दंत-लोमक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एक आवधिक दांत की सफाई के दौरान डेंटल स्वास्थ्‍य विज्ञानवेत्ता एक मरीज की दांत को लोमकिंग कर रहे हैं.

दंत-लोमक या तो महीन नायलॉन तंतुओं का एक पुलिंदा होता है या फिर प्लास्टिक (टेफ्लान या पॉलिथिलीन) का एक फीता होता है जिसका प्रयोग दांतों से खाद्यपदार्थ और दंत-पपड़ी निकालने के लिये किया जाता है. लोमक को धीरे से दांतों के बीच डाला जाता है और दांतों के दोनों पार्श्वों पर, विशेषकर मसूड़ों के नजदीक, कुरेदा जाता है. दंत-लोमक सुगंधित या सुगंधरहित और मोमयुक्त या मोमरहित हो सकता है. ऐसा ही प्रभाव प्राप्त करने के लिये उपयुक्त एक वैकल्पिक औजार है, अंतर्दंतीय ब्रश.

इतिहास[संपादित करें]

डेंटल फ़्लॉस

न्यू आर्लियंस के एक दंत चिकित्सक, लेवि स्पियर पार्मली को दांतों के लोमक के प्रथम रूप के अन्वेषण का श्रेय दिया जाता है. उसने 1815 में सिफारिश की कि लोगों को अपने दांतों की रेशम के लोमक से सफाई करनी चाहिये.[1]

1882 में कॉडमैन एंड शर्टलेफ्ट कम्पनी द्वारा मनुष्य के प्रयोग-योग्य मोमरहित रेशम के लोमक के उत्पादन के शुरू किये जाने तक उपभोक्ता के लिये डेंटल लोमक अनुपलब्ध रहा. 1898 में जॉनसन एंड जॉनसन कारपोरेशन को डेंटल लोमक के लिये पहला पेटेंट प्राप्त हुआ. अन्य प्रारंभिक ब्रांडों में रेड क्रॉस, साल्टर सिल कं. और ब्रुन्सविक शामिल थे.

जेम्स जॉयस के प्रसिद्ध उपन्यास युलिसीज़ (सीरियलीकृत 1918-1920) में एक पात्र को दांतों के लोमक का प्रयोग करते हुए प्रस्तुत किया गया है और यह साहित्यिक परिकल्पना में इसके चलन का प्रारंभिक उल्लेख है.

लोमक के प्रयोग को स्वीकृति द्वितीय विश्वयुद्ध के पहले तक काफी कम थी. इस समय के आस-पास डा.चार्ल्स सी बैस ने नायलॉन लोमक को विकसित किया. नायलॉन लोमक को अधिक घर्षण प्रतिरोधकता और लचीलेपन के कारण रेशम से बेहतर पाया गया. पर्यावरण के संरक्षण की चिंता को ध्यान में रखते हुए जैवअपक्रमण के योग्य वस्तुओं से बने दांतों के लोमक अब उपलब्ध हैं.

दंत चिकित्सक और दंत आरोग्यविशेषज्ञ दांतों को ब्रश और लोमक करने की दैनिक मौखिक आरोग्यकर विधि अपनाने की गुज़ारिश करते हैं. लगभग सभी अमरीकी लोग अपने दाँतों को ब्रश करते हैं. दांतों लेकिन, अध्ययनों से ज्ञात हुआ है कि केवल 10 से 40 प्रतिशत अमरीकी लोग दैनिक रूप से लोमक करते हैं.[2]

प्रयोग[संपादित करें]

दंत-लोमक आम तौर पर प्लास्टिक के डिस्पेंसरों में मिलता है, जिनमें 10 से 50 मीटर तक लोमक होता है. बाहर वांछित राशि खींच के बाद, सोता एक छोटे से संरक्षित ब्लेड के खिलाफ इसे तोड़ने की मशीन में खींच लिया है.

दंत सोता उंगलियों के बीच आयोजित किया जाता है. लोमक को प्रत्येक दांत के बीच और मसूड़ों की रेखा के नीचे से ले जाया जाता है और दांतों के बीच फंसे खाद्य-कणों और उनकी सतहों से चिपके दंत-जीवाणु पपड़ी को निकाला जाता है. उपयुक्त रूप से C के आकार का प्रयोग करके लोमक को दांत के चारों ओर मोड़ा जाता है और मसूड़ों की रेखा के नीचे रखा जाता है,और फिर मसूड़ों की रेखा से दूर ले जाया जाता है,जिससे लोमक प्रत्येक दांत को दोनों ओर से कुरेदता है और दांत के सामने या पीछे के भाग की भी सफाई कर सकता है. लोमक को धीरे-धीरे मसूड़ों की रेखा के नीचे से उससे दूर ले जाने पर मसूड़ों की रेखा के ऊपर और नीचे की दंत-सतहों से चिपके दंत-जीवाणुयुक्त पपड़ी निकल जाती है. सोता की एक साफ करने के लिए प्रत्येक अनुभाग दांत साफ करने के लिए एक दांत से पट्टिका बैक्टीरिया दूसरे करने के लिए संचारण से बचने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

