विंडोज़ 8

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(विण्डोज़ ८ से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विंडोज़ 8
Windows 8 logo and wordmark.svg
कंपनी / विकासकर्ता माइक्रोसॉफ़्ट कार्पोरेशन
प्रचालन तंत्र परिवार माइक्रोसॉफ़्ट विंडोज़
आरंभिक रिलीज अक्टूबर 26, 2012 (2012-10-26) (1 वर्ष पहले)
नवीनतम स्थिर रिलीज 6.2 (Build 9200)
अद्यतन विधि विंडोज़ अपडेट
समर्थित प्लेटफार्म आई. ए-32, x86-64, आर्म आर्किटेक्चर पर
कर्नेल प्रकार हाइब्रिड
लाइसेंस स्वामित्वयुक्त व्यावसायिक सॉफ़्टवेयर
जालस्थल windows.microsoft.com

विंडोज़ 8 माइक्रोसॉफ्ट के विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम के आगामी संस्करण का नाम है।

लास वेगास में कंज्यूमर इलैक्ट्रॉनिक्स शो २०११ में माइक्रोसॉफ्ट ने घोषणा की कि यह अपने विंडोज़ प्रचालन तन्त्र के नये संस्करण में सिस्टम ऑन ए चिप (SoC) तथा मोबाइल आर्म आर्किटेक्चर हेतु समर्थन शामिल करेगी।

सन्दर्भ[संपादित करें]

साँचा:माइक्रोसॉफ्ट विंडोज़़ परिवार

माइक्रोसॉफ्ट का नवीनतम ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज़ 8 जारी हो चुका है और इसे मिश्रित प्रतिक्रियाएँ मिल रही हैं। जहाँ इसमें शामिल कथ नयी सुविधाओं को लोग पसन्द कर रहे हैं वहप कथ समीक्षक इसे डैस्कटॉप के लिये अनुपयुक्त बता रहे हैं। यह तो समय बतायेगा कि इसका भविष्य क्या होगा। फिलहाल इस लेख में हम इसकी कुछ नयी उपयोगी सुविधाओं पर नजर डालते हैं।

बेहतर परफॉर्म़ेंस

माइक्रोसॉफ्ट ने विंडोज़ विस्टा वाली गलती न दोहराते हुये विंडोज़ 8 की हार्डवेयर आवश्यकताओं को भारी- भरकम नहप रखा जिस कारण यह एक औसत कम्प्यूटर पर भी बेहतर प्रदर्शन करती है। कुछ परीक्षणों के अनुसार यह विंडोज़ 7 से भी बेहतर परफॉर्म़ेंस देती है।

तेज बूट समय

विंडोज़ 8 में हाइबरनेशन तथा शटडाउन की तकनीक को मिलाकर हाइब्रिड बूट की तकनीक शामिल की गयी है जिससे कम्प्यूटर जल्दी से ऑन होता है। ऑपरेटिंग सिस्टम को शटडाउन करने पर यह डिफॉल्ट रूप से हाइब्रिड बूट का प्रयोग करता है जिसमें यह कर्नेल को हाइबरनेट कर देता है ताकि अगली बार जल्दी से बूट हो। सोलिड स्टेट ड्राइव वाली अल्ट्राबुक और फ्लैश मेमोरी वाले टैबलेट में हाइब्रिड बूट सिस्टम बूट टाइम को और तेज कर देता है।

