पाड़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(मचान से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बांस के पाड़ बहुत अधिक ऊंचाई तक पहुंच सकते हैं
जापान में विनियमन के तहत रखरखाव/मरम्मत के बड़े पैमाने पर आवधिक (हर 10-15 वर्ष) में सम्मिलित.ज्यादातर मामलों में पूरी इमारत को आसान काम और सुरक्षा के लिए इस्पात के मचान और जाल से ढक दिया जाता है। आम तौर पर यह योजना निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार3-5 सप्ताह तक जारी रहता है।
मचान, टोक्यो स्काई ट्री निर्माण के आरंभ होने के बाद 10 महीने.i

मचान एक अस्थाई ढांचा (विन्यास) है जिसका उपयोग इमारतों और अन्य बड़ी संरचनाओं के या मरम्मत में लोगों एवं सामग्रियों की सहायता के लिए किया जाता है। आमतौर पर यह धातु की पाइपों या नलियों की एक प्रमापीय प्रणाली है, हालांकि यह अन्य सामग्रियों से भी बनाया जा सकता है। चीन गणराज्य (पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ़ चाइना) जैसे एशिया के कुछ देशों में अभी भी बांस का प्रयोग किया जाता है।

पाड़ (Scaffolding या staging) भवननिर्माण में काम आनेवाली वह अस्थायी संरचना है जिसपर कामगरों तथा उनकी सामग्री को उनके काम की जगह के निकट पहुँचानेवाला मचान रखा जाता है। पाड़ का उपयोग प्राचीन काल से होता आ रहा है। प्रायः यह धातु की पाइपों या नलों से बनी होती है हालांकि यह बाँस आदि अन्य सामग्रियों से भी बनाया जा सकता है।

इस अस्थायी संरचना से लगभग आठ फुट मध्यांतर पर खड़ी बल्लियाँ होती हैं, जो चार-चार पाँच-पाँच फुट की ऊँचाई पर क्षैतिज आड़ों द्वारा परस्पर संबंधित रहती हैं। एक ओर इन आड़ों पर तथा दूसरी ओर दीवार में बने छेदों पर, चार चार फुट की दूरी पर आड़ी लकड़ियाँ रखी रहती हैं, जिन्हें 'पेटियाँ' कहते हैं। लकड़ी के तख्ते, जिनकी चाली बनती है, इन्हीं पेटियों पर रखे रहते हैं। चालियाँ प्राय: पाँच पाँच फुट लंबी होती हैं। पत्थर की चिनाई के लिये खड़ी बल्लियों की दो पंक्तियाँ लगती हैं : एक दीवार से सटी हुई तथा दूसरी उससे पाँच फुट के अंतर पर। अन्य पेटियाँ दोनों सिरों पर आड़ी के ऊपर रखी रहती हैं। इस प्रकार यह पाड़ दीवार से पूर्णतया अनाश्रित होती हैं, क्योंकि पत्थर की चिनाई में नियमित अंतर पर छेद छोड़ रखना संभव नहीं।

जैसे-जैसे काम आगे बढ़ता है, चालियाँ भी ऊँची उठाई जाती रहती हैं। इसके लिये यदि आवश्यकता होती है, भी अतिरिक्त टुकड़े जोड़कर बल्लियाँ लंबी कर ली जाती हैं। पाड़ में लंबाई की दिशा में स्थिरता लाने के लिये, विकर्ण पेटियाँ भी लगाई जाती हैं।

बल्लियाँ, आड़ें तथा पेटियाँ परस्पर रस्सी से कसकर बाँध दी जाती हैं। कीलें, यदि कभी लगाई भी जाती हैं, तो बहुत कम। रस्सी बाँधनेवाले बंधानी विशेष कुशल होने चाहिए, क्योंकि इसमें काफी समय और कौशल लगता है। फिर भी रस्सी में सरकने, ढीली पड़ने, घिस जाने और कट जाने की संभावनाएँ रहती ही हैं। हाल में बड़े-बड़े कामों में इसके बजाय अधिक वैज्ञानिक साधन काम में आने लगे हैं। 'स्कैफिक्सर' बंधन में इस्पात की जंजीर और बंधन की कौशलपूर्ण युक्तियों का संमिश्रण होता है। इसके प्रयोग से सुरक्षा अधिक रहती है और समय कम लगता है।

