घनचित्रण शैली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्यूबिज़्म 20वीं शताब्दी का एक नव-विचारक कला आंदोलन था जिसका नेतृत्व पाब्लो पिकासो और जॉर्ज बराक ने किया था, जो यूरोपीय चित्रकला और मूर्तिकला में क्रांतिकारी परिवर्तन लाया और जिसने संगीत एवं साहित्य को भी संबंधित आंदोलन के लिए प्रेरित किया. विश्लेषणात्मक क्यूबिज़्म के रूप में जानी जाने वाली क्यूबिज़्म की पहली शाखा ने फ्रांस में 1907 से 1911 के बीच थोड़े ही समय के लिए लेकिन कला आंदोलन के रूप में कट्टर और प्रभावशाली असर छोड़ा. आंदोलन अपने दूसरे चरण में सिंथेटिक क्यूबिज़्म के नाम से बढ़ा और लगभग 1919 तक महत्वपूर्ण भूमिका अदा की, जब तक कि अतियथार्थवादी आंदोलन ने लोकप्रियता नहीं हासिल कर ली.

अंग्रेजी कला इतिहासकार डगलस कूपर ने अपनी मौलिक पुस्तक द क्यूबिस्ट ईपक में क्यूबिज़्म के तीन चरणों का वर्णन किया है. कूपर के अनुसार "प्रारंभिक क्यूबिज़्म" (1906 से 1908 तक) था जब शुरूआत में पिकासो और बराक के स्टूडियो में आंदोलन विकसित किया गया था, दूसरे चरण को "उच्च क्यूबिज़्म" (1909 से 1914 तक) कहा जाता है, जिस दौरान जुआन ग्रिस महत्वपूर्ण प्रतिपादक के रूप में उभरे और आखिर में कूपर ने "अंतिम क्यूबिज़्म" (1914 से 1921 तक) को कट्टरपंथी नव-विचारक कला आंदोलन का आखिरी चरण कहा.[1]

क्यूबिस्ट (घनवादी) चित्रकला में वस्तुओं को तोड़ा जाता है, उनका विश्लेषण किया जाता है और एक नज़रिए के बजाए फिर से पृथक रूप से बनाया जाता है, कलाकार विषय का कई अन्य दृष्टिकोणों से बड़े संदर्भ में प्रतिनिधित्व करता है. अक्सर सतह यादृच्छिक कोणों पर एक दूसरे को काटते प्रतीत होते हैं और गहराई की सुसंगत समझ को खत्म कर देते हैं. पृष्ठभूमि और वस्तुओं का समतल धरातल परस्पर अनुप्रवेश कर उथला अस्पष्ट स्थान बनाता है जो क्यूबिज़्म की खास विशेषताओं में से एक है.

अवधारणा और मूल[संपादित करें]

19 वीं सदी के आखिर और 20 वीं सदी की शुरुआत में यूरोपीय संस्कृति का अभिजात वर्ग पहली बार अफ्रीकी, मैक्रोनेशियन और मूल अमेरिकी कला को जान रहा था. पॉल गॉग्युइन, हेनरी मैटिस और पाब्लो पिकासो जैसे कलाकार उन विदेशी संस्कृतियों की दृढ़ शक्ति और सादगी की शैली से प्रभावित और प्रेरित हुए. 1906 के आसपास, गेर्ट्रुड स्टेन के माध्यम से पिकासो की मुलाकात मैटिस से हुई, एक ऐसे समय में, जब दोनों ही कलाकारों की दिलचस्पी आदिमवाद, ईबेरियन मूर्तिकला, अफ्रीकी कला और अफ्रीकी जनजातीय मास्क में बढ़ने लगी थी. वे मित्रवत प्रतिद्वंद्वी बन गये और पूरे करियर के दौरान एक दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा करते रहे और ग्रीक, ईबेरियन तथा अफ्रीकी कला से प्रभावित होकर पिकासो ने अपने काम से एक नए युग में प्रवेश किया. 1907 के पिकासो के चित्रों को मौलिक क्यूबिज़्म के रूप में चिन्हित किया गया जैसा कि क्यूबिज़्म के पूर्व के इतिहास लेस डेमोइसेलस ड’एविग्नन में देखा गया था.[2]