टचक्रीन

मित्र विंडोज़ 8 का मॉड्रन (पूर्व नाम मैट्रो) इंटरफेस टच डिवाइसों के अनुकूल है। पहली बार देखने पर यह पूरी तरह नया लगेगा पर वास्तव में माइक्रोसॉफ्ट ने विंडोज़ 7 को अपग्रेड कर उसके ऊपर एक नये ऍनीमेटिड यूजर इंटरफेस की लेयर लगा दी है। यह विंडोज़ फोन 7 के मैट्रो इंटरफेस से प्रेरित है। विंडोज़ 8 की स्टार्ट क्रीन टाइलों से बनी है जो कि विभि़ ऍप्लिकेशनों के शॉर्टकट हो सकती हैं या फिर वेब से कोथ लाइव जानकारी दिखा सकती हैं। आप टाइलों को अपने मनपसन्द तरीके से पुनर्व्यवस्थित कर सकते हैं। विंडोज़ के स्टार्ट बटन वाला काम चार्म्स बार करता है। यह एक कॉटैक्स्ट सैसेंटिव बार है जिसमें विभि़ सिस्टम सैटिंग्स तथा ऍप स्पैसिफिक सैटिंग्स होती हैं। इसकी शेयर सुविधा में ऍण्ड्रॉइड की तरह विभि़ सोशल नेटवर्किंग साइटों पर शेयर करने हेतु ऍप्स हैं। टचक्रीन पर यह दायप तरफ से स्वाइप करने पर आता है और सामान्य कम्प्यूटर पर माउस प्वाइंटर को निचले बायें कोने (जहाँ स्टार्ट बटन हुआ करता था) पर ले जाने से।

किसी ऍप्लिकेशन टाइल पर क्लिक करने से या खोजने से नयी मॉड्रन ऍप्लिकेशनें तो फुलक्रीन चलेंगी तथा पुरानी ऍप्लिकेशनें डैस्कटॉप मोड में पहुँचा देंगी। नयी फुलक्रीन ऍप्स पिंच- टू- जूम तथा कॉपी- पेस्ट जैसे टच कंट्रोल्स युक्त हैं। प्रत्येक में चार्म्स बार के जरिये सर्च, शेयर तथा सैटिंग्स आदि विकल्प उपलब्ध हैं। आप दो ऍप्लिकेशनों को साइड- बाइ- साइड भी चला सकते हैंपहले भी विंडोज़ युक्त कुछ टचक्रीन डिवाइस सामने आये थे पर विंडोज़ के इंटरफेस के टच अनुकूल न होने के कारण चले नहप। विंडोज़ 8 को पूरी तरह से टचक्रीन के हिसाब से डिजाइन किया गया है। इस कारण टैबलेट एवं टचक्रीन अल्ट्राबुक्स के लिये विंडोज़ 8 बेहतरीन है। हालाँकि इसके बावजूद यह सामान्य कीबोर्ड तथा माउस से भी पूरी तरह प्रयोग की जा सकती है।

डैस्कटॉप मोड

टच इंटरफेस होने के बावजूद विंडोज़ 8 में एक डैस्कटॉप मोड भी है जिसमें टास्कबार, डैस्कटॉप आइकॉन आदि मौजूद हैं। हालाँकि डैस्कटॉप मोड से स्टार्ट बटन (तथा स्टार्ट मैन्यू) निकाल दिया गया है। इसकी बजाय आप माउस प्वाइंटर को स्टार्ट बटन वाले निचले बायें कोने पर ले जाकर (या Windows कुंजी दबाकर ) स्टार्ट क्रीन पर वापस जा सकते हैं।

डैस्कटॉप मोड में विंडोज़ ऍक्सप्लोरर (कम्प्यूटर) तथा इंटरनेट ऍक्सप्लोरर आदि उपलब्ध हैं। विंडोज़ ऍक्सप्लोरर में माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस जैसा रिबन इंटरफेस आया है जिसमें चुने गये आइटम के हिसाब से कॉंटैक्स्ट सैसेंटिव विकल्प आते हैं। साथ ही इसमें विंडोज़ ऍक्सपी वाला UP बटन (जो कि विंडोज़ 7 में हटा दिया गया था) भी वापस आ गया है। इसके अतिरिक्त डैस्कटॉप मोड में आप अपने पसन्दीदा लिगेसी डैस्कटॉप सॉफ्टवेयर चला सकते हैं।

आप स्टार्ट क्रीन से डैस्कटॉप टाइल क्लिक करके या Win+D दबाकर डैस्कटॉप मोड में जा सकते हैं। स्टार्ट क्रीन से पुरानी ऍप्लिकेशनों को लाँच करने पर भी वे स्वतः डैस्कटॉप मोड में ले आयेंगी।