नलोंवाली पाड़ - यह स्वकृत पाड़ की एक अत्यंत सुधरी प्रणाली है, जिसें इस्पात के लगभग दो इंच मोटे नल स्वकृत योजकों द्वारा जोड़े जाते हैं। ऐसी पाड़ जल्दी से और आसानी से खड़ी की जा सकता तथा हटाई जा सकती है। इसके अतिरिक्त, इसमें पाड़ का एक भाग दीवार में रखने के लिये छेद छोड़ने के बजाय, किसी संधि में थोड़ा सहारा दे देना ही पर्याप्त होता है।

निलंबित पाड़ - इस्पात के ढाँचेवाली रचना के लिये मशीन द्वारा ऊँची नीची की जा सकनेवाली भारी निलंबित पाड़ प्राय: उपयुक्त होती है। यह ऊपर बाहुधरनों से तार के रस्सों द्वारा लटकाई जाती है।

गंत्री - जहाँ रचना में लगनेवाले प्रस्तरखंड बहुत बड़े हों, जिन्हें राज आसानी से घर उठा न सकें और उत्थापक रस्साकुप्पी का प्रयोग होना हो, वहाँ मंत्री काम आती है। मंच या गंत्री चौकोर लकड़ी से उसी प्रकार बनाई जाती है, जिस प्रकार राज की पाड़; किंतु इसमें दीवार की दोनों ओर खड़े बल्लों की एक एक पंक्ति होती है। इनके ऊपर लंबी लकड़ियाँ या वाहक लगे रहते हैं, जिनपर लोहे की पटरी जड़ी रहती है। खड़े बल्लों के बीच में, उनपर आनेवाले भार तथा उनके आकार के अनुसार १० से लेकर २० फुट तक का अंतर रहता है। एक चलमंच, जिसपर उत्थापक काँटा लगा रहता है, पटरियों पर गंत्री की लंबाई के समांतर चलता है। मंच पर भी पटरियाँ जड़ी रहती है, जिनपर काँटा गंत्री की लंबाई की लंबवत् दिशा में चल सकता है। इस प्रकार गंत्री से घिरे क्षेत्र में प्रत्येक स्थान तक काँटा पहुँच सकता है।

प्राचीन विश्व में पाड़[संपादित करें]

बर्लिन फाउंड्री कप द्वारा प्राचीन ग्रीस में मचान का प्रयोग दर्शाया गया है (ई.पू. पांचवीं शताब्दी के प्रारंभ में). प्राचीन मिस्र, नूबिया और चीन के लोगों द्वारा भी ऊंची इमारतों के निर्माण में मचान जैसी संरचना का उपयोग दर्ज किया गया है। प्राचीन अफ्रीकी भी मस्जिदों को सहारा देने के लिए लकड़ी के मचानों का इस्तेमाल करते थे।[1][2]

आधुनिक युग में मचान[संपादित करें]

यह यूरोपीय मानक मचानों तक पहुंचने के लिए संरचनात्मक और सामान्य डिजाइन के तरीकों और प्रदर्शन की आवश्यकताओं को निर्दिष्ट करता है। दी गयी आवश्यकताएं उन मचानों की संरचनाओं के लिए है जो सहारे के लिए पास की संरचनाओं पर निर्भर करते हैं। आमतौर पर ये आवश्यकताएं दूसरी तरह के मचानों पर भी लागू होती हैं।