अंग्रेजी कला इतिहासकार, संग्रहकर्त्ता और द क्यूबिस्ट ईपक के लेखक डगलस कूपर ने पॉल गॉग्युइन और पॉल सेज़ेन के बारे में कहा है कि "ये दोनों ही कलाकार क्यूबिज़्म के गठन के विशेष रूप से और 1906 से 1907 के दौरान पिकासो के चित्रों से प्रभावित थे".[3] कूपर कहते हैं कि लेस डेमोइसेलस को अक्सर ग़लती से पहली क्यूबिस्ट चित्रकला के रूप में संदर्भित किया जाता है. वे बताते हैं,

पॉल सिज़ेन, क्वैरी बिबेमस 1898-1900, म्यूज़ियम फॉकवैंग, एसें, जर्मनी
डेमोइसेलस आम तौर पर पहली क्यूबिस्ट तस्वीर के रूप में उल्लेखित की जाती है. यह एक अतिशयोक्ति है, हालांकि वह क्यूबिज़्म की दिशा में एक महत्वपूर्ण पहला कदम था लेकिन यह अभी तक क्यूबिस्ट नहीं है. इसमें शामिल विघटनकारी, अभिव्यंजनावादी तत्व क्यूबिज़्म की मनोवृत्ति से अलग है जो दुनिया की तरफ अलग, यथार्थवादी नज़रिए से देखता है. फिर भी क्यूबिज़्म के शुरुआती बिंदु के लिए डेमोइसेलस तार्किक चित्र है, क्योंकि यह नए सचित्र मुहावरे के जन्म को चिह्नित करता है जिसमें पिकासो ने हिंसक तौर पर नामकरण की स्थापना की और जो कुछ भी हुआ वह खुद ही बढ़ गया.[2]

कुछ लोगों का मानना है कि क्यूबिज़्म की जड़ों को सेज़ेन के बाद के कामों में दो अलग प्रवृत्तियों में पाया गया: सबसे पहले रंगे हुए सतह को रंगों के छोटे बहुपक्षीय क्षेत्रों में तोड़ने के लिए, बाद में दूरबीन दृष्टिकोण द्वारा दी गयी इस मिश्रित दृष्टि पर ज़ोर देना, और दूसरा बेलनों, वृत्तों के प्राकृतिक रूपों के सरलीकरण में रुचि के जरिए.

हालांकि, सेज़ेन के बाद इस अवधारणा के बारे में क्यूबिस्ट ने आगे पता लगाया, उन लोगों ने एक ही चित्र में दर्शाये गये वस्तुओं की सभी सतहों का प्रतिनिधित्व किया, जैसे कि वस्तुओं के सभी चेहरे एक ही समय में दिखाई दे रहे हों. चित्रण की इस नई शैली ने चित्रकला और कला में वस्तुओं को देखे जाने के ढंग में क्रांतिकारी परिवर्तन किया.

क्यूबिज़्म के आविष्कार में पेरिस के मोन्टमारे के निवासियों पिकासो और बराक का संयुक्त प्रयास शामिल था. ये कलाकार आंदोलन के प्रमुख आविष्कारक थे. बाद में स्पेनी जुआन ग्रिस भी इस आंदोलन में सक्रिय भागीदार के रूप में जुड़े. 1907 में मिलने के बाद बराक और पिकासो ने विशेष रूप से क्यूबिज़्म के विकास पर काम शुरू किया. पिकासो शुरुआत में वह शक्ति और प्रभाव थे जिसने बराक को 1908 तक फॉविज़्म से अलग होने के लिए राजी किया. दोनों कलाकारों ने 1908 के आखिर और 1909 के शुरू से एक साथ मिलकर काम करना शुरू किया और 1914 में प्रथम विश्व युद्ध छिड़ने तक साथ काम किया. आंदोलन तेज़ी से पेरिस और पूरे यूरोप में फैल गया.

