दृष्टि तन्त्रिका

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Nerve: Optic Nerve
The left optic nerve and the optic tracts.
Inferior view of the human brain, with the cranial nerves labelled.
Latin nervus opticus
Gray's subject #197 882
MeSH Optic+Nerve
Cranial Nerves
CN I – Olfactory
CN II – Optic
CN III – Oculomotor
CN IV – Trochlear
CN V – Trigeminal
CN VI – Abducens
CN VII – Facial
CN VIII – Vestibulocochlear
CN IX – Glossopharyngeal
CN X – Vagus
CN XI – Accessory
CN XII – Hypoglossal

'ऑप्टिक तंत्रिका, अथवा ' द्वितीय कपालीय तंत्रिका, रेटिना से मस्तिष्क तक दृश्य सम्बंधित जानकारियां संचारित करती है.

शरीर रचना[संपादित करें]

ऑप्टिक तंत्रिका भले ही कपालीय तंत्रिकाओं के बारह जोड़ों में से द्वितीय स्थान पर हो, परन्तु इसे फिर भी केंद्रीय तंत्रिका प्रणाली का भाग इसलिए माना जाता है क्योंकि यह भ्रूणीय विकास के दौरान डाइएनसेफालॉन में हुई बर्हिवलन के कारण उत्पन्न होती है. नतीजतन, इसके फाइबर परिधीय नर्वस सिस्टम की श्वान कोशिकाओं में नहीं बल्कि ओलिगोडेंड्रोसाईट द्वारा उत्पादित माइलिन से ढके और मेंनिंजस के भीतर होते हैं. इसलिए तंत्रिकाओं का किया हुआ भाग तकनीकी तौर पर अनुपयुक्त है ,क्योंकि ऑप्टिक प्रणाली केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के भीतर मौजूद होती है, जबकि परिभाषा द्वारा तंत्रिकाएं परिधीय तंत्रिका प्रणाली के भीतर स्थित होनी चाहिए . इसलिए गुलियन बैरे सिंड्रोम जैसी परिधीय न्यूरोपैथियां ऑप्टिक चाक्षुष को प्रभावित नहीं करती.

ऑप्टिक तंत्रिका तीनों मस्तिष्कावरणीय परतों(ड्यूरा, जालतानिकाभ शोथ, और पिया मेटर )से ढकी रहती है न की परिधीय नसों में पाई जाने वाली एपीन्यूरियम , पेरीन्यूरियम , और इंडो न्यूरियम से. स्तनधारियों की केंद्रीय तंत्रिका तंत्र की फाइबर पटरियाँ (परिधीय तंत्रिका तंत्र के विपरीत)पुनर्जनन में असमर्थ होती हैं और हेप्टिक ऑप्टिक तंत्रिका में क्षति अपरिवर्तनीय अंधापन पैदा करती है. रेटिना के फाइबर ऑप्टिक तंत्रिका के साथ-साथ चलते हुए मस्तिष्क में स्थित नौ प्राथमिक दृश्य प्रांतस्थाओं तक पहुँचते हैं जहाँ से एक प्रमुख रिले प्राथमिक दृश्य प्रांतस्था में प्रवेश करता है.