बेहतर सर्च सुविधा

विंडोज़ 8 में सर्च सुविधा को और बेहतर और यूनिवर्सल बनाया गया है। इसकी स्टार्ट क्रीन पर कोथ सर्च बॉक्स नहप है बल्कि जैसे ही आप कुछ टाइप करना शुरू करते हैं तो सर्च बॉक्स आ जाता है और परिणाम देता है। इससे आप उबुंटू (एक लिनक्स वितरण) की सर्च की तरह किसी भी ऍप्लिकेशन या सैटिंग को खोज सकते हैं जो कि आपको कम्प्यूटर पर मौजूद हर चीज तक तुरन्त पहुँचा देता है। आप चार्म्स बार के जरिये किसी ऍप्लिकेशन के अन्दर भी सर्च कर सकते हैं।

मोबाइल डिवाइस मित्र

विंडोज़ 8 का एक संस्करण विंडोज़ RT मोबाइल डिवाइसों के अनुकूल भी बनाया गया है। मोबाइल उपकरणों में कम ऊर्जा खपत वाले ARM आकबटैक्चर प्रोसैसर प्रयुक्त होते हैं। इस संस्करण के चलते मोबाइल डिवाइसों पर भी विंडोज़ के लिये द्वारा खुले हैं। हालाँकि इस संस्करण में केवल नयी मैट्रो शैली की ऍप्लिकेशन ही चलेंगी सामान्य डैस्कटॉप ऍप्लिकेशन नहप। डैस्कटॉप ऍप्लिकेशन चलाने में सक्षम विंडोज़ 8 भी इंटैल प्रोसैसर वाले टैबलेट पर चल सकती है।

विंडोज़ स्टोर

ऍप्लिकेशन स्टोर का कंसैप्ट बहुत अच्छा है। प्रयोक्ता को अपनी आवश्यकता के सॉफ्टवेयर के लिये इधर- उधर नहप भटकना पड़ता बस एक ही जगह से सब आसानी से डाउनलोड और इंस्टाल किया जा सकता है। उबुंटू लिनक्स तथा मॅक ओऍस में काफी समय से यह सुविधा उपलब्ध है। अब विंडोज़ 8 में भी विंडोज़ स्टोर नाम से ऍप्लिकेशन स्टोर आया है जिससे प्रयोक्ता को काफी सुविधा होगी। हालाँकि निराशाजनक बात यह है कि यह स्टोर केवल मॉड्रन (मैट्रो) ऍप्लिकेशनों तक ही सीमित है सामान्य डैस्कटॉप ऍप्लिकेशन इसमें नहप होंगी। माइक्रोसॉफ्ट ने सम्भवतः नयी मॉड्रन ऍप्लिकेशनों का प्रयोग प्रोत्साहित करने के लिये इसमें पुराने ऍप्लिकेशनों को नहप रखा वरना मेरे विचार से यह सम्भव था। ऑल माइ ऍप्स जैसे विंडोज़ ऍपस्टोर के कारण यह सिद्ध होता है कि इसमें लिगेसी ऍप्लिकेशनों को भी शामिल करना सम्भव था। हालाँकि एकाध जगह पढ़ा कि इसमें कुछ पुरानी ऍप्स भी शामिल हैं पर अभी यह पक्का नहप है।

विंडोज़ स्टोर से ऍप्लिकेशनों को एक क्लिक से इंस्टाल किया जा सकेगा। अभी विंडोज़ स्टोर में काफी कम ऍप्स हैं लेकिन विंडोज़ 8 का प्रचलन होने पर ये बढ़ जायेंगी। विंडोज़ स्टोर में मुफ्त एवं पेड, दोनों प्रकार की ऍप्लिकेशनें होंगी। पेड ऍप्लिकेशनों के मामले में माइक्रोसॉफ्ट मूल्य का 30 प्रतिशत रखेगा, यदि ऍप्लिकेशन की बिक्री 25,000 डॉलर से अधिक की हो जाती है तो माइक्रोसॉफ्ट अपना शेयर 20 प्रतिशत कर लेगा।