फ्रांसीसी कला समीक्षक लुइस वॉक्सेलस ने 1908 में बराक द्वारा बनाये गए एक चित्र को देखने के बाद पहली बार "क्यूबिज्म" या "बिजारे क्यूबिक्स" शब्द का प्रयोग किया. उन्होंने इसे "छोटे क्यूब्स से भरा हुआ" के रूप में वर्णित किया है, जिसके बाद जल्दी ही इस शब्द का व्यापक उपयोग होने लगा, हालांकि शुरू में इन दो रचनाकारों ने इसे नहीं अपनाया था. कला इतिहासकार अर्नस्ट गोम्ब्रिच ने क्यूबिज्म को "अस्पष्टता का सफाया करने और तस्वीर के, जो एक मानव निर्मित निर्माण, एक रंगा हुआ कैनवास होता है, के एक पाठ (रीडिंग) को बल देने- के सर्वाधिक मौलिक प्रयास" के रूप में वर्णित किया है.[4]

जुआन ग्रीस, पिकासो का चित्र, 1912, ऑयल ऑन कैनवस, आर्ट इंस्टीट्युट ऑफ़ शिकागो

क्यूबिज्म मॉंटपरनासे में अनेक कलाकारों द्वारा अपनाया गया और कला व्यापारी डैनियल हेनरी कॉनविलर ने इसे प्रोत्साहित किया, यह इतनी जल्दी लोकप्रिय हो गया कि 1911 के आलोचकों द्वारा कलाकारों के एक "क्यूबिक स्कूल" का जिक्र किया जाने लगा.[5] हालांकि, अपने को क्यूबिस्ट समझने वाले अनेक कलाकार ऐसी दिशाओं में चले गए जो बराक और पिकासो के निर्देशों से काफी अलग थीं. पुटौक्स समूह या सेक्शन डी'ऑर क्यूबिस्ट आंदोलन की एक महत्वपूर्ण शाखा थी, इसमें गिलौम अपोलिनेयर, रॉबर्ट डेलॉनाय, मार्सल डुचैम्प उनके भाई रेमंड डुचैम्प-विलन और जैक्स विलन तथा फ़ेर्नाड लेज़र और फ्रांसिस पिकाबियो शामिल थे. क्यूबिज्म के साथ जुड़े अन्य महत्वपूर्ण कलाकारों में दूसरों के साथ : अल्बर्ट ग्लेइज़ेस जीन मेत्जिंगर,[6] मेरी लौरेंसिन, मैक्स वेबर, डिएगो रिवेरा, मेरी वोरोबिएफफ, लुई मर्कोउसिस, जीन रिज-रौस्सौ, रोजर डी ला फ्रेस्नाये, हेनरी ले फौकांनिएर, अलेक्जेंडर अर्चिपेन्को, फ्रंतिसेक कुप्का, अमिदी ओजेंफैन्त, जीन मर्चंद, लियोपोल्ड सर्वेज, पैट्रिक हेनरी ब्रूस भी शामिल हैं. मूल रूप से सेक्शन डी'ऑर क्यूबिज्म और ऑरफिज्म के साथ जुड़े अनेक कलाकारों के लिए एक और नाम भर है. पूरिज़्म क्यूबिज्म की प्रथम विश्व युद्ध के बाद विकसित एक कलात्मक शाखा है, पूरिज़्म के प्रमुख समर्थकों में ले कॉर्बुसिएर, अमिदी ओजेंफैन्त और फेर्नान्द लगेर शामिल हैं.

संयुक्त राज्य अमेरिका में 1913 में क्यूबिज्म और आधुनिक यूरोपीय कला आई, जब जैक्स विलन ने न्यूयॉर्क शहर के प्रसिद्ध शस्त्रागार शो में सात महत्वपूर्ण और बड़े ड्राई प्वायंटों को प्रदर्शित किया. 1920 से पहले बराक और पिकासो स्वयं कई महत्वपूर्ण चरणों से गुजरे और इनमें से कुछ कामों को शस्त्रागार शो के पहले न्यूयॉर्क में अल्फ्रेड स्तीएग्लीत्ज़ की "291" गैलरी में देखा जा चुका था. पिकासो और बराक के क्यूबिज्म के नवयुगीन महत्व का एहसास करने वाले चेक कलाकारों ने कलात्मक रचना की सभी शाखाओं- विशेष रूप से चित्र और वास्तुकला के अपने निजी कार्य के लिए इसके घटकों को निकालने का प्रयास किया. यह चेक क्यूबिज्म में विकसित हुआ, जो क्यूबिज्म के उन चेक समर्थकों का नव-विचारक कला आंदोलन था जो 1910 से 1914 के बीच ज्यादातर प्राग में सक्रिय थे.

