मोहम्मद अली रजाई

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मुहम्मद अली रजाई (१९३३-१९८१), ईरान के राष्ट्रपति

मुहम्मद अली रजाई (फ़ारसी: محمدعلی رجایی; जन्म: १५ जून १९३३; देहांत: ३० अगस्त १९८१) ईरान के दूसरे राष्ट्रपति थे जिन्होनें २ से ३० अगस्त तक राष्ट्रपति के ओहदे पर काम किया। इस से पहले वे अबोल-हसन बनि-सद्र के नीचे प्रधान मंत्री रह चुके थे। ३० अगस्त १९८१ को उनपर एक जानलेवा हमला हुआ जिसमें वे और उनके प्रधान मंत्री मुहम्मद-जवाद बाहोनर दोनों मारे गए। जून १९८१ में बनिसद्र को राष्ट्रपति-पद से बेदख़ल कर दिया गया था जिस से देशभर में रोष फैला। इस माहौल में मोजाहेदीन-ए-ख़ल्क़ नामक संगठन (जो ईरान की वर्तमान इस्लामी सरकार को हटाकर मार्क्सवाद लाना चाहता है) ने अपने हज़ारों समर्थकों के साथ एक विद्रोह आयोजित किया। कम-से-कम १०० राजनैतिक नेता इस विद्रोह में मारे गए, जिनमें रजाई शामिल थे।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. The Persian Gulf War: lessons for strategy, law, and diplomacy, Christopher C. Joyner, Greenwood Publishing Group, 1990, ISBN 978-0-313-26710-9, ... Following the impeachment and dismissal from office of President Bani- Sadr in June 1981, thousands of youthful Mojahedin supporters staged an armed uprising against the government. The regime survived this major challenge, but the country paid a high human cost: at least 100 top leaders, including Rajai, were assassinated; hundreds of members of the Revolutionary Guards were killed; and at least 8000 antiregime youths were executed or killed in street battles ...


Crystal Clear app Login Manager.png यह जीवनचरित लेख अपनी प्रारम्भिक अवस्था में है, यानि कि एक आधार है। आप इसे बढ़ाकर विकिपीडिया की सहायता कर सकते है।