ISO फाइलें चलाना

ISO फाइल फॉर्मेट सीडी/डीवीडी आदि की इमेज का मानक फॉर्मेट है। बार&बार डिस्क को डालने के झंझट से बचने के लिये उसकी इमेज बनाकर उसे वर्चुअल ड्राइव सॉफ्टवेयरों की सहायता से माउंट करके चलाया जा सकता है। लिनक्स में ISO फाइल माउंट करने की सुविधा बहुत समय से इनबिल्ट है। विंडोज़ में अब तक इस काम के लिये वर्चुअल क्लोन ड्राइव, डैमन टूल्स जैसे थर्ड- पाटब सॉफ्टवेयरों का सहारा लेना पड़ता था। विंडोज़ 8 में यह सुविधा इनबिल्ट आ गयी है जिससे किसी भी ISO फाइल को बस डबल क्लिक करके असली डिस्क की तरह प्रयोग किया जा सकता है। इसके साथ ही विंडोज़ 8 में लिनक्स की तरह किसी डिस्क से ISO इमेज बनाने की सुविधा भी अन्तर्निर्मित है।

नेटिव यूऍसबी 3.0 समर्थन

यूऍसबी 3.0 पोर्ट यूऍसबी 2.0 की तुलना में कथ गुणा तेज है। विंडोज़ 7 आदि पुराने संस्करणों में इसके लिये थर्ड पाटब ड्राइवर की आवश्यकता होती थी लेकिन विंडोज़ 8 में इसका समर्थन अन्तर्निर्मित है।

उन्नत कॉपी सुविधा

विंडोज़ 8 में कॉपी सुविधा को उ़त बनाया गया है। इसमें टैराकॉपी जैसे सॉफ्टवेयरों की तरह पॉज, रिज्यूम, स्टॉप करने की सुविधा, डाटा ट्राँसफर रेट दिखाना आदि शामिल हैं।

लॉक क्रीन तथा पिक्चर पासवर्ड

विंडोज़ 8 की लॉकक्रीन स्मार्टफोन से प्रेरित है। यह एक सुन्दर चित्र के साथ जानकारी युक्त विजेट दिखाती है जैसे बैट्री स्टेटस, कनैक्टिविटी स्टेटस, अनपढ़ी मेल की संख्या, फेसबुक/ट्विटर अपडेट इत्यादि। आप टचक्रीन पर ऊपर की तरफ स्वाइप करके या डैस्कटॉप पर स्पेसबार दबाकर अनलॉक कर सकते हैं। इसके बाद आप सामान्य पासवर्ड टाइप कर सकते हैं या पिक्चर पासवर्ड का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ऍण्ड्रॉइड में पैट्रन लॉक के बारे में पता होगा। विंडोज़ 8 में इसी तर्ज पर पिक्चर पासवर्ड आया है जिससे अकाउंट को सुरक्षित करने के अतिरिक्त क्रीन को लॉक किया जा सकता है। पिक्चर पासवर्ड में चित्र में एक पैट्रन बनाकर डिवाइस को अनलॉक किया जा सकता है।

नया टास्क मैनेजर

विंडोज़ 8 में नया उ़त टास्क मैनेजर आया है। सामान्य टास्क किल करने के अतिरिक्त आप इसमें सीपीयू तथा रैम यूसेज, मैट्रो ऍप हिस्ट्री तथा स्टार्टअप ट्वीकिंग आदि पा सकते हैं। स्टार्टअप ट्वीकिंग के जरिये आप स्टार्टअप से अवांछित प्रोग्रामों को msconfig टूल के चक्कर में पड़े बिना हटा सकते हैं।

इनबिल्ट ऍण्टीवायरस

विंडोज़ 8 में माइक्रोसॉफ्ट का विंडोज़ डिफेंडर नामक ऍण्टीवायरस इनबिल्ट आता है। यह मूलतः माइक्रोसॉफ्ट सिक्योरिटी असैंशियल्स ही है जिसे विंडोज़ 8 में समाहित कर दिया गया है। इससे थर्ड पाटब ऍण्टीवायरस को इंस्टाल करने की अनिवार्यता समाप्त हो गयी है।

इसके अतिरिक्त विंडोज़ 8 में फैमिली सेफ्टी सुविधा है जिसमें वेब फिल्टरिंग, ऍप्लिकेशन रिस्ट्रिक्शन, कम्प्यूटर यूसेज टाइम लिमिट आदि शामिल है।

