धूमन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूमन (धुँवा करना / Fumigation) कीटों को नियंत्रित करने की एक प्रणाली है। इस प्रणाली में किसी क्षेत्र को पूर्णतः गैसीय कीटनाशक (fumigants) से भर दिया जाता है जिसके विषाक्त प्रभाव से कीट नष्ट हो जाते हैं। धूमन का प्रयोग भवनों के अन्दर, जमीन पर, अनाज आदि में किया जाता है।

धूमन के लिए उपयुक्त रसायन[संपादित करें]

पहले मेथिल ब्रोमाइड इस काम के लिए सबसे अधिक प्रयुक्त होती थी किन्तु मॉट्रियल प्रोटोकोल ने इसके प्रयोग को प्रतिबंधित कर दिया क्योंकि इससे ओजोन स्तर का क्षरण होता है।

अधिक प्रयोग किए जाने वाले रसायन ये हैं-

  • फॉस्फीन (phosphine)
  • 1,3-डाइक्लोरोप्रोपीन (1,3-dichloropropene)
  • क्लोरोपिक्रिन (chloropicrin)
  • मेथिल आइसोसाइनेट (methyl isocyanate)
  • हाइड्रोजन साइनाइड (hydrogen cyanide)
  • सल्फ्युरिल फ्लोराइड (sulfuryl fluoride)
  • फॉर्मेल्डिहाइड (formaldehyde)
  • लोडोफॉर्म (Iodoform)

प्रक्रिया[संपादित करें]

धूमन निम्नलिखित चरणों में सम्पन्न होता है-

  • (१) जिस क्षेत्र का धूमन करना हो प्रायः उसे किसी चीज से ढक दिया जाता है ताकि सभी ओर से बन्द (सील) हो जाय।
  • (२) इसके बाद धूमक (fumigant) को इस सीमित क्षेत्र में छोड़ा जाता है।
  • (३) धूमक गैस के पूरी तरह इस सीमित क्षेत्र में फैलने तक ऐसे ही रहने दिया जाता है। इससे कीटों का नाश हो जाता है।
  • (४) इसके बाद अब इस क्षेत्र में वायु का प्रवेश कराया जाता है ताकि विषैली गैसें वातावरण से हट जाँय और क्षेत्र मानव के प्रवेश के लिए नुकसानदायक न रहे।
  • (५) अब धूमित क्षेत्र कीटों से मुक्त और मानव के लिए सुरक्षित है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]