कार्यकारी मचान का उपयोग यह है कि वह जहां काम हो रहा है, वहां यह काम पूरा करने के लिए एक सुरक्षित स्थान प्रदान करता है। यह दस्तावेज़ मचानों के प्रदर्शन की आवश्यकताओं को निर्दिष्ट करता है। ये काफी हद तक उन सामग्रियों से स्वतंत्र है जिनसे मचान बना है। यह मानक पूछताछ और डिजाइन के आधार के रूप में इस्तेमाल करने के लिए तय किया गया है।

यह आवश्यकता बी एस एन 12811-1 के लिए है। टीजी 20 (TG20) मुख्यतः बी एस 5973 के आधार पर बना है जो सीधे पुराने कोड से लिये गये हैं, साथ ही यह अनुमेय स्ट्रेस डिज़ाइन पद्धति का उपयोग करता है। हालांकि, टीजी20 (TG20) को ब्रिटेन उद्योग से मिश्रित प्रतिक्रिया मिली है और परिणामस्वरुप टीजी TG20 को फिर से लिखा गया और 2008 में नए संस्करण के रिलीज़ होने की उम्मीद है। 'लिंबो' स्थिति की यही वजह है। संशोधित टीजी20 (TG20) के रिलीज़ होने से पहले तक एचएसई (HSE) ने बी एस 5973 के अनुसार मचान बनाये जाने की अनुमति जारी रखी.

सामग्रियां[संपादित करें]

मूल सामग्री ट्यूब्स, कप्लर्स (युग्मक) और बोर्ड हैं।

नलियां स्टील या एल्यूमीनियम की होती हैं हालांकि समग्र मचान में नायलॉन या पॉलिएस्टर के सांचे (मैट्रिक्स) में ग्लास फाइबर के फिलामेंट वुंड ट्यूबों का इस्तेमाल होता है। अगर इस्पात हो तो वे या तो 'काली' या जस्तेदार होती हैं। नलियां विभिन्न प्रकार की लंबाई और 48.3 मिमी के एक मानक व्यास में आती हैं। (1.5 NPS पाइप). दो प्रकार की नलियों के बीच मुख्य अंतर कम वजन की एल्यूमीनियम ट्यूबों (4.4 किग्रा./मी. के बदले 1.7 किग्रा./मी. के रूप में) और अधिक लचीलापन युक्त तथा इसकी वजह से बल का कम प्रतिरोध करने की क्षमता का है। नलियों को आमतौर पर 6.3 मीटर की लंबाई में खरीदा जाता है और फिर कुछ विशिष्ट आकारों में काटा जा सकता है।

डाउनटाऊन सिनसिनाटी, ओहियो में एक इमारत पर विस्तृत मचान.

बोर्ड मचान के उपयोगकर्ताओं को काम करने की एक सतह प्रदान करते हैं। वे पुरानी (सीज़न्ड) लकड़ी के होते हैं तथा तीन प्रकार की मोटाई (38 मिमी (हमेशा की तरह), 50 मिमी और 63 मिमी) में एक मानक चौड़ाई (225 मिमी) और 3.9 मीटर की अधिकतम लंबाई में आते हैं। बोर्ड के सिरे हूप आयरन नामक धातु की प्लेटों या कभी-कभी कीलों की प्लेटों से सुरक्षित किए हुए होते हैं। ब्रिटेन में लकड़ी के मचान बोर्ड बी एस 2482 (BS 2482) की आवश्यकताओं के अनुरूप होने आवश्यक हैं। साथ ही लकड़ी, स्टील या एल्यूमीनियम की छत (डेकिंग) या लेमिनेट बोर्डों का प्रयोग किया जाता है। साथ ही काम करने के मंच के लिए प्रयोग किये जाने वाले बोर्ड अकेले या सोल बोर्ड होते हैं जो सतह के नरम या अन्यथा संदेह होने पर मचान के नीचे लगाये जाते हैं, हालांकि साधारण बोर्डों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है, स्कैफपैड नामक एक अन्य डिजाइन का एक अन्य समाधान के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, यह अंदर में एक बेस प्लेट के सांचे के साथ रबर के आधार से बनाया जाता है, ये असमतल भूमि पर बहुत कारगर होते हैं, क्योंकि वे किसी भी सतह के आकार को अपना लेते हैं जबकि अकेले बोर्डों को बदलने के लिए अधिक पैसों की लागत लगती है।

स्टील मचान खम्भे का एक छोटा भाग.