क्रीनशॉट सुविधा

विंडोज़ में प्रिंट क्रीन कुंजी को दबाने पर क्रीनशॉट क्लिपबोर्ड में कॉपी हो जाता है जिसे फिर पेंटब्रश जैसे किसी सॉफ्टवेयर में पेस्ट करके फाइल सेव करनी पड़ती है। विंडोज़ 8 में यह काम आसान हो गया है। Win+ Printscreen कुंजी संयोजन दबाने पर क्रीनशॉट Pictures मे फोल्डर में स्वतः सेव हो जाता है। क्रीन का सामान्य क्रीनशॉट लेने के लिये यह एक आसान उपाय है बाकी ऍडवांस क्रीनशॉट के लिये स्निपिंग टूल तो है ही।

ऑटोमैटिक विंडोज़ कलर परिवर्तन

विंडोज़ 8 में विंडोज़ का रंग डैस्कटॉप वॉलपेपर के अनुसार स्वतः बदल जाता है। उदाहरण के लिये यदि वॉलपेपर आसमान का चित्र है तो टास्कबार एवं विंडोज़ नीले रंग की हो जायेंगी।

फाइल हिस्टरी

विंडोज़ 7 के बैकअप ऍण्ड रिकवरी टूल को फाइल हिस्टरी के नाम से अपग्रेड किया गया है। यह डिफॉल्ट रूप से सक्रिय नहप होता, इनेबल करना पड़ता है। यह आसान औजार डैस्कटॉप, फेवरिट्स, काँटैक्ट्स तथा लाइब्रेरी आदि का बैकअप लेता है तथा आपको किसी पुराने वर्जन को रीस्टोर करने की सुविधा देता है। यह बैकअप डाटा को किसी ऍक्सटर्नल ड्राइव पर रखता है या उसकी अनुपस्थिति में लोकल ड्राइव में कैश करता है।

एकाधिक मॉनीटर समर्थन

विंडोज़ 8 में एकाधिक मॉनीटरों का समर्थन है। लिनक्स में यह फीचर काफी समय पहले से थी जबकि विंडोज़ में इसके लिये थर्ड पाटब ऍप्लिकेशनों का सहारा लेना पड़ता था। विंडोज़ 8 में आप वॉलपेपर को दो क्रीनों पर प्रदर्शित कर सकते हैं या एक क्रीन पर स्टार्ट क्रीन प्रदर्शित कर सकते हैं जबकि दूसरी पर डैस्कटॉप। एकाधिक मॉनीटरों के बीच स्विच करना भी आसान है। मुख्य मॉनीटर पर एक स्टार्ट बटन होता है तथा दूसरे सैकेंडरी मॉनीटर पर एक स्विच बटन। स्विच बटन को क्लिक करके इसे स्टार्ट वाले में बदला जा सकता है ताकि सैकेंडरी मॉनीटर को प्राइमरी में बदला जा सके।

विंडोज़- टू- गो

इस सुविधा के द्वारा आप अपनी विंडोज़ की ऍप्लिकेशनों, सैटिंग्स तथा फाइलों समेत पैन ड्राइव पर कॉपी बना सकते हैं तथा इसे किसी विंडोज़ 8 युक्त दूसरे पीसी में लगाकर लगभग वही सब परिचित वातावरण पा सकते हैं। यह सुविधा कथ तरह से उपयोगी हो सकती है जैसे आप अपने ऑफिस के पीसी का काम दर वाले पर ले जाकर जारी रख सकते हैं, किसी वायरस- संक्रमित या क्रैश हुये पीसी से डाटा सुरक्षित निकालकर स्वस्थ पीसी में ला सकते हैं इत्यादि। यह सुविधा केवल ऍण्टरप्राइज संस्करण में ही है। इसके अतिरिक्त यह केवल कुछ चुनिन्दा फ्लैश मेमोरी ड्राइव पर ही डाली जा सकती है।

क्लाउड कम्प्यूटिंग

विंडोज़ 8 नेट से जुड़े रहकर श्रेष्ठ तरीके से काम करती है। प्रोग्राम टाइल्स वेब से डाटा को रियल टाइम में प्राप्त कर नोटिफिकेशन के रूप में दिखाती हैं। आप माइक्रोसॉफ्ट आइडी से लॉग इन करते हैं जिसका उपयोग आपकी वरीयतायें तथा डाटा सहेजने के लिये किया जाता है।