ऑप्टिक तंत्रिका रेटिनल कंडरापुटी कोशिकाओं के अक्षतंतुओं तथा समर्थक कोशिकाओं से बनी होती है. यह आंखों को ऑप्टिक नहर के माध्यम से छोडती है और पिछले-मध्यवर्तीय तरीके से ऑप्टिक चिआस्म की ओर चलती है जहाँ दोनों आँखों के अस्थायी दृश्य क्षेत्रों का एक आंशिक व्यत्यास(मिलाप) होता है. ऑप्टिक तंत्रिका के अधिकांश अक्षतंतु पार्श्विक जानुवतीय नाभि में ख़त्म होते हैं जहाँ से जानकारी दृश्य प्रांतस्था को रिले की जाती है, जबकि बाकी कुछ अक्षतंतु प्रीटेक्टल नाभि में ख़त्म होते हैं और आँखों के रेफ्लेक्सिव आन्दोलनों में शामिल होते हैं. बाकि बचे अक्षतंतु सुपरचिअसमैटिक नाभि में ख़त्म होते हैं और सोने-जागने के चक्र को विनियमित करने में शामिल होते हैं. आंखों के भीतर लगभग 1.6 मिमी से इसका व्यास बढ़ कर कक्षा में 3.5 मिमी और कपाल अंतरिक्ष के भीतर 4.5 मिमी हो जाता है. चिअस्म में शामिल होने से पहले ऑप्टिक तंत्रिका के घटकों की लंबाई ग्लोब में 1 मिमी, कक्षा में 24 मिमी ,ऑप्टिक नहर में 9 और कपाल अंतरिक्ष में 16 मिमी होती है. वहाँ आंशिक व्यत्यास होता है और 53% फाइबर ऑप्टिक ट्रैक्स बनाने में सफल होते हैं. इन कीशोकियों में से अधिकांश पार्श्व जानुवत शरीर में ख़त्म होते हैं.

पार्श्व जानुवत शरीर में से ऑप्टिक विकिरण के फाईबर मस्तिष्क के पश्चकपाल खंड में स्थित दृश्य प्रांतस्था तक पहुँचते हैं. अधिक विशेष रूप से, प्रतिपक्षी सुपीरियर दृश्य प्रांतस्था से जानकारी लाने वाले फाईबर मेयेर के पाश से होते हुए कैल्‍केराइन विदरों के नीचे स्थित जिह्वा-कर्णक में समाप्त होते हैं. प्रतिपक्षी इन्फेरीयर दृश्य प्रांतस्था से सूचना लेने वाले फाईबर्स बेहतर तरीके से समाप्त होते हैं.

शरीरविज्ञान[संपादित करें]

रेटिना के उस हिस्से में, जहां ऑप्टिक तंत्रिका आँखों को त्यागती है, वहाँ फोटोरिसेप्टरों की अनुपस्थिति आँख के नेत्रहीन स्थान का कारण बनती है.

प्रत्येक नेत्र तंत्रिका में लगभग 12 लाख तंत्रिका फाइबर पाए जाते हैं जो की एक रेटिना कि गंडिका कोशिकाओं के अक्षतंतु होते हैं. गतिका, जहां तीक्ष्णता अधिक होती है, वहाँ ये गंडिका कोशिकाएं 5 जितनी कम फोटोरिसेप्टर तंतुओ से सम्बन्ध स्थापित करती हैं;रेटिना के अन्य क्षेत्रों में ये कई हज़ार फोटोरिसेप्टरों से सम्बन्ध स्थापित करती हैं.

रोगों में भूमिका[संपादित करें]

ऑप्टिक तन्त्रिका में क्षति दृष्टि पर आम तौर से स्थाई एवँ सम्भवतः गम्भीर क्षति पहुँचा सकती है। इसके अतितिक्त यह एक असामान्य प्यूपिलरी रिफ्लेक्स भी उत्पन्न कर सकती है जो कि बीमारी की जाँच पड़ताल की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है। दृश्य क्षेत्रीय नुक्सान के प्रकार ऑप्टिक तंत्रिका के क्षतिग्रस्त भाग पर निर्भर करते हैं. सामान्य शब्दों में:

  • नैत्रिक व्यत्यासिका के समक्ष क्षति केवल उसी क्षेत्र के दृश्य क्षेत्रों को नुकसान पहुंचाती है.
  • नैत्रिक व्यत्यासिका के अन्दर क्षति दोनों क्षेत्रों के दृश्य क्षेत्रों में पार्श्विक नुकसान पहुंचाती है. यह बड़ी ग्रंथ्यर्बुद पीयूषिका में हो सकती है.
  • नैत्रिक व्यत्यासिका के पीछे क्षति किसी एक तरफ की दृष्टि में हानि का कारण बनती परन्तु दोनों दृश्य क्षेत्रों को प्रभावित करती है: प्रभावित दृश्य क्षेत्र घाव के विपरीत पक्ष पर स्थित होने हैं.

