जेड पौधा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Crassula ovata
flower and buds of C. ovata
flower and buds of C. ovata
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: Plantae
(अश्रेणिकृत) Angiosperms
(अश्रेणिकृत) Eudicots
(अश्रेणिकृत) Core eudicots
गण: Saxifragales
कुल: Crassulaceae
प्रजाति: Crassula
जाति: C. ovata
द्विपद नाम
Crassula ovata
(Miller) Druce
पर्याय

Crassula argentea
Crassula obliqua
Crassula portulacea

एक मिट्टी के बर्तन में (इतालवी टेरा कोटा) में क्रसुला ओवाटा
चित्र:Crassula bonsai.jpg
एक इनडोर बोन्साई के रूप में सी. ओवाटा.

अंग्रेज़ी में सामान्यतः जेड प्लांट, फ्रेंडशिप ट्री, लकी प्लांट या मनी प्लांट , क्रसुला ओवाटा के रूप में जाना जाने वाला यह पौधा छोटे गुलाबी या सफेद फूल वाला एक रसीला पौधा है. यह दक्षिण अफ्रीका का देशी पौधा है, और एक घरेलू पौधे के रूप में दुनिया भर में आम है. इसे कभी-कभी मनी प्लांट भी कहा जाता है, लेकिन, पचिरा एक्वेटिका पेड़ को भी यही कहा जाता है.

जेड सदाबहार पौधे होते हैं जिनकी डालियां मोटी और पत्तियां चिकनी, गोल, मांसल होती हैं जो शाखाओं पर विपरीत जोड़ियों में उगती हैं. पत्तियां गहरी जेड हरी होती हैं, कुछ किस्मों की पत्तियों के छोर पर, जब उन्हें सूर्य के उच्च स्तर के प्रकाश के संपर्क में रखा जाता है तो लाल रंग का विकास होता है. नई शाखा का विकास पत्तियों के ही रंग और बनावट में होता है, लेकिन समय के साथ वह भूरे रंग और काठ के रंग की हो जाती है. सही वातावरण के तहत, वे वसंत ऋतु के आरम्भ में तारेनुमा छोटे सफेद या गुलाबी फूलों को जन्म देते हैं.

जेड पौधे को आसानी से बोन्साई के रूप में उगाया जा सकता है और यह एक लोकप्रिय इनडोर बोन्साई है.

देख-रेख[संपादित करें]

रसभरे होने के रूप में, उन्हें गर्मी के समय जब मिट्टी शुष्क होती पानी की सामान्य मात्रा की आवश्यकता होती है, और सर्दियों में बहुत कम पानी की. पानी की अधिमात्रा के कारण उनके पत्ते गिरने लगते हैं (गिरी हुई पत्तियों की मुडी हुई प्रकृति से पानी की अधिक मात्रा को पहचानना आसान है) और अंत में तना सड़ जाएगा. हालांकि जेड, जल की अधिमात्रा में जीवित रह सकते हैं, यह सबसे अच्छा है कि उन्हें गर्मियों में 10 - 20 दिन के चक्र पर रखा जाना चाहिए, और सर्दियों में और भी कम (एक माह तक निर्जल). पानी डालने के बीच की अवधि में मिट्टी को सूखने देना एक स्वस्थ जेड के लिए आवश्यक है. [1]

वे सूर्य की पूरी रौशनी से लेकर छाया तक में विकसित हो सकते है. हालांकि, वे अत्यधिक गर्मी या सूर्य की सीधी रौशनी को बहुत अच्छी तरह से बर्दाश्त नहीं कर पाते हैं, जिससे उनके पत्ते झुलस जाते हैं अथवा पत्ते की कमी हो जाती है और तना सड़ जाता है. अधिकांश सामान्य प्रजातियां पाला की सीमित मात्रा को बर्दाश्त कर लेंगी लेकिन ठंड के मौसम से उनका अत्यधिक संपर्क उन्हें मार देता है.

जेड पौधे को छंटाई से लाभ होता है, जिसे बढ़ने वाले मौसम से पहले वसंत में किया जाना चाहिए. जेड की छंटाई को कुछ हफ्तों की अवधि में किया जा सकता है, और इसमें शाखा को उसकी पार्श्व शाखा तक काटना शामिल है. छंटाई का उद्देश्य दोहरा है: जेड की तरह के उच्च रसिले पौधे के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि उसका तना उसकी पत्तियों के वजन को संभाल सके और छंटाई करने से उसके तने को विकास करने का मौक़ा मिलता है; छंटाई जड़ के विकास को भी प्रोत्साहित करती है. घट्टा को कुछ दिन के बाद नई कटौती पर निर्मित होना चाहिए और कटौती के कुछ ही हफ्तों के भीतर स्टंप से उभरने की क्रिया होनी चाहिए.

कीट[संपादित करें]

मेलीबग, जेड के लिए एक आम कीट हैं और नए विकास में विकृति पैदा कर सकता है. शराब में रुई के फाहे या पेंटब्रश को डुबा कर प्रत्येक कीट को मारते हुए पर्याक्रमण का सफाया किया जा सकता है. [2] इस प्रक्रिया को प्रतिदिन दोहराया जाता है जब तक कि हर मेलीबग को मार ना दिया गया हो, क्योंकि हो सकता है कि पौधे पर जीवित कीट को मार दिए जाने के बाद भी नए कीट अंडे से रहे हों. [3]

एफिड भी आम कीट हैं, हालांकि वे सिर्फ फूल की डंठल पर हमला करते हैं. लाल मकड़ी के कण भी समस्याएं पैदा कर सकते हैं.

जेड पर कीटनाशकों के प्रयोग से बचा जाता है, क्योंकि वे उनके प्रति बहुत संवेदनशील हैं.

मिट्टी[संपादित करें]

जेड, पानी के बेहतर आवागमन वाली मिट्टी में अच्छी तरह से उगते हैं जिसमें पीट शैवाल या ऐसे कोई अन्य कण नहीं होते जो पानी की बड़ी मात्रा को बनाए रखें. जेड के पेड़, चट्टानी पहाड़ों बंजर भूमि पर पनपते हैं, इसलिए इनकी खेती में कई अलग-अलग मिट्टियों का मिश्रण किया जाता है ताकि इन अनुकूल प्राकृतिक परिस्थितियों की नकल की जा सके. कुछ उत्पादकों की सिफारिश है कि जैविक शीर्षमिट्टी से लेकर परलाईट, हेडाईट, टरफेस, या छोटी बजरी और बालू के 50/50 के मिश्रण को लेना चाहिए. अन्य ने नारियल जटा, पाइन छाल और नदी के पत्थरों का इस्तेमाल किया. उत्पादकों के बीच यह आम सहमति है कि मिट्टी से पानी को शीघ्र निकल जाना चाहिए और जल सिंचाई के बीच उसे सूखने की अनुमति दी जानी चाहिए, इसलिए बालू और बजरी की अच्छी मात्रा का मिश्रण आवश्यक है.

फूलना[संपादित करें]

खिलने को प्रोत्साहित करने के लिए, पौधे को पहली ठंढ के समय के करीब बिना पानी के रहने दीजिये. जब दिन छोटे होने लगते हैं, पानी को पूरी तरह से रोक दीजिये और पौधे को ठंडी रातों का सामना करने दीजिये. कई हफ़्तों के इस सूखे, ठन्डे माहौल के बाद नियमित रूप से पानी देने से वर्ष के सबसे छोटे दिन फूल का खिलना घटित होता है. नियमित रूप से पानी देने से या बहुत गर्म रातों से, पौधा स्वस्थ रहेगा, लेकिन खिलेगा नहीं. [4]

उपजाना[संपादित करें]

जेड पेड़, बेहद आसानी से उगाए जाने के लिए बदनाम हैं. डंठल या पत्ती को काट कर उन्हें उगाया जा सकता है. जंगलों में, शाखा और पत्तियां अक्सर टूट जाती हैं और भूमि पर गिर जाती हैं, और कुछ ही हफ्तों के बाद, उनमें जड़ें निकल आती हैं और एक नए पौधे का विकास होता है. या, उन्हें काट कर पानी के एक कंटेनर में रखा जा सकता है जब तक जड़ें नहीं निकल जाती (लगभग 2 सप्ताह) और इसके बाद उन्हें मिट्टी में लगाया जा सकता है.

खेती में, नए पौधों को नए विकास (शाखा या पत्ते) को काट कर और उन्हें सूखने देकर तैयार किया जाता है. जड़ों का विकास मिट्टी के भीतर या बाहर होता है, यद्यपि नम मिट्टी में शाखा को डालने से जड़ निकलने की प्रक्रिया में वृद्धि होती है.

संदर्भ[संपादित करें]

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]