मिस्र का धर्म

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ईसिस चित्र १३६० ईपू
प्रस्तर-पट्ट में दो त्रिवर्ण देवताओं का चित्रण

प्राचीन मिस्र का धर्म (अथवा प्राचीन इजिप्शन धर्म, Egyptian religion) प्राचीन मिस्र देश का सबसे मुख्य- और राजधर्म था । ये एक मूर्तिपूजक और बहुदेवतावादी धर्म था । एक छोटी अवधि के लिये इसमें एकेश्वरवाद की अवधारणा भी रही थी । ईसाई धर्म और बाद में इस्लाम के राजधर्म बनने के बाद ईसाइयों ने इसपर प्रतिबंध लगा दिया । इसके बाद ये लुप्त हो गया ।

इस लेख में देवताओं के अंग्रेज़ी उच्चारण दिये गये हैं, मौलिक इजिप्शन नहीं।

देवता[संपादित करें]

इस धर्म में कई देवता थे : रा (सूर्यदेव), अतुम, च्नुम, अमुन, पिताह, अमुन-रा, ओसिरिस (यमदेव), अनूबिस, अतेन (सृष्टादेव), मिन, थोथ (चन्द्रदेव), होरस इत्यादि । सभी मिस्र के सम्राट (फ़राओ) भी जनता द्वारा जीवित देव्ताओं की तरह पूजे जाते हैं ।

देवियाँ[संपादित करें]

प्रमुख देवियाँ थीं : ईसिस (ओसिरिस]] की बहन और पत्नी), नेफ़्थिस, बास्त, नुत, मात इत्यादि ।

पूजा[संपादित करें]

पूजा मुख्यतः पशुबलि द्वारा होती थी (गाय, सांड, सूअर, भेड़, आदि) । यूनानी लोगों ने देवताओं के लिये कई ख़ूबसूरत मंदिर बनाये थे ।

ममी और पिरामिड[संपादित करें]

लगभग हर फ़राओ अपनी लिये मौत के बाद की ज़िन्दगी के लिये बहुत बड़े पिरमिड बनवाता था, जो आज दुनिया के सात आश्चर्यों में से एक है ।