बेकारी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस विशेष अवस्था को, जब देश में कार्य करनेवाली जनशक्ति अधिक होती हैं किंतु काम करने के लिए राजी होते हुए भी बहुतों को प्रचलित मजदूरी पर कार्य नहीं मिलता, बेरोजगारी (Unemployment) की संज्ञा दी जाती है। ऐसे व्यक्तियों का जो मानसिक एवं शारीरिक दृष्टि से कार्य करने के योग्य और इच्छुक हैं परंतु जिन्हें प्रचलित मजदूरी पर कार्य नहीं मिलता, उन्हें बेकार कहा जाता है।

व्याख्या[संपादित करें]

मजदूरी की दर से तात्पर्य प्रचलित मजदूरी की दर से है और मजदूरी प्राप्त करने की इच्छा का अर्थ प्रचलित मजदूरी की दरों पर कार्य करने की इच्छा है। यदि कोई व्यक्ति उसी समय काम करना चाहे जब प्रचलित मजदूरी की दर पंद्रह रुपए प्रतिदिन हो और उस समय काम करने से इन्कार कर दे जब प्रचलित मजदूरी बारह रुपए प्रतिदिन हो, ऐसे व्यक्ति को बेकार अथवा बेरोजगारी की अवस्था से त्रस्त नहीं कहा जा सकता। इसके अतिरिक्त ऐसे भी व्यक्ति को बेकार अथवा बेरोजगारी से त्रस्त नहीं कह सकते जो कार्य तो करना चाहता है परंतु बीमारी के कारण कार्य नहीं कर पाता। बालक, रोगी, वृद्ध तथा असहाय लोगों को "रोजगार अयोग्य" (unemployables) तथा साधु, पीर, भिखमंगे तथा कार्य न करनेवाले जमींदार, सामंत आदि व्यक्तियों को पराश्रयी कहा जा सकता है।

कारण एवं भेद[संपादित करें]

CIA द्वारा जारीकिया गया अद्यतन विश्व बेरोजगारी दर

बेरोजगारी का अस्तित्व श्रम की माँग और उसकी पूर्ति के बीच स्थिर अनुपात पर निर्भर करता है। बेरोजगारी के दो भेद हैं - असंतुलनात्मक (फ्रिक्शनल) तथा ऐच्छिक (वालंटरी)। असंतुलनात्मक बेरोजगारी श्रम की माँग में परिवर्तन के कारण होती है। ऐच्छिक बेरोजगारी का प्रादुर्भाव उस समय होता है जब मजदूर अपनी वास्तविक मजदूरी में कटौती को स्वीकार नहीं करता। समग्रत: बेरोजगारी श्रम की माँग और पूर्ति के बीच असंतुलित स्थिति का प्रतिफल है।

प्रोफेसर जे.एम. कीन्स "अनैच्छिक बेरोजगारी" को भी बेरोजगारी का भेद मानते हैं। "अनैच्छिक बेरोजगारी" की परिभाषा करते हुए उन्होंने लिखा है - "जब कोई व्यक्ति प्रचलित वास्तविक मजदूरी से कम वास्तविक मजदूरी पर कार्य करने के लिए तैयार हो जाता है, चाहे वह कम नकद मजदूरी स्वीकार करने के लिए तैयार न हो, तब इस अवस्था को अनैच्छिक बेरोजगारी कहते हैं।"

यदि कोई व्यक्ति किसी उत्पादक व्यवसाय में कार्य करता है तो इसका यह अर्थ नहीं है कि वह बेकार नहीं है। ऐसे व्यक्तियों को पूर्णरूपेण रोजगार में लगा हुआ नहीं माना जाता जो आंशिक रूप से ही कार्य में लगे हैं, अथवा उच्च कार्य की क्षमता रखते हुए भी निम्न प्रकार के लाभकारी व्यवसायों में कार्य करते हैं।

समस्या निदान के प्रयास[संपादित करें]

सन् 1919 ई. में अंतरराष्ट्रीय श्रमसम्मेलन के वाशिंगटन अधिवेशन ने बेरोजगारी अभिसमय (Unemployment convention) संबंधी एक प्रस्ताव स्वीकार किया था जिसमें कहा गया था कि केंद्रीय सत्ता के नियंत्रण में प्रत्येक देश में सरकारी कामदिलाऊ अभिकरण स्थापित किए जाएँ। सन् 1931 ई. में भारत राजकीय श्रम के आयोग (Royal Commission on Labour) ने बेरोजगारी की समस्या पर विचार किया और निष्कर्ष रूप में कहा कि बेरोजगारी की समस्या विकट रूप धारण कर चुकी है। यद्यपि भारत ने अंतर्राष्ट्रीय श्रमसंघ का "बेरोजगारी संबंधी" समझौता सन् 1921 ई. में स्वीकार कर लिया था परंतु इसके कार्यान्वयन में उसे दो दशक से भी अधिक का समय लग गया।

