रस्किन बॉण्ड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(रस्किन बांड से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Nuvola apps ksig.png
रस्किन बॉण्ड
Ruskin Bond

बंगलोर में एक कार्यक्रम में रस्किन बॉण्ड (6 जून 2012)
जन्म 19 मई 1934 (1934-05-19) (आयु 79)
कसौली, सोलन हिमाचल प्रदेश, भारत
उपजीविका लेखक
राष्ट्रीयता भारत
अवधि 1951–वर्तमान

रस्किन बॉण्ड (जन्म 19 मई 1934) अंग्रेजी भाषा के एक विश्वप्रसिद्ध भारतीय लेखक हैं।

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

इनका जन्म 19 मई 1934 को हिमाचल प्रदेश के कसौली के एक मिलिटरि अस्प्ताल , में हुआ था। वे अब्रे बॉण्ड और एरिथ क्लार्के पुत्र है। बचपन में ही इनके पिता की मृत्यु मलेरिया से हो गई, तत्पश्चात इनकी परवरिश शिमला, जामनगर, मसूरी, देहरादून तथा लंडन में हुई। आज-कल वे अपने परिवार के साथ देहरादून जिला में रहते है। वे अग्रेजी मिजाज के लेखक है। उन्होने बिशोप कोतन नामक शाला मे व अभ्यास किया। उन्की बहन का नाम इलन बॉण्ड और भाई का नाम विल्यम बॉण्ड है। प्रारम्भिक शिक्षा पुरा करने के बाद व्ह इंगलैंड चले गए थे तीन साल के लिये। लंदन मे उन्होने अप्नि पहली उपन्यास लिख्नि शुरु किया था, "रूम ओन द रूफ", य्ह अर्द्ध आत्मकथात्मक कहानि एक अनाथ एंग्लो इंडियन लड़के के बारे मे हे। एस उप्न्यास के लिये" Llewellyn Rhys" पुरुस्कार से स्मानित किया ग्या था। बॉण्ड ने पुरुस्कार के रुप मे मिले हुये पैसो को जोद्कर बोम्बे के लिये निकल पड़। उन्होने काफि स्म्य त्क पत्रकार के रुप मे दिल्लि और देहरादून मे काम किया थ।१९६३ से वह मसूरी मे रेह्ते च्ले आये हे और वहि प्र अप्ना ज़्याद समय बिताते हे, लेखक के रुप मे। उन्होने "Vagrants in the Valley", नाम्क किताब को रूम ओन तद रुफ के परिणाम स्व्रुप लिखा थ। पेङ्युइन इन्दिया ने एन दोनो किताबो को स्न १९९३ मे प्रकाशित किया थ। वह बॉण्ड के सब्से प्रसिध उपन्यासो मे से हे।

उन्कि कहानियो को चिनेमा द्वारा भी प्रस्तुत किया गया है जैसे "७ खून माफ", जिसे विशाल भार्द्वाज ने निर्देशित किया था, और सुसैना का मुख्ये पात्र को प्रियान्का छोप्रा ने निभाया थ।

किताबे[संपादित करें]

१ यादो कि माला २ राज समय कि भूत कि कहानिया ३ फ्णी साइद उप ४ ओउर त्रीस स्तिल्ल ग्रोव इन देह्र ५ दस्त ओन द मोउन्तैन्स ६ हमेशा के लिये बाघ ७ द ब्लु उम्ब्रेल्ला ८ देल्हि इस नओट फार ९ महरानि १० अल्ल रोअद्स लीङ तूह गनगा

लेखन[संपादित करें]

इनकी रचनाओं में हिमालय की गोद में बसे छोटे शहरों के जन-जीवन की छाप स्पष्ट है। 21 वर्ष की उम्र में ही इनका पहला उपन्यास द रूम औन रूफ (The Room on Roof) प्रकाशित हुआ। इसमें इनके और इनके मित्र के देहरा में रहते हुए बिताए गए अनुभवों का लेखा है। भारतीय लेखकों में ये एक जाने माने हस्ती हैं. उपन्यास तथा बच्चों के साहित्य के क्षेत्र में ये एक मशहूर नाम है।

सम्मान[संपादित करें]

  • 1999 में भारत सरकार ने उन्हें साहित्य के क्षेत्र में उनके योगदानों के निए पद्म श्री से सम्मानित किया।
  • 2014 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। [1]

फ़िल्में[संपादित करें]

उन्होने 'फ्लाइट ऑफ़ पिजन्स' (कबूतरों की उडान) और 'एंग्री रिवर' (अप्रसन नदि) नामक कई नवल कथा लिखी। उन्होने ' ७ खून माफ़' जैसी फिल्मों मे काम किया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

अर्पिता सिन्हा (१८ मय २०१०). "The name is Bond, Ruskin Bond". Retrieved 3 March 2011.

"Ruskin Bond to do a cameo in 'Saat Khoon..'". The Times Of India.
Ruskin Bond celebrates 25th anniversary of Penguin in Bangalore EF News International
Two anniversaries and a book launch Ipaimpress.com - International Press Association publication

Ruskin Bond's Profile Profile and books by Ruskin Bond Interview with Ruskin Bond by Atula Ahuja Ruskin Bond in a Video reciting 2 of his Poems "A Landour Day with Ruskin Bond' by Ramendra Kumar, Business Line print 10 December 2010 "The skeleton in the cupboard." Short Story Published in the Times of India Walk the talk with Ruskin Bond on NDTV