विश्लेषणात्मक क्यूबिज्म[संपादित करें]

चित्र:Picasso Portrait of Daniel-Henry Kahnweiler 1910.jpg
डैनियल-हेनरी काह्नविलर का चित्र, 1910, द आर्ट इंस्टीट्युट ऑफ़ शिकागो.अपने लंबे समय कला डीलर के पिकासो विश्लेषणात्मक क्यूबिस्ट का चित्र.पिकासो ने काह्नविलर के बारे में लिखते हैं के अगर काह्नविलर को व्यापारी अनुभव नहीं होता तो क्या होता?

विश्लेषणात्मक क्यूबिज्म क्यूबिज्म के कलात्मक आंदोलन की दो प्रमुख शाखाओं में से एक था और 1908 से 1912 के बीच विकसित हुआ. सिंथेटिक क्यूबिज्म के विपरीत विश्लेषणात्मक क्यूबिस्टों ने प्राकृतिक रूपों का "विश्लेषण" किया और इन रूपों को दो आयामी चित्र पटल पर बुनियादी ज्यामितीय भागों में कम किया. एक एकवर्णी योजना के अतिरिक्त जिसमें अक्सर नीले, भूरे और गेरू रंग शामिल होते थे, रंग का प्रयोग लगभग अवर्तमान था. विश्लेषणात्मक क्यूबिस्ट रंग पर जोर देने के बजाए प्राकृतिक विश्व का प्रतिनिधित्व करने के लिए बेलन(सिलिंडर), वृत्त (स्फीयर) और शंकु जैसे रूपों पर ध्यान केंद्रित किया गया. इस आंदोलन के दौरान पिकासो और बराक द्वारा किये गए कार्यों में शैलीगत समानताओं का साझा उपयोग है.

जुआन ग्रीस, स्टील लाइफ विथ फ्रूट दिश एंड मंडोलिन, 1919, ऑयल ऑन कैनवास, प्राइवेट कलेक्शन.

पाब्लो पिकासो और जॉरजिस बराक दोनों उदहारण के तौर पर अपने चित्रों पिकासो[7] के मा जोली (1911), एवं बराक के द पोर्तुगीज (1911) के रूप में चित्र के बाहर की वास्तविकता और फ्रेम के अन्दर की दृश्य भाषा पर जटिल चिन्तन के बीच एक तनाव की आपूर्ति करने के लिए वास्तविक दुनिया के लिए पर्याप्त संकेत छोड़कर पृथक्करण की ओर चले गए.

1907 में पेरिस में पॉल सेज़ेन की मृत्यु के कुछ ही समय बाद उसके कार्यों की एक बड़ी संग्रहालय पूर्वव्यापी प्रदर्शनी थी. प्रदर्शनी सेज़ेन को एक महत्वपूर्ण चित्रकार के रूप में स्थापित करने में अत्यधिक प्रभावशाली रही जिसके विचार मुख्यतः पेरिस के युवा कलाकारों के लिए विशेष रूप से गुंजायमान रहे. पिकासो और बराक दोनों ने पॉल सेज़ेन से क्यूबिज्म के लिए प्रेरणा प्राप्त की, जिन्होंने कहा कि निरीक्षण करने और सीखने के लिए प्रकृति को देखो और उससे इस प्रकार व्यवहार करो जैसे वह घन, वृत्त, बेलनाकार और शंकु जैसे बुनियादी आकारों से गठित है. पिकासो मुख्य विश्लेषणात्मक क्यूबिस्ट थे लेकिन बराक भी प्रमुख थे, जिन्होंने क्यूबिस्ट शब्दकोश को विकसित करने में पिकासो के साथ काम करने के लिए फ़ॉविज्म का त्याग कर दिया.

कृत्रिम घनवाद (सिंथेटिक क्यूबिज्म)[संपादित करें]

चित्र:Picasso three musicians moma 2006.jpg
पाब्लो पिकासो, थ्री म्यूज़ियम (1921), म्यूज़ियम ऑफ़ मॉडर्न आर्ट.थ्री म्यूज़ियम सिंथेटिक क्युबिज्म का एक उदाहरण है.[8]

सिंथेटिक क्यूबिज्म, क्यूबिज्म के भीतर का दूसरा मुख्य आंदोलन था जिसे 1912 और 1919 के बीच पिकासो, बराक और जुआन ग्रिस द्वारा विकसित किया गया था. सिंथेटिक क्यूबिज्म को भिन्न संरचनाओं, सतहों, कोलॉज़ तत्वों, पेपर कॉले और कई मिश्रित विषयों की एक विस्तृत भिन्नता प्रस्तुत करने का प्रारंभ करने के लिए चित्रित किया जाता है. यह कला के कार्य में एक महत्वपूर्ण घटक के रूप में कोलॉज़ सामग्री को प्रचलित किये जाने की शुरूआत थी.