विंडोज़ 8 में माइक्रोसॉफ्ट की क्लाउड स्टोरेज सेवा स्काइड्राइव इंटीग्रेटिड है। प्रयोक्ता की सभी सैटिंग, कॉंटैक्ट्स तथा फाइलें आदि स्वतः सर्वर पर सिंक कर ली जाती हैं। इसलिये ड्रॉपबॉक्स, गूगल ड्राइव आदि क्लाइंट सॉफ्टवेयरों को इंस्टाल करना तथा मैनुअली कॉन्फिगर करना नहप पड़ता। यानि आप अपने दर के डैस्कटॉप पर जो सैटिंग रखे हैं, उन्हें अपने टैबलेट पर भी यथावत पायेंगे।

मोबाइल ब्रॉडबैंड समर्थन

विंडोज़ 8 में ऍण्ड्रॉइड तथा आइओऍस जैसे मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टमों की तरह मोबाइल ब्रॉडबैंड हेतु बेहतर समर्थन है। सिम कार्ड डालने पर यह प्रयोक्ता के कैरियर का पता लगा लेता है तथा असैस प्वाइंट डेटाबेस का उपयोग करके कनैक्शन सैटिंग्स कर लेता है। यह मोबाइल डाटा यूसेज की भी जानकारी देता है। कैरियर अपने अकाउंड के लिये विंडोज़ स्टोर में ऍप्लिकेशन भी दे सकते हैं जो कनैक्शन प्रक्रिया में स्वतः इंस्टाल हो जायें।

ऍक्सबॉक्स लाइव इंटीग्रेशन

विंडोज़ 8 में ऍक्सबॉक्स लाइव को पूरी तरह एकीत किया गया है। दुनिया भर के गेमर एक- दूसरे के साथ खेल सकेंगे। वे इस प्लेटफॉर्म से गेम्स भी डाउनलोड कर पायेंगे।

रीफ्रैश तथा रीसैट सुविधा

विंडोज़ करप्ट या क्रैश होने की स्थिति में फिर इंस्टालेशन में प्रयोक्ता को काफी समस्या होती है। विंडोज़ 7 में इंस्टालेशन प्रक्रिया को सरल बनाने के अतिरिक्त बैकअप/रीस्टोर प्रक्रिया आदि के द्वारा इस काम को आसान बनाया गया था। विंडोज़ 8 में रीफ्रैश तथा रीसैट विकल्पों के द्वारा आप एक क्लिक से अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को पुनर्स्थापित कर सकते हैं।

हिन्दी इंटरफेस

विंडोज़ ऍक्सपी तथा विंडोज़ 7 में हिन्दी भाषायी इंटरफेस के लिये इंटरनेट से लैंग्वेज पैक खोज कर डाउनलोड एवं इंस्टाल करना पड़ता था। विंडोज़ 8 में हिन्दी इंटरफेस को कंट्रोल पैनल के अन्दर से ही इंटरनेट से जुड़कर इंस्टाल किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त हिन्दी से अंग्रेजी इंटरफेस के स्विच करना भी सरल है।

इन सबके अतिरिक्त भी विंडोज़ 8 में कथ और नये फीचर हैं जिनके बारे में जानने का सबसे अच्छा तरीका विंडोज़ 8 को स्वयं प्रयोग करना है।

हटायी गयी चीजें

विंडोज़ 8 में केवल नयी सुविधाएँ जोड़ी ही नहप गयी बल्कि कुछ चीजें निकाल भी दी गयी हैं जिनकी संक्षिप्त सूची नीचे दी गयी है।

