईट बनाने के लिए मिट्टी, थोड़ा सा भूसा, पुआल, या सूखी घास मिलाकर सान ली जाती है और फिर पैर से कुचलकर अच्छी तरह गूँध ली जाती है। तदनंतर लकड़ी के साँचों की सहायता से ईटें बना ली जाती हैं। नाप में यह ईटे साधारण ईटों से लेकर दो मीटर तक लंबी, एक फुट तक चौड़ी और आठ इंच तक मोटी होती है। ईंटों की जोड़ाई मिट्टी के ही गारों से की जाती है और मिट्टी से ही बाहर और भीतर पलस्तर भी कर दिया जाता है। सूख जाने पर चूना कर दिया जाता है।

अर्ग-ए बाम का किला जो एडोबे से बना संसार का सबसे बड़ा संरचना है; इसका काल कम से कम ५०० ईसा पूर्व का है

चौड़ा छज्जा और अच्छी छत रहने पर, जो वर्षा में टपके नहीं, अमरीका और मेक्सिको में ये मकान बरसों, कभी कभी-सैकड़ों वर्ष, चलते हैं। कॉलोरेडो (अमरीका) में पृथक् ईंट बनाने की प्रथा नहीं है। वहाँ दीवार बनाने के लिए अगल बगल अस्थायी रूप से पटरे खड़े कर दिए जाते हैं और उनके बीच कड़ी सनी हुई मिट्टी कूट दी जाती है। कुछ दिन तक सूखने देकर पटरों को अधिक ऊँचाई पर बाँधते हैं और इस प्रकार तह पर तह मिट्टी डालकर दीवार बना लेते हैं। दीवारें चाहे इस प्रकार बनें, चाहे ईंटों से, पर जब उनपर बाहर से सीमेंट का पलस्तर कर दिया जाता है तो ये (ऐडोबे के) मकान बहुत टिकाऊ होते हैं। ऐडोबे की ईंट बनाने के लिए वही मिट्टी अच्छी होती है जो सूखने पर बहुत कड़ी और मजबूत हो जाती है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]