कप्लर्स फिटिंग्स जो नलियों को एक साथ पकड़ कर रखते हैं। इनमे सबसे आम को कप्लर्स मचान कहा जाता है, वे बुनियादी रूप से तीन प्रकार के हैं :राइट-एंगल कप्लर्स, पुटलॉग कप्लर्स और स्वीवेल कप्लर्स . नलियों को जोड़ने के लिए एक छोर से दूसरे छोर तक ज्वायंट पिन (स्पिगट्स भी कहा जाता है) या स्लीव कप्लर्स का या एक साथ दोनों का उपयोग किया जाता है। एक 'भार सहने वाले जोड़' (लोड बियरिंग कनेक्शन) में नलियों को लगाने के लिए केवल राइट-एंगल कप्लर्स और स्वीवेल कप्लर्स का ही इस्तेमाल किया जा सकता है। एकल कप्लर्स भार वाहक कप्लर्स नहीं हैं और इनमें कोई डिजाइन क्षमता भी नहीं है।

अन्य आम सामग्रियों में बेस प्लेट, सीढ़ी, रस्सियां, एंकर टाइज, रिविल टाइज, जिन ह्वील्ज़, शीटिंग इत्यादि शामिल हैं।

मेंट्रिक माप दिए जाने के बावजूद कई मचानों की नलियों और बोर्डों को इम्पीरियल यूनिटों में मापा गया है। 21 फीट नीचे से नलियों और 13 फुट नीचे से बोर्डों के साथ.

बुनियादी मचान[संपादित करें]

एक मचान के मुख्य तत्व हैं मानक (स्टैंर्डड), लेजर्स और आड़े शहतीर (ट्रैन्सम). स्टैंर्डड्स को स्तंभ (अपराइट) भी कहा जाता है, ये सीधी खड़ी पाइपें होती हैं जो संरचना के पूरे भार को जमीन तक पहुंचाती हैं जहां वे अपने भार को फ़ैलाने के लिए एक वर्गाकार बेस प्लेट पर टिकती हैं। बेस प्लेट के केंद्र में नली को थामने के लिए एक शैंक होता है और कभी-कभी यह एक एकल बोर्ड से जुड़ा होता है। लेजर्स क्षैतिज पाइपें होती हैं जो स्टैंर्डड्स के बीच जुडी होती हैं। ट्रैन्सम्स सम कोण पर लेजर्स पर टिके होते हैं। मुख्य ट्रैन्सम्स स्टैंर्डड्स के बगल में लगाये जाते हैं, वे स्टैंर्डड्स को अपनी जगह पर पकड़ कर रखते हैं और बोर्डों को सहारा देते हैं, मध्यवर्ती ट्रैन्सम्स वे हैं जो बोर्डों को अतिरिक्त सहारा देने के लिए जो मुख्य ट्रैन्सम्स के बीच लगे होते हैं। कनाडा में इस शैली को "अंग्रेजी" के रूप में संदर्भित किया जाता है। "अमेरिकी" शैली में ट्रैन्सम्स स्टैंर्डड्स से जुड़े होते हैं और इनका उपयोग कम किया जाता है लेकिन कुछ स्थितियों में इसके विशेष फायदे हैं। चूंकि मचान एक भौतिक संरचना है, इसलिए मचान के अन्दर जाना और बाहर आना संभव है।

