सूत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सूत
सुतों की रील

सूत, परस्पर जुड़े रेशों की एक निरंतर लम्बाई है जो कपड़े (टेक्सटाइल्स) के उत्पादन, सिलाई, क्रोशिये से बुनाई (क्रोशेटिंग), सलाईयों से बुनाई (निटिंग), बुनाई (वीविंग), कढ़ाई और रस्सी बनाने के लिए उपयुक्त है। धागा एक प्रकार का सूत है जो हाथ या मशीन से होने वाली सिलाई में प्रयुक्त होता है। सिलाई प्रक्रिया के तनाव को सहने के लिए सिलाई के लिए निर्मित आधुनिक धागों पर मोम या दूसरे स्नेहकों की परत चढ़ी हुई हो सकती है।[1] कढ़ाई में प्रयुक्त होने वाले धागे, हाथ या मशीन से होने वाली कढ़ाई के लिए विशेष रूप से डिज़ाईन किये गए सूत हैं।

संरचना[संपादित करें]

एक स्पिनिंग जेनी, कताई मशीन जो औद्योगिक क्रांति को प्रारंभ करती है
एस- और ज़ेड-ट्विस्ट सूत

रेशों (स्टेपल फाइबर) की बंटाई द्वारा या फिर लम्बा धागा बनाने के लिए उन्हें एक साथ जोड़ कर काता हुआ धागा (स्पन यार्न) बनाया जाता है।[2] रेशों को धागे में बंटने की प्रक्रिया जो कताई कहलाती है, उत्तर पाषाण काल[3] जितनी पुरानी है और धागे की कताई औद्योगीकृत होने वाली सबसे पुरानी प्रक्रियाओं में से एक थी। काता हुआ सूत एक प्रकार का रेशा हो सकता है या यह विभिन्न प्रकार के रेशों का मिश्रण हो सकता है। कृत्रिम रेशों (सिंथेटिक फाइबर) (जिनमें उच्च शक्ति, चमक और अग्नि प्रतिरोधक गुण हो सकते हैं) का प्राकृतिक रेशों (जिनमें पानी सोखने की अच्छी क्षमता और त्वचा को आराम देने का गुण होता है) से संयोजन बहुत आम बात है। कपास-पॉलिएस्टर और ऊन- एक्रिलिक फाइबर सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल होने वाले मिश्रण हैं। विशेष रूप से अंगोरा और कश्मीरी (कैशमेयर) जैसे अधिक महंगे रेशों के साथ विभिन्न प्राकृतिक रेशों का मिश्रण भी सामान्य है। सूत अनेक प्लाईयों को मिलाकर बनते हैं, प्रत्येक प्लाई एक एकल कता हुआ सूत होती है। एक मोटा धागा बनाने के लिए प्रत्येक प्लाई को विपरीत दिशा में को एक साथ मरोड़ा जाता है। अंतिम मोड़ की दिशा के आधार पर धागा एस-ट्विस्ट (s-twist) या जेड-ट्विस्ट (z-twist) के रूप में जाना जाएगा। एकल प्लाई के लिए, अंतिम मोड़ (ट्विस्ट) की दिशा वही होती है जो उसके मूल मोड़ (ट्विस्ट) की होती है।

तंतु धागे (फिलामेंट यार्न) एक साथ मरोड़े हुए या केवल समूहीकृत किये गए तंतु रेशों (बहुत लंबे निरंतर रेशों) से युक्त होते हैं। मोटे एकल तंतुओं का इस्तेमाल आमतौर पर कपड़े के उत्पादन या सजावट की बजाय औद्योगिक प्रयोजनों के लिए किया जाता है। रेशम एक प्राकृतिक तंतु है और रेशम जैसा प्रभाव लाने के लिए कृत्रिम तंतु धागों (सिंथेटिक फिलामेंट यार्न) का इस्तेमाल किया जाता है।

बुने हुए धागे (टेक्सराइज़्ड यार्न्स) एयर टेक्सराज़िंग प्रक्रिया द्वारा बनाए जाते हैं (कभी कभी तस्लानिज़िंग (taslanizing) के रूप में संदर्भित किया जाता है), जो एकाधिक तंतु धागों को कते हुए धागों की कुछ विशेषताओं सहित एक साथ जोड़ती हैं।

मापन[संपादित करें]

शिल्प धागे (क्राफ्ट यार्न्स)[संपादित करें]

मिश्रित रंग के सूत की एक गेंद के साथ बिल्ली.
सभी उद्देश्य सिलाई सुतों की रील, क्लोज़अप दिखाता है के पॉलिएस्टर कोर के साथ 2-प्लाई ज़ेड- ट्विस्ट मर्सीराइज्ड कॉटन.
प्राचीन काल के अमेरिकी परंपरा में रंगे जाने के बाद कॉनर प्रेरी लिविंग हिस्ट्री संग्रहालय में सुते सुखाये जा रहे है।

धागों के परिमाण को आमतौर पर औंस या ग्राम में मापा जाता है। संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा और यूरोप में, हस्त-शिल्प के लिए धागों के गोलों को वजन द्वारा बेचा जाता है। सामान्य आकारों में 25ग्रा., 50ग्रा. और 100ग्रा. के लच्छे शामिल हैं। कुछ कंपनियाँ प्राथमिक रूप से औंस में भी वजन मापती हैं क्योंकि सामान्य आकार के लच्छे तीन-औंस, चार-औंस, छह औंस और आठ औंस वज़न के होते हैं। यह माप एक मानक तापमान और आर्द्रता में लिया जाता है क्योंकि धागा हवा से नमी को अवशोषित कर सकता है। एक गेंद या लच्छे में निहित रेशे के स्वाभाविक भारीपन या रेशे की मोटाई के कारण यार्न की वास्तविक लंबाई भिन्न हो सकती हैं। उदाहरण के लिए, एक 50 ग्रा. के महीन चिकने ऊन का फीता कई सौ मीटर लंबा हो सकता है जबकि एक 50 ग्राम का भारी ऊन का लच्छा केवल 60 मीटर लंबा हो सकता है।

