विंडोज़ विस्टा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विंडोज़ विस्टा माइक्रोसॉफ्ट के ऑपरेटिंग सिस्टम की श्रृंखला की सबसे नई कड़ी है और संभवतः विंडोज़ ९५ के पश्चात सबसे क्रांतिकारी भी। हालांकि विस्टा ऑपरेटिंग सिस्टम को अधिक लोकप्रियता उसके त्रिआयामी ग्राफिक्स स्वरूप और विभिन्न डेस्कटॉप ऍनीमेशन की वजह से मिली है लेकिन वास्तव में यह माइक्रोसॉफ्ट की ओर से जारी किया गया अब तक का सबसे सुरक्षित ऑपरेटिंग सिस्टम भी माना जा रहा है। संचार और नेटवर्किंग के लिहाज से भी यह अपने से पिछले आपरेटिंग सिस्टम की तुलना में ज्यादा क्षमतावान है। विस्टा के लिए हिंदी समर्थन भी पूरी तरह उपलब्ध है और हिंदी लैंग्वेज इंटरफेस पैक (LIP) के माध्यम से विंडोज़ विस्टा को पूरी तरह हिंदी के रंग में रंगा जा सकता है।

गति में बेहतर[संपादित करें]

कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं के मन में जिज्ञासा है कि क्या सचमुच उन्हें माइक्रोसॉफ्ट की ओर से जारी किया गया नया ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज विस्टा अपनाने की जरूरत है। क्या माइक्रोसॉफ्ट के पिछले ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज एक्सपी विंडोज २००३ और विंडोज २००० की तुलना में इसमें ऐसे फीचर्स हैं जिनकी अनदेखी करना संभव न हो। माइक्रोसॉफ्ट का दावा है कि विस्टा पिछले विंडोज की तुलना में वाक अधिक सक्षम, सरल, तेज, सुदर्शन और सुरक्षित है।

विस्टा पिछले ऑपरेटिंग सिस्टम्स की तुलना में अधिक तेजी से खुलता और बंद होता है। स्टार्ट अप और शट डाउन प्रक्रियाएं पांच से दस सैकंड में पूरी हो जाती हैं। हालांकि इसमें विस्टा के अपेक्षाकृत बेहतर हार्डवेयर का भी योगदान है लेकिन खुद ऑपरेटिंग सिस्टम के कोड में भी इसके लिए विशेष प्रयास किया गया है। विस्टा की तेजी का कारण उसकी मेमरी के प्रबंधन की न तकनीक भी है जो अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले अनुप्रयोगों को पहले से ही लोडिंग के लिए तैयार रखती है। इसे 'मेमरी फेच' कहा जाता है।

विस्टा में दिए गए रेडी बूस्ट फीचर ने भी इसकी गति बढ़ाने में योगदान दिया है। अब तक विंडोज में मेमरी संबंधी अतिरिक्त आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए वर्चुअल मेमरी के रूप में पेजफाइलों का इस्तेमाल होता था। इन्हें कंप्यूटर की हार्ड डिस्क पर रखा जाता था। लेकिन विस्टा में इसके लिए यूएसबी ड्राइव का इस्तेमाल करने का प्रावधान है जो हार्ड डिस्क की तुलना में बहुत तेज गति से कार्य करती है। माइक्रोसॉफ्ट ने अपने नए आपरेटिंग सिस्टम में हाइब्रिड हार्ड ड्राइव सपोर्ट (संकर हार्ड ड्राइव समर्थन) भी प्रदान किया है जिसके तहत फ्लैश ड्राइव और पारंपरिक हार्ड ड्राइव दोनों को संयुक्त रूप से इस्तेमाल कर कंप्यूटर की गति बढ़ा जाती है।

नया रंगरूप[संपादित करें]

विंडोज विस्टा में सबसे पहले ध्यान खींचने वाली चीज है इसका विंडोज एअरो नामक खूबसूरत मुखावरण (इंटरफेस) और ग्राफिक इफेक्ट्स। हालांकि मैकिन्टोश कंप्यूटर पर इस तरह के सुदर्शन ग्राफिक्स (जिन्हें 'एक्वा' कहा जाता है) पहले से ही मौजूद हैं लेकिन विंडोज प्लेटफॉर्म पर ये पहली बार 'विस्टा' के माध्यम से ही सामने आए हैं। विंडोज विस्टा होम प्रीमियम, बिजनेस, अल्टीमेट और एंटरप्राइज संस्करणों से युक्त उन कंप्यूटरों पर जिनमें एक अच्छा ग्राफिक्स एडेप्टर मौजूद हों, एअरो के मोहक ग्राफिक्स इफेक्ट्स का आनंद लिया जा सकता है। इस मुखावरण ने विंडोज का कलेवर ही बदल दिया है और उसे पहले की तुलना में बेहद आकर्षक, विविधतापूर्ण और शालीन बना दिया है।