ट्रेटयाकोव्सकी प्रोयेज्ड, मास्को में मचान

साथ ही सम कोण की नलियों पर उनकी कठोरता को बढ़ाने के लिए आड़े बन्ध (क्रॉस ब्रेसिज़) भी होते हैं, ये जिस स्टैंडर्ड पर लगे होते हैं उसके बाद से इन्हें लेजर से लेजर तक तिरछे रखा जाता है। अगर ब्रेसिज़ लेजर्स पर लगे होते हैं तो उन्हें लेजर ब्रेसिज़ कहा जाता है। लचक को सीमित करने के लिए मचान में प्रत्येक 30 मीटर पर या इसी प्रकार मचान के आधार से शीर्ष तक हर स्तर पर 35°-55° के कोण पर फसाड ब्रेस लगे होते हैं।

पहले उल्लिखित कप्लर्स के सम-कोण कप्लर्स लेजर्स या ट्रैन्सम्स को स्टैंडर्डस, पुटलाँग से या सिंगल कप्लर्स बोर्ड बियरिंग ट्रैन्सम्स को लेजर्स से जोड़ते हैं- नॉन-बोर्ड बियरिंग ट्रैन्सम्स को सम कोणीय कप्लर्स से लगाया जाता है। स्वीवेल कप्लर्स किसी भी अन्य कोण पर नलियों को जोड़ते हैं। वास्तविक जोड़ों को आस-पास के स्टैंडर्डस में एक ही स्तर पर होने से बचाने के लिए कुछ इधर-उधर कर दिया जाता है।

मचान की चौड़ाई की मूल शब्दावली.बोर्ड्स, ब्रेसिंग या कप्लर्स नहीं दिखाए गए है

मचान में बुनियादी तत्वों की दूरी काफी मानक हैं। एक सामान्य प्रयोजन के मचान के लिए कक्ष (बे) की अधिकतम लंबाई 2.1 मी. है, भारी काम के लिए कक्ष के आकार को 2 या 1.8 मी. तक कम कर दिया जाता है, जबकि निरीक्षण के लिए 2.7 मीटर की चौड़ाई के कक्ष (बे) की अनुमति दी गयी है।

मचान की चौड़ाई बोर्डों की चौड़ाई से निर्धारित होती है, न्यूनतम चौड़ाई 600 मिमी. की अनुमति है लेकिन एक और अधिक विशिष्ट चार-बोर्ड मचान स्टैंडर्ड से स्टैंडर्ड तक 870 मिमी.चौड़ा होगा. अधिक भारी काम (हैवी ड्यूटी) के मचान के लिए 5, 6 या यहां तक कि 8 बोर्डों की चौड़ाई की आवश्यकता हो सकती है। अंतरीय स्टैंडर्ड और संरचना के बीच की खुली जगह को काम करने के लिए अक्सर एक अंतरीय बोर्ड (इनसाइड बोर्ड) जोड़ा जाता है।

लिफ्ट ऊंचाई, लेजर्स के बीच का अंतर 2 मीटर है, हालांकि आधार लिफ्ट को 2.7 मी. भी किया जा सकता है। ऊपर की आकृति भी एक किकर लिफ्ट दर्शाती है, जो जमीन से मात्र 150 मिमी या इतनी ही ऊपर है।

ट्रैन्सम की दूरी सहारा देने वाले बोर्डों की मोटाई से निर्धारित होती है, 38 मिमी के बोर्ड के लिए 1.2 मी. से अधिक की दूरी की आवश्यकता नहीं होती जबकि 50 मिमी का बोर्ड 2.6 मीटर के अंतर पर खड़ा हो सकता है और 63 मिमी के बोर्डों को अधिकतम 3.25 मीटर का फैलाव मिल सकता है। सभी बोर्डों के लिए न्यूनतम छज्जा (ओवरहैंग) 50 मिमी है और अधिकतम छज्जा बोर्ड की मोटाई के चार गुणे (4x) से अधिक नहीं होती है।

आधार/नींव[संपादित करें]