पाब्लो पिकासो के "स्टील लाइफ विद चेयर-कैनिंग "(1911–1912),[11] को इस नई शैली का पहला काम माना जाता है, जिसमें ऑयल क्लॉथ शामिल है जिसे पूरी तस्वीर पर रस्सी की फ्रेमिंग और विषय सहित, चेयर-कैनिंग जैसा दिखने के लिए एक अंडाकार कैनवास पर छापा गया था. बाईं ओर ऊपर "जेओयू" (JOU) अक्षर हैं, जो अनेक क्यूबिस्ट चित्रों में दिखाई देते हैं और "ले जर्नल " शीर्षक अखबार को संदर्भित करते हैं.[9] अखबार की कतरनें एक आम समावेश थीं, अखबार के भौतिक टुकड़े, शीट संगीत और इसी प्रकार की चीजें कोलॉज़ में शामिल थे. जेओयू (JOU) एक ही समय में फ़्रांसिसी शब्द जेईयू (jeu) (खेल) या जोउएर (jouer) (खेलना) शब्दालंकार भी हो सकता है. पिकासो और बराक में एक दूसरे से एक दोस्ताना प्रतियोगिता थी और कार्यों में अक्षरों को शामिल करना उनके खेल का एक विस्तार हो सकता है.

जहां विश्लेषणात्मक क्यूबिज्म विषयों का एक विश्लेषण (उन्हें समतलों में अलग खींच रहा) था, वहीं सिंथेटिक क्यूबिज्म अधिकतर कई वस्तुओं को साथ धकेलना है. विश्लेषणात्मक क्यूबिज्म की तुलना में कम शुद्ध सिंथेटिक क्यूबिज्म में कम प्लानर तबदीली (या स्चेमातिस्म) और कम छायांकन है जो समतल स्थान बनाता है.

मूर्तिकला क्यूबिस्ट[संपादित करें]

वोमन हेड, ऑटो गटफ्रियुन्ड, 1912-1913
मुख्य लेख क्यूबिस्ट मूर्तिकला देखें

क्यूबिस्ट चित्रकारी के अनेक कलाकारों द्वारा समानांतर रूप से क्यूबिस्ट मूर्तिकला को विकसित किया गया. विभिन्न स्रोत पहली क्यूबिस्ट मूर्ति के तौर पर या तो पिकासो की 1909 की पीतल की हेड ऑफ़ अ वुमन का अथवा[10] की मूर्ति या 1912 में प्राग में दिखाई गयी ओट्टो गटफ्रेउन्ड की एंजाईटी (चेक मेंउज़कोस्ट ) का नाम लेते हैं.

कई अन्य यूरोपीय वास्तुशिल्पियों ने उनके उदाहरण का अनुसरण करने में तेजी दिखाई, फ़्रांसिसी रेमंड डुचैम्प-विलन जिनका, करियर सैन्य सेवा में हुई उनकी मौत से समाप्त हो गया, यूक्रेनियन अलेक्जेंडर अर्चिपेन्को जिनकी 1912 की वाकिंग वुमन जिसने पहली बार एक पृथक शून्य को लागू किया और लिथुआनियाई जैक्स लिप्चित्ज़ क्यूबिस्ट मूर्तिकार के रूप में अभिज्ञात पहले चित्रकारों में थे.

केवल क्यूबिस्ट चित्र की तरह, इस शैली ने पॉल सेज़ेन के घटक समतलों और ज्यामितीय ठोसों (बेलन (सिलिंडर), वृत्त (स्फीर) और शंकु) में चित्रित वस्तुओं की कमी में अपनी जड़ें जमा लीं. और केवल चित्रकला के रूप में, यह लगभग 1925 में अपनी राह चल पड़ी तथा रचनात्मकतावाद और भविष्यवाद के लिए मौलिक योगदान किया तथा एक व्यापक प्रभाव बन गयी.

अन्य क्षेत्रों में क्यूबिज्म[संपादित करें]

श्युमेन के पास बल्गेरियाई राज्य स्मारक के विशाल रचनाकारों का एक हिस्सा है.