सन् 1935 के गवर्नमेंट आव इंडिया ऐक्ट में बेरोजगारी (बेरोजगारी) प्रांतीय विषय के रूप में ग्रहण की गई। परंतु द्वितीय महायुद्ध समाप्त होने के बाद युद्धरत तथा फैक्टरियों में काम करनेवाले कामगारों को फिर से काम पर लगाने की समस्या उठ खड़ी हुई। 1942-1944 में देश के विभिन्न भागों में कामदिलाऊ कार्यालय खोले गए परंतु कामदिलाऊ कार्यालयों की व्यवस्था के बारे में केंद्रीकरण तथा समन्वय का अनुभव किया गया। अत: एक पुनर्वास तथा नियोजन निदेशालय (Directorate of Resettlement and Employment) की स्थापना की गई है। हम ये रोक सक्ते हे।

बेरोज़गारी के प्रकार[संपादित करें]

  • संरचनात्मक बेरोज़गारी : सरचनात्मक बेरोज़गारी वह बेरोज़गारी है जो अथ्रव्यवस्था मै होने वाले संरचनात्मक बद्लाव के कारण उत्पत्र होती है।
  • अल्प बेरोज़गारी : अल्प बेरोज़गारी वह स्थिति होती है जिसमै एक श्रमिक जितना समय काम कर सकता है उससे कम समय वह काम करता है। दुसरे शब्दो मै, वह एक वष्र मै कुछ महीने या प्रतिदिन कुछ घटे बेकार रहता है। अल्प बेरोज़गारी के दो प्रकार है-

द्रश्य अल्प रोज़गार: इस स्तिथि मै, लोगो को सामान्य घन्टो से कम घन्टे काम मिलता है। अद्र्श्य अल्प रोज़गार : इस स्तिथि मै, लोग पुरा दिन काम करते है पर उनकी आय बहुत कम होती है या उनको एसे काम करने पडते है जिनमे वे अपनी योग्याता का पुरा उपयोग नही कर सकते।

  • खुली बेरोज़गारी : उस स्तिथि को कह्ते है जिसमे यद्यपि श्रमिक काम करने के लिये उत्सुक है और उसमे काम करने की आवश्यक योग्यता भी है तथापि उसे काम प्राप्त नही होता। वह पुरा समय बेकार रहता है। वह पुरी तरह से परिवार के कमाने वाले सदस्यो पर आश्रित होता है। ऐसी बेरोज़गारी प्राय: कृषि श्रमिको, शिक्षित व्यक्तियो तथा उन लोगो मे पायी जाती है। जो गावो से शहरी हिसो मै काम की तलाश मै आते है पर उन को कोइ काम नही मिलता । यह बेरोज़गरि का नग्न रुप है।
  • मौसमी बेरोज़गारी: इसका अथ्र एक व्यक्ति को वष्र के केवल मौसमी महीनो मै काम प्राप्त होता है। भारत मै क्रषि क्षेन्न मै यह आम बात है। इद्रर बुआई तथा कटाई के मौसमो मै अधिक लोगो को काम मिल जाता है किन्तु शेष वष्र वे बेकार रहते है। एक अनुमान के अनुसार , यदि कोई किसान वष्र मै केव्ल एक ही फसल की बुआई करता है तो वह कुछ महिने तक बेकार रहता है। इस स्थिति को मौसमी बेरोज़गारी माना जाता है।
  • चक्रिय बेरोज़गारी : ऐसी बेरोज़गारी तब उत्पन्न होती है जब अथ्रव्यवस्था मै चक्रीय उच निच आती है। तेजी , आथिर्क सुस्ती , आथिर्क मदी तथा पुनरुत्थान चार अवस्थाए या चक्र है जो एक पुजीवादी अथ्रव्यवस्था की मुख्य विशेषताऍ है। आथ्रिक तेजी की अवस्था मै आथ्रिक क्रिया उच्च स्तर पर होती है तथा रोज़गार का स्तर भी बहुत ऊचा होता है। जब अथ्रव्यवस्था मै कुल ज़रुरथ के घटने की प्रव्रत्ति पाई जाती है ।
  • छिपी बेरोज़गारी :छिपी बेरोज़गारी से पीडित व्यक्ति वह होता है जो एसे दिखाई देता है जेसे कि वह काम मै लगा हुआ है , परन्तु वास्त्व मै एसा नही होता।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]