वर्ण आवृत्ति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी भाषा के किसी पाठ (टेक्स्ट) में सभी वर्ण समान संख्या में नहीं होते बल्कि कुछ वर्णों की संख्या अधिक और कुछ की कम होती है। यह भाषा का एक विशिष्ट गुण है। इस तथ्य का कूटलेखन एवं आवृत्ति-विश्लेषण में उपयोग किया जाता है।

हिन्दी में वर्ण आवृत्ति[संपादित करें]

हिन्दी पाठ में वर्णों की सापेक्ष आवृत्ति का वितरण कुछ इस प्रकार पाया गया है-

वर्ण -- आवृत्ति
-- 4468
-- 4116
-- 3236
-- 3178
-- 3120
-- 2645
-- 1921
-- 1858
-- 1850
-- 1553

वर्ण -- आवृत्ति
-- 1260
-- 1128
-- 848
-- 805
-- 716
-- 711
-- 679
-- 661
-- 589
-- 543

वर्ण -- आवृत्ति
-- 517
-- 490
-- 458
-- 449
-- 361
-- 341
-- 322
-- 316
-- 294
-- 270

वर्ण -- आवृत्ति
-- 194
-- 167
-- 143
-- 128
क्ष -- 125
-- 122
-- 117
-- 99
-- 92
-- 84

वर्ण -- आवृत्ति
-- 54
ज्ञ -- 25
-- 23
-- 17
अं -- 16
-- 3
-- 2
-- 0
अः -- 0

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]