  • स्टार्ट बटन तथा स्टार्ट मैन्यू। इनकी जगह चार्म्स बार ने ले ली है। यह सही कदम नहप है, मैट्रो इंटरफेस अपनी जगह है पर डैस्कटॉप मोड में स्टार्ट बटन/मैन्यू रहने देना चाहिये था।
  • ऍरो फ्लिप 3डी जिससे 3डी प्रभाव के साथ ऍप्लिकेशन स्विच होती थी। Win+Tap से अब केवल मैट्रो शैली की ऍप्स में स्विचिंग होती है।
  • ऍरो ग्लास थीम। यह एक अच्छी ट्राँसपेरेंट थीम थी, मॉड्रन इंटरफेस को हाइलाइट करने के लिये इसे निकाल दिया गया। इसे डैस्कटॉप मोड के लिये रहने देना चाहिये था।
  • डैस्कटॉप गैजेट्स, लाइव टाइल्स के चलते इनकी जरूरत नहप रही। कोथ खास बात नहप, वैसे भी इनका कोथ विशेष उपयोग नहप था।
   लॉगइन/लॉगऑफ साउंड, स्टार्टअप साउंड मौजूद है पर बाइ डिफॉल्ट बन्द रहती है। यह अच्छा बदलाव है, कथ बार वॉल्यूम फुल हो तो कम्प्यूटर चलाने पर एकदम तेज आवाज आती थी।
   विंडोज़ ऍक्सप्लोरर (कम्प्यूटर) में कमांड बार की जगह रिबन यूआइ ने ले ली है। आशा है यह बेहतर अनुभव प्रदान करेगा।
   कुछ गेम जैसे चैस टाइटन आदि, हाँ उनमें से कुछ विंडोज़ स्टोर में उपलब्ध हैं। वैसे भी कुछ समय बाद विंडोज़ स्टोर में ढेरों गेम मिल जायेंगी।
   डायल अप कनैक्शन से रीडायलिंग के विकल्प, हालाँकि अब शायद इनकी जरूरत भी नहप रही क्योंकि डायल अप कनैक्शनों का स्थान ब्रॉडबैंड तथा 2जी/3जी ने लिया है। इससे कोथ समस्या नहप आयेगी, ब्रॉडबैंड और 3जी के जमाने में अब कौन डायल अप प्रयोग करता है।
   विंडोज़ मीडिया सैंटर अब डिफॉल्ट रूप से उपलब्ध नहप होगा बल्कि विंडोज़ 8 प्रो के लिये एक ऍड- ऑन के रूप में उपलब्ध होगा। यह भी विशेष समस्या नहप, स्मार्ट टीवी वगैरा के जमाने में इसकी खास जरूरत नहप रही।
   विंडोज़ मीडिया प्लेयर अब डीवीडी को स्वतः प्ले नहप कर सकता। इसके लिये विंडोज़ मीडिया सैंटर ऍड- ऑन खरीदना होगा या फिर शायद कोडैक आदि इंस्टाल करके काम चल जाय। खैर इसके लिये वीऍलसी प्लेयर जैसे मुफ्त और बेहतर विकल्प मौजूद हैं।
   विंडोज़ डीवीडी मेकर। यह नहप हटाना चाहिये था, अब डीवीडी बनाने के लिये बाहरी प्रोग्रामों का सहारा लेना पड़ेगा। खैर, अधिकतर टीवी तथा मीडिया प्लेयरों के mp4 जैसे फॉर्मेट सपोर्ट करने से अब वीडियो फाइलों को सीधे डीवीडी में पैन ड्राइव में डालकर इन पर चलाया जा सकता है।
   ब्ल्यू क्रीन ऑफ डैथ (BSOD) को सिंपल (और कम भयानक) बना दिया गया है, यह अब समस्या की पहले जितनी तकनीकी जानकारी नहप दिखाती। चलो BSOD अब कम डरायेगा।
   पेरैंटल कंट्रोल फीचर को हटाकर उसकी जगह फैमिली सेफ्टी फीचर डाली गयी है। आशा है इसमें कुछ सुधार ही किया होगा।
   chkdsk स्टार्टअप के समय चलने पर केवल प्रतिशत दिखाती है। यह भी कोथ विशेष बात नहीं, वैसे कौनसा कोथ डिटेल्स पर ध्यान देता है।

कुल मिलाकर विंडोज़ 8 में सुधार ही अधिक हुये हैं, मामला बस इसके इंटरफेस बदलाव का है। देखते हैं विंडोज़ 8 कितना सफल होती है।

सन्दर्भ[संपादित करें]