वैद्युत-प्राप्ति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वैद्युत्‌ प्राप्ति (electrowinning) विद्युतधातुकर्म की वह विधि है जिसमें

  • (1) कच्चे धात्वीय खनिज को पानी के उपयुक्त विलयन से अपमार्जन करते हैं और इस प्रकार मानक विद्युत्‌-अपघटन प्राप्त करते हैं। इसमें धातु की मात्रा पर्याप्त होती है। फिर विद्युत्‌ अपघटन द्वारा कैथोड पर शुद्ध निक्षिप्त धातु प्राप्त करते हैं,
  • (2) कच्चे धातु खनिज को सुगमता से पिघलनेवाले लवण में परिवर्तित करते हैं और इसे पिघलाकर संगलित विद्युत्‌-अपघटन से कैथोड पर शुद्ध निक्षिप्त धातु प्राप्त करते हैं। साधारणत: ऐलुमिनियम, बेरिलियम, कैल्सियम, लीथियम, मैग्नीशियम तथा सोडियम के लवणों के निर्जलीय गलन की और ताँबा, कैडमियम, कोबाल्ट, मैंगनीज़, निकेल, ज़िंक आदि के लगणों के जलीय विलयन की वैद्युत प्राप्ति विधि से ये धातुएँ व्यापारिक पैमाने पर प्राप्त की जाती है।