धागे की कई मोटाईयां होती हैं जिन्हें वेट (weight) कहा जाता है। इसका उपरोक्त वर्णित मापने वाले वज़न से कोई संबंध नहीं है। इसे मापने के लिए वेट को 1 (बेहतरीन) से 6 (सबसे भारी) के क्रम में संख्याबद्ध कर के, अमेरिका की शिल्प धागा परिषद एक मानकीकृत उद्योग प्रणाली को बढ़ावा देने का प्रयास कर रही है[4]. बेहतरीन से मोटे धागे के अनुसार, धागे के विभिन्न वेट लेस (lace), फिंगरिंग (fingering), सोक (sock), सपोर्ट (sport), डबल निट (double-knit)(या डी.के.), वर्स्टेड (worsted), अरन (aran), बल्की (bulky) या सुपर-बल्की (super-bulky) कहलाते हैं। यह नामकरण परिपाटी सटीक होने की बजाए अधिक वर्णनात्मक है, इसलिए धागों के कारीगर निरंतरता और आकारों के बीच सटीक संबंधों के बारे में सहमत नहीं हैं।

धागे के वजन का एक और अधिक सटीक माप रैप प्रति इंच (wraps) (डब्ल्यूपीआई) (wpi) है, जो अक्सर बुनकरों द्वारा प्रयोग किया जाता है। धागे को सुरक्षित ढंग से एक पैमाने के चारों ओर लपेटा जाता है और एक इंच में फिट होने वाले चक्करों की संख्या को गिना जाता है।

हस्तशिल्प के धागों के लेबल पर अक्सर गेज (gauge), जिसे इंग्लैण्ड में तनाव (tension) कहते हैं, के बारे में जानकारी रहती है, जिसका प्रयोग यह मापने में होता है कि एक निर्दिष्ट आकार की बुनाई की सुई या क्रोशिये के हुक से प्रति इंच या प्रति सेंटीमीटर कितने टाँके और पंक्तियाँ निर्मित हुईं. प्रस्तावित मानकीकरण एक चार गुणे चार इंच/ दस गुणे दस सेंटीमीटर के बुने हुये या क्रोशिया के वर्ग के पार और उच्च लेबल पर सुझाये गए उपकरण द्वारा बने हुए टाँके के साथ निर्धारित पंक्तियों का उपयोग करता है।

यूरोप में कपड़ा इंजीनियर अक्सर टेक्स (tex), जो एक किलोमीटर सूत का ग्राम में वज़न है, अथवा डेसीटेक्स (decitex) इकाई का प्रयोग करते हैं, जो 10 किलोमीटर सूत का ग्राम में अधिक महीन वज़न है। समय-समय पर विभिन्न उद्योगों द्वारा कई अन्य ईकाइयों का इस्तेमाल किया गया है।

धागा[संपादित करें]

रंग[संपादित करें]

धागे का इस्तेमाल बिना रंगे किया जा सकता है या इसे कृत्रिम या प्राकृतिक रंगों से रंगा जा सकता है। अधिकतर धागों में एक समान रंग होता है, लेकिन रंग-बिरंगे धागों का एक विस्तृत चयन भी उपलब्ध है:

  • हिदर्ड या ट्वीड: अलग-अलग रंग के रेशों की चित्तियों (फ्लेक्स) युक्त धागा
  • ओंब्रे: एक ही प्रकार के हलके और गहरे रंग के साथ बहुरंगी धागा
  • बहु रंगी: दो या अधिक प्रधान रंगों के साथ रंग-बिरंगा धागा (एक "तोता रंगी" हरा, पीला और लाल हो सकता है)
  • सेल्फ स्ट्रिपिंग: लंबाईयों के अनुसार रंगा हुआ धागा जो बुनाई या क्रोशिये के दौरान बुनी गई वस्तु में स्वयं धारियां बनाएगा.
  • मर्लेड: एक साथ बटे हुए अलग-अलग रंग के धागों से बने धागे, जो कभी-कभी मिलते जुलते रंगों में होते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सेल्फ-स्ट्रिपिंग सूत
  • क्रोशै सूतें
  • डाई स्थल
  • विद्युत् से चालक सूत
  • कशीदाकारी सूतें
  • आईएसओ 2 (ISO 2)
  • नवीनता सूतों की सूची
  • वस्त्र निर्माण
  • सूत बामिंग

नोट्स[संपादित करें]

  1. कडोल्फ, सारा जे., एड.: टेक्सटाइल्स, 10 संस्करण, पियर्सन/प्रेंटिस-हॉल, 2007, ISBN 0-13-118769-4, पृष्ठ 203
  2. कडोल्फ, टेक्सटाइल्स, पृष्ठ 197
  3. बार्बर, एलिज़ाबेथ वेलैंड: वुमेन्स वर्क:द फर्स्ट 20,000 इयर्स, डब्ल्यू. डब्ल्यू. नॉर्टन, 1994, पृष्ठ 44
  4. क्रोशै और बुनाई के लिए मानक और मार्गदर्शी

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]