ऑप्टिक तन्त्रिका में चोट के कारण जन्मजात या दाय समस्याएं(जैसे की लेबर'स वंशानुगत ऑप्टिक स्नायुरोग),ग्लोकोमा, अभिघात,ज़हरीलापन,सूजन,स्थानिक-अरक्तता,संक्रमण(न के बराबर) या फिर धमनीविस्फार या ट्यूमर के कारण हुआ दबाव ,हो सकते हैं. काफी हद तक, अधिकाँश चोटों के तीन प्रमुख कारण हैं ग्लोकोमा,नेत्र तंत्रिकाशोथ(विशेष तौर पर उन्हें जिनकी उम्र 50 वर्ष के कम है) और पूर्ववर्ती इस्चेमिक स्नायुरोग(आम तौर पर उनमे जो 50 से ज्यादा उम्र के हैं).

ग्लौकोमा उन बीमारियों के समूह को कहते हैं जो रेटिनल गंडिका कोशिकाओं को नुकसान पहुंचती हैं और शुरू में केंद्रीय दृष्टि बख्शते हुए परिधीय दृष्टि हानि की श्रंखला में ऑप्टिक स्नायुरोग पैदा करती हैं.

ऑप्टिक न्युरैटिस ऑप्टिक तन्त्रिका की सूजन को कहते हैं. यह कई बिमारियों से सम्बंधित है, इनमे से एकाधिक काठिन्य सबसे अधिक गौरतलब है.

पूर्वकाल इस्चेमिक ऑप्टिक तंत्रिकाविकृति एक प्रकार का रोधगलितांश है जो शरीररचनात्मक पूर्वप्रवृत्ति और हृदय तथा रक्त वाहिका संबंधी मरीजों को प्रभावित करता है.

ऑप्टिक तन्त्रिका का कम विकास,जिससे प्रभावित आँख में बहुत कम दृष्टि अथवा दृष्टि की पूर्ण अनुपस्थिति होती है, ऑप्टिक तंत्रिका अल्प विकसन कहलाती है.


नेत्र रोग विशेषज्ञ, खासकर वह उप विशेषज्ञ जो न्यूरो नेत्ररोग विशेषज्ञ हैं, ऑप्टिक तन्तिका की बिमारियों के निदान और उपचार के लिए सबसे अनुकूल हैं.

दी इंटरनेशनल फाउंडेशन फॉर ऑप्टिक नर्व डीसीजेज़(आईफोंड) ऑप्टिक तंत्रिका के विकारों पर की जा रहे शोध और अनुसंधान का प्रायोजक करती है और सामान्य दिशा भी प्रदान कर सकती है.

अतिरिक्त छवियां[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • कपालीय तंत्रिकाओं के लिए स्मृति सहायकों की सूची

सन्दर्भ[संपादित करें]


बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

  • IFOND
  • ऑप्टिक तन्क्त्रिका विश्लेषण -परिवर्तनशील कार्नीयल क्षतिपूर्ति(GDx VCC) के साथ स्कैनिंग लेजर पोलैरीमेट्री और कोंफोकल स्कैनिंग लेजर नेत्रदर्शन(एचआरटी II -हीडलबर्ग रेटिना टोमोग्राफ). इसके अलावा वास्तविक बुध्न तस्वीरें भी शामिल हैं.
  • 5.6
  • cranialnerves at The Anatomy Lesson by Wesley Norman (Georgetown University) ( साँचा:NormanAnatomyFig )

साँचा:Visual system