गरट्रुद स्टेन के लिखित कार्यों में मार्ग और पूरे अध्यायों दोनों में इमारत के ब्लॉकों के रूप में आवृत्ति और आवृत्यात्मक वाक्यांशों का प्रयोग किया गया है. द मेकिंग ऑफ़ अमेरिकन्स (1906-08) उपन्यास सहित स्टेन के अधिकांश महत्वपूर्ण कार्यों में इस तकनीक का उपयोग हुआ है, वे क्यूबिज्म के केवल पहले महत्वपूर्ण संरक्षक ही नहीं थे, क्यूबिज्म पर गरट्रुद स्टेन और उसके भाई लियो का भी महत्वपूर्ण प्रभाव था. क्रम में स्टेन के लेखन पर पिकासो का एक महत्वपूर्ण प्रभाव था.

अमेरिकी उपन्यास विधा के क्षेत्र में विलियम फॉकनर का 1930 के उपन्यास एज आई ले डाइंग को क्यूबिस्ट तरीके के साथ पारस्परिक क्रिया के रूप में पढ़ा जा सकता है. इस उपन्यास में 59 पात्रों के विविध अनुभवों के वर्णन हैं, जिन्हें जब एक साथ जोड़ा जाता है तो वे एक एकल सामंजस्य युक्त ढांचे का निर्माण करते हैं.

आम तौर पर क्यूबिज्म के साथ जुड़े कवियों में गिलौम अपोलिनेयर ब्लैस सेंड्रर्स जीन कोक्टो मैक्स जैकब आंद्रे साल्मोन और पियरे रेवर्डी शामिल हैं. अमेरिकी कवि केनेथ रेक्स्रोथ के विवरण के अनुसार कविता में क्यूबिज्म "एक जागरूक, सविचार वियोजन और कठोर वास्तुकला की हदबंदी में स्वयं सम्पूर्ण तत्वों के पुनर्संयोजन से बनी एक नई कलात्मक इकाई है. यह अतियथार्थवादियों के मुक्त संघ से काफी अलग और अचेतन अभिव्यक्ति तथा दादा के राजनीतिक शून्यवाद का संयोजन है."[11] बहरहाल, क्यूबिस्ट कवियों का प्रभाव क्यूबिज्म और बाद के दादा और अतियथार्थवाद के आंदोलनों दोनों पर है; यथार्थवाद के संस्थापक सदस्य लुई आरागॉन ने ब्रेटन, सुपाल्ट, एलुअर्ड और अपने लिए कहा था, रेवर्डी हमारे "तत्कालीन वरिष्ठ, अनुकरणीय कवि हैं."[12] हालांकि वे क्यूबिस्ट चित्रकारों की तरह उतनी अच्छी तरह से याद नहीं किये जाते, इन कवियों ने अमेरिकी कवि जॉन आश्बेरी को प्रभावित और प्रेरित करना जारी रखा और रॉन पैड्जेट ने हाल ही में रेवर्डी के कार्यों के नए अनुवाद किये हैं.

ब्लैक मडोना, प्रेग, चेक रिपब्लिक के क्यूबिस्ट हॉउस, 1912

वोलेस स्टीवेंस की "थर्टीन वेज ऑफ़ लुकिंग एट अ ब्लैकबर्ड" के बारे में भी कहा जाता है कि यह दर्शाती है कि क्यूबिज्म के एकाधिक दृष्टिकोणों का कविता में कैसे अनुवाद किया जा सकता है.[13]

संगीतकार एड्गर्ड वरेस क्यूबिस्ट कला और लेखन से काफी प्रभावित थे.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

वर्तमान में क्यूबिज्म[संपादित करें]