एअरो के उच्च गुणवत्ता वाले ग्राफिक्स और दृश्य प्रभावों ने विंडोज कंप्यूटर का सौंदर्य तो बढ़ाया है लेकिन उसकी वजह से कंप्यूटर की कार्यक्षमता या गति में को कमी नहीं आती। एअरो के दो प्रमुख फीचर हैं- विंडोज फ्लिप और विंडोज फ्लिप ३डी। इनके माध्यम से आप अपने डेस्कटॉप को ज्यादा सुविधाजनक रूप से व्यवस्थित कर सकते हैं।

अधिक सुरक्षित[संपादित करें]

आम तौर पर माइक्रोसॉफ्ट के आपरेटिंग सिस्टमों को लेकर कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं में यह धारणा रही है कि वे अपने प्रतिद्वंद्वी ऑपरेटिंग सिस्टमों की तुलना में कम सुरक्षित हैं और वायरस, हैकिंग, स्पा वेयर आदि की चपेट में अपेक्षाकृत अधिक आसानी से आ जाते हैं। माइक्रोसॉफ्ट ने विस्टा में इस बात पर खास ध्यान दिया है। हालांकि विस्टा की मूल 'कर्नेल' (बुनियादी कोड जिस पर विंडोज के ऑपरेटिंग सिस्टम मूल रूप से आधारित हैं) तो नए सिरे से नहीं लिखी है लेकिन उसकी सुरक्षा को इस बार बहुत मजबूत बना दिया गया है।

पहली बात तो यह कि अब इस ऑपरेटिंग सिस्टम के सभी भाग कर्नेल मोड में नहीं चलते बल्कि उनमें से कुछ चुनिंदा हिस्से ही चलते हैं। विस्टा में ज्यादातर ड्राइवर और सॉफ्टवेयर यूजर मोड में चलते हैं और कर्नेल मोड में किसी भी न चीज को इन्स्टाल करना आसान नहीं रह गया है। इसके लिए सिक्यूरिटी सर्टिफिकेट और एडमिनिस्ट्रेटर स्तर के अधिकारों की आवश्यकता पड़ती है। और एडमिनिस्ट्रेटर स्तर के विशेषाधिकार प्राप्त करना, विशेषकर दफ्तरों में, अब बहुत मुश्किल होगा। विंडोज विस्टा में सामान्य उपयोगकर्ता के अधिकार सीमित हैं। ऐसा भी नहीं है कि आप बतौर सामान्य उपयोगकर्ता के अपने कंप्यूटर में को सॉफ्टवेयर इन्सटाल ही न कर पाएं। ऐसा करने के लिए उन्हें अस्थायी तौर पर जरुरी अधिकार प्राप्त हो जाते हैं।

हार्डवेयर संबंधी आवश्यकताएं[संपादित करें]

माइक्रोसॉफ्ट ने विस्टा आपरेटिंग सिस्टम इन्स्टाल करने के लिहाज से कंप्यूटरों की दो श्रेणियां बना हैं- विस्टा कैपेबल पीसी (विस्टा सक्षम कंप्यूटर) और विस्टा प्रीमियम रेडी (विस्टा में उपलब्ध आधुनिक सुविधाओं के लिए तैयार कंप्यूटर)।

ऐसे सभी कंप्यूटर विंडोज विस्टा सक्षम हैं जिनमें कम से कम ८०० मेगाहट्र्ज का प्रोसेसर और ५१२ एमबी सिस्टम मेमरी उपलब्ध हो। इस तरह के प्रोसेसर तो अब दुर्लभ से हो गए हैं क्योंकि बाजार में २ गीगाहट्र्ज से कम के प्रोसेसर शायद ही को खरीद रहा हो। यदि आपने पिछले दो एक सालों में अपना कंप्यूटर खरीदा है तो उसका प्रोसेसर कम से कम इतनी क्षमता का अवश्य होगा। रही सिस्टम मेमरी की बात तो हो सकता है कि आपके पारंपरिक कंप्यूटर में १२८ एमबी या २५६ एमबी मेमरी (रैम) लगी हो। ऐसे में आपको सात-आठ सौ रुपए खर्च करके अपनी रैम का अपग्रेडेशन (कम से कम ५१२ एमबी तक) करवाना पड़ सकता है।

विंडोज विस्टा सक्षम कंप्यूटर के लिए कम से कम डायरेक्ट एक्स ९ को समर्थन देने वाला ग्राफिक्स कार्ड होना चाहिए जिसमें डब्लूडीडीएम ड्राइवर समर्थन उपलब्ध हो। कंप्यूटर के ग्राफिक्स कार्ड में ३२ एमबी की ग्राफिक्स मेमरी हो तो पर्याप्त है। इसके अतिरिक्त आपको एक डीवीडी रोम ड्राइव की आवश्यकता पड़ेगी जो संभवत: आपके कंप्यूटर में पहले से ही मौजूद हो। हार्ड डिस्क में महज २० जीबी स्थान उपलब्ध हो, जिसमें से १५ जीबी खाली स्थान हो, तो पर्याप्त है। बस, विंडोज विस्टा होम बेसिक संस्करण चलाने के लिए आपको और किसी चीज की जरूरत नहीं है।

बाहरी कड़ियां[संपादित करें]