अच्छी नींव आवश्यक हैं। अक्सर मचान के ढांचे को सुरक्षित परिवहन और भार के फैलाव या वितरण के लिए साधारण बेस प्लेट से अधिक की आवश्यकता होती है। कंक्रीट या इसी तरह की कठोर सतहों पर बेस प्लेट के बिना भी मचान का इस्तेमाल किया जा सकता है, हालांकि हमेशा बेस प्लेट की सिफारिश की जाती है। फुटपाथ या पक्की सड़क जैसी सतहों के लिए बेस प्लेटें आवश्यक हैं। नरम या अधिक संदिग्ध सतहों के लिए एकल बोर्डों का इस्तेमाल अवश्य किया जाना चाहिए, एक एकल स्टैंडर्ड के नीचे कम से कम 220 मिमी. आयाम के साथ न्यूनतम 1,000 सेमी² के एक एकल बोर्ड का इस्तेमाल किया जाना चाहिए, मोटाई कम से कम 35 मिमी. होनी चाहिए. भारी मचान के लिए कंक्रीट में लगाये हुए अधिक ठोस शहतीर के सेट की आवश्यकता हो सकती है। असमतल भूमि पर बेस प्लेट के लिए सीढियां अवश्य काटी जानी चाहिए, एक न्यूनतम सीढ़ी के लिए लगभग 450 मिमी. के आकार की सिफारिश की जाती है।

सुरक्षित रहने के लिए एक कार्य मंच को कुछ अन्य तत्वों की आवश्यकता होती है। वे पास-पास लगाये गए हों, उनमें दुहरी सुरक्षात्मक रेल (डबल गार्ड रेल) और आगे के सिरे (टो) तथा प्रतिरोधक बोर्ड लगे होने चाहिए. सुरक्षित और विश्वस्त अभिगम्यता भी प्रदान की जानी चाहिए.

मचान अधिकतम आयामों के साथ एक काम कर मंच के संरक्षण की आवश्यकता को दर्शाता है। बट्ट-बोर्ड अदृश्य.कप्लर्स नहीं दिखाए गए हैं।

बंधन/गांठ[संपादित करें]

व्लादिमीर में होली ट्रिनिटी चर्च सुरक्षा जाल में लिपटे मचान के साथ.

मचान केवल कभी-कभार ही स्वतंत्र संरचना होते हैं। मचान को स्थिरता प्रदान करने के लिए (बाईं ओर) ढांचे के बंधनों को आम तौर पर निकटवर्ती इमारत/कपड़े (फेब्रिक)/लोहे की चीज़ों से बांध दिया जाता है।

वैकल्पिक लिफ्टों (पारंपरिक मचान) में हर 4 मी.पर एक गांठ संलग्न करने का सामान्य अभ्यास है, पूर्वनिर्मित प्रणाली के मचानों में सभी तख्तों पर संरचनात्मक कनेक्शन -यानी 2-3 मी. के केंद्र की आवश्यकता होती है (गांठ का नमूना प्रणाली के निर्माता/आपूर्तिकर्ता द्वारा प्रदान किया जाना चाहिए). मचान पर गांठ को स्टैंडर्डस् और लेजर्स (नोड प्वायंट) के जंक्शन से जहां तक संभव हो करीब जोड़ा जाता है। हाल के नियम परिवर्तन की वजह से मचान की गांठ को +/- भार (टाई/बट लोड) और पार्श्व (कतरन) भार का समर्थन करना आवश्यक है।

संरचनाओं की भिन्न-भिन्न प्रकृति के कारण अवसरों का लाभ उठाने के लिए अलग-अलग प्रकार की गांठें उपलब्ध हैं।

