इंदिरा गांधी पर्यावरण पुरस्कार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में योगदान के लिये दिये जाने वाले इस पुर्सकार की शुरुआत भारत सरकार द्वारा वर्ष 1987 में हुई। इसमें पांच लाख रुपये और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है। पुरस्कार के लिये किसी एक संगठन या शख्सियत का चयन उपराष्ट्रपति की अध्यक्षता वाली समिति करती है। 2००8 ई। के लिए यह पुरस्कार तमिलनाडु के ईशा फाउंडेशन को दिया गया। इस संगठन के नाम एक ही दिन में आठ लाख से अधिक पौधारोपण करने का गिनीज विश्व रिकॉर्ड है।

सहायक एवं संदर्भ श्रोत[संपादित करें]

ईशा फाउंडेशन को इंदिरा गांधी पर्यावरण पुरस्कार : हिंदुस्तान