दांतों के लोमक के कई भिन्न प्रकार आम तौर पर उपलब्ध हैं. सबसे महत्वपूर्ण भिन्नता उसकी मोटाई में होती है. यदि लोमक की मोटाई दांतों के जोड़ों के बीच की जगह से अधिक हो तो दांतों के बीच से लोमक को उतारना कठिन या असंभव होगा. दूसरी ओर, यदि लोमक बहुत पतला हुआ तो वह बहुत कमजोर होगा और टूट जाएगा. भिन्न मुखों, और एक मुख के विभिन्न भागों के लिये, भिन्न लोमक उपयुक्त होते हैं. ऐसा कुछ दांतों के बीच अन्य दांतों की अपेक्षा कम जगह होने के कारण होता है. यह संभव है कि मोटा लोमक दांतों पर से जीवाणुयुक्त पपड़ी निकालने में अधिक कारगर होता है, क्यौंकि दांतों के बीच उसका प्रयोग करने के लिये पर्याप्त जगह होती है. जब कभी कड़े खाद्यपदार्थ का कोई टुकड़ा दांतों के बीच कसकर फंसा होता है तो पतले लोमक की आवश्यकता हो सकती है, क्यौंकि मोटा लोमक उस खाद्यपदार्थ को पार नहीं कर सकता है. दांतों के लोमक के कुछ प्रकारों को लंबाई में विभाजित करके पतले टुकड़ों का एक जोड़ा बनाया जा सकता है, जो काफी नाजुक लेकिन कभी-कभी उपयोगी हो सकता है. ऐसा इसलिये संभव है क्यौंकि दांतों के लोमक के कुछ प्रकार अनेक बहुत बारीक रेशों से बने होते हैं जो आपस में बुने हुए न होकर कमोबेश रूप से समानांतर चलते हैं. ऐसा तब भी उपयोगी सिद्ध हो सकता है, यदि आपका डेंटल लोमक बहुत मोटा हो, या किसी और कारण से उपयोगी न हो, और आप के लिये नया लोमक मंगाना संभव न हो, जैसे जब आप विदेश यात्रा कर रहे हों.

एफ (F) के आकार और वाई (Y) के आकार का लोमक वैंड्स
स्विवेलिंग और डिस्पोजेबल सिर के साथ एर्गोनोमिक लोमकर

लोमक को पकड़ने के लिये विशेष प्लास्टिक छड़ियां या लोमक की काड़ियां बनाई गई हैं. इन्हें लोमक डिस्पेंसर पर लगाया या उससे निकाला जा सकता है. उंगली को बंद किये बिना छड़ी का प्रयोग करना अजीब लग सकता है और उंगली से सभी कोणों पर लोमक करने में कठिनाई भी हो सकती है. पर दूसरी ओर, अधिक पहुंच पिछले दांतों को लोमक करना आसान बना सकती है. इस तरह के लोमकर मसूड़ों की रेखा के नीचे के क्षेत्र तक पहुंचने में असफल हो सकते हैं, जिसे लोमक करना आवश्यक होता है.

बेहतर पकड़ के लिये उन्नत हत्थों वाले और घूमने वाले लोमक शीर्षों वाले श्रमदक्ष लोमकर मुंह में दांतों के किसी भी जोड़े, सामने के और पिछले दांतों तक पहुंच को आसान बनाते हैं. साथ ही, उनके लोमक शीर्षों में एक पार्श्विक लचीलापन भी होता है जिससे दांतों के लोमक को दांतों को दोनों ओर से पकड़ने और मसूड़ों को चोट पहुंचने के खतरे के बिना मसूड़ों की रेखा के नीचे साफ करने के लिये बेहतर नियंत्रण प्राप्त होता है.

कभी-कभार लोमक करने और/या गलत तरीके से लोमक करने से मसूड़ों से रक्तस्राव हो सकता है. रक्तस्राव का मुख्य कारण मसूड़े के प्रदाह के कारण मसूड़ों के ऊतकों का शोथ हो सकता है.

निर्देश[संपादित करें]

अमेरिकन डेंटल एसोसियेशन प्रति दिन एक या अधिक बार अच्छी तरह लोमक करने की सलाह देता है. हालांकि उन्होंने ब्रश करने और लोमक करने के क्रम के बारे में कोई सिफारिश नहीं की है, ब्रश करने के पहले लोमक करने से टूथपेस्ट के फ्लोराइड को दांतों के बीच पहुंचने में सहायता मिलती है.[3] अधिक जोरदार या त्रुटिपूर्ण लोमकक्रिया के परिणामस्वरूप मसूड़े के ऊतकों को हानि पहुंच सकती है. सही लोमकक्रिया के लिये, एसोसियेशन लोमक को दांत के पार्श्व के विरूद्ध C के आकार में मोड़ लेने, और तब दांत को मसूड़े की रेखा के नीचे से सिरे तक (बहुत कोमलता से) दो से तीन बार साफ करने और यह क्रिया बगल के व उसके बाद के दांतों पर दोहराने की सलाह देता है.