एक कला आंदोलन से बहुत दूर कला के इतिहास के पूर्व वृतान्तों तक सीमित क्यूबिज्म और इसकी परंपरा ने अनेक समकालीन कलाकारों के काम की जानकारी देना जारी रखा है. क्यूबिस्ट चित्रकारी का केवल नियमित वाणिज्यिक उपयोग ही नहीं होता बल्कि समकालीन कलाकारों की उल्लेखनीय संख्या ने आज भी शैलीगत ढंग से और शायद अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि सैद्धांतिक रूप से भी चित्र बनाना जारी रखा है. उत्तरार्द्ध में क्यूबिज्म के प्रति कलाकारों के लिए स्थायी आकर्षण के कारण के सुराग शामिल हैं. चित्र बनाने के एक व्यवहार्य तरीके के रूप में फोटोग्राफी के लगातार बढ़ते महत्व के साथ उसकी जकड में आने वाले, अनिवार्य रूप से चित्रकला के एक प्रतिनिधित्ववादी सम्प्रदाय के रूप में क्यूबिज्म प्रतिनिधित्ववादी चित्रकारी को मशीनी फोटोग्राफी से आगे ले जाने और एक पूरी तरह स्थिर दर्शक के द्वारा पारंपरिक एकल बिंदु परिप्रेक्ष्य की सीमा से परे जाने का प्रयास करते हैं. 20 वीं सदी में आरम्भ में क्यूबिज्म के प्रारंभिक रूप से प्रकट होने के समय कई प्रतिनिधित्ववादी कलाकारों के लिए जो प्रश्न और सिद्धांत उठे थे वे आज भी उसी रूप में वर्तमान हैं जैसे तब थे जब उन्हें पहली बार प्रस्तावित किया गया था.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • चेक घनचित्रण शैली (क्यूबिज़्म)
  • प्युरिज्म

संदर्भ[संपादित करें]

  1. डगलस कूपर, "द क्यूबिस्ट एपोक", पीपी. 11-221, लॉस एंजेलिस काउंटी म्यूजियम ऑफ़ आर्ट और मेट्रो पोलिटन म्यूजियम ऑफ़ आर्ट के संघ के साथ फाइडन प्रेस लिमिटेड 1970 ISBN 0 87587041 4
  2. कूपर, 24
  3. कूपर, 20-27
  4. अर्नस्ट गौम्ब्रिच (1960) आर्ट एंड इलियुज़न, मार्शल मैक्लुहान (1964) अंडरस्टैंडिंग मिडिया, पृष्ठ. 12 [1]
  5. क्युबिस्म एंड इट्स लेगेसी, टेट लिवरपूल, 27 नवंबर 2008 को पुनःप्राप्त
  6. [2] क्युबिज्म 1912 से उद्धृत मेटजींगर और ग्लिज़ेस, 6 अप्रैल 2009 को पुनःप्राप्त
  7. मा जोली मोमा (MoMA)
  8. द म्यूज़ियम ऑफ़ मॉडर्न आर्ट
  9. रिचर्डसन, जॉन. अ लाइफ ऑफ़ पिकासो, द क्यूबिस्ट रेबेल 1907-1916. न्यूयॉर्क: एल्फ्रेड ए, नौप्फ़, 1991, पृष्ठ. 225. ISBN 978-0-307-26665-1
  10. ग्रेस ग्लुएक, पिकासो रेवोल्युशनाइज़्ड स्कल्पचर टू, न्यूयॉर्क टाइम्स, एक्जीबिशन रिव्यू 1982 20 जुलाई 2010 को पुनःप्राप्त
  11. द क्यूबिस्ट पोएट्री ऑफ़ पेरी रेवेर्डी (रेक्स्रोथ)
  12. ब्लडेक्स बुक्स: टाइटल पेज > पेरी रेवेर्डी: सिलेक्टेड पोएम्स
  13. इलियोनिस वेस्लेयन यूनिवर्सिटी - द अमेरिकन पोएट्री वेब

आगे पढ़ें[संपादित करें]

  • एल्फ्रेड एच. बर्र, जूनियर, क्यूबिज़्म एंड एब्स्ट्रेक्ट आर्ट, न्यूयॉर्क: आधुनिक कला के संग्रहालय, 1936.
  • John Cauman (2001). Inheriting Cubism: The Impact of Cubism on American Art, 1909-1936. New York: Hollis Taggart Galleries. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-9705723-4-4. 
  • Cooper, Douglas (1970). The Cubist Epoch. London: Phaidon in association with the Los Angeles County Museum of Art & the Metropolitan Museum of Art. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0875870414. 
  • जॉन गोल्डिंग, क्यूबिज़्म: अ हिस्ट्री एंड एन एनालिसिस, 1907-1914, न्यूयॉर्क: विटेंबौर्न, 1959.
  • रिचर्डसन, जॉन. अ लाइफ ऑफ़ पिकासो, द क्यूबिस्ट रेबेल 1907-1916. न्यूयॉर्क: एल्फ्रेड ए. नौप्फ़, 1991. ISBN 978-0-307-26665-1

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
cubism को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।

साँचा:Westernart