मेइतेइ मायेक लिपि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मेइतेइ मायेक
Meithei manuscript, a Indian language.jpg
बोली जाने वाली भाषाएं मणिपुरी भाषा
यूनिकोड रेंज U+ABC0..U+ABFF
U+AAE0..U+AAFF
ISO 15924 MteiMtei
नोट: इस पन्ने पर यूनिकोड में IPA ध्वन्यात्मक चिह्न हो सकते हैं।

मेइतेइ लिपि या मेइतेइ मायेक १८वीं सदी तक मणिपुरी भाषा के लिये इस्तेमाल होने वाली एक लिपि थी। धीरे-धीरे मणिपुरी लिखने के लिये इसका स्थान बंगाली लिपि ने ले लिया। २०वीं सदी के अन्त में इसे फिर से प्रयोग में लाने के लिये कुछ प्रयास किए जा रहे थे।[1]

व्यंजन और स्वर[संपादित करें]

मेइतेइ लिपि में १५ व्यंजन और ३ स्वर लिखने के चिह्न उपलब्ध हैं। इनके अलावा अन्य भारतीय लिपियों से लिये गये ९ अतिरिक्त चिह्न भी उपलब्ध हैं। हर अक्षर का नाम शरीर के किसी भाग पर रखा गया है। मसलन प्रथम अक्षर 'क' की ध्वनि रखता है और उसका नाम 'कोक' (अर्थात 'सिर') है। दूसरे अक्षर का नाम 'साम' (यानि 'बाल') और तीसरे का नाम 'लाइ' (यानि 'माथा') है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Socio-linguistic Situation in North-east India, Pauthang Haokip, pp. 62, Concept Publishing Company, 2011, ISBN 9788180697609, ... It should be noted here that Meitei Mayek was used until the eighteenth century ... Recently, the Meitei Mayek was reintroduced again as the writing system of the Manipuris ...