कंपन[संपादित करें]

कुछ शक्तिशाली लोमकर कंपन का प्रयोग करते हैं, जो सिरों से शुरू होकर लोमक में से गुजरता है. इसकी प्रेरणा संभवतः आधुनिक विद्युत टूथब्रशों में ब्रिस्टलों के कंपन के इसी तरह के प्रयोग से मिली है. जैसे-जैसे कंपन हल्की गति उत्पन्न करता है, लोमक जोर लगाए जाने पर सबसे कम प्रतिरोध का मार्ग खोज लेता है. यह गति दांत व मसूड़े को अस्थायी रूप से अलग करके लोमक को उस स्थान में प्रवेश करने में मदद करती है.

इससे मसूड़े की रेखा के नीचे प्रवेश अधिक आसान हो जाता है, और दांतों के बीच की जगह में घुसने में कम बल का प्रयोग करना पड़ता है. कम बलप्रयोग के कारण लोमकक्रिया पर अधिक नियंत्रण संभव होता है. सामान्य लोमकक्रिया में लोमक के दांतों में चटक के साथ प्रवेश करने तक जोर लगाना पड़ सकता है, और इससे उत्पन्न गतिशीलता बनी रह कर मसूड़े के ऊतकों पर दर्दपूर्ण प्रभाव डाल सकती है. बेहतर नियंत्रण से इसे कम किया या पूरी तरह से इससे बचा जा सकता है.

कई लोग कंपनों को आरामदेह मानते हैं; यह मालिश और विकलांग-वैज्ञानिक उपकरणों की आम तकनीक है. ठीक जैसे विद्युत टूथब्रश दांतों और मसूड़ों के लिये आरामदेह होते हैं, वैसे ही कंपन करने वाला लोमक मसूड़े की रेखा का पीड़ाहरण और मालिश कर सकता है.

लोमक के किसी एक अलग क्षेत्र पर दबाव न डालने, और कम दबाव का प्रयोग करने से कटने की संभावना कम होती है. मसूड़ों पर होने वाली छिलन भी अधिक समरूप से वितरित होती है, जिससे ऊतक का अनुकूलन भी अधिक समरूपी होता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

लाभ[संपादित करें]

दांतों के ब्रश के साथ लोमक की क्रिया को संयुक्त करके मसूड़ों के रोगों[4], मुखदुर्वास रोग[5], और दांतों की सड़न की रोकथाम किया जा सकता है.[6][7] नियमित रूप से लोमक करने को हृदय रोग की घटनाओं में कमी से भी जोड़ा गया है[8]. कदाचित मसूड़ों के शोथ की रोकथाम के परिणामस्वरूप,लोमकक्रिया का सहसंबंध अधिक दीर्घायुता से भी पाया गया है.[9][10]

लोमक सूत्रक[संपादित करें]

लोमक सूत्रक रेशे (मछली पकड़ने की रस्सी की तरह) का एक फंदा होता है जिसे दांतों के चारों ओर छोटी जगहों में से लोमक को पिरोने के काम में लाया जाता है. सूत्रकों की कभी-कभी दांतों के ब्रेसों,फिक्स रिटेनरों,सेतुओं,और क्राउनों के साथ लोमक करने के लिये आवश्यकता पड़ती है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • लोमक पिक
  • इंटरडेंटल ब्रश
  • जीभ मार्जक
  • क्रेस्ट ग्लाइड

संदर्भ[संपादित करें]

  1. सैनुडोस एम., क्रिस्चन एजी. (1999). लेवी स्पीयर पार्मली: चिकित्सकीय स्वच्छता के प्रेरित. दंत चिकित्सा के इतिहास की पत्रिका. 47(1): 3-6.
  2. के. बौरोथ, एट. अल. जर्नल ऑफ द अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन, खंड 134, संख्या 3, 359-365. "द एफिकेसी ऑफ़ एन एसेंशियल ऑइल एंटीसेप्टिक माउथरिंस वर्सेस डेंटल लोमक इन कंट्रोलिंग इंटरप्रौक्सिमल जिन्जिविटिस" 15 नवंबर 2009 को अभिगम.
  3. अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन, "लोमक एंड अदर इंटरडेंटल क्लीनर्स". 12 अप्रैल 2010 को अभिगम.
  4. अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन, "व्हाट डज़ लोमक डू?". 28 नवंबर 2009 को अभिगम.
  5. अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन, "बैड ब्रिथ (हैलीटोसिस)". 28 नवंबर 2009 को अभिगम.
  6. अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन, "क्लीनिंग योर तीथ एंड गम्स".
  7. अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन, "कैविटी प्रिवेंशन टिप्स". 28 नवंबर 2009 को अभिगम.
  8. "Dental floss may lower heart disease risk". December 17, 2009. http://www.upi.com/Health_News/2008/12/17/Dental-floss-may-lower-heart-disease-risk/UPI-81571229574870/. अभिगमन तिथि: October 18, 2009. 
  9. [1]
  10. [2]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]