पूर्ण गांठों को संरचना की खिड़कियों जैसी खुली जगहों के माध्यम से डाला जाता है। ट्यूब क्रॉसिंग के अन्दर एक लम्ब में खुले छोर को ट्रैन्सम द्वारा मचान और बाहर के क्रॉसिंग क्षैतिज ट्यूब को जिसे ब्राइडल नलियां कहते हैं, से जोड़ा जाता है। नलियों और संरचना की सतहों के बीच के अंतराल को लकड़ी के वर्गों से भर कर या अटका कर एक ठोस आधार सुनिश्चित किया जाता है।

उपयुक्त स्तंभों या तुलनीय आकृतियों से मचान को बांधने के लिए बॉक्स गांठों का इस्तेमाल किया जाता है। आकृति के दोनों तरफ लिफ्ट से दो अतिरिक्त ट्रैन्सम डाले जाते हैं और उन्हें दोनों तरफ टाई ट्यूब नामक छोटी नलियों के साथ जोड़ दिया जाता है। जब एक पूर्ण बॉक्स टाई असंभव होती है तब मचान को संरचना से जोड़ने के लिए एल के आकार की लिप टाई का प्रयोग किया जा सकता है, अन्दर की ओर गति को सीमित करने के लिए संरचना के बाहर की तरफ कठोरता से एक अतिरिक्त ट्रैन्सम, बट ट्रैन्सम लगाया जाता है।

कभी-कभी एंकर टाई (बोल्ट टाई भी कहा जाता है) का उपयोग करना भी संभव है, ये संरचना में बनाये गए छेदों में लगे जाने वाली गांठें हैं। एक विस्तृत पच्चर (धातु का खूंटा) सहित रिंग बोल्ट भी आम तौर से प्रचलित प्रकार है जो फिर एक नोड प्वायंट के साथ बांध दिया जाता है।

सबसे कम 'आक्रामक' गांठ है रिवील टाई . संरचना में ये एक छेद या खुले छोर का उपयोग करते हैं लेकिन छेद में क्षैतिज रूप से अटकाई गई नली का उपयोग करते हैं। रिवील ट्यूब आमतौर पर एक पेंच पिन (एक समायोज्य पेंचदार पट्टी) और हर छोर पर सुरक्षात्मक पैकिंग द्वारा अपनी जगह पर अटकाए जाते हैं। एक ट्रैन्सम टाई ट्यूब रिवील ट्यूब को मचान से जोडती है। रिवील टाई को अच्छा नहीं माना जाता है, वे घर्षण पर कम टिकते हैं और इन्हें नियमित जांच की जरूरत होती है इसलिए इस बात की सिफारिश नहीं की जाती है कि सभी गांठों के आधे से अधिक रिवील टाई हों.

यदि गांठो की सुरक्षित संख्या का प्रयोग करना संभव न हो तो रेकर्स का उपयोग किया जा सकता है। ये मचान से कम से कम 75° के कोण पर बाहर निकले लेजर से संयुक्त की गयी और अच्छी तरह स्थापित अकेली नलियां हैं। इसके बाद आधार पर एक ट्रैन्सम मुख्य मचान के आधार पर एक त्रिकोण पीठ को पूरा करता है।

पुटलॉग मचान[संपादित करें]

पुटलॉग कप्लर्स के साथ ही पुटलॉग नलियां भी होती हैं, इनके सिरे चपटे होते हैं या एक ब्लेड लगा रहता है। यह आकृति नली के सिरे को संरचना के ईंट के कार्य के अन्दर या उसके ऊपर टिकाने में सहायता करती है। उन्हें ईंट की सतह वाला मचान कहा जा सकता है और एक एकल लेजर्स के साथ स्टैंडर्डस की केवल एक पंक्ति से युक्त होते हैं, पुटलॉग ट्रैन्सम होते हैं-जो एक सिरे पर लेजर से जुड़े होते हैं लेकिन दूसरे सिरे पर ईंटों में एकीकृत होते हैं। अन्तराल सामान्य प्रयोजन के मचान जैसे होते हैं और फिर भी गांठों की आवश्यकता होती है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]


Wiktionary-logo-en.png
scaffold को विक्षनरी में देखें।