छवि विभेदन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छवि विभेदन किसी छवि की बारीकियों का विस्तार से वर्णन करता है। यह शब्द अंकीय छवियों, फिल्म छवियों, और अन्य कई प्रकार की छवियों पर लागू होता है। उच्च विभेदन का अर्थ किसी छवि में अधिक बारीकियों का होना है।

छवि विभेदन का मापन विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है। मूल रूप से, विभेदन इस बात को इंगित करता है कि दृष्टिगोचर होते हुये रेखायें एक दूसरे से अधिकतम कितना निकट हो सकती है। विभेदन ईकाइयों को भौतिक आकारों (उदाहरण: रेखायें प्रति मिमी, रेखायें प्रति इंच), छवि के समग्र आकार (रेखायें प्रति छवि ऊंचाई, इन रेखाओं को टी वी रेखाओं के रूप में भी जाना जाता है) या कोणीय सबटेन्स में बांधा जा सकता है। अक्सर रेखाओं के स्थान पर रेखा युग्म का प्रयोग किया जाता है, एक रेखा युग्म एक गहरी रेखा और उससे सटी एक हल्की रेखा से बना होता है। एक रेखा (या टी वी रेखा, TVL) या तो एक गहरी रेखा या एक हल्की रेखा होती है। 10 रेखा प्रति मिलीमीटर के विभेदन का अर्थ 5 गहरी रेखायें 5 हल्की रेखायें हैं जहां एक गहरी रेखा प्रत्येक हल्की रेखा के बाद आती है। अक्सर फोटोग्राफिक लेंस और फिल्म विभेदन को रेखा युग्म प्रति मिलीमीटर में उद्धृत करते हैं।

अंकीय छवियों का विभेदन[संपादित करें]

पिक्सेल विभेदन[संपादित करें]

Resolution illustration.png एक छवि जिसकी चौड़ाई में 2048 पिक्सेल और ऊँचाई में 1536 पिक्सेल है, के कुल 2048×1536 = 3,145,728 पिक्सेल या 3.1 मेगापिक्सेल हैं।

स्थानिक विभेदन[संपादित करें]

वर्णक्रमिक विभेदन[संपादित करें]

कालिक विभेदन[संपादित करें]

रेडियोमीट